International Journal of Environment & Agriculture
ISSN 2395 5791
"किसी राष्ट्र की महानता और नैतिक प्रगति को इस बात से मापा जाता है कि वह अपने यहां जानवरों से किस तरह का सलूक करता है"- मोहनदास करमचन्द गाँधी

जर्मनी द्वारा अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार "द बॉब्स" से सम्मानित पत्रिका "दुधवा लाइव"

Jan 10, 2015

कतरनियाघाट वाइल्ड लाइफ सैंक्चुरी में एक तेंदुए की मौत



इस तरह तो विलुप्त हो जाएगा तराई के जंगलों से तेंदुआ 

शिकार और सड़क दुर्घटनाओं के कारण तेंदुए की संख्या बहुत कम हो चुकी है तराई के जंगलों में 


बहराइच-मिहीपुरवा (Katarniaghat Wildlife Sanctuary), सड़क दुर्घटना मे मादा तेदुअा की मौत,कतर्नियाघाट वन्यजीव प्रभाग के मोतीपुर रेन्ज के खपरा वन चोकी के पास एन एच ७३० पर नानपारा लखीमपुर मार्ग पर सुबह ११ बजे अज्ञात वाहन की ठोकर से मादा तेदुए की मोत हो गयी जिसकी आयु लगभग डेढ़ वर्ष है.

 सुबह ११ बजे वन्यजीव प्रतिपालक विनय कुमार श्रीवास्तव बहराइच से लखीमपुर जा रहे थे तभी रास्ते मे भीड़ देखकर गाड़ी देखकर रोका तो देखा कि सड़क पर तेदुए की मौत हो गयी, इसकी सूचना वन क्षेत्राधिकारी खुर्शीद आलम खान मोतीपुर को देकर तत्काल बुलाया गया, मौके पर वनदरोगा रमाशकर सिह,राम व्रक्ष राव,वन रकक्षक शिव कुमार शर्मा ,परिक्रमादीन,पचंमलाल वनदरोगा आदि कर्मियों के साथ खपरा वन चौकी पर पहुंचे, वहां से तेदुए का शव मोतीपुर रेन्ज कैम्पस लाया गया, जहां डाक्टरों का पैनल पोस्टमार्टम करेगा।

इससे पहले भी हो चुकी हैं तमाम मौते इस खूबसूरत जीव तेंदुए की 

 इससे पूर्व सड़क दुर्घटना मे १९ अक्टूबर २०१४ को नर तेदुए की मौत, ६/०७/१३ को नर तेदुए की मौत, ४/१२/०७ को नर टाईगर्स की मौत हो चुकी है. सड़क की दोनो तरफ क्लीर व्यू न होने से सड़क पर चलने वाले वाहनो को जंगल से निकलने वाले जानवर नही दिखाई पड़ते है,यदि सड़क के दोनो तरफ २० मीटर तक झाड़ियो की सफाई करा दी जाये तो दूर से आने वाले वाहनो के ड्राइवर को जनावर दिखाई आसनी से पड़ सकते है और वन क्षेत्र मे वाहन की गति ३० किमी प्रति घन्टा निर्धारित कर रखा है परन्तु इस पर कोई अमल नही करता है, इस वजह असमय जानवरो की मौत हो रही है.

दुधवा लाइव डेस्क 

0 comments:

Post a Comment

आप के विचार!

विविधा

आओ प्यारे कम्प्युटर पर बाघ बचायें!
अरूणेश सी दवे, जहाँ तक रही बात प्रबुद्ध बाघ प्रेमियों की जो नचनियों की तरह सज-धज कर जंगल कम इन्टरनेट पर ज्यादा अवतरित होते हैं, तो उनके लिये मै इंटरनेट मे वर्चुअल अबुझमाड़ बनाने का प्रयास कर रहा हूं । ताकि वो अपनी कोरी कल्पनाओं और वर्चुअल प्रयासों को इस आभासी दुनिया में जाहिर कर अपनी ई-कीर्ति बढ़ा सकें।

सामुदायिक पक्षी सरंक्षण
पक्षियों के संरक्षण का जीवन्त उदाहरण: ग्राम सरेली कृष्ण कुमार मिश्र, लखीमपुर खीरी* उन्नीसवी सदी की शुरूवात में ब्रिटिश हुकूमत के एक अफ़सर को लहूलुहान कर देने से यह गाँव चर्चा में आया मसला था।
तो फ़िर उनसे सीखा हमने योग!
धीरज वशिष्ठ* 84 लाख प्रजातियां और 84 लाख योगासन: पक्षियों-जानवरों से सीखा हमने आसन: धार्मिक चैनलों और बाबा रामदेव के कार्यक्रमों ने आज योग को घर-घर तक पहुंचा दिया है।
नही रहा सुमित!
दुधवा लाइव डेस्क* हाँ हम बात कर रहे है उस हाथी कि जो दो मई २०१० को लखनऊ चिड़ियाघर से दुधवा नेशनल पार्क भेजा गया था! वजह साफ़ थी, कि अब वह बूढ़ा हो गया था