International Journal of Environment & Agriculture
ISSN 2395 5791
"किसी राष्ट्र की महानता और नैतिक प्रगति को इस बात से मापा जाता है कि वह अपने यहां जानवरों से किस तरह का सलूक करता है"- मोहनदास करमचन्द गाँधी

जर्मनी द्वारा अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार "द बॉब्स" से सम्मानित पत्रिका "दुधवा लाइव"

Apr 22, 2010

रोजी-रोटी संगठन की गौरैया बचाओ जन-अभियान में सक्रिय भागीदारी।


दुधवा लाइव डेस्क* २० मार्च सन २०१० को दुधवा लाइव बेवसाइट द्वारा चलाये गये गौरैया बचाओ जन-अभियान में खीरी सहित तराई के तमाम जनपदों के संगठन व स्कूलों ने भागीदारी की, लोगों को पक्षी सरंक्षण के लिए जागरूक किया गया, किन्तु खीरी जनपद में यह गौरैया सरंक्षण के जो कार्यक्रम हुए, उनमें दुधवा लाइव द्वारा सन २०१० को गौरैया वर्ष घोषित किया गया, फ़लस्वरूप जन-मानस  इस पक्षी के प्रति संवेदशील हुआ, और इसके सरंक्षण में अपना योगदान जारी रखे हुए हैं। लखीमपुर खीरी जनपद में इस अभियान में रोजी-रोटी संगठन ने मितौली ब्लाक के विभिन्न प्राइमरी विद्यालयों में गौरैया सरंक्षण के लिए बच्चों को जागरूक करने का सफ़ल प्रयास किया, एंव घरेलु पक्षियों के आवास और भोजन के प्रति मानव समाज को उसकी जिम्मेदारी के प्रति सचेत किया।


प्राथमिक पाठशालाओं में गौरैया बचाओ जन-अभियान के अन्तर्गत रोजी-रोटी संगठन द्वारा चलाये जा रहे विविध कार्यक्रम।

1 comment:

  1. THREE CLAPS for You !
    You are going to make a big difference .
    Meenu jain

    ReplyDelete

आप के विचार!

विविधा

आओ प्यारे कम्प्युटर पर बाघ बचायें!
अरूणेश सी दवे, जहाँ तक रही बात प्रबुद्ध बाघ प्रेमियों की जो नचनियों की तरह सज-धज कर जंगल कम इन्टरनेट पर ज्यादा अवतरित होते हैं, तो उनके लिये मै इंटरनेट मे वर्चुअल अबुझमाड़ बनाने का प्रयास कर रहा हूं । ताकि वो अपनी कोरी कल्पनाओं और वर्चुअल प्रयासों को इस आभासी दुनिया में जाहिर कर अपनी ई-कीर्ति बढ़ा सकें।

सामुदायिक पक्षी सरंक्षण
पक्षियों के संरक्षण का जीवन्त उदाहरण: ग्राम सरेली कृष्ण कुमार मिश्र, लखीमपुर खीरी* उन्नीसवी सदी की शुरूवात में ब्रिटिश हुकूमत के एक अफ़सर को लहूलुहान कर देने से यह गाँव चर्चा में आया मसला था।
तो फ़िर उनसे सीखा हमने योग!
धीरज वशिष्ठ* 84 लाख प्रजातियां और 84 लाख योगासन: पक्षियों-जानवरों से सीखा हमने आसन: धार्मिक चैनलों और बाबा रामदेव के कार्यक्रमों ने आज योग को घर-घर तक पहुंचा दिया है।
नही रहा सुमित!
दुधवा लाइव डेस्क* हाँ हम बात कर रहे है उस हाथी कि जो दो मई २०१० को लखनऊ चिड़ियाघर से दुधवा नेशनल पार्क भेजा गया था! वजह साफ़ थी, कि अब वह बूढ़ा हो गया था