International Journal of Environment & Agriculture
ISSN 2395 5791
"किसी राष्ट्र की महानता और नैतिक प्रगति को इस बात से मापा जाता है कि वह अपने यहां जानवरों से किस तरह का सलूक करता है"- मोहनदास करमचन्द गाँधी

जर्मनी द्वारा अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार "द बॉब्स" से सम्मानित पत्रिका "दुधवा लाइव"

Apr 23, 2010

कम से कम इतना तो कर ही सकते हैं!

दुधवा लाइव डेस्क* तपती धरती, सूखते तालाब, कंकरीट के जंगल जहाँ बन्द नालियों में बहता कचड़ेदार प्रदूषित जल, दुकानों में बिकता पानी, ऐसे हालातों में ये परिन्दे जायें तो कहाँ जाए- जिन्दा रहने के लिए प्यास बुझाना है जो इन्हे-क्या हम कोई मदद कर सकते हैं- यकीनन!  एक खयाल जो "गौरैया बचाओ जन-अभियान" से प्रेरित होकर खीरी जनपद के बिजुआ गाँव के सलीम को आया, जिसे उन्होंने सफ़लता के साथ हकीकत में लागू भी किया।


आप के घर में भी ऐसा कुछ किसी कोने में पड़ा होगा

और आप के घर में पानी की टंकी भी होगी!


पानी भर जाने पर ऐसा भी होता होगा

तो क्यों न इन दोनों को मिला दें

ताकि ऐसा हो सके!



प्यासे को पानी मिले

और पानी की बर्बादी से भी बचा जा सके!




क्या आप ऐसा करेंगें-- हमें उम्मीद है!



अब्दुल सलीम खान (आइडिया एंव फोटोग्राफ़ अब्दुल सलीम खान, जो कि हिन्दुस्तान दैनिक अखबार के गुलरिया- बिजुआ लखीमपुर खीरी में रिपोर्टर हैं, इनसे salimreporter.lmp@gmail.com पर संपर्क कर सकते हैं।)

40 comments:

  1. टाइगर मैन आपके ब्लोग पर बहुत दिन बाद आया हूँ , ये पोस्ट तो जबरदस्त है , आपने पानी की सही उपयोगिता सिद्ध की है , आपके बताये तरीके पर जरुर अमल करूंगा

    ReplyDelete
  2. मेरे बेटे का ब्लॉग
    http://www.madhavrai.blogspot.com/

    ReplyDelete
  3. अच्छा आईडिया है...कम से कम कौवों के लिये और शानदार फोटो"

    ReplyDelete
  4. Nice one , we do the same here in Crete Greece http://www.freewebs.com/colnsue/newsblog2010.htm see under 23rd February also serves for the mammals
    all the best
    Colin Turvey

    ReplyDelete
  5. Aijaz Ahmad Siddiqui,April 24, 2010 at 9:01 PM

    "WHAT AN IDEA SIR JI"

    ReplyDelete
  6. nice pics with great thinking.

    ReplyDelete
  7. I have followed this Idea! and what about you!

    ReplyDelete
  8. sajid hussain khan,laharpur stpApril 27, 2010 at 8:17 AM

    salim ji aapka pahal kabiletarif hai,is muhim ko manjil tab milegi jab log aage aye; aur media ise apne akhbar me jagah de, mia to follow kar raha hun, aur logo ko bata raha hun,,

    ReplyDelete
  9. mai is muhim se jud raha hun ,

    ReplyDelete
  10. ashish bajpayee bijuaApril 27, 2010 at 11:50 AM

    veri nice idea/

    ReplyDelete
  11. bahut achhe saleem

    ReplyDelete
  12. THANKS AAP SAB KA JINHONE IS IDEA KO PADA ,,AUR AB ISE FOLLOW KARNA AAPKI JIMMEDARI HAI, UN PARINDON KE KE LIYE JINKA DAANA PANI HUM PAR NIRBHAR HAI, AAPKE RAB NE AAPKO IS LAAYAK BANAYA HAI KI AAP UN BEJUBANO KI KUCH MADAD KARE,

    ReplyDelete
  13. bahut badiya , aap achchha kar rahe hai

    ReplyDelete
  14. bahut badiya , aap achchha kar rahe hai

    ReplyDelete
  15. ahad khan lakhimpurApril 29, 2010 at 7:09 PM

    salim ji ,u r great idea,
    i folllw today

    ReplyDelete
  16. ghar ke kebar se bhi koi jewan pa sekta hai ye tumne dikha ke bata diya WHAT AN IDEA Salim

    ReplyDelete
  17. you are gret idia for dish time nex time all indian piupall ...................wah wah wah gret idia yuar small brather Nagendra shukla

    ReplyDelete
  18. sonu shukla amar ujala padriya tulaApril 30, 2010 at 9:27 AM

    salim bhai jo idea aap ne dikhaya vo idea hamne bhi apnaya hai or mare ghar par bhi chidiya apni pyas bujhane lagi hai what an idea sir ji

    ReplyDelete
  19. thanks sonu & shalendra ji ka aapne great kaam kiya hai , mera maksad sirf yeh nahi hai ki sirf log stori ko sirf padhe hi nahi us par amal bhi kare,,,

    ReplyDelete
  20. very great think

    ReplyDelete
  21. amir raja pammyMay 3, 2010 at 5:38 PM

    bahut badiya soch hai

    ReplyDelete
  22. sandeep mishra isanagar-KheriMay 4, 2010 at 7:14 PM

    04 may 10 ko jab maine aapke prayash ko dekha to man me kuchh aisa hi karne ko thhan liya mai bhi aapke saath kandhe se kandha milakar aapke prayaso k anuroop gaurayaa & anya pakshiyon ko bachane wale sabhi prayasho k liye pratibadhh hoon.....
    behad sarahneey prayash .....

    ReplyDelete
  23. thanks
    sarahneey prayash

    ReplyDelete
  24. kafee badiya hai ,,

    ReplyDelete
  25. salim bhai aapka idea dekha , bahut achchha laga, mai ab khud chhat par pani rakhunga

    ReplyDelete
  26. salim ji this is a very good and inspiring initiative that you have taken to to save a endangered bird. Gauriyya is very comman house bird but now is fastly disappearig we need to conserveit. Mr. Slim best of luck for your noble work.

    ReplyDelete
  27. masoom from shahjahanpurMay 13, 2010 at 7:05 PM

    verry good and great think,duduwalive par iss pose ko dekhher bahut accha laga,

    ReplyDelete
  28. great full idea

    ReplyDelete
  29. saleem

    your idea is very simple and incredibly easy to do!!!
    no technology required!!!
    no costs!!!

    simple details
    make big diference!!!

    very good article!!!

    ReplyDelete
  30. bahut sandar pahal aur sujhaw hai bahut dhyanwad is post ke liye hum kar to bahut kuch sakte hai lekin kisi bhi cheej ko karne ke liye imandari se sochne ki jaroorat hoti hai jo hum nahi kar pate lekin jab koi wo karta hai to lagta hai ki hamara dhyan kyo nahi gaya ...........aap ne dhyan dilaya thnxxx

    ReplyDelete
  31. बहुत ही सार्थक पहेल और प्रयास ..........पर्यावरण और पंछियो की लिए ....

    ReplyDelete
  32. Thanks amit ji. ummeed hai, ki aap isko follow karenge,
    Abdul salim

    ReplyDelete
  33. Mashaallah salim jee very much liked ur idea...aur humne apnaa bhi liya... En bejubaan parindo kaa hum log he to sahara hai. Erum Raza

    ReplyDelete
  34. अब्दुल सलीम खान भाई हमेशा ही कुछ न कुछ अच्छे विचार व्यक्त किया करते है, आज पानी का उपयोग भी करना बहुत अच्छी तरह से बताया

    ReplyDelete

आप के विचार!

विविधा

आओ प्यारे कम्प्युटर पर बाघ बचायें!
अरूणेश सी दवे, जहाँ तक रही बात प्रबुद्ध बाघ प्रेमियों की जो नचनियों की तरह सज-धज कर जंगल कम इन्टरनेट पर ज्यादा अवतरित होते हैं, तो उनके लिये मै इंटरनेट मे वर्चुअल अबुझमाड़ बनाने का प्रयास कर रहा हूं । ताकि वो अपनी कोरी कल्पनाओं और वर्चुअल प्रयासों को इस आभासी दुनिया में जाहिर कर अपनी ई-कीर्ति बढ़ा सकें।

सामुदायिक पक्षी सरंक्षण
पक्षियों के संरक्षण का जीवन्त उदाहरण: ग्राम सरेली कृष्ण कुमार मिश्र, लखीमपुर खीरी* उन्नीसवी सदी की शुरूवात में ब्रिटिश हुकूमत के एक अफ़सर को लहूलुहान कर देने से यह गाँव चर्चा में आया मसला था।
तो फ़िर उनसे सीखा हमने योग!
धीरज वशिष्ठ* 84 लाख प्रजातियां और 84 लाख योगासन: पक्षियों-जानवरों से सीखा हमने आसन: धार्मिक चैनलों और बाबा रामदेव के कार्यक्रमों ने आज योग को घर-घर तक पहुंचा दिया है।
नही रहा सुमित!
दुधवा लाइव डेस्क* हाँ हम बात कर रहे है उस हाथी कि जो दो मई २०१० को लखनऊ चिड़ियाघर से दुधवा नेशनल पार्क भेजा गया था! वजह साफ़ थी, कि अब वह बूढ़ा हो गया था