डायचे वेले जर्मनी द्वारा अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार "द बॉब्स" से सम्मानित पत्रिका "दुधवा लाइव"

International Journal of Environment & Agriculture, Vol.7, no 06, June 2017, ISSN 2395-5791

"किसी राष्ट्र की महानता और नैतिक प्रगति को इस बात से मापा जाता है कि वह अपने यहां जानवरों से किस तरह का सलूक करता है"- मोहनदास करमचन्द गाँधी

Dec 31, 2015

पद्म भूषण बिली अर्जन सिंह की सातवीं पुण्यतिथि पर बाघ सरंक्षण पर कार्यशाला

Jasbeer Nagar-Pallia

विश्व विख्यात बाघ सरंक्षक पद्म भूषण बिली अर्जन सिंह की स्मृति में बाघ सरंक्षण पर कार्यशाला का आयोजन-

Billy Arjan Singh 
(15 Agust 1917-01 Jan 2010)
पलिया-खीरी, कल दिनांक एक जनवरी 2016 को पद्म भूषण स्वर्गीय बिली अर्जन सिंह की 7वीं पुण्यतिथि पर दुधवा लाइव संगठन द्वारा टाइगर मैन बिली अर्जन सिंह को श्रद्धांजलि दी जायेगी जिसमें अर्जन सिंह से जुड़े हुए लोग, पर्यावरणविद्, वन्य जीव प्रेमी व् जनपद के छात्र छात्राएं उपस्थित रहेंगें। कार्यक्रम के संयोजक वन्य जीव विशेषज्ञ व् संस्थापक दुधवा लाइव कृष्ण कुमार मिश्र के संयोजन में यह कार्यक्रम कराये जाएंगे।
कार्यक्रम रूपरेखा- 

1-प्रात: बिली अर्जन सिंह की टाइगर हैवेन स्थित समाधि पर पुष्पांजलि।

2-दोपहर सम्पूर्णानगर मार्ग पर स्थित बिली साहब के आवास पर बाघ सरंक्षण जागरूकता विषय पर गोष्ठी।
3- सांयकालीन जसवीर नगर में बिली अर्जन द्वारा बाघ व् तेंदुओं पर किए गए प्रयोगों से सम्बंधित फ़िल्में दिखाई जाएंगी।
बिली अर्जन सिंह के जसवीर नगर स्थित आवास के मौजूदा सरंक्षक व् ऑनर वन्य जीव प्रेमी व् बिली के जीवन पर आधारित पुस्तक टाइगर ऑफ़ दुधवा के लेखक शमिन्दर बोपाराय कार्यक्रम का संचालन करेंगें।

बाघ सरंक्षण व् दुधवा नेशनल पार्क की अतुलनीय जैवविवधिता पर वन्य जीव विशेषज्ञ गोष्ठी में एक विमर्श आयोजित करेंगे ताकि तराई की इस हरी भरी धरती को सरंक्षित व् सवंर्धित किया जा सके।

कार्यक्रम में दुधवा नेशनल पार्क के उप निदेशक पी पी सिंह, राज्य सभा सांसद रवि प्रकाश वर्मा, डॉ वी पी सिंह  वन्य जीव बोर्ड उत्तर प्रदेश के सदस्य विधायक सुनील कुमार लाला, स्थानीय विधायक पलिया रोमी साहनी, वनस्पति विज्ञान प्रवक्ता ब्रजेंद्र प्रताप सिंह, और बिली अर्जन सिंह से जुड़े हुए तमाम लोग महान बाघ सरंक्षक को श्रद्धांजलि अर्पित करेंगे।

विभिन्न महाविद्यालयों के छात्र छात्राएं इस आयोजन में हिस्सा लेंगे जिन्हें बिली अर्जन सिंह के बाघ सरंक्षण की महान कहानियों से परिचित कराया जाएगा ताकि भविष्य में यह नही पीढ़ी बाघ और जंगल के रिश्ते को समझ सके और समाज में वन्य जीवन के सरंक्षण का सन्देश प्रसारित व् प्रचारित करने के लिए प्रेरित हो।

दुधवा लाइव डेस्क 

1 comments:

Dudhwa National Park said...

A very said news that Billy Arjan singh is No more with us.. But one good thing is that we have a good national park with where Tiger and other wildlife animals are for sighting...

Billy was a great man as i read many articles about them, Really a great salute to Billy.

Thanks
Dudhwa.co.in

Post a Comment

आप के विचार!

विविधा

आओ प्यारे कम्प्युटर पर बाघ बचायें!
अरूणेश सी दवे, जहाँ तक रही बात प्रबुद्ध बाघ प्रेमियों की जो नचनियों की तरह सज-धज कर जंगल कम इन्टरनेट पर ज्यादा अवतरित होते हैं, तो उनके लिये मै इंटरनेट मे वर्चुअल अबुझमाड़ बनाने का प्रयास कर रहा हूं । ताकि वो अपनी कोरी कल्पनाओं और वर्चुअल प्रयासों को इस आभासी दुनिया में जाहिर कर अपनी ई-कीर्ति बढ़ा सकें।

सामुदायिक पक्षी सरंक्षण
पक्षियों के संरक्षण का जीवन्त उदाहरण: ग्राम सरेली कृष्ण कुमार मिश्र, लखीमपुर खीरी* उन्नीसवी सदी की शुरूवात में ब्रिटिश हुकूमत के एक अफ़सर को लहूलुहान कर देने से यह गाँव चर्चा में आया मसला था।
तो फ़िर उनसे सीखा हमने योग!
धीरज वशिष्ठ* 84 लाख प्रजातियां और 84 लाख योगासन: पक्षियों-जानवरों से सीखा हमने आसन: धार्मिक चैनलों और बाबा रामदेव के कार्यक्रमों ने आज योग को घर-घर तक पहुंचा दिया है।
नही रहा सुमित!
दुधवा लाइव डेस्क* हाँ हम बात कर रहे है उस हाथी कि जो दो मई २०१० को लखनऊ चिड़ियाघर से दुधवा नेशनल पार्क भेजा गया था! वजह साफ़ थी, कि अब वह बूढ़ा हो गया था

पर्यावरण

क्या वे राज धर्म से वाकिफ़ हैं!
कृष्ण कुमार मिश्र* भारत के कुछ पूर्व नेताओं ने मिसाले कायम की पर्यावरण व वन्य-जीव संरक्षण में

अबूझमाड़ के जंगल- जहाँ बाघ नही नक्सल राज करते हैं!
अरूणेश सी दवे* अबूझमाड़- एक प्राकृतिक स्वर्ग:

मुद्दा

क्या खत्म हो जायेगा भारतीय बाघ
कृष्ण कुमार मिश्र* धरती पर बाघों के उत्थान व पतन की करूण कथा:

दुधवा में गैडों का जीवन नहीं रहा सुरक्षित
देवेन्द्र प्रकाश मिश्र* पूर्वजों की धरती पर से एक सदी पूर्व विलुप्त हो चुके एक सींग वाले भारतीय गैंडा

हस्तियां

पदम भूषण बिली अर्जन सिंह
दुधवा लाइव डेस्क* नव-वर्ष के पहले दिन बाघ संरक्षण में अग्रणी भूमिका निभाने वाले महा-पुरूष पदमभूषण बिली अर्जन सिंह

एक ब्राजीलियन महिला की यादों में टाइगरमैन बिली अर्जन सिंह
टाइगरमैन पदमभूषण स्व० बिली अर्जन सिंह और मैरी मुलर की बातचीत पर आधारित इंटरव्यू:

Featured Post

क्षमा करो गौरैया...

Image Courtesy: Sue Van Coppenhagen  संस्मरण गौरैया और मैं -- (3) ....डा0 शशि प्रभा बाजपेयी बात उस समय की है जब घर के नाम पर ...

वन्य-जीव

भारत की वन-नीति में बदलाव आवश्यक
देवेन्द्र प्रकाश मिश्र* आजादी के बाद बनी भारतीय वन-नीति की समीक्षा वर्ष 1988 में की गई थी।

घायल तेन्दुए को जंगल में छोड़ा गया
दुधवा लाइव डेस्क* अधूरे इलाज के बाद जंगल में छोड़ा गया घायल तेन्दुआ!