डायचे वेले जर्मनी द्वारा अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार "द बॉब्स" से सम्मानित पत्रिका "दुधवा लाइव"

International Journal of Environment & Agriculture, Vol.6, no.4, April 2016, ISSN 2395-5791

"किसी राष्ट्र की महानता और नैतिक प्रगति को इस बात से मापा जाता है कि वह अपने यहां जानवरों से किस तरह का सलूक करता है"- मोहनदास करमचन्द गाँधी

Apr 30, 2016

बिजली की प्यास ने करोड़ों को प्यासा कर दिया...




प्रत्येक साल महाराष्ट्र में कोयला पावर प्लांट्स निगल रहा 1.2 करोड़ लोगों के हिस्से का पानी: ग्रीनपीस

मुंबई। 28 अप्रैल 2016 एक तरफ महाराष्ट्र लगातार सूखे से जूझ रहा हैदूसरी तरफ ग्रीनपीस की एक रिपोर्ट ‘द ग्रेट वाटर ग्रैब-हाउ द कोल इंडस्ट्री इज डिपनिंग द ग्लोबल वाटर क्राइसिस’ में यह तथ्य उभरकर सामने आया है कि अकेले महाराष्ट्र में कोयला पावर प्लांट्स इतनी अधिक मात्रा में पानी का खपत करता है जो हर साल लगभग सवा करोड़ लोगों के लिये पर्याप्त है।

वर्तमान मेंमहाराष्ट्र के पास 16,500 मेगावाट क्षमता के कोयला से पैदा होने वाली बिजली है। इनमें से लगभग 13000 मेगावाट महाराष्ट्र के उन इलाकों में स्थित हैं जहां पहले से ही पानी का संकट है। ये प्लांट अभी 218 मिलियन क्यूबिक मीटर पानी खपत कर रहे हैं। दूसरी तरफ पानी संकट को बढ़ाने वाली 37,370 मेगावाट वाले कोयला पावर प्लांट को लगाये जाने की योजना प्रस्तावित है। इस योजना से कोयला प्लांट द्वारा पानी की मौजूदा खपत दोगुना हो जाएगा तथा जल संकट और अधिक गहरा जाएगा।

ग्रीनपीस इंडिया के सीनियर कैंपेनर जय कृष्णा ने कहा, “ पानी की कमी एक अनिवार्य सच है। इससे हमारे कृषि पर गंभीर संकट पैदा हो गया है। इससे देश भर के लोगों का आजीविका और जीवन दोनों खतरे में पड़ गया है। एक तरफ पानी को बचाए जाने का उपाय करना जरुरी तो है हीउससे भी बड़ा सवाल यह है कि मौजूदा पानी का किस तरह इस्तेमाल हो

फिलहाल भारी मात्रा में पानी थर्मल पावर प्लांट्स को दिया जा रहा है। जैसा कि ग्रीनपीस की रिपोर्ट में बताया गया है कि प्रस्तावित कोयला पावर की बड़ी परियोजनाओं की वजह से आने वाले समय में कोयला उद्योग और भी बड़ी मात्रा में पानी सोखेगा। अगर हम प्रस्तावित प्लांट्स और वर्तमान में निर्माणाधीन प्लांट्स को देखें तो स्पष्ट है कि महाराष्ट्र का करीब 490 मिलियन क्यूबिक मीटर पानी इन प्लांटों में चला जायेगा। एक मोटे अनुमान के मुताबिकइतना पानी राज्य के करीब 2.6 करोड़ लोगों की जरुरतों को पूरा करने में सक्षम है।

जय कृष्णा ने कहा कि सरकार को कोयले की वास्तविक लागत की गणना के वक्त पानी के अभाव को भी जोड़ने की जरुरत है। स्पष्ट है कि लगातार कोयला पावर प्लांट पर बढ़ रही निर्भरता राज्य के किसानों और निवासियों के लिये विनाशकारी साबित होगा। जिस तरह से जल संकट गहराता जा रहा हैउससे कोयला पावर प्लांट्स के अक्सर बंद होने की भी आशंका भी  है। इस तरह ये प्लांट्स ‘फंसा हुआ निवेश’ साबित होंगे और यह निवेशकों के लिये भी जोखिम भरा है।

इस साल गर्मी मेंपहले से केपीसीएच का रायचुर पावर प्लांट और एनटीपीसी फरक्का पावर प्लांट को पानी के अभाव में तात्कालीक रूप से बंद कर दिया गया है। महागेंसो परली पावर प्लांट जूलाई 2015से ही पानी के अभाव में बंद है।


Notes to editors:
  1. यह आकड़े विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा अनुमानित प्रतिदिन 50 लीटर पानी प्रति व्यक्ति के आधार पर है जो लोगों के मूलभूत स्वस्थ्य के लिये जरुरी है। http://www.who.int/water_sanitation_health/diseases/WSH03.02.pdf (page 22)
  2. यह आकलन कोयला विद्युत संयंत्रों के लिए पानी की खपत के मानक आंकड़ों के आधार पर कर रहे है। साथ ही, बिजली संयंत्रों को ठंडा करने में शामिल पानी भी इसी अनुमान पर आधारित है। अधिक जानकारी के लिये विश्लेषण संलग्न किया गया है।
  3. Photo- http://photo.greenpeace.org/C.aspx?VP3=SearchResult&LBID=27MZKTDW0VI&IT=Thumb_FixedHeight_M_Details_NoToolTip
  4. The Great Water Grab: How the coal industry is deepening the global water crisis’ is available here: http://www.greenpeace.org/international/Global/international/publications/climate/2016/The-Great-Water-Grab.pdf
अविनाश कुमार 
 ईमेल: avinash.kumar@greenpeace.org,
मोबाइल- 8882153664

Apr 24, 2016

Tribes, Forest and The Law !



Environmental  fangs and ferocity  turmoil and shrimpy resolutions but Indian tribes  and supreme court of India are rangers of environment

“The robbed Judge must hold the sword and the scale, both together being symbolic of social justice.”
-HOLMES

The world needs to listen to the cry of the Earth, which is asking for help. They understand that once the forests, trees and mountains have been depleted, mutilated or polluted too severely, no technological quick fixes will restore them. Tribal peoples are, of course, not ecological saints, but their largely sustainable and communal ways of living do act as a counterpoint to the damaging excesses and solo living of many “modern” societies, showing us that humanity is about “we”, not “I”, belonging not ownership, human values not economics, balance with nature, not destruction.

Forests are homes and livelihoods

The forests are home not only to more than 100 000 species of flora and fauna—many of them rare—but provide livelihoods for 200-million largely tribal people. Communities living near forests depended on them for building material, fuel, fodder, and often also food in the shape of wild fruits and tubers. They play a major role in managing natural resources and their daily tasks make them the daily managers of the living environment.Most women in tribal areas draw upon their traditional and often extensive knowledge of the fauna and flora of their environment and recognize the importance of preservation of species and sustainable utilization of the components of their eco-system.

Preservation of the resources by tribesmen

 Preservation of the resources on which they relied for so many of their needs was in the tribesmen's own interests, and as long as there was no interference by advanced populations the ecological balance was usually well maintained.

Tribal communities dwelling in enclaves inside the forest were either evicted or denied access to the forest produce on which they had depended for many necessities. Thus arose a conflict between the traditional tribal ownership and the state's claim to the entire forest wealth. Numerous revolts were the direct result of the denial of the local tribal’s' right in the forests which they had always considered their communal property The traditional de facto ownership of tribal communities was now replaced by the de jure ownership of the state, which ultimately led to the exploitation of forest resources with total disregard for the needs of the tribal economy. Numerous Tribes use innovative practices to protect natural resources and the environment.

Each Tribe is an individual, sovereign government and is unique in structure and culture. Tribes operate their programs in a variety of ways. Common differences among Tribal operating methods include varying goals and objectives, administrative systems, funding resources, and the capacity to implement projects.

Natural resources play a vital role in Tribal economies, which rely on land use, such as forestry and agriculture. Tribal communities also rely on the land for subsistence activities, such as hunting and fishing. Land has always had great spiritual and cultural significance to the Tribes. To preserve the land, Tribes are committed to implementing environmental and natural resource programs.

These programs include developing Tribal environmental regulations; managing solid and
hazardous waste; and addressing issues of safe drinking water, sanitation, subsistence hunting and fishing, and cultural heritage preservation.

The tribes largely dependent upon forests as they derive their life substance from forests at two levels; 
(1) Subsistence in terms of food, Sheller, fodder, fuel-wood, health care and amusement and (2) economic base for earning livelihood through wage earning, raw material used in cottage industry and minor forest products (MFP) for self-consumption as well as for marketing the products. The tribal economy, specially of those having linkage with forests has greatly
been dependent upon forests, forest management and forest development. On the basic economic activities of the tribes may be classified under the following heads 

1- Food gathering including hunting and fishing.
2- Pastoral 
3- Shifting hill cultivation 
4- Settled cultivation
 5- Handy Crafts
 6- Trade and commerce 
7- Labour

work including agricultural and industrial labour. Forest are intimately connected with the tribes life and their economy. Vast majority of the tribal people, the forest is their well-loved home, their livelihood and their existence depends on forests, it gives them food-fruits
of all kinds, edible roots and leaves, wild game and other minor products which are sold for exchanged, it provides them with materials to build their houses or to practice their arts which are often financially gainful. A tribal man  occupies an important place in the socio-economic and political structure of her society. They exercise free and firm hand in all aspects related to their social and economic life. In India, the tribes are at different levels of economic development and in each, women have a significant role. The main ones are food gathering and hunting, shifted cultivation, cultivation of land by ploughing and regions. Where the tribal work in mining and other industries. Thus we see that the tribal man  in traditional social structure had an important role to play in tribal economy.

They are bone of the family economy. They are directly dependent on their immediate environments and their own skills in using it for the daily necessities of life (Rocheleau
1985). They play a major role in managing natural resources and their daily tasks make them the daily managers of the living environment.Most women in tribal areas draw upon their traditional and often extensive knowledge of the fauna and flora of their environment
and recognize the importance of preservation of species and sustainable utilization of the components of their eco-system.

Steps taken by Supreme Court of India on Environment issues.

The essence of a federal Constitution is the division of powers between the Central and State governments. This division is made by a written Constitution which is the Supreme Law of the Land. Since language of the Constitution is not free from ambiguities and its meaning is likely to be interpreted differently by different authorities at different times: it is natural that disputes might arise between the Centre and its constituent units regarding their respective powers.

The Supreme Court under India Constitution is such arbitration. It is the final interpreter and guardian of the Constitution. In addition to the above function of maintaining the supremacy of the Constitution the Supreme Court is also the guardian of the Fundamental Rights of the people. Truly the Supreme Court has been called upon to safeguard civil and minority rights and plays the role of guardian of the social revolution‖. It is the great tribunal which has to draw the line between individual liberty and social control. It is also the highest and final interpreter of the general law of the country. It is the highest court of appeal in civil and criminal matters.

SUPREME COURT on Environmental Problems And Ecological Development

The Supreme Court of India is the highest court; it played a major role in protection of environmental problems and ecological development in India right from its establishment. The role of Supreme Court in protecting the environment under various heads

The most important procedural innovation for environmental jurisprudence has been the relaxation of traditional process of standing in the Court and introducing the concept of Public Interest Litigation (PIL).

Until the early 1970s, litigation in India was in its rudimentary form because it was seen as a
pursuit for the vindication of private vested interests. During this time period, initiation and continuance of litigation was prerogative only to the individual aggrieved party. A complete change in the scenario in the 1980s with efforts taken by Justice P.N. Bhagwati and Justice V.R. Krishna Iyer was marked by attempts to bring wider issues affecting the general public at large within the ambit. The ambit and extent of PIL were expanded in 1980s from the initial prisoner rights concerns, to others like bonded labour, child labour, inmates of various asylums, ensuring the rights of the poor to education, to shelter and other essential amenities, sexual harassment of women at working place, preventing corruption in public offices, accountability of public servants, and utilization of public funds for development activities concept PIL, Criminal Law provisions as contained in the Indian Penal Code, Civil Law remedies under the law of Torts and provisions of the Criminal Procedure Code were existed to provide remedies for public nuisance cases including air, water and noise pollution. However, due to lack of people’s awareness about the environmental problems and limited knowledge of environmental laws there were problems in drawing the attention of the Court towards environmental problems. Again, there was no provision in the environmental legal framework for allowing the third party to seek the help of the Court if the party was not directly affected by environmental problems.

Hence, the biggest hurdle in the path of litigation for environmental justice had been the traditional concept of locus standi . Earlier when the third party approached the appellate Court for seeking relief against an injury they did not incur directly, the action was not maintainable as the appellate Court focused its attention on the identity of the petitioner rather than the subject of petition.

But now the Court’s approach has changed and it has been ruled that any member of the public having sufficient interest, may be allowed to initiate the legal process in order to assert diffused and meta-individual rights. Generally, in environmental litigation, the parties affected by pollution are a large, diffused and unidentified mass of people. Therefore, the question arises as to who ought to bring such cases to the Court’s notice where no personal injury, in particular, has been noticed.

In such situations, the Court has emphasized that any member of the public having sufficient interest may be allowed to initiate the legal process in order to assert diffused and meta-individual rights in environmental problems.

In recent years, there has been a sustained focus on the role played by the higher judiciary in devising and monitoring the implementation of measures for pollution control, conservation of forests and wildlife protection. Many of these judicial interventions have been triggered by the persistent incoherence in policy-making as well as the lack of  capacity-building among the executive agencies. Devices such as Public Interest Litigation (PIL) have been prominently relied upon to tackle environmental problems, and this approach has its supporters as well as critics. 



Anjali Dixit

(The author is an acting principal of S.B.S. Law College in Kapur, Uttar pradesh, India, She may be reached at anjalidixitlexamicus@gmail.com)


Apr 22, 2016

तुमुल कोलाहल कलह में, मैं हृदय की बात रे मन...

अंतर्राष्ट्रीय पृथ्वी दिवस 2016 के सम्बन्ध में एक विमर्श-
प्रकृति..................सृष्टि का मनोरम रहस्य, पर्यावरण..................प्रकृति का अनुपम वरदान, मानव.................सृष्टि की सर्वोत्तम कृति फिर भी विश्व व्यथित संकट ग्रस्त ? आत्मा को कुरेदता बस एक प्रश्न-वुद्धि, विवेक और ज्ञान से परिपूर्ण जड़ प्रकृति के चेतन रहस्य का अन्वेषक, विराट का साधक जिज्ञासु तत्वान्वेशी, विनम्र भोक्ता से उपभोक्ता भर कैसे रह गया ? जिस प्रकृति की सुरम्य गोद में पला बढ़ा उसी की शक्तियों को वशीभूत करने के लिए व्यग्र लाभ के लोभवश भोगवादी तमीचर बन गया। शक्ति के दुरूपयोग का विनाशकारी स्वरूप इसे ज्ञान नहीं है क्या ?

मानव सभ्यता के विकास का इतिहास साक्षी है कि मानव ने अपनी रक्षा करने तथा अपने अस्तित्व को स्थापित करने के क्रम में अनेकानेक विषम, भयावह परिस्थितियों से घोर संघर्ष करते हुए अपनी मूलभूत आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए जो कुछ साधनों की वृद्धि हेतु प्राकृतिक संसाधनों का अंधाधुंध विद्रोहन कर रहा है-यह ठीक नहीं। विज्ञान और प्रौद्योगिकी का आश्रय लेकर उसने जिस सामाजिक आर्थिक संरचना को जन्म दिया है विकास की दृष्टि से भले ही उसे उपलिब्ध कहकर संतोष कर लिया जाय पर मानव अनन्त क्षमताओं के बीच भी पंगु बना हुआ है। इस विकास का प्राथमिक और अंतिम उद्देश्य भौतिक भोगवादी होने के कारण दुनिया........सोने की लंका सी समृद्ध चकाचैंध भरी तो दिखाई देती है किन्तु तेजी से पिघलते ग्लेशियारों, उफनते सागरों, भयंकर तूफानी हवाओं, तड़पते-गरजते बादलों, सूर्य की तप्त किरणों और बदलते मौसम चक्र के साथ प्रलय के मुहाने पर खड़ी है। भोर में ही सांझ-लंबी छायाओं में फैलती जा रही जिन्दगी-सिमट कर ठहरी-ठहरी से वृक्षों की फुगनी पर टुकड़े भर धूप सी, विकास के उत्सव में महानाश की प्रस्तुति-भैरव संगीत से गुंजायमान दिग दिगन्त, प्रकृति नदी के रूद्र नृत्य की मूच्र्छना से प्रकंपित धरा, आस्थाएँ-जल में थरथराते प्रतिबिम्ब सी, कामनाएँ-उलझी-उलझी बिखरी- कटीली झाडि़यों सी, विश्वास-छिन्न-भिन्न-उजड़ा, रूखे ठूँठ-सा, आशाएँ निरीह- मुरझाई, सूखी लताओं सी, आशाएँ-निरीह सूखी लताओं सी, कल्पनाएँ-वटवृक्ष की जटाओं-सी-आत्मा आहत क्षत-विक्षत। चारों ओर समस्याओं की बाढ़, प्रगति सुनामी- मुँह फाड़े उमड़ता आता प्रदूषण का सैलाब, तिनकों से उड़ते बहते साधन, परकटे पक्षी-सी गिरते वृक्ष-सभ्यता के आधुनिक विस्तार में ..... जैसे श्मशान में लरजती- छोटी सी जिन्दगी।

नगरीकरण, औद्योगीकरण, कृषि एवं आर्थिक विकास, वातानुकूलित स्वर्गिक सुखसाधन, यातायात के सुगम साधन सबका भरपूर लाभ लेते हुए इसकी उत्तरकथा के रूप में बढ़ती जनसंख्या-घटते प्राकृतिक संसाधन-अस्तित्व के संकट से चिन्तित, क्षुब्ध धरती पर प्रौद्योगिकी मानव अपनी प्रगति आख्या लिए खड़ा है-समय के चैराहे पर। अस्तिव को स्थापित करने की चुनौती को लेकर बढ़ने वाला अस्तित्व के ही संकट से घिरा फिर खड़ा है। जहाँ का तहाँ। विकास के जुनून में ऊर्जा से भरे हम और उसके परिणामों से संकट ग्रस्त होता हमारा जीवन-अनादि काल से चल रहा है-साथ-साथ, समानान्तर-रेल की पटरियों सा जीवन से हम-और-हमसे जीवन-जब कभी मिलना चाहता है-दौड़कर-........पटरियाँ बदल जाती है। न लक्ष्य सधा, न यात्रा थमी, देखा-तो-हम हिले तक नहीं और हमारे ऊपर से गुजरकर निकल गयी सदियाँ-हम वहीं, खड़े के खड़े-पड़े रहे-बस, पटरी बने।

प्राकृतिक चरम घटनाओ-भूकम्प, बाढ़, सुनामी, बादल फटना, भूमण्डलीय तापन तथा श्वास, स्नायुतंत्र, उदर, त्वचा आदि से संबद्ध परेशानियों हृदय व पाचन तंत्र के तरह-तरह के रोगो में अकस्मात-अप्रत्याशित वृद्धि हमारे क्रिया कलापों के परिणाम स्वरूप आज ‘संत्रास युग’ में जी रहे हम-रह गये अकेले-चिमनियों के धुएँ के बादलों, लाउडस्पीकरों, मशीनो और वाहनों के कर्ण भेदी शोर के बीच ऊँची-ऊँची इमारतों, बड़े-बड़े भवनों के बीच, पर्यावरण का संवेदी सूचकांक पार कर चाह रहे हैं। सुरक्षा और समाधान-सभाओं में, सम्मेलनों में, भाषणो में, कागजी योजनाओं में, प्रचारों, कानूनों और रैलियों में गुहार है-मानव बचाओ। संयुक्त राष्ट्र संघ तक द्वारा मानवाधिकारों की कोटि में अलग से स्वच्छ पर्यावरण के सार्वभौम अधिकार की घोषणा करते हुए ‘मानव पर्यावरण सम्मेलन (1972, स्टाकहोम) के प्रथम सिद्धान्त में ही कहा गया-मनुष्य का मूल अधिकार एक ऐसे गुणात्मक पर्यावरण का है, जिसमें गरिमा युक्त एवं सुखी जीवन की अनुभूति के साथ स्वतंत्रता, समानता और रहन-सहन की पर्याप्त सुविधाएं उपलब्ध हों।-किस-किस लोक में टाँग दूँ यह तख्ती ? कहाँ दे आऊँ दौड़कर यह ज्ञापन ? 1972 से लेकर आज 2012 तक संयुक्त राष्ट्र संघ के कितने ही सम्मेलन पर्यावरणीय चिन्ता व्यक्त कर चुके है पर ‘स्वयं कहा, स्वयं सुना, समाधान को लिया भुना’ की प्रवृत्ति के साथ होने वाले कार्य, योजनाएँ और घोषणाएँ उस समय विवादास्पद हो जाती है जब प्रत्येक सम्मेलन में पूरा विश्व विकासशील और विकसित-दो खेमों में बँटकर ‘कहाँ चरन कहाँ माथा का भेद लेकर महत्वपूर्ण मुद्दों पर विचार करता है तो उन्हें याद नहीं रहता चरन और माथा एक विचार करता है तो उन्हें याद नहीं रहता चरन और माथा एक ही मानव समाज के हैं-सार्वभौम मानव के हैं। परस्पर एक दूसरे पर घात-प्रतिघात करते हुए अधिकारों को समेटते और कर्तव्यों को दूसरों की झोली में डालते हुए नहीं जानते है कि इस रस्साकशी में अपने को ही खत्म कर रहे है-योजनाबद्ध ढंग से ? 

...कुछ भी हो-सच यह है कि अब सब डरे हुए हैं और चाह रहे है कोई समाधान-जादुई चमत्कार सा। पर यह अभी तो संभव नही। प्रतियोगिता और प्रतिस्पर्धा के इस ‘गत्वर युग’ में आज फिर छिड़ी है एक बहस-हवा और सूरज में पर इस बार सूरज नहीं, हवा जीत जायेगी। विषैली गैसों से भरे वायुमण्डल में शोर और धुएँ से घुटता हुआ मनुष्य जब ठंढी-ठंढी हवा की चाह लिए नहीं पा सकेगा एक सांस भर भी शुद्ध प्राण वायु तो वह कपड़े तो कपड़े अपने सिर के बाल भी नोचकर फेंक देना चाहेगा, सूर्य तो जल उठेगा और भी। हवा की इस विषैली जीत का सेहरा-है मानव ! तुम्हारे ही शीश पर होगा। क्योंकि विज्ञान के पथ के पथिक होकर भी तुम भूल गए-वायु का वास्तविक घनत्व तापक्रम और जलवाष्प की मात्रा और पृथ्वी के गुरूत्वाकर्षण बल से प्रभावित होता है। तुमने ‘मेघ बीजन’ (ब्सवनक ैममकपदह) द्वारा वर्षा कराने, बादलों को रोकने तूफानों और चक्रवातों की दिशायें और मार्ग बदलने, उपलवृष्टि रोकने आदि की तकनीक प्राप्त कर ली फि भूकम्प, सुनामी, सूखा, बाढ़ की यह त्रासदी अब क्यों ? एक ही कारण-कृत्रिम परिवर्तन होता है पूरा जैवमण्डल प्रभावित होता है, प्रकृति का सुरक्षा चक्र टूटता है, आहार श्रृंखला भंग होती है, जैव विविधता में कमी आती है। आज मनुष्य द्वारा किए गए पूरे विकास का सारांश अन्न, जल और प्राण वायु के साथ मनुष्य के ही शरीर में प्रवेश कर उस अन्तर्गुहावासी के ‘सकल व्याधिन कर मूल’ रूप में लिख चुका है। क्या अब भी नही समझ में आया-‘अंजन कहा आँखि जेहि फूटै, बहुतक कहाँ कहाँ लौ ?’’

हे मानव सभ्यता के पुरोधा ! बारूद के ढेरों पर, शीतल ज्वालामुखी के संदिग्ध शिलातल पर-हिमजडि़त चेतना के उत्तुंग शिखर पर किंकत्र्तव्यविमूढ़ पर- हिमजडि़त चेतना के उत्तुंग शिखर पर किंकत्र्तव्यविमूढ़ से बैठे, हे अभिव मनु! सभ्यता के विकास का नवद्वार तुम्हीं से खुलेगा। इसलिए टूटी हुई आस्था, भग्न विश्वास और डिगे हुए आत्मविश्वास की पूंजी समेटकर पूरी स्फूर्ति से शीघ्र सोचों कुछ करो..........प्रलय आने के पूर्व करो, क्योंकि याद रखो-प्रलय के बीच और प्रलय के बाद भी बचोगे तुम्ही हमेशा की तरह, इसलिए अकेलेपन से न डरो, अकेलापन तुम्हारा चिर सहचर है, खत्म होनेे से पहले रच लो-बीज रूप सृष्टि। देखो.....देखो सुबह की पलको पर ठहरे हुए ओस के आँसू कितनी चतुराई से पोंछ गयी पवन ! सुनहरी किरणें लिए ऊषा आई-धूल-धुंध-धुएँ में भूल-भटककर उदास चली गयी वापस, उठो ! उठो ! मना लो उषा के पास है मंद-मंद पवन कलियों की मृदु मुस्कान लिए गुनगुना रही है-चिडि़यों का मधुर गीत सुनो, उठो ! आस का अहसास छू लो ओस की बूँदो में-धरती के नवगीत बनो ! भागते-भागते कितना तो थक चुके हो ! ठहरो ! अपने रागी मन की बात सुनो-वरदान चेतना का, साधना आनन्द की-बढ़ो प्रकृति की ओर-चलो प्रकृति की ओर।

डा0 शशि प्रभा बाजपेयी
एस0प्रो0-हिन्दी विभाग
भगवानदीन आर्य कन्या स्नातकोत्तर महाविद्यालय
लखीमपुर-खीरी।
मो0नं0-9454237080

22 अप्रैल- कैसे मनायें पृथ्वी दिवस ?

पृथ्वी दिवस - हर वर्ष की तरह इस वर्ष भी 22 अप्रैल को आ ही गया अंतर्राष्ट्रीय मां पृथ्वी का यह दिन। सोचना यह है कि हम इसे कैसे मनायें ? सीधे कहूं तो पृथ्वी दिवस पर दुनियाभर में गोष्ठी, सेमिनार, संवाद, कार्यशालायें आयोजित होती ही हैं। इनमें भाग ले सकते हैं; इनका आयोजन कर सकते हैं; इनके आयोजन में मदद कर सकते हैं। इसके लिए कोई बङे खर्च और आयोजन की जरूरत नहीं। आप चाहें तो अपने आसपास के बच्चों को इकट्ठा कर पृथ्वी की चुनौतियों और उसके समाधान में उनकी भूमिका चर्चा कर सकते हैं। उनकी नदी, बरगद, गिलहरी व गौरैया आदि से मित्रता करा सकते हैं। 

सरोकार समझें और समझायें

प्रथम पृथ्वी दिवस के आयोजन में शामिल सरोकारों का संदेश साफ है कि पृथ्वी के सरोकार व्यापक हैं। अतः संचेतना और सावधानियां भी व्यापक ही रखनी होगी। यदि पृथ्वी की चिंता करनी है, तो सृष्टि के हर अंश की चिंता करनी होगी। हम मानवांे की चिंता इसमें स्वयमेव शामिल है। इसके लिए आप कुछ छोटे कदम तय कर सकते हैं। बङे, बच्चों को बता सकते हैं कि यदि वे अपनी काॅपी के पन्ने बर्बाद न करें, तो इससे कैसे धरती की मदद होगी। उन्हे यह भी बतायें कि इससे अंततः कैसे इंसानी जीवन को बेहतर रखने मंे मदद मिलेगी। प्रकृति की सुरक्षा और हमारी सेहत, रोजगार, आर्थिकी व विकास के रिश्ते को बताये बगैर बात बनेगी नहीं। इस रिश्ते को समझाना भी पृथ्वी दिवस का ही काम है। लेकिन बच्चों को बताने से पहले एक बात सुनिश्चित कर लें कि आप खुद भी उस काम को अंजाम दे दें, जिसे करने की आप बच्चों से अपेक्षा कर रहे हैं। कोरी बातें न करंे। अच्छी बातों को कार्यरूप दें; वरना् वे बेअसर रहंेगी। बच्चे भी यही काम, बङों को समझाकर कर सकते हैं।

चैपाई गायें: पृथ्वी समझायें 

संयोग से इस 22 अप्रैल को हनुमान जयंती भी है। हनुमान चालीसा में एक चैपाई है:  ’’युग सहस्त्र योजन पर भानू, लील्यो ताहि मधुर फल जानू।’’ इसका मतलब है कि बाल हनुमान ने एक हजार युग योजन दूर स्थित सूर्य को मधुर फल समझकर निगल लिया। एक युग यानी 12,000 वर्ष, एक सहस्त्र यानी 1000 तथा एक योजन का मतलब होता है - 8 मील। एक मील बराबर होता है - 1.6 किलोमीटर। इस प्रकार एक हजार युग योजन का मतलब है - 12000 गुणा 1000गुणा 8 गुणा 1.6 = 153.60 करोङ किलोमीटर; अर्थात पृथ्वी, सूर्य से 153.60 करोङ किलोमीटर दूर स्थित एक ग्रह है। 

गोस्वामी तुलसीदास जी ने यह वैज्ञानिक आंकङा एक चैपाई के रूप में पेश किया। नासा ने भी सूर्य से पृथ्वी की यही दूरी मानी है। विज्ञान के ऐसे अनेक सूत्र और धरती व इसकी रचनााओं के लिए हितकारी अनेक निर्देश भारत के पुरातन शास्त्रों, लोकगाथाओं में मौजूद है। इन्हे नई पीढी के समक्ष पेशकर हम न सिर्फ पृथ्वी दिवस के संदेश को आगे बढाने का काम करेंगे, भारतीय ज्ञानतंत्र के प्रति विश्वास और सम्मान बढाने का भी काम करेंगे। अपनी जरूरतों की पूर्ति के लिए परावलंबन, कभी किसी जीव के लिए हितकारी नहीं होता। 

कुछ नारे 

हम चाहें तो पृथ्वी दिवस के संदेश को आगे ले जाने के लिए लिए नारे लिख सकते हैं। कहीं और नहीं, तो अपने घर के बाहर, स्कूल के अंदर या अपनी मेज पर धरती बचाने के लिए कोई एक नारा लिखकर टांग सकते है:
’’पानी बचेगाः सेहत बचेगीः पैसा बचेगा: पलायन रुकेगाः रोजगार बढेगा’’
’’भगवान यानी भ से भूमि, ग से गगन, व से वायु, अ से अग्नि, न से नीर’’
’’पंचतत्व ही है भगवान, इनकी समृद्धि कार्य महान’’
’’कचरा फैलाना गंदी बात’’
’’नदियां हमारी जीवन रेखा हैं, कोई कूङादान नहीं।’’
’’धरती बचाओ: पेङ लगाओ।’’ 
’’अपव्यय घटेगा: पृथ्वी बचेगी’’  
’’क्लीन स्ट्रीट: ग्रीन सिटी’’

कुछ संकेत
हां, पर कुछ खास बताओ यार ?
खास ?  ..तो यह भी कर सकते हैं कि गली में कचरा फेंकने वाले घर/दुकान अथवा प्रदूषण फैलाने वाली फैक्टरी को चिन्हित करें और पृथ्वी दिवस पर उसके बाहर एक पोस्टर लगायें: ’’इस घर/ दुकान/फैक्टरी को कचरा फैलाना पसंद है।’’ ....या फिर कचरा फेंकने के खिलाफ कचरा फेंकने वाले के दरवाजे पर मौन.. शांतिपूर्ण सांकेतिक प्रदर्शन करें। उनकी सूची बनाकर किसी एक सार्वजनिक स्थल पर लगायें।

अपनी भूमिका तलाशें
ये तो बस एक आइडिया है। यदि आपको ये काम अपने लिए मुफीद नहीं लगते, तो आप कुछ और काम सोच और कर सकते हैं। बस! कुछ भी करने से एक बात जरूर समझ लें कि पृथ्वी कोई एक गोेला मात्र नहीं है; पृथ्वी पंचतत्वों से निर्मित जींवत प्रणालियों का एक अनोखा रचना संसार है। रचना और विनाश, ऐसी दो प्रक्रियायें जो इसे हमेशा नूतन और सक्रिय बनाये रखती हैं। इसकी रचना, विकास और विनाश में हर जीव की अपनी एक अलग भूमिका है। जब-जब हम इस भूमिका का निर्वाह करने में चूक करते हैं, पृथ्वी हम चेताती है। अमीबा, चींटी, बिल्ली, सियार, कौआ, बाघ तक सभी की कुछ न कुछ भूमिका है। सहयोगी भूमिका पहाङ, पठार, रेगिस्तान, तालाब, झील, समंदर, नमी से लेकर उस पत्थर की भी है, जो नदी के बीच खङा नदी के प्रवाह को चुनौती देता सा प्रतीत होता है। यदि हमने धरती की चुनौतियांे और इनके समाधान में प्रत्येक की भूमिका समझने का थोङा भी प्रयास किया, तो हमें अपनी भूमिका स्वयंमेव समझ आ जायेगी। 

नामकरण का संदेश फैलायें
भारतीय संस्कृति तो ’वसुधैव कुटुंबकम’ कहती ही रही है। 22 अप्रैल - ’अंतर्राष्ट्रीय मां पृथ्वी का दिन’ का नामकरण भी यही संदेश देता है कि हम सभी की मां एक है। इसके मायने व्यापक हैं। इसकी पालना करें तो दुनिया के देशों के बीच दूरियां स्वतः काफी कम हो जायें; राजनैतिक, आर्थिक और सामरिक समीकरण काफी बदल जायें। काश! कभी हम यह कर सकें।

चुनौती और समाधान की पहचान भी एक काम

हमें विचार करना चाहिए कि आखिर वे कौन से कारण हैं, जो वैश्विक माता पृथ्वी को नुकसान पहुंचा रहे हैं। कौन से कार्य हैं, जो पृथ्वी की हवा, पानी, मिट्टी को प्रदूषित कर रहे हैं ? किन वजहों से धरती की गर्म हो रही है ? पृथ्वी मां को हो रहे बुखार के कारण को पहचानें। वनस्पतियां, पृथ्वी माता के फेफङे हैं; नदियां, इसकी धमनियां। इनके काम में कौन और कैसे रुकावट डाल रहा है ? सोचें कि कैसे पृथ्वी पर प्रकृति के बनाये ढांचों को नष्ट किए बगैर, इंसान अपने लिए जरूरी ढांचे बना सकता है ? पृथ्वी दिवस पर एक पौधा लगाकर उसकी सेवा का संकल्प इसमें मददगार हो सकता है। 

प्याऊ लगाओ: भूजल बढाओ

पृथ्वी दिवस से एक दिन पहले, 21 अप्रैल को अक्षय तृतीया है। यह अबूझ सावा होता है। शुभ काम करने के लिए इस दिन किसी से मुहूर्त पूछने की जरूरत नहीं। शास्त्रों में इस दिन से आगे पूरे बैसाख-जेठ तक प्याऊ लगाने को पुण्य का काम माना गया है। भारत के कई इलाकों में ऐसा होता है। आप भी अपना एक छोटा सा प्याऊ लगा सकते हैं। प्याऊ: पानी के बाजार के खिलाफ एक औजार ! 
अक्षय तृतीया से जलसंरचनाओं की गाद निकालने और पाल को ठीक करने का काम करने के निर्देश हैं। ऐसा कर आप धरती और स्वयं की मदद ही करेंगे।

अपव्यय घटायें: पृथ्वी बचायें

जिस चीज का ज्यादा अपव्यय करते हों, संकल्प ले सकते हैं - ’’ मैं इसका त्याग करुंगा अथवा अनुशासित उपयोग करुंगा।’’ सामथ्र्य होते हुए भी कम से कम कपङे, एक जोङी जूते में गुजारा चलाने का संकल्प ले सकते हैं। ध्यान रहे कि अपव्यय और कंजूसी में फर्क होता है। ’’खाऊंगा मनभरः छोङूंगा नहीं कणभर’’ यानी थाली मंे झूठा नहीं छोङूंगा। यह जूठन छोङना कंजूसी नहीं, अपव्यय है। गांव में तो यह जूठन मवेशियों के काम आ जाता है अथवा खाद गड्ढे में चला जाता है। ऐसा करके आप भोजन का अपव्यय रोक सकते हैं। 

तय कर सकते हैं कि दूध लेने के लिए मैं दुकानदार से पाॅलीथीन की झिल्ली नहीं लूंगा। इसके लिए घर से सदैव एक पाॅलीथीन बैग लेकर जाऊंगा।’’ ऐसा कर आप एक वर्ष में 364 झिल्लियां का कचरा कम करेंगे।
यदि हम बाजार से घर आकर कचरे के डिब्बे में जाने वाली पाॅलीथीन की झिल्लियों को घर में आने से रोक दें तो गणित लगाइये; एक अकेला परिवार ही अपनी जिंदगी में कई सौ किलो कचरा कम कर देगा; दुकानदार का झिल्ली खरीदने पर खर्च कम होगा, सो अलग। मात्र एक झोला अपने साथ रखकर हम यह कर सकते हैं। इस तरह एक बात तो तय है कि हम जो कुछ भी बचायेंगे, अंततः उससे पृथ्वी का हित ही होगा। इससे धरती बचेगी और हम भी। .....तो मित्रों, इस पृथ्वी दिवस पर आप क्या करने वाले है ? पहले से सोचें और करना तय करें। हमें भी बतायें। अपने दोस्तों से साझा करें। उन्हे ऐसा करने के लिए प्रेरित करें।

ऐसा कर आप पृथ्वी के दोस्त बन जायेंगे और पृथ्वी आपकी। दोनो मिलकर ही एक-दूसरे की सुरक्षा सुनिश्चित कर सकते हैं। आइये, इस पृथ्वी दिवस पर कोई अच्छी पहल करें। भूले नहीं कि हर अच्छी शुरुआत स्वयं से ही होती है। यह भी याद रखें कि हर बङे बदलाव की शुरुआत छोटी ही होती है। परिणाम की चिंता करे बगैर आइये, करें।


अरुण तिवारी
146, सुंदर ब्लाॅक, शकरपुर, दिल्ली-92
9868793799/011-22043335

पृथ्वी दिवस- भारतीय, इसलिए भी मनायें पृथ्वी दिवस


22 अप्रैल-पृथ्वी दिवस पर विशेष

यूं तो मैं सीधे-सीधे कह सकता हूं कि 22 अप्रैल-पृथ्वी दिवस, सिर्फ संयुक्त राष्ट्र संघ अथवा संयुक्त राज्य अमेरिका से जुङे संगठनों व देशों को पृथ्वी के प्रति दायित्व निर्वाह की याद दिलाने का मौका नहीं है; यह प्रत्येक जीव के याद करने का मौका है कि पृथ्वी के प्रति हमारा दायित्व क्या है और वह उसकी पूर्ति कैसे करें ? उपभोग और प्रकृति को नुकसान की दृष्टि से देखें तो यह दायित्व निश्चय ही विकसित देशों का ज्यादा है, किंतु इस लेख के माध्यम से मैं यह रेखांकित करना चाहता हूं कि मानव उत्पत्ति के मूल स्थान के लिहाज से यह दायित्व सबसे ज्यादा हिमालयी देशों का है; कारण कि सृष्टि में मानव की उत्पत्ति सबसे पहले हिमालय की गोद में बसे वर्तमान तिब्बत में ही हुई। 

मानव उत्पत्ति का मूल: तिब्बत

श्री मनमोहन आर्य के अनुसार, आर्यसमाज के प्रणेता महर्षि दयानंद रचित ’सत्यार्थ प्रकाश’ के आठवें समुल्लास में सृष्टि की रचना ’त्रिविष्टप’ यानी तिब्बत पर्वत बताया गया है। 

’’परिमण्डलेर्मध्ये मेरुरुत्तम पर्वतः। ततः सर्वः समुत्पन्ना वृत्तयो द्विजसत्तमः।। 
हिमालयाधरनोऽम ख्यातो लोकेषु पावकः। अर्धयोजन विस्तारः पंच योजन मायतः।।’’

चरक संहिता का उक्त सूत्र, मेरु पर्वत स्थित आधा योजन यानी चार मील चैङे और पांच योजन यानी चालीस मील लंबे क्षेत्र को आदिमानव की उत्पत्ति का क्षेत्र मानती है। महाभारत कथा भी देविका के पश्चिम मानसरोवर क्षेत्र को मानव जीवन की नर्सरी मानती है। इस क्षेत्र में देविका के अलावा ऐरावती, वितस्ता, विशाला आदि नदियांे का उल्लेख किया गया है। वैज्ञानिक, जिस समशीतोष्ण जलवायु को मानव उत्पत्ति का क्षेत्र मानते हैं, मानसरोवर ऐसा ही क्षेत्र है। कुल मिलाकर सृष्टि में मानव उत्पत्ति का क्षेत्र अभी तिब्बत ही प्रमाणित होता है। 

जहां तक पृथ्वी पर जीवन की उत्पत्ति का प्रश्न है, निस्संदेह वह सर्वप्रथम मानव के रूप में नहीं हुई। भारतीय कालगणना के मुताबिक, मानव की उत्पत्ति सृष्टि रचना के एक करोङ, 20 लाख, 95 हजार, 989 वर्षांे बाद हुई। समुद्र में प्राप्त मूंगा भित्तियों को जीवन की प्रथम नर्सरी कहा गया है। बहुत संभव है कि जीवन उत्पत्ति के उस काल में तिब्बती एक समुद्री क्षेत्र ही रहा होगा। दुर्भाग्यपूर्ण यह है कि मूंगा भित्ती उत्पत्ति का क्षेत्र बने समुद्रों और मानव उत्पत्ति के क्षेत्र बने तिब्बत... आज इन दोनो पर ही संकट है। समुद्रों का तल बढ जाने के कारण दुनिया लाखों हैक्टेयर मूंगा भित्ती क्षेत्रफल खो चुकी है। मूंगा भित्तियों का खोया क्षेत्रफल कैसे लौटे ? यह सुनिश्चित करने के लिए तो पृथ्वी दिवस मनाना जरूरी है ही, किंतु तिब्बत के दुर्भाग्य को सौभाग्य में बदलने के लिए भी पृथ्वी दिवस मनाना जरूरी है। चीन की दबंगई के चलते तिब्बत में लगातार मानवता की हत्या हो रही है। चीन की निगाह में तिब्बत में इंसान नहीं, कुछ अनुपयोगी सामान रहते हैं।

संकट में मानव उत्पत्ति के मूल स्थान का मानव

दुर्भाग्यपूर्ण है कि मानव उत्पत्ति की नर्सरी कई दशकों से डेªगन से अपनी आजादी के लिए संघर्ष कर रही है और उसे रास्ता ढूंढे नहीं मिल रहा। इस बंद रास्ते का दर्द हम नई दिल्ली स्थित चीनी दूतावास के समक्ष प्रवासी तिब्बतियों के प्रदर्शन के रूप मंे अक्सर देखते ही हैं। पिछले दो वर्षों में मानव उत्पत्ति के इस मूल क्षेत्र में करीब 150 तिब्बती अपने जीवन की अंत खुद करने कोे मज़बूर हुए हैं। तिब्बत को इस मज़बूरी से कैसे निजात मिले ? तिब्बत आज भी बाट जो रहा है कि उसका विकास और आजादी उसके हाथ कैसे लौटे ?

निगाहें भारत की ओर

यूं मानव उत्पत्ति का मूल स्थान होने का नाते तिब्बत, पूरी दुनिया का मूल है। इस नाते तिब्बत, पूरी दुनिया के लिए पूज्यनीय और पैतृक स्थान है। इस तरह तिब्बत का सौभाग्य सुनिश्चित करना पूरी दुनिया का दायित्व है। तिब्बत, सिर्फ चीन का नहीं हो सकता। तिब्बत को आजाद और अनुपम होना ही चाहिए। यह सुनिश्चित करने के लिए तिब्बत यदि आज किसी की ओर सबसे ज्यादा देखता है, तो वह है हमारा देश भारत। वजह ? तिब्बत के शरणार्थियों को सबसे ज्यादा सम्मान भारत ही देता है। इस चर्चा का एक जरूरी आयाम यह है कि चीन, तिब्बत को केन्द्र बनाकर, भारत आने वाली नदियांे में कचरा और खतरा बढा रहा है। इस नाते भी जरूरी है कि पृथ्वी दिवस के बहुआयामी संदेशों को सुने और कम से कम तिब्बत और अपने लिए अमल करे। 

भारतीय इसलिए भी मनायें पृथ्वी दिवस
हम भारतीयों के लिए यह अमल इसलिए भी जरूरी है, क्योंकि मंूगा भित्तियों की चिंता, पूरी सृष्टि के जीवन विकास पर घात की चिंता है। जीवन विकास के इस मूल संकट का विस्तार यह है कि गत् 40 वर्षों के छोटे से कैलेण्डर में प्रकृति के खो गये 52 फीसदी दोस्तों के रूप में खोया भारत ने भी है। समुदों का तल 6 से 8 इंच बढने की खबर का असर भारत के सुंदरबन से लेकर पश्चिमी घाटों तक नुमाया है ही। दुनिया ने बाघ खोये हैं, एशिया ने सबसे ज्यादा; बावजूद इसके भारत सरकार के प्रतिनिधि कह रहे हैं कि वे भारत के बाघ, दूसरे देशो को देने को तैयार हैं। ऐसे सरकारी नुमाइंदों को खाद्य श्रृंखला मंे बाघ का महत्व समझाना है। गौरैया को अपने आंगन और घर के रौशनदान पर वापस बसाना है। नीलगायों को उनके ठिकाने लौटाने हैं। चींटी से लेकर हाथी तक सभी को उनका जीवन जीने का हक लौटाना है। 

..क्योंकि भारत से भी रुठ रहे हैं प्राकृतिक उपहार

इस बीच भारत में सर्वाधिक जैवविविधता वाले गंगा जल का अमरत्व यानी अक्षुण्णता खोई है। हमारी नदियां, नाला बनी हैं। तालाब, सूखे कटोरे में तब्दील हुए हैं। भूजल घटा है। इंसान, अब इस घटोत्तरी का नया शिकार है। प्रकृति से दूर होती जीवन शैली के कारण भारतीयों की जिंदगी में भी अवसाद और तनाव बढे हैं। मार्च-अप्रैल के इन महीनों में किसान और कश्मीर को चिंतित होते हमने देखा ही कि जलचक्र क्यों अपना अनुशासन और तारतम्य खो रहा है। खेती पर नये तरह के संकट आते साफ दिखाई दे रहे हैं और राजनेता हैं कि श्रेय की दिखावटी दौङ में लगे हैं। इस दौङ को कम कर, समस्त जीव हितैषी कर्म को बढाना है। 

..क्योंकि भारत ने भी खोई है सांस और सेहत

शोध बता रहे हैं कि हमारी सांसें घटी हैं और सेहत भी। हमें ताज्जुब नहीं होना चाहिए कि दुनिया में 40 प्रतिशत मौत पानी, मिट्टी और हवा में बढ आये प्रदूषण की वजह से हो रही हैं। हमंे होने वाली 80 प्रतिशत बीमारियों की मूल वजह पानी का प्रदूषण, कमी या अधिकता ही बताया गया है। पानी में क्रोमियम, फ्लोराइड, लैड, आयरन, नाईटेªट, आर्सेनिक जैसे रसायन तथा बढ आये ई-कोलाई के कारण कैंसर, आंत्रशोथ, फ्लोरिसिस, पीलिया, हैजा, टाइफाइड, दिमाग, सांस व तंत्रिका तंत्र में शिथिलता जैसी कई तरह की बीमारियां सामने आ रही हैं। एक अध्ययन ने पानी के प्रदूषण व पानी की कमी को पांच वर्ष तक की उम्र के बच्चों के लिए ’नंबर वन किलर’ करार दिया है। आंकङे बताते हैं कि पांच वर्ष से कम उम्र तक के बच्चों की 3.1 प्रतिशत मौत और 3.7 प्रतिशत विकलांगता का कारण प्रदूषित पानी ही है। भारत भी इसका शिकार है। स्पष्ट है कि पानी का संकट बढेगा, तो जीवन विकास पर संकट गहरायेगा ही। किंतु इसका उपाय, आर ओ, फिल्टर या बोतलबंद पानी या बाजार नहीं हो सकता।

..क्योंकि भारत भी हुआ है असभ्य

भारत ने खुद जलदान को महादान बताने वाली भारतीय जल संरक्षण संस्कृति का क्षरण किया है। इस क्षरण को रोकना ही पृथ्वी दिवस का संदेश है। कचरा, उपभोग, अपने लिए दूसरे के संसाधनों की लूट - ये किसी के सभ्य होने के लक्ष्ण नहीं हैं। जाहिर है कि सभ्यता के मूल गुणों को खोकर असभ्य तो हम भारतीय भी हुए ही हैं। सदुपयोग को छोङ, उपभोग की दिशा में कदम बढाने और पृथ्वी का बुखार बढाने वाले राष्ट्रों में अब भारत भी शामिल है। भारत की नई सरकार को भूमि बचाने से ज्यादा, भूमि का मुआवजा बढाने की चिंता है। हम भूमि की चिंता करने के लिए भी पृथ्वी दिवस का संदेश सुनें और सुनायें; ताकि धरती भी बचे और धरती वासी भी।


अरुण तिवारी
146, सुंदर ब्लाॅक, शकरपुर, दिल्ली-92
9868793799/011-22043335

Apr 20, 2016

22 अप्रैल कैसे बना पृथ्वी दिवस ?



भारतीय कालगणना दुनिया में सबसे पुरानी है। इसके अनुसार, भारतीय नववर्ष का पहला दिन, सृष्टि रचना की शुरुआत का दिन है। आई आई टी, बनारस हिंदू विश्वविद्यालय के प्रोफेसर डाॅ. बिशन किशोर कहते हैं कि यह एक तरह से पृथ्वी का जन्मदिन की तिथि है। तद्नुसार इस भारतीय नववर्ष पर अपनी पृथ्वी एक अरब, 97 करोङ, 29 लाख, 49 हजार, 104 वर्ष की हो गई। वैदिक मानव सृष्टि सम्वत् के अनुसार, मानव उत्पत्ति इसके कुछ काल बाद यानी अब से एक अरब, 96 करोङ, आठ लाख, 53 हजार, 115 वर्ष पूर्व हुई। जाहिर है कि 22 अप्रैल, पृथ्वी का जन्म दिवस नहीं है। चार युग जब हजार बार बीत जाते हैं, तब ब्रह्मा जी का एक दिन होता है। इस एक दिन के शुरु में सृष्टि की रचना प्रारंभ होती है और संध्या होते-होते प्रलय। ब्रह्मा जी की आयु सौ साल होने पर महाप्रलय होने की बात कही गई है। रचना और प्रलय... यह सब हमारे अंग्रेजी कैलेण्डर के एक दिन में संभव नहीं है। स्पष्ट है कि 22 अप्रैल, पृथ्वी का प्रलय या महाप्रलय दिवस भी नहीं है। फिर भी दुनिया इसे ’इंटरनेशनल मदर अर्थ डे’ यानी ’ अंतर्राष्ट्रीय मां पृथ्वी का दिन’ के रूप में मनाती है। हम भी मनायें, मगर यह तो जानना ही चाहिए कि क्या हैं इसके संदर्भ और मंतव्य ?? मैने यह जानने की कोशिश की है; आप भी करें।

एक विचार

सच है कि 22 अप्रैल का पृथ्वी से सीधे-सीधे कोई लेना-देना नहीं है। जब पृथ्वी दिवस का विचार सामने आया, तो भी पृष्ठभूमि में विद्यार्थियों का एक राष्ट्रव्यापी आंदोलन था। वियतनामी यु़द्ध विरोध में उठ खङे हुए विद्यार्थियों का संघर्ष! 1969 में सांता बारबरा (कैलिफोर्निया) में बङे पैमाने पर बिखरे तेल से आक्रोशित विद्यार्थियों को देखकर गेलाॅर्ड नेलसन के दिमाग में ख्याल आया कि यदि इस आक्रोश को पर्यावरणीय सरोकारों की तरफ मोङ दिया जाये, तो कैसा हो। नेलसन, विसकोंसिन से अमेरिकी सीनेटर थे। उन्होने इसे देश को पर्यावरण हेतु शिक्षित करने के मौके के रूप में लिया। उन्होने इस विचार को मीडिया के सामने रखा। अमेरिकी कांग्रेस के पीटर मेकेडलस्की ने उनके साथ कार्यक्रम की सह अध्यक्षता की। डेनिस हैयस को राष्ट्रीय समन्वयक नियुक्त किया गया।

आवश्यकता बनी विचार की जननी

खंगाला तो पता चला कि साठ का दशक, हिप्पी संस्कृति का ऐसा दशक था, जब अमेरिका में औद्योगीकरण के दुष्पभाव दिखने शुरु हो गये थे। आज के भारतीय उद्योगपतियों की तरह उस वक्त अमेरिकी उद्योगपतियों को भी कानून का डर, बस! मामूली ही था। यह एक ऐसा दौर भी था कि जब अमेरिकी लोगों ने औद्योगिक इकाइयों की चिमनियों से उठते गंदे धुंए को समृद्धियों के निशान के तौर पर मंजूर कर लिया था। इसी समय इस निशान और इसके कारण सेहत व पर्यावरण पर पङ रहे असर के खिलाफ जन जागरूता की दृष्टि से रचित मिस रचेल कार्सन की लिखी एक पुस्तक की सबसे अधिक बिक्री ने साबित कर दिया था कि पर्यावरण को लेकर जिज्ञासा भी जोर मारने लगी है।

विचार को मिला दो करोङ अमेरिकियों का साथ

गेलाॅर्ड नेलसन की युक्ति का नतीजा यह हुआ कि 22 अप्रैल, 1970 को संयुक्त राज्य अमेरिका की सङकों, पार्कों, चैराहों, काॅलेजों, दफ्तरों पर स्वस्थ-सतत् पर्यावरण को लेकर रैली, प्रदर्शन, प्रदर्शनी, यात्रा आदि आयोजित किए। विश्वविद्यालयों में पर्यावरण में गिरावट को लेकर बहस चली। ताप विद्युत संयंत्र, प्रदूषण फैलाने वाली इकाइयां, जहरीला कचरा, कीटनाशकों के अति प्रयोग तथा वन्य जीव व जैवविविधता सुनिश्चित करने वाली अनेकानेक प्रजातियों के खात्मे के खिलाफ एकमत हुए दो करोङ अमेरिकियों की आवाज ने इस तारीख को पृथ्वी के अस्तित्व के लिए अह्म बना दिया। तब से लेकर आज तक यह दिन दुनिया के तमाम देशों के लिए खास ही बना हुआ है। 

आगे बढता सफर
पृथ्वी दिवस का विचार देने वाले गेलाॅर्ड नेलसन ने एक बयान में कहा - ’’यह एक जुआ था; जो काम कर गया।’’ सचमुच ऐसा ही है। आज दुनिया के करीब 184 देशों के हजारों अंतर्राष्ट्रीय समूह इस दिवस के संदेश को आगे ले जाने का इस काम कर रहे हैं। वर्ष 1970 के प्रथम पृथ्वी दिवस आयोजन के बाद संयुक्त राष्ट्र संघ के दिल में भी ख्याल आया कि पर्यावरण सुरक्षा हेतु एक एजेंसी बनाई जाये। वर्ष 1990 में इस दिवस को लेकर एक बार उपयोग में लाई जा चुकी वस्तु के पुर्नोपयोग का ख्याल व्यवहार में उतारने का काम विश्वव्यापी संदेश का हिस्सा बना। 1992 में रियो डी जिनेरियो में हुए पृथ्वी सम्मेलन ने पूरी दुनिया की सरकारों और स्वयंसेवी जगत में नई चेतना व कार्यक्रमों को जन्म दिया। एक विचार के इस विस्तार को देखते हुए गेलाॅर्ड नेलसन को वर्ष 1995 मंे अमेरिका के सर्वोच्च सम्मान ’प्रेसिडेन्सियल मैडल आॅफ फ्रीडम’ से नवाजा गया। नगरों पर गहराते संकट को देखते हुए अंतर्राष्ट्रीय मां पृथ्वी का यह दिन ’क्लीन-ग्रीन सिटी’ के नारे तक जा पहुंचा है।

मंतव्य

अंतर्राष्ट्रीय मां पृथ्वी के एक दिन - 22 अप्रैल के इस सफरनामें को जानने के बाद शायद यह बताने की जरूरत नहीं कि पृथ्वी दिवस कैसे अस्तित्व में आया और इसका मूल मंतव्य क्या है। आज, जब वर्ष 1970 की तुलना में पृथ्वी हितैषी सरोकारों पर संकट ज्यादा गहरा गये हैं कहना न होगा कि इस दिन का महत्व कम होने की बजाय, बढा ही है। इस दिवस के नामकरण में जुङे संबोधन ’अंतर्राष्ट्रीय मां’ ने इस दिन को पर्यावरण की वैज्ञानिक चिंताओं से आगे बढकर वसुधैव कुटुम्बकम की भारतीय संस्कृति से आलोकित और प्रेरित होने का विषय बना दिया है। इसका उत्तर इस प्रश्न में छिपा है कि भारतीय होते भी हम क्यों और कैसे मनायें अंतर्राष्ट्रीय पृथ्वी दिवस ? इस पर चर्चा फिर कभी। फिलहाल सिर्फ इतना ही कि 22 अप्रैल अंतर्राष्ट्रीय मां के बहाने खुद के अस्तित्व के लिए चेतने और चेताने का दिन है। आइये, चेतें और दूसरों को भी चेतायें।





अरुण तिवारी
146, सुंदर ब्लाॅक, शकरपुर, दिल्ली-92
9868793799/011-22043335

विविधा

आओ प्यारे कम्प्युटर पर बाघ बचायें!
अरूणेश सी दवे, जहाँ तक रही बात प्रबुद्ध बाघ प्रेमियों की जो नचनियों की तरह सज-धज कर जंगल कम इन्टरनेट पर ज्यादा अवतरित होते हैं, तो उनके लिये मै इंटरनेट मे वर्चुअल अबुझमाड़ बनाने का प्रयास कर रहा हूं । ताकि वो अपनी कोरी कल्पनाओं और वर्चुअल प्रयासों को इस आभासी दुनिया में जाहिर कर अपनी ई-कीर्ति बढ़ा सकें।

सामुदायिक पक्षी सरंक्षण
पक्षियों के संरक्षण का जीवन्त उदाहरण: ग्राम सरेली कृष्ण कुमार मिश्र, लखीमपुर खीरी* उन्नीसवी सदी की शुरूवात में ब्रिटिश हुकूमत के एक अफ़सर को लहूलुहान कर देने से यह गाँव चर्चा में आया मसला था।
तो फ़िर उनसे सीखा हमने योग!
धीरज वशिष्ठ* 84 लाख प्रजातियां और 84 लाख योगासन: पक्षियों-जानवरों से सीखा हमने आसन: धार्मिक चैनलों और बाबा रामदेव के कार्यक्रमों ने आज योग को घर-घर तक पहुंचा दिया है।
नही रहा सुमित!
दुधवा लाइव डेस्क* हाँ हम बात कर रहे है उस हाथी कि जो दो मई २०१० को लखनऊ चिड़ियाघर से दुधवा नेशनल पार्क भेजा गया था! वजह साफ़ थी, कि अब वह बूढ़ा हो गया था

Featured Post

क्षमा करो गौरैया...

Image Courtesy: Sue Van Coppenhagen  संस्मरण गौरैया और मैं -- (3) ....डा0 शशि प्रभा बाजपेयी बात उस समय की है जब घर के नाम पर ...

मुद्दा

क्या खत्म हो जायेगा भारतीय बाघ
कृष्ण कुमार मिश्र* धरती पर बाघों के उत्थान व पतन की करूण कथा:

दुधवा में गैडों का जीवन नहीं रहा सुरक्षित
देवेन्द्र प्रकाश मिश्र* पूर्वजों की धरती पर से एक सदी पूर्व विलुप्त हो चुके एक सींग वाले भारतीय गैंडा

हस्तियां

पदम भूषण बिली अर्जन सिंह
दुधवा लाइव डेस्क* नव-वर्ष के पहले दिन बाघ संरक्षण में अग्रणी भूमिका निभाने वाले महा-पुरूष पदमभूषण बिली अर्जन सिंह

एक ब्राजीलियन महिला की यादों में टाइगरमैन बिली अर्जन सिंह
टाइगरमैन पदमभूषण स्व० बिली अर्जन सिंह और मैरी मुलर की बातचीत पर आधारित इंटरव्यू:

चर्चित लेख

वन्य-जीव

भारत की वन-नीति में बदलाव आवश्यक
देवेन्द्र प्रकाश मिश्र* आजादी के बाद बनी भारतीय वन-नीति की समीक्षा वर्ष 1988 में की गई थी।

घायल तेन्दुए को जंगल में छोड़ा गया
दुधवा लाइव डेस्क* अधूरे इलाज के बाद जंगल में छोड़ा गया घायल तेन्दुआ!

पर्यावरण

क्या वे राज धर्म से वाकिफ़ हैं!
कृष्ण कुमार मिश्र* भारत के कुछ पूर्व नेताओं ने मिसाले कायम की पर्यावरण व वन्य-जीव संरक्षण में

अबूझमाड़ के जंगल- जहाँ बाघ नही नक्सल राज करते हैं!
अरूणेश सी दवे* अबूझमाड़- एक प्राकृतिक स्वर्ग: