डायचे वेले जर्मनी द्वारा अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार "द बॉब्स" से सम्मानित पत्रिका "दुधवा लाइव"

International Journal of Environment & Agriculture, Vol.7, no 05, May 2017, ISSN 2395-5791

"किसी राष्ट्र की महानता और नैतिक प्रगति को इस बात से मापा जाता है कि वह अपने यहां जानवरों से किस तरह का सलूक करता है"- मोहनदास करमचन्द गाँधी

Jan 6, 2016

तराई के जंगलों में दो बाघों की मौत, बाघ सरंक्षण मुहिम एक बार फिर सवालों के घेरें में...

दक्षिण खीरी वन प्रभाग में गन्ने के खेत में मिला मृत बाघ का शव 
खीरी, 3 जनवरी-दुधवा नेशनल पार्क के करीब साउथ खीरी वन क्षेत्र में रविवार दोपहर एक बाघ की लाश मिलने से सनसनी फैल गयी। भीरा वन रेंज में एक गन्ने के खेत में बाघ का कई हफ्ते पुराना शव पाया गया है। बाघ के शव की हालत ऐसी हो चुकी है कि यह भी पहचान होनी मुश्किल है कि बाघ नर है या मादा लेकिन बाघ के नाखून और दांत सुरक्षित मिलने से शिकार की आशंका को वन अधिकारी नकार रहे हैं। शव को पोस्टमार्टम के लिए आईवीआरआई बरेली भेजने की तैयारी हो रही है।
बाघ का शव रविवार दोपहर भीरा इलाके के एक गन्ने के खेत में देखा गया। यह खेत दुधवा पार्क के करीब और शारदा नदी की तलहटी में है। दोपहर के वक्त गन्ना छील रहे मजदूर जब खेत के अंदर गए तो वहां उनको बाघ की लाश मिली। बाघ का यह शव पूरी तरह से सड़ चुका था। उससे बदबू उठ रही थी और यह कई दिन पुराना लग रहा था। सूचना पर डीएफओ साउथ खीरी नीरज कुमार, दुधवा पार्क के उप निदेशक पीपी सिंह भी पहुंच गए।
दुधवा के डिप्टी डायरेक्टर पीपी सिंह ने बताया कि बरामद शव टाइगर का ही है। शव सड़ने के बाद भी बाघ के नाखून और सभी दांत प्री मेलर से लेकर केनाइन तक सुरक्षित हैं। दांतों को देखने से वे घिसे हुए लग रहे हैं, जिससे अंदाजा लगाया जा रहा है कि यह बूढ़ा और शिकार करने के नाकाबिल हो चुका बाघ था। अधिकारियों ने शिकार जैसी आशंका से इंकार किया है।


किशन पुर वन्यजीव विहार में मिला मृत बाघ शावक 

खीरी, ४ जनवरी-दुधवा टाइगर रिजर्व की किशनपुर सेंक्चुरी में सोमवार सुबह बाघ शावक का शव बरामद हुआ है। शावक की उम्र एक साल के करीब है। उसके पिछले हिस्से का मांस गायब है और पिछला पैर भी धड़ से अलग है। दुधवा के उप निदेशक पीपी सिंह ने शावक का शव मिलने की पुष्टि की है।
रविवार को दुधवा जंगल के करीब एक बूढ़े बाघ का शव मिलने के बाद वन विभाग सवालों में घिरा हुआ था। इस बीच सोमवार सुबह एक और खबर ने बाघ संरक्षण की मुहिम को कटघरे में खड़ा कर दिया। दुधवा टाइगर रिजर्व के किशनपुर सैंक्चुरी क्षेत्र में झादी ताल के पास एक बाघ शावक का शव मिला है। शव पाए जाने की लोकेशन जंगल के कोर जोन में मचान नंबर एक के पास बताई गई।
मौके पर पहुंचे वन अधिकारियों के मुताबिक, बाघ शावक के पिछले हिस्से का मांस गायब था। उसका पिछला पैर भी शरीर से अलग हुआ पड़ा था। दुधवा नेशनल पार्क के उप निदेशक पीपी सिंह ने बाघ शावक का शव मिलने की पुष्टि करते हुए बताया कि इस शावक की मौत किसी नर बाघ के हमले में हुई है। बाघ के शावक को वयस्क बाघ अक्सर मारकर खा जाते हैं। वन विभाग ने बाघ शावक के शव को कब्जे में ले लिया है। उसको पोस्टमार्टम के लिए आईवीआरआई बरेली भेजा जाएगा।
दुधवा लाइव डेस्क 

1 comments:

Ranthambore National Park said...

Ah!! very sad! I am afraid if the tigers are going to dead so regularly then its become dangerous for us....

Post a Comment

आप के विचार!

विविधा

आओ प्यारे कम्प्युटर पर बाघ बचायें!
अरूणेश सी दवे, जहाँ तक रही बात प्रबुद्ध बाघ प्रेमियों की जो नचनियों की तरह सज-धज कर जंगल कम इन्टरनेट पर ज्यादा अवतरित होते हैं, तो उनके लिये मै इंटरनेट मे वर्चुअल अबुझमाड़ बनाने का प्रयास कर रहा हूं । ताकि वो अपनी कोरी कल्पनाओं और वर्चुअल प्रयासों को इस आभासी दुनिया में जाहिर कर अपनी ई-कीर्ति बढ़ा सकें।

सामुदायिक पक्षी सरंक्षण
पक्षियों के संरक्षण का जीवन्त उदाहरण: ग्राम सरेली कृष्ण कुमार मिश्र, लखीमपुर खीरी* उन्नीसवी सदी की शुरूवात में ब्रिटिश हुकूमत के एक अफ़सर को लहूलुहान कर देने से यह गाँव चर्चा में आया मसला था।
तो फ़िर उनसे सीखा हमने योग!
धीरज वशिष्ठ* 84 लाख प्रजातियां और 84 लाख योगासन: पक्षियों-जानवरों से सीखा हमने आसन: धार्मिक चैनलों और बाबा रामदेव के कार्यक्रमों ने आज योग को घर-घर तक पहुंचा दिया है।
नही रहा सुमित!
दुधवा लाइव डेस्क* हाँ हम बात कर रहे है उस हाथी कि जो दो मई २०१० को लखनऊ चिड़ियाघर से दुधवा नेशनल पार्क भेजा गया था! वजह साफ़ थी, कि अब वह बूढ़ा हो गया था

पर्यावरण

क्या वे राज धर्म से वाकिफ़ हैं!
कृष्ण कुमार मिश्र* भारत के कुछ पूर्व नेताओं ने मिसाले कायम की पर्यावरण व वन्य-जीव संरक्षण में

अबूझमाड़ के जंगल- जहाँ बाघ नही नक्सल राज करते हैं!
अरूणेश सी दवे* अबूझमाड़- एक प्राकृतिक स्वर्ग:

मुद्दा

क्या खत्म हो जायेगा भारतीय बाघ
कृष्ण कुमार मिश्र* धरती पर बाघों के उत्थान व पतन की करूण कथा:

दुधवा में गैडों का जीवन नहीं रहा सुरक्षित
देवेन्द्र प्रकाश मिश्र* पूर्वजों की धरती पर से एक सदी पूर्व विलुप्त हो चुके एक सींग वाले भारतीय गैंडा

हस्तियां

पदम भूषण बिली अर्जन सिंह
दुधवा लाइव डेस्क* नव-वर्ष के पहले दिन बाघ संरक्षण में अग्रणी भूमिका निभाने वाले महा-पुरूष पदमभूषण बिली अर्जन सिंह

एक ब्राजीलियन महिला की यादों में टाइगरमैन बिली अर्जन सिंह
टाइगरमैन पदमभूषण स्व० बिली अर्जन सिंह और मैरी मुलर की बातचीत पर आधारित इंटरव्यू:

Featured Post

क्षमा करो गौरैया...

Image Courtesy: Sue Van Coppenhagen  संस्मरण गौरैया और मैं -- (3) ....डा0 शशि प्रभा बाजपेयी बात उस समय की है जब घर के नाम पर ...

वन्य-जीव

भारत की वन-नीति में बदलाव आवश्यक
देवेन्द्र प्रकाश मिश्र* आजादी के बाद बनी भारतीय वन-नीति की समीक्षा वर्ष 1988 में की गई थी।

घायल तेन्दुए को जंगल में छोड़ा गया
दुधवा लाइव डेस्क* अधूरे इलाज के बाद जंगल में छोड़ा गया घायल तेन्दुआ!