International Journal of Environment & Agriculture
ISSN 2395 5791
"किसी राष्ट्र की महानता और नैतिक प्रगति को इस बात से मापा जाता है कि वह अपने यहां जानवरों से किस तरह का सलूक करता है"- मोहनदास करमचन्द गाँधी

जर्मनी द्वारा अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार "द बॉब्स" से सम्मानित पत्रिका "दुधवा लाइव"

Jul 15, 2011

बगुला भगत, अब भगत नही रहा !

बगुला अब भगत नही रहा !
दुधवा लाइव डेस्क*
इन्सानों ने या फ़िर प्रकृति? ने बगुला भगत की कहावत को भी झूठा साबित करने की कोशिश की। यहां दो तस्वीरे प्रस्तुत है जो मोहम्मदी जिला खीरी के वाइल्डलाइफ़ फ़ोटोग्राफ़र सतपाल सिंह ने खींची। यह जुवेनाइल कैटल इग्रेट (cattle egret ) है, प्रथम दृष्टया तो यह कौतूहल का विषय बना कि कैटल इग्रेट अपना सफ़ेद रंग छोड़ काले रंग में कैसे प्रगट हो गया। यह आनुवंशिक अनियमितता भी हो सकती है, और किसी मानव की शैतानी भी। अभी इसे लगातार देखा जा रहा है, यदि यह रंग से रंगा गया है तो कुछ महीनों में स्थिति स्पष्ट हो जायेगी, और यदि ऐसा नही है तो पक्षी विज्ञान में यह हलचल मचा देने वाला पूरी दुनिया में अब तक का पहला वाकया होगा।




दोनो तस्वीरें साभार: सतपाल सिंह

1 comment:

  1. It's look like Little Blue Heron EGRETTA CAERULEA ????? or can match with Heron's, Kindly identified the features in field deeply.
    Thanks
    Romesh Sharma

    ReplyDelete

आप के विचार!

विविधा

आओ प्यारे कम्प्युटर पर बाघ बचायें!
अरूणेश सी दवे, जहाँ तक रही बात प्रबुद्ध बाघ प्रेमियों की जो नचनियों की तरह सज-धज कर जंगल कम इन्टरनेट पर ज्यादा अवतरित होते हैं, तो उनके लिये मै इंटरनेट मे वर्चुअल अबुझमाड़ बनाने का प्रयास कर रहा हूं । ताकि वो अपनी कोरी कल्पनाओं और वर्चुअल प्रयासों को इस आभासी दुनिया में जाहिर कर अपनी ई-कीर्ति बढ़ा सकें।

सामुदायिक पक्षी सरंक्षण
पक्षियों के संरक्षण का जीवन्त उदाहरण: ग्राम सरेली कृष्ण कुमार मिश्र, लखीमपुर खीरी* उन्नीसवी सदी की शुरूवात में ब्रिटिश हुकूमत के एक अफ़सर को लहूलुहान कर देने से यह गाँव चर्चा में आया मसला था।
तो फ़िर उनसे सीखा हमने योग!
धीरज वशिष्ठ* 84 लाख प्रजातियां और 84 लाख योगासन: पक्षियों-जानवरों से सीखा हमने आसन: धार्मिक चैनलों और बाबा रामदेव के कार्यक्रमों ने आज योग को घर-घर तक पहुंचा दिया है।
नही रहा सुमित!
दुधवा लाइव डेस्क* हाँ हम बात कर रहे है उस हाथी कि जो दो मई २०१० को लखनऊ चिड़ियाघर से दुधवा नेशनल पार्क भेजा गया था! वजह साफ़ थी, कि अब वह बूढ़ा हो गया था