डायचे वेले जर्मनी द्वारा अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार "द बॉब्स" से सम्मानित पत्रिका "दुधवा लाइव"

International Journal of Environment & Agriculture, Vol.7, no 02, February 2017, ISSN 2395-5791

"किसी राष्ट्र की महानता और नैतिक प्रगति को इस बात से मापा जाता है कि वह अपने यहां जानवरों से किस तरह का सलूक करता है"- मोहनदास करमचन्द गाँधी

May 8, 2015

बुंदेलखंड में किसानों की मौत का सिलसिला जारी....




बाँदा / बुंदेलखंड 7 मई 2015 -    
                      
' गृहमंत्री के जाने के सातवें दिन की किसान ने आत्महत्या ' 
 
गृहमंत्री ने इसी गाँव का गत सप्ताह एक मई को किया था दौरा.
 
बाँदा की किसान महापंचायत में कहा था आपका कर्जा माफ़ नही कर सकते,सबका करना पड़ेगा !
 
जिला मुख्यालय से 15 किलोमीटर दूर ग्रामीणों ने किया हाइवे जाम.


 
जिलाधिकारी बाँदा सुरेश कुमार प्रथम ने दिखलाया सामंती चेहरा,मृतक किसान परिवार,ग्रामीणों,किसान प्रतिनिधियों से किया मिलने से इंकार,कहा कि ...' मेरे पास और भी बहुत काम है,समय नही है ' ! एक के बाद एक गत तीन माह से गिर रही किसानो की लाशो पर एक और कड़ी जुड़ गई आज गाँव महोखर में.
जिला कलेक्टर ने ढाई घंटे तक किसान की लाश को,उसके पीड़ित परिवार को और सैकड़ो ग्रामीणों को इंतजार करवाया और लाख जिरह करने के बाद दो मिनट के लिए नही आये l ..सुरेश कुमार प्रथम ने सबको अपने ठेंगे में लिया जबकि खुद की धर्मपत्नी डाक्टर विमलेश राठौर के माध्यम से लगाये गए बाँदा में आर्ट आफ लिविंग के कैम्प में आला अधिकारी के साथ समय निकालकर करते है शिरकत ताकि भीड़ जुट सके ! अमानवीयता की सीमा से परे जाकर उपजिलाधिकारी सदर बाँदा प्रह्लाद सिंह, दरोगा - सिपाही और लेखपाल बने तमाशाई नही आई किसी को किसान आत्महत्या पर संवेदना ....कहते कि डीएम साहेब 5 मिनट के लिए आ जाइये ! ये बीस लाख की आबादी के आप प्रसाशनिक मुखिया है ! ....अगर इतने ही व्यस्त है तो फिर सपा विधायको के बेटो के विवाह समारोह, नेताओ के जलसे में क्यों चले जाते हो ? 


 
आज बाँदा जिले के गाँव महोखर में किसान विजय बहादुर सिंह ( उम्र 60 वर्ष ) ने सुबह 9 से दस के मध्य अपने गृह निवास के समीप बने पुराने अटारीनुमा दो मंजिला पुराने घर में फांसी लगाके जीवन लीला खत्म कर ली. किसान के एक बेटा था,बेटियों का ब्याह हो चुका था,बेटे से तीन सायानी बेटियां क्रमशा काजल,सोना और दीपा है. जिसमे काजल के लिए बीते दो दिन लड़का देखकर आये थे. दहेज़ की बढ़ती मांग और गत 6 मई को खेत में चना कतरा कर आने के बाद उन्होंने बात नही की. आज सुबह ये कदम उठ गया. इस मृतक किसान के 23 बीघा कृषि जमीन थी. किसान क्रेडिट कार्ड पर 3 लाख रूपये खुद पर कर्ज और तीन लाख बेटे कुलदीप सिंह पर कर्जा था. मौके पर बाँदा के प्रगतिशील किसान प्रेम सिंह,मै खुद,कैप्टन सूर्य प्रकाश मिश्र,बलराम तिवारी,बैजनाथ सिंह पहुंचे. किसानो को संवेदित कर वहां आये उप जिलाधिकारी सदर से किसान प्रेम सिंह ने कहा कि ये आखरी किसान आत्महत्या हो ! इसका समाधान खोजिये ! सरकारी खैरात से इसका निपटारा नही होगा. सबने एक सुर में जिलाधिकारी बाँदा को आने का निवेदन किया लेकिन अपने कुर्सी के मद में चूर जिलाधिकारी नही आये l 



 
बाद में आये कांग्रेसी विधायक तिंदवारी दलजीत सिंह ने आशा अनुकूल साथ नही दिया और हम सब अपनी लड़ाई हार गए किसान का अंतिम संस्कार बिना जिलाधिकारी के आये हुआ. मगर ये सवाल है उस लोक तन्त्र पर जो किसानो का पैदा किया खाता है, जिसके बच्चे - पत्नी हम जनता के धन / टैक्स से पलते है, ये सवाल है उन खद्दर वाले नेताओ,गृह मंत्री - प्रधानमंत्री और समाजवादी मुख्यमंत्री से जिन्होने इस साल को ' किसान वर्ष ' घोषित किया है ...कि क्या ये साल किसानो की तेरहीं का वर्ष है जिसमे आप के घड़ियाली दावे हजारो परिवारों को अनाथ कर रहे है. ....शर्म हमें नही आती ! 

-आशीष सागर (सामाजिक कार्यकर्ता, पत्रकार व् पर्यावरणीय मसलों पर आंदोलनी अभिव्यक्ति, प्रवासनामा पत्रिका के संपादक, बांदा में निवास, इनसे ashish.sagar@bundelkhand.in पर संपर्क कर सकते हैं)




0 comments:

Post a Comment

आप के विचार!

विविधा

आओ प्यारे कम्प्युटर पर बाघ बचायें!
अरूणेश सी दवे, जहाँ तक रही बात प्रबुद्ध बाघ प्रेमियों की जो नचनियों की तरह सज-धज कर जंगल कम इन्टरनेट पर ज्यादा अवतरित होते हैं, तो उनके लिये मै इंटरनेट मे वर्चुअल अबुझमाड़ बनाने का प्रयास कर रहा हूं । ताकि वो अपनी कोरी कल्पनाओं और वर्चुअल प्रयासों को इस आभासी दुनिया में जाहिर कर अपनी ई-कीर्ति बढ़ा सकें।

सामुदायिक पक्षी सरंक्षण
पक्षियों के संरक्षण का जीवन्त उदाहरण: ग्राम सरेली कृष्ण कुमार मिश्र, लखीमपुर खीरी* उन्नीसवी सदी की शुरूवात में ब्रिटिश हुकूमत के एक अफ़सर को लहूलुहान कर देने से यह गाँव चर्चा में आया मसला था।
तो फ़िर उनसे सीखा हमने योग!
धीरज वशिष्ठ* 84 लाख प्रजातियां और 84 लाख योगासन: पक्षियों-जानवरों से सीखा हमने आसन: धार्मिक चैनलों और बाबा रामदेव के कार्यक्रमों ने आज योग को घर-घर तक पहुंचा दिया है।
नही रहा सुमित!
दुधवा लाइव डेस्क* हाँ हम बात कर रहे है उस हाथी कि जो दो मई २०१० को लखनऊ चिड़ियाघर से दुधवा नेशनल पार्क भेजा गया था! वजह साफ़ थी, कि अब वह बूढ़ा हो गया था

पर्यावरण

क्या वे राज धर्म से वाकिफ़ हैं!
कृष्ण कुमार मिश्र* भारत के कुछ पूर्व नेताओं ने मिसाले कायम की पर्यावरण व वन्य-जीव संरक्षण में

अबूझमाड़ के जंगल- जहाँ बाघ नही नक्सल राज करते हैं!
अरूणेश सी दवे* अबूझमाड़- एक प्राकृतिक स्वर्ग:

मुद्दा

क्या खत्म हो जायेगा भारतीय बाघ
कृष्ण कुमार मिश्र* धरती पर बाघों के उत्थान व पतन की करूण कथा:

दुधवा में गैडों का जीवन नहीं रहा सुरक्षित
देवेन्द्र प्रकाश मिश्र* पूर्वजों की धरती पर से एक सदी पूर्व विलुप्त हो चुके एक सींग वाले भारतीय गैंडा

हस्तियां

पदम भूषण बिली अर्जन सिंह
दुधवा लाइव डेस्क* नव-वर्ष के पहले दिन बाघ संरक्षण में अग्रणी भूमिका निभाने वाले महा-पुरूष पदमभूषण बिली अर्जन सिंह

एक ब्राजीलियन महिला की यादों में टाइगरमैन बिली अर्जन सिंह
टाइगरमैन पदमभूषण स्व० बिली अर्जन सिंह और मैरी मुलर की बातचीत पर आधारित इंटरव्यू:

Featured Post

क्षमा करो गौरैया...

Image Courtesy: Sue Van Coppenhagen  संस्मरण गौरैया और मैं -- (3) ....डा0 शशि प्रभा बाजपेयी बात उस समय की है जब घर के नाम पर ...

वन्य-जीव

भारत की वन-नीति में बदलाव आवश्यक
देवेन्द्र प्रकाश मिश्र* आजादी के बाद बनी भारतीय वन-नीति की समीक्षा वर्ष 1988 में की गई थी।

घायल तेन्दुए को जंगल में छोड़ा गया
दुधवा लाइव डेस्क* अधूरे इलाज के बाद जंगल में छोड़ा गया घायल तेन्दुआ!