डायचे वेले जर्मनी द्वारा अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार "द बॉब्स" से सम्मानित पत्रिका "दुधवा लाइव"

International Journal of Environment & Agriculture, Vol.7, no 05, May 2017, ISSN 2395-5791

"किसी राष्ट्र की महानता और नैतिक प्रगति को इस बात से मापा जाता है कि वह अपने यहां जानवरों से किस तरह का सलूक करता है"- मोहनदास करमचन्द गाँधी

Sep 24, 2015

सरकार से ‘स्वच्छ हवा, जन्मसिद्ध अधिकार’ के वादे को पूरा करने की मांग


ग्रीनपीस ने स्वच्छ वायु के लिए शुरू किया राष्ट्रीय अभियान

नई दिल्ली। 23 सिंतबर 2015। ग्रीनपीस ने आज स्वच्छ वायु के लिये एक राष्ट्रीय अभियान की शुरुआत की है। पर्यावरण समूह ने सरकार से उसके स्वच्छ वायु जन्मसिद्ध अधिकार के वादे को पूरा करने के लिये पहले कदम के रूप में तत्काल राष्ट्रीय वायु गुणवत्ता सूचकांक (एनएक्यूआई) में सुधार करने की मांग की है। ग्रीनपीस के अनुसार वायु गुणवत्ता सूचकांक के वर्तमान रूप में कई गंभीर खांमियां हैं: इसका दायरा बहुत ही सीमित हैइसमें पारदर्शिता का अभाव हैव इसके गुणवत्ता आंकड़ों को व्यापक रूप से उपलब्ध कराने या उपयोगी बनाने के लिये कोई ठोस योजना भी नहीं है।

ग्रीनपीस इंडिया के कैंपेनर नंदीकेश शिवलिंगम के अनुसारराष्ट्रीय वायु गुणवत्ता सूचकांकया एनएक्यूआईको अगर ठीक से लागू किया जाये तो यह एक अत्यंत शक्तिशाली औजार बन सकता है। सटीक जानकारी स्वच्छ हवा के अभियान में पहला महत्वपूर्ण कदम है। लेकिन हवा की गुणवत्ता के बारे में विश्वसनीय और पारदर्शी जानकारी प्रदान करने से पहले एनएक्यूआई को तत्काल ठीक करने की जरुरत है। सूचकांक से प्राप्त जानकारी के आधार पर जहां एक तरफ लोगों को अधिक सक्रियता से वायु प्रदुषण से बचने के लिये एहतियाती उपाय बताए जाने की जरुरत हैवहीं दूसरी तरफ प्रशासन द्वारा वायु प्रदुषण के मूल कारणों पर विचार भी किया जाना चाहिए।

हाल ही में ग्रीनपीस ने ताजा स्थिति की जांच के दौरान पाया कि एनएक्यूआई को लागू करने के निवेशव बुनियादी ढांचे में काफी अन्तर है। सूचकांक के आकड़ों को ऑनलाइन उपलब्ध कराने के लिये केवल दिल्ली में 10 निगरानी स्टेशन हैंवहीं चेन्नईबेंगलूर और लखनऊ में तीन-तीन स्टेशन हैंजबकि हैदराबाद में दो स्टेशन हैं और अन्य दस शहरों में केवल एक-एक स्टेशन ही हैं। यही नहीं,दिल्ली में भी राष्ट्रीय वायु गुणवत्ता सूचकांक के आकड़े निरर्थक हैं क्योंकि आंकड़ों के प्रसार के लिये कोई व्यवस्था नहीं हैस्थानीय प्रशासन द्वारा सबसे अधिक वायु प्रदुषण वाले दिन से निपटने के लिये कोई साझी योजना नहीं हैऔर न ही इन आकड़ों के आधार पर लोगों को प्रदुषण से निपटने के लिये कोई सूचना दी जाती है।

नंदीकेश का कहना हैराष्ट्रीय वायु गुणवत्ता सूचकांक को पूरे देश में लागू करना अच्छा हैबल्कि यह हमारी मांगों में से एक है। लेकिन सबसे जरुरी है कि पहले इस सिस्टम को उचित बुनियादी ढांचे और स्पष्ट कार्य योजना के साथ लागू किया जाय। वर्तमान रूप में राष्ट्रीय वायु सूचकांक एक मौन अलार्म घड़ी की तरह है: चाहे वो सही समय दिखाये या नहींयदि उसकी आवाज ही ना सुनाई दे तो उसका क्या उपयोग है?

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने हाल ही में दुनिया के 20 सबसे बुरे प्रदुषित शहरों की सूची जारी की हैजिनमें से 13 शहर भारत में है। यह स्पष्ट संकेत है कि वायु प्रदुषण से निपटने के लिये आवश्यक कदम उठाना जरुरी है। ग्रीनपीस ने बंगलोर के चार प्रमुख जगहोंजिनमें क्रिस्ट कॉलेजहौजुर रोडआरबीआई और नरुपथुंगा रोड शामिल हैंपर किये गए वायु गुणवत्ता की निगरानी सर्वेक्षण में चौंकाने वाले परिणाम पाया:  इन जगहों पर आठ घंटे के नमूना अवधि मेंऔसत वायु प्रदुषण के स्तर में पीएम 10 का स्तर भारत सरकार के सुरक्षा सीमा से 13 गुणा और विश्व स्वास्थ्य संगठन के मानकों से 26 गुणा अधिक तक पाया गया। इनमें दो स्थानों पर केन्द्रीय प्रदुषण नियंत्रण बोर्ड के सीमा से औसत 1.3 और 2.5 गुणा अधिक पाया गया है।

स्वास्थ्य विशेषज्ञों के अनुसार वायु प्रदुषण के इन बढ़ते स्तरों का असर लोगों पर देखा जा रहा हैखासकर बच्चों पर। लेकसाइड अस्पताल, बंगलौर में बच्चों के फेफड़ा और श्वास संबंधित मामलों के विशेषज्ञ बाल विशेषज्ञ डॉ. एच. प्रमेश का कहना है पिछले 15 सालों मेंगर्मी में बंगलोर में 18 साल से कम के बच्चों में अस्थमा की शिकायत में 27 फीसदी की बढ़ोतरी दर्ज की गई हैजबकि गंभीर अस्थमा के मामलों में से 11 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है। इन बच्चों को लगातार स्टेरॉयड दिये जाते हैंवहीं उन्हें हमेशा चिकित्सक की देखभाल में रखने की जरुरत होती है। खासकरसर्दियों की सुबह जब प्रदुषण का स्तर उच्च होता हैखेलने या व्यायाम करने के क्रम में बच्चों में सांस की बीमारियों के होने के खतरे सबसे ज्यादा होते हैं

नंदीकेश कहते हैंऐसे कई अध्ययन हो रहे हैं जिससे साबित होता है कि देश में अकाल मौतों में वायु प्रदुषण की अहम भूमिका है। इसलिए बहुत जरुरी हो गया है कि लोगों को यह बताया जाए कि उनके द्वारा ली जाने वाली हवा में कितना प्रदुषण हैइसका उनके स्वास्थ्य पर क्या असर पड़ेगा और किस तरह के एहतियाती कदम उठाने की जरुरत है। स्वच्छ हवा पर हमारा अभियान एक प्रयास है जिससे लोगों को स्वच्छ वायु के अधिकार के लिये जागरुक किया जा सके। सरकार को एक पारदर्शीविश्वसनीय राष्ट्रीय वायु गुणवत्ता सूचकांक को पूरे देश में लागू करना चाहिएजिससे समय रहते वो वायु प्रदुषण से निपटने के लिये आवश्यक कदम उठाने में सक्षम हो सके।
अविनाश कुमार 
avinash.kumar@greenpeace.org

0 comments:

Post a Comment

आप के विचार!

विविधा

आओ प्यारे कम्प्युटर पर बाघ बचायें!
अरूणेश सी दवे, जहाँ तक रही बात प्रबुद्ध बाघ प्रेमियों की जो नचनियों की तरह सज-धज कर जंगल कम इन्टरनेट पर ज्यादा अवतरित होते हैं, तो उनके लिये मै इंटरनेट मे वर्चुअल अबुझमाड़ बनाने का प्रयास कर रहा हूं । ताकि वो अपनी कोरी कल्पनाओं और वर्चुअल प्रयासों को इस आभासी दुनिया में जाहिर कर अपनी ई-कीर्ति बढ़ा सकें।

सामुदायिक पक्षी सरंक्षण
पक्षियों के संरक्षण का जीवन्त उदाहरण: ग्राम सरेली कृष्ण कुमार मिश्र, लखीमपुर खीरी* उन्नीसवी सदी की शुरूवात में ब्रिटिश हुकूमत के एक अफ़सर को लहूलुहान कर देने से यह गाँव चर्चा में आया मसला था।
तो फ़िर उनसे सीखा हमने योग!
धीरज वशिष्ठ* 84 लाख प्रजातियां और 84 लाख योगासन: पक्षियों-जानवरों से सीखा हमने आसन: धार्मिक चैनलों और बाबा रामदेव के कार्यक्रमों ने आज योग को घर-घर तक पहुंचा दिया है।
नही रहा सुमित!
दुधवा लाइव डेस्क* हाँ हम बात कर रहे है उस हाथी कि जो दो मई २०१० को लखनऊ चिड़ियाघर से दुधवा नेशनल पार्क भेजा गया था! वजह साफ़ थी, कि अब वह बूढ़ा हो गया था

पर्यावरण

क्या वे राज धर्म से वाकिफ़ हैं!
कृष्ण कुमार मिश्र* भारत के कुछ पूर्व नेताओं ने मिसाले कायम की पर्यावरण व वन्य-जीव संरक्षण में

अबूझमाड़ के जंगल- जहाँ बाघ नही नक्सल राज करते हैं!
अरूणेश सी दवे* अबूझमाड़- एक प्राकृतिक स्वर्ग:

मुद्दा

क्या खत्म हो जायेगा भारतीय बाघ
कृष्ण कुमार मिश्र* धरती पर बाघों के उत्थान व पतन की करूण कथा:

दुधवा में गैडों का जीवन नहीं रहा सुरक्षित
देवेन्द्र प्रकाश मिश्र* पूर्वजों की धरती पर से एक सदी पूर्व विलुप्त हो चुके एक सींग वाले भारतीय गैंडा

हस्तियां

पदम भूषण बिली अर्जन सिंह
दुधवा लाइव डेस्क* नव-वर्ष के पहले दिन बाघ संरक्षण में अग्रणी भूमिका निभाने वाले महा-पुरूष पदमभूषण बिली अर्जन सिंह

एक ब्राजीलियन महिला की यादों में टाइगरमैन बिली अर्जन सिंह
टाइगरमैन पदमभूषण स्व० बिली अर्जन सिंह और मैरी मुलर की बातचीत पर आधारित इंटरव्यू:

Featured Post

क्षमा करो गौरैया...

Image Courtesy: Sue Van Coppenhagen  संस्मरण गौरैया और मैं -- (3) ....डा0 शशि प्रभा बाजपेयी बात उस समय की है जब घर के नाम पर ...

वन्य-जीव

भारत की वन-नीति में बदलाव आवश्यक
देवेन्द्र प्रकाश मिश्र* आजादी के बाद बनी भारतीय वन-नीति की समीक्षा वर्ष 1988 में की गई थी।

घायल तेन्दुए को जंगल में छोड़ा गया
दुधवा लाइव डेस्क* अधूरे इलाज के बाद जंगल में छोड़ा गया घायल तेन्दुआ!