International Journal of Environment & Agriculture
ISSN 2395 5791
"किसी राष्ट्र की महानता और नैतिक प्रगति को इस बात से मापा जाता है कि वह अपने यहां जानवरों से किस तरह का सलूक करता है"- मोहनदास करमचन्द गाँधी

जर्मनी द्वारा अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार "द बॉब्स" से सम्मानित पत्रिका "दुधवा लाइव"

Dec 26, 2010

सूरज कभी नही डूबता !

सूरज कभी नही डूबता...
सूरज कभी नही डूबता...
सूरज कभी नही डूबता...
सूरज कभी नही डूबता...
सूरज कभी नही डूबता...
सूरज कभी नही डूबता...
सूरज कभी नही डूबता...
सूरज कभी नही डूबता...

चीजे जैसी दिखाई देती हैं, क्या हुबहू वे वैसी ही होती हैं?
क्योंकि सूरज कभी नही डूबता !- कृष्ण कुमार मिश्र
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------
"शाहजहाँपुर से तकरीबन १० मील दूर फ़रूखाबाद रोड के किनारे स्थित जस्नपुर गाँव जहां मैंने घर वापसी करते हुए या यूँ कह ले कि धरती के दूसरे छोर की तरफ़ जाते हुए, २४ दिसम्बर २०१० के इस सूरज को देखा, इसी बीच अचानक मेरी तर्जनी की जुंबिशों ने मेरे कैमरे में सीसीडी छवि संवेदक ने ये छवियां उकेर दी....!!".--कृष्ण
------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
नवीन वर्ष 2011 ईस्वीं के आगमन पर तमाम शुभकामनाओं के साथ
संपादक
कृष्ण कुमार मिश्र
दुधवालाइव

5 comments:

  1. the sun,,,mother nature,,, power.of ..life...


    new year is about to begin...
    i wish all friends in dudhwalive
    never give up fighting
    sharing..discussing,,,
    for what u believe is right...
    because the sun always will shine!!!
    sun makes us happy..feeling alive!!

    new good year

    ReplyDelete
  2. बहुत खूबसूरत फोटोग्राफ हैं !

    ReplyDelete
  3. कृष्ण जी,तस्वीरें बहुत उम्दा,निहायत खूबसूरत एवं मनोरम हैं। मन प्रसन्न हो गया। बहुत शुक्रिया आप का ।

    ReplyDelete

आप के विचार!

विविधा

आओ प्यारे कम्प्युटर पर बाघ बचायें!
अरूणेश सी दवे, जहाँ तक रही बात प्रबुद्ध बाघ प्रेमियों की जो नचनियों की तरह सज-धज कर जंगल कम इन्टरनेट पर ज्यादा अवतरित होते हैं, तो उनके लिये मै इंटरनेट मे वर्चुअल अबुझमाड़ बनाने का प्रयास कर रहा हूं । ताकि वो अपनी कोरी कल्पनाओं और वर्चुअल प्रयासों को इस आभासी दुनिया में जाहिर कर अपनी ई-कीर्ति बढ़ा सकें।

सामुदायिक पक्षी सरंक्षण
पक्षियों के संरक्षण का जीवन्त उदाहरण: ग्राम सरेली कृष्ण कुमार मिश्र, लखीमपुर खीरी* उन्नीसवी सदी की शुरूवात में ब्रिटिश हुकूमत के एक अफ़सर को लहूलुहान कर देने से यह गाँव चर्चा में आया मसला था।
तो फ़िर उनसे सीखा हमने योग!
धीरज वशिष्ठ* 84 लाख प्रजातियां और 84 लाख योगासन: पक्षियों-जानवरों से सीखा हमने आसन: धार्मिक चैनलों और बाबा रामदेव के कार्यक्रमों ने आज योग को घर-घर तक पहुंचा दिया है।
नही रहा सुमित!
दुधवा लाइव डेस्क* हाँ हम बात कर रहे है उस हाथी कि जो दो मई २०१० को लखनऊ चिड़ियाघर से दुधवा नेशनल पार्क भेजा गया था! वजह साफ़ थी, कि अब वह बूढ़ा हो गया था