International Journal of Environment & Agriculture
ISSN 2395 5791
"किसी राष्ट्र की महानता और नैतिक प्रगति को इस बात से मापा जाता है कि वह अपने यहां जानवरों से किस तरह का सलूक करता है"- मोहनदास करमचन्द गाँधी

जर्मनी द्वारा अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार "द बॉब्स" से सम्मानित पत्रिका "दुधवा लाइव"

Nov 4, 2015

हांथियों को बचाने विदेशी जोड़ों की आटो रैली



इंग्लैण्ड व स्काटलैण्ड के 90 प्रतिभागी हुए शामिल 
कान्हा के लिए पन्ना से आज शुरू हुआ यह अनूठा सफर 
पन्ना, 3 नवम्बर का. 
बाघ संरक्षण के लिए पूरी दुनिया में प्रसिद्ध हो चुके म.प्र. के पन्ना जिले से हांथियों के संरक्षण हेतु अभिनव पहल शुरू हुई है. प्रकृति प्रेमी विदेशी जोडों द्वारा हाथियों को बचाने के लिए पन्ना से कान्हा तक आटो रैली निकाली गई है. इस रैली के माध्यम से हांथियों के संरक्षण हेतु फण्ड भी जुटाया जायेगा. इस अनूठी यात्रा में इंग्लैण्ड व स्काटलैण्ड के 90 प्रतिभागी आटो रिक्सा द्वारा पन्ना से बांधवगढ़ होते हुए कान्हा तक का सफर तय करेंगे. रैली में स्काटलैण्ड राजपरिवार के प्रिन्स मार्क व अन्य सदस्य भी शामिल हैं. पन्ना स्थित मोहननिवास कोठी से यह आटो रैली आज सुबह कान्हा के लिए रवाना हुई. 

पन्ना राजघराने की सदस्य श्रीमती दिव्यारानी सिंह व केशव प्रताप सिंह ने बताया कि यह अनूठी आटो रैली मार्कस सेण्ड की याद में निकाली गई है जो इंग्लैण्ड के राजकुमार प्रिंस चाल्र्स के साले हैं. इन्होंने वर्ष 1980 में तारा नाम की हथिनी में सवार होकर भारत का भ्रमण किया था और ऐलीफैन्ट कॉरीडोर की पहचान की थी. पिछले साल मार्कस सेण्ड का निधन हो गया, इसलिए हांथियों के प्रति उनके प्यार को देखते हुए यह जागरूता रैली उनकी स्मृति में निकाली गई है. विशेष बात यह है कि तारा हथिनी जिसमें सवार होकर उन्होंने कई वर्षांे तक भारत का भ्रमण किया था, वह हथिनी आज भी जीवित है. सुप्रसिद्ध पर्यावरण विद विलिन्डा राइट के कान्हा स्थित किपलिंग कंैप में यह हथिनी आज भी मौजूद है. 

इस आटो रैली के शुभारंभ अवसर पर मौजूद वाइल्ड लाइफ इन्स्टीट्यूट ऑफ इण्डिया के प्रमुख विवेक मैनन ने बताया कि हांथियों की तेजी से घट रही संख्या को देखते हुए असम के हांथियों को बचाने तथा उनके संरक्षण के लिए यह अनूठी यात्रा शुरू हुई है, जिसके माध्यम से फण्ड भी एकत्रित किया जायेगा. इस फण्ड का उपयोग हांथियों के संरक्षण में होगा. यह आटो रैली पन्ना से चलकर कल बांधवगढ़ पहुंचेगी तदुपरान्त कान्हा में 6 या 7 नवम्बर को इस रैली का समापन होगा. 

चार्टर्ड प्लेन से आये हैं यात्री 
आटो रैली में शामिल प्रतिभागी चार्टर्ड प्लेन से खजुराहो आये थे. वहां से बस द्वारा आज पन्ना के मोहननिवास कोठी पहुंचे. इनके लिए 45 आटो रिक्सा भोपाल से मंगाये गये थे, जिनमें सवार होकर विदेशी मेहमान कान्हा के लिए रवाना हुए. इनमें से कई प्रतिभागी ऐसे भी थे जो पहली बार आटो में सवार हुए, इसलिए उनका उत्साह देखते ही बन रहा था. 

चिकित्सा व सुरक्षा की है पूरी व्यवस्था 
आटो रैली में निकले विदेशी जोडों की सुरक्षा व चिकित्सा के खास इन्तजाम किये गये हैं. पूरी यात्रा में उनके निजी सुरक्षा गार्ड भी साथ - साथ चल रहे हैं. चूंकि यात्रा में कई प्रमुख हस्तियां व राजपरिवार के सदस्य शामिल हैं, इसलिए सभी जिलों के अधिकारियों को भी इस आटो रैली के संबंध में सूचना दे दी गई है. 

अरुण सिंह 
पन्ना, मध्य प्रदेश
भारत 
aruninfo.singh08@gmail.com

0 comments:

Post a Comment

आप के विचार!

विविधा

आओ प्यारे कम्प्युटर पर बाघ बचायें!
अरूणेश सी दवे, जहाँ तक रही बात प्रबुद्ध बाघ प्रेमियों की जो नचनियों की तरह सज-धज कर जंगल कम इन्टरनेट पर ज्यादा अवतरित होते हैं, तो उनके लिये मै इंटरनेट मे वर्चुअल अबुझमाड़ बनाने का प्रयास कर रहा हूं । ताकि वो अपनी कोरी कल्पनाओं और वर्चुअल प्रयासों को इस आभासी दुनिया में जाहिर कर अपनी ई-कीर्ति बढ़ा सकें।

सामुदायिक पक्षी सरंक्षण
पक्षियों के संरक्षण का जीवन्त उदाहरण: ग्राम सरेली कृष्ण कुमार मिश्र, लखीमपुर खीरी* उन्नीसवी सदी की शुरूवात में ब्रिटिश हुकूमत के एक अफ़सर को लहूलुहान कर देने से यह गाँव चर्चा में आया मसला था।
तो फ़िर उनसे सीखा हमने योग!
धीरज वशिष्ठ* 84 लाख प्रजातियां और 84 लाख योगासन: पक्षियों-जानवरों से सीखा हमने आसन: धार्मिक चैनलों और बाबा रामदेव के कार्यक्रमों ने आज योग को घर-घर तक पहुंचा दिया है।
नही रहा सुमित!
दुधवा लाइव डेस्क* हाँ हम बात कर रहे है उस हाथी कि जो दो मई २०१० को लखनऊ चिड़ियाघर से दुधवा नेशनल पार्क भेजा गया था! वजह साफ़ थी, कि अब वह बूढ़ा हो गया था