डायचे वेले जर्मनी द्वारा अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार "द बॉब्स" से सम्मानित पत्रिका "दुधवा लाइव"

International Journal of Environment & Agriculture, Vol.7, no 02, February 2017, ISSN 2395-5791

"किसी राष्ट्र की महानता और नैतिक प्रगति को इस बात से मापा जाता है कि वह अपने यहां जानवरों से किस तरह का सलूक करता है"- मोहनदास करमचन्द गाँधी

Apr 26, 2014

एक मशहूर फिल्म निर्माता ने फिल्म निर्माण के दौरान बाघों के परिक्षेत्र को किया प्रभावित


दुधवा टाइगर रिजर्व क्षेत्र के किशनपुर वन्य जीव विहार में एक नामी फिल्म निर्देशक के द्वारा किसी फिल्म की सूटिंग का बंदोबस्त किया गया, तमाम धुंआ फेकती गाड़ियां, जेनरेटर, धूम्रपान के प्रदूषण के अतिरिक्त सदियों तक न ख़त्म होने वाला थर्माकोल व् प्लास्टिक की तस्तारियाँ व् बोतले फेकी गयी इस सरंक्षित क्षेत्र में, वन्य जीव अधिनियम की धज्जिया उड़ाते लोग फिर भी किंकर्तव्य विमूढ़ बने रहे वनविभाग के अफसर व् मातहत, जहां बाघों को बचाने के लिए भारत सरकार इतने प्रयास कर रही है वही बाघों के परिक्षेत्र में लोगबाग हर किस्म के प्रदूषण फैला रहे है, और प्रशासन मूक है बुर्जुआ लोगों के प्रभाव में, गौरतलब है की भारत में बाघों की घटती तादाद में वैज्ञानिकों का अध्ययन यह इशारा करता है की तराई के ये शाख़ो के वन और नदियों के मध्य के घास के मैदान ही बंगाल टाइगर की नस्ल को सुरक्षित रख सकते है, ऐसे में मानव की बेजा दखलंदाजी यकीनन हमारे भारतीय बाघ को जो हमारा राष्ट्रीय प्रतीक चिन्ह भी है के आवासों को प्रभावित कर रही है....बाघों के इस परिक्षेत्र में किस तरह घुसे ये व्यवसायिक लोग और किस तरह वन्य संपदा में फैलाई गन्दगी इसका पूरा तस्किरा कर रहे लखीमपुर खीरी "गुलरिया" के पत्रकार अब्दुल सलीम खान.......    

लाइव शूटिंग इन दुधवा टाइगर रिजर्व एरिया
पैसे खर्च करो, और जैसे चाहो करो इस्तेमाल 

दुधवा टाइगर रिजर्व एरिया में आपका स्वागत है। अगर आप आम पर्यटक हैं तो यहां पर आप को धूम्रपान तो छोडि़ए पानी की खाली बोतल यहां तक कि गुटखा के खाली पाउच पार्क एरिया में फेकने पर आपका गाइड आपको वाइल्डलाईफ एक्ट की गाइडलाइन बताता नजर आएगा। पर खास लोगों के लिए यहां पर सब कुछ जायज है। शुक्रवार को यूपी की शान कहे जाने वाले पार्क क्षेत्र में एक फिल्म की शूटिंग के दौरान कोई नियम-कानून के मायने नही नजर आए। किशनपुर सेंक्चुरी के झादी ताल पर फिल्म की शूटिंग के दौरान सहायक स्टाफ धड़ल्ले से धूम्रपान करता रहा, ओर प्लास्टिक की खाली बोतले और प्लेटें जंगल में इधर उधर फेंकी गईं। ये सब वन विभाग के अफसरों के सामने हुआ।



कोटवारा स्टेट के राजा व फिल्म निर्देशक मुजफ्फर अली इन दिनों अपनी एक फिल्म की शूटिंग के सिलसिले में जिले में हैं। इस फिल्म की शूटिंग एक दिन के लिए दुधवा टाइगर रिजर्व एरिया के किशनपुर सेंक्चुरी क्षेत्र के झादी ताल की परमीशन ली गई थी। शुक्रवार को सुबह छह बजे फिल्म की पूरी टीम झादी ताल पहुंच गई। करीब २०-२५ गाडिय़ा, साईलेंस जनरेटर, तामझाम के साथ फिल्म की शूटिंग शुरु हुई। शूटिंग के दौरान रिजर्व क्षेत्र में फिल्म का सहायक स्टाफ जमकर धूम्रपान करता नजर आया। करीब पचास मीटर एरिया में पानी की खाली बोतलें व थर्माकोल की प्लेटें, गुटखा पाउच के रैपर सब कुछ हवा में फैलते जा रहे थे। पूरा दिन वाहनों का फर्राटे भरना लगा रहा, इसके अलावा वन महकमे की पूरी टीम खड़ी थी, लेकिन ऐसा लगता था वह सिर्फ इसलिए तैनात हैं, कि कोई शूटिंग को डिस्टर्ब न करे। देर शाम तक जंगल में टीम व उनके वाहन डटे रहे, फिल्म की शूटिंग चल रही थी। 


बाघ व बारासिंगा का बेहतरीन हैविटेट है किशनपुर वन्य जीव विहार 

जहां पर शूटिंग चल रही थी, इस स्थान को सबसे महत्वपूर्ण माना जाता है, अगर कभी आप झादी ताल जाएं तो आपका गाइड आपको यहां पर साइलेंस रहने के बाद बताएगा कि इस सागौन के पेंड़ पर टाइगर रोजाना अपने नाखून साफ करने आता है। आए दिन इसी स्थान पर टाइगर की लोकेशन मिलती है। 
किशनपुर सैंक्चुरी का झादी ताल बारह सिंघा के बेहतरीन हैविटेट के लिए विश्व विख्यात है, इस उथले पानी के तालाब के मध्य छोटे छोटे घास के मैदान भी मौजूद है जहां बाघों को विचरण करते हुए कभी भी देखा जा सकता है, इस उथले पानी के घास के मैदान में नाव डालकर फिल्म की सूटिंग की गयी, जो की बारह सिंघा के इस समुदाय के लिए अनुचित गतिविधि है. वन्य जीवन के मध्य इंसानी फ्दखाल न बढे इसलिए राष्ट्रीय उद्यानों व् वन्य जीव विहारों की स्थापना की गयी, और इन सरंक्षित क्षेत्रों की सुरक्षा वन्य जीव अधिनियम १९७२ के तहत सुनाश्चित कराई गयी, किन्तु यहाँ  नियमों का खुलेआम उलघंन किया गया फिल्म निर्माण के दौरान ..... 


वाकई बाक्सर तो कमाल के होते हैं। फिल्म शूटिंग के दौरान लोगों को दूर रखने के लिए बाक्सर (सुरक्षाकर्मी) पत्रकारों को धमकाते रहे कि फोटो लोगे तेा कैमरे जब्त कर लेंगे। 


अब्दुल सलीम खान 
salimreporter.lmp@gmail.com

3 comments:

Jayant Atrey said...

We have seen some people with fire arms in Dudhawa itself !!! They were related to Political Big-wigs , we were told !!!

mirza raju said...

Behad afsos ki baat hai sharm aani chahiye prasasan ko

mirza raju said...

Shame

Post a Comment

आप के विचार!

विविधा

आओ प्यारे कम्प्युटर पर बाघ बचायें!
अरूणेश सी दवे, जहाँ तक रही बात प्रबुद्ध बाघ प्रेमियों की जो नचनियों की तरह सज-धज कर जंगल कम इन्टरनेट पर ज्यादा अवतरित होते हैं, तो उनके लिये मै इंटरनेट मे वर्चुअल अबुझमाड़ बनाने का प्रयास कर रहा हूं । ताकि वो अपनी कोरी कल्पनाओं और वर्चुअल प्रयासों को इस आभासी दुनिया में जाहिर कर अपनी ई-कीर्ति बढ़ा सकें।

सामुदायिक पक्षी सरंक्षण
पक्षियों के संरक्षण का जीवन्त उदाहरण: ग्राम सरेली कृष्ण कुमार मिश्र, लखीमपुर खीरी* उन्नीसवी सदी की शुरूवात में ब्रिटिश हुकूमत के एक अफ़सर को लहूलुहान कर देने से यह गाँव चर्चा में आया मसला था।
तो फ़िर उनसे सीखा हमने योग!
धीरज वशिष्ठ* 84 लाख प्रजातियां और 84 लाख योगासन: पक्षियों-जानवरों से सीखा हमने आसन: धार्मिक चैनलों और बाबा रामदेव के कार्यक्रमों ने आज योग को घर-घर तक पहुंचा दिया है।
नही रहा सुमित!
दुधवा लाइव डेस्क* हाँ हम बात कर रहे है उस हाथी कि जो दो मई २०१० को लखनऊ चिड़ियाघर से दुधवा नेशनल पार्क भेजा गया था! वजह साफ़ थी, कि अब वह बूढ़ा हो गया था

पर्यावरण

क्या वे राज धर्म से वाकिफ़ हैं!
कृष्ण कुमार मिश्र* भारत के कुछ पूर्व नेताओं ने मिसाले कायम की पर्यावरण व वन्य-जीव संरक्षण में

अबूझमाड़ के जंगल- जहाँ बाघ नही नक्सल राज करते हैं!
अरूणेश सी दवे* अबूझमाड़- एक प्राकृतिक स्वर्ग:

मुद्दा

क्या खत्म हो जायेगा भारतीय बाघ
कृष्ण कुमार मिश्र* धरती पर बाघों के उत्थान व पतन की करूण कथा:

दुधवा में गैडों का जीवन नहीं रहा सुरक्षित
देवेन्द्र प्रकाश मिश्र* पूर्वजों की धरती पर से एक सदी पूर्व विलुप्त हो चुके एक सींग वाले भारतीय गैंडा

हस्तियां

पदम भूषण बिली अर्जन सिंह
दुधवा लाइव डेस्क* नव-वर्ष के पहले दिन बाघ संरक्षण में अग्रणी भूमिका निभाने वाले महा-पुरूष पदमभूषण बिली अर्जन सिंह

एक ब्राजीलियन महिला की यादों में टाइगरमैन बिली अर्जन सिंह
टाइगरमैन पदमभूषण स्व० बिली अर्जन सिंह और मैरी मुलर की बातचीत पर आधारित इंटरव्यू:

Featured Post

क्षमा करो गौरैया...

Image Courtesy: Sue Van Coppenhagen  संस्मरण गौरैया और मैं -- (3) ....डा0 शशि प्रभा बाजपेयी बात उस समय की है जब घर के नाम पर ...

वन्य-जीव

भारत की वन-नीति में बदलाव आवश्यक
देवेन्द्र प्रकाश मिश्र* आजादी के बाद बनी भारतीय वन-नीति की समीक्षा वर्ष 1988 में की गई थी।

घायल तेन्दुए को जंगल में छोड़ा गया
दुधवा लाइव डेस्क* अधूरे इलाज के बाद जंगल में छोड़ा गया घायल तेन्दुआ!