International Journal of Environment & Agriculture
ISSN 2395 5791
"किसी राष्ट्र की महानता और नैतिक प्रगति को इस बात से मापा जाता है कि वह अपने यहां जानवरों से किस तरह का सलूक करता है"- मोहनदास करमचन्द गाँधी

जर्मनी द्वारा अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार "द बॉब्स" से सम्मानित पत्रिका "दुधवा लाइव"

Oct 12, 2018

दुधवा में तीन हजार तोते बरामद, तीन शिकारी गिरफ्तार


दुधवा जंगल से तीन हजार तोतों का शिकार करने वाले तीन आरोपियों को मुखबिर की सूचना पर पहुंची वन विभाग की टीम ने धर दबोचा। मौके से टीम को तोतों से भरे छह लोहे के पिंजड़े भी मौके से बरामद हुए। सभी आरोपियों को पलिया की सिंगहिया स्थित रेंज लाया गया, जहां से मेडिकल के बाद उन्हें जेल भेज दिया गया। पकड़े गये तीन आरोपियों में दो उत्तराखंड व एक पीलीभीत का निवासी है। दुधवा टाइगर रिजर्व के फील्ड निदेशक ने बताया कि पलिया वन रेंज के रेंजर दिनेश बडोला को सूचना मिली कि मैलानी रेंज पीलीभीत बस्ती के मार्ग मोहरीना जंगल में कुछ शिकारी तोतों का शिकार कर रहे हैं। सूचना मिलते ही रेंजर दिनेश बडोला वन दरोगा विजेन्दर सिंह, वन रक्षक हरवेन्दर सिंह व आकाश खरवार आदि टीम के साथ मौके के लिये रवाना हो गये।
टीम ने मौके से पहले वाहन को रोक लिया और आरोपियों को पकड़ने के लिये पैदल चल पड़े। टीम को देख शिकारियों ने भागने का प्रयास किया लेकिन उन्हें घेर कर धर दबोचा गया। वन टीम को मौके से लोहे के छह पिंजड़ों में विभिन्न प्रजाति के करीब तीन हजार तोते बरामद हुए। पिंजड़ों में कैद तोतों के साथ तीनों आरोपियों को टीम पलिया वन रेंज ले आई। पूछताछ में आरोपियों ने अपने नाम सन्नी पुत्र जंग बहादुर निवासी जिला पीलीभीत, राकेश पुत्र बलदेव व विल्सन पुत्र रामलाल निवासी मझौला फार्म खटीमा उत्तराखंड का होना बताया है। तीनों आरोपियों को जेल भेज दिया गया है

साभार: हिन्दुस्तान, लखीमपुर-बरेली 

0 comments:

Post a Comment

आप के विचार!

विविधा

आओ प्यारे कम्प्युटर पर बाघ बचायें!
अरूणेश सी दवे, जहाँ तक रही बात प्रबुद्ध बाघ प्रेमियों की जो नचनियों की तरह सज-धज कर जंगल कम इन्टरनेट पर ज्यादा अवतरित होते हैं, तो उनके लिये मै इंटरनेट मे वर्चुअल अबुझमाड़ बनाने का प्रयास कर रहा हूं । ताकि वो अपनी कोरी कल्पनाओं और वर्चुअल प्रयासों को इस आभासी दुनिया में जाहिर कर अपनी ई-कीर्ति बढ़ा सकें।

सामुदायिक पक्षी सरंक्षण
पक्षियों के संरक्षण का जीवन्त उदाहरण: ग्राम सरेली कृष्ण कुमार मिश्र, लखीमपुर खीरी* उन्नीसवी सदी की शुरूवात में ब्रिटिश हुकूमत के एक अफ़सर को लहूलुहान कर देने से यह गाँव चर्चा में आया मसला था।
तो फ़िर उनसे सीखा हमने योग!
धीरज वशिष्ठ* 84 लाख प्रजातियां और 84 लाख योगासन: पक्षियों-जानवरों से सीखा हमने आसन: धार्मिक चैनलों और बाबा रामदेव के कार्यक्रमों ने आज योग को घर-घर तक पहुंचा दिया है।
नही रहा सुमित!
दुधवा लाइव डेस्क* हाँ हम बात कर रहे है उस हाथी कि जो दो मई २०१० को लखनऊ चिड़ियाघर से दुधवा नेशनल पार्क भेजा गया था! वजह साफ़ थी, कि अब वह बूढ़ा हो गया था