डायचे वेले जर्मनी द्वारा अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार "द बॉब्स" से सम्मानित पत्रिका "दुधवा लाइव"

International Journal of Environment & Agriculture, Vol.7, no 06, June 2017, ISSN 2395-5791

"किसी राष्ट्र की महानता और नैतिक प्रगति को इस बात से मापा जाता है कि वह अपने यहां जानवरों से किस तरह का सलूक करता है"- मोहनदास करमचन्द गाँधी

Apr 24, 2015

पांचवे बाघ जन्मोत्सव पर शहर में निकली विशाल रैली


पन्ना की जग जाहिर साख पांच साल में 35 बाघ 
जय हिन्द और बाघ संरक्षण के नारों से गूँज उठा पन्ना 
पन्ना, 16 अप्रैल 

बाघ पुर्नस्थाना योजना की पांचवी वर्षगांठ के अवसर पर आज मन्दिरों के शहर पन्ना में विशाल रैली निकाली गई. आज के ही दिन 16 अप्रैल 2010 को बाघिन टी - 1 ने अपनी पहली संतान को जन्म दिया था, इस अनूठी उपलब्धि की स्मृति में प्रति वर्ष 16 अप्रैल को बाघ जन्म दिवसोत्सव मनाया जाता है. इस वर्ष पहली बार जन्मोत्सव का भव्य समारोह पन्ना शहर के छत्रसाल पार्क में आयोजित हुआ और सुबह शहर के विभिन्न विद्यालयों के छात्र - छात्राओं व नागरिकों ने जन समर्थन से बाघ संरक्षण की अलख जगाने के लिए शहर में विशाल रैली निकाली. शहर की सडक़ें आज जय हिन्द और बाघ संरक्षण के नारों से गूँज रही थीं. 


आज सुबह 7 बजे से पन्ना शहर के छत्रसाल पार्क में छात्र - छात्राओं व नागरिकों का कारवां जुडऩे लगा था. स्कूली बच्चों के हांथों में बाघ व पर्यावरण संरक्षण का संदेश देने वाली तख्तियां थी, जो बड़े ही उत्साह के साथ नारे लगा रहे थे. साढ़े सात बजे तक पार्क परिसर में एक हजार से भी अधिक स्कूली बच्चे व सैकडों की संख्या में पन्ना नगर के गणमान्य जन एकत्रित हो गये. यहां पर मौजूद नगर पालिका परिषद पन्ना के अध्यक्ष मोहनलाल कुशवाहा, जिला पंचायत अध्यक्ष रविराज सिंह यादव व नगर के प्रतिष्ठित नागरिक एवं वरिष्ठ चिकित्सक डा. विजय परमार ने हरी झण्डी दिखाकर रैली को रवाना किया. बाघ पुर्नस्थापना योजना के तहत पन्ना में जन्में बाघों की तस्वीरों वाले बड़े - बड़े बैनरों से सुसज्जित यह रैली छत्रसाल पार्क से कुमकुम टाकीज, गांधी चौक, कलेक्ट्रेट होते हुए अजयगढ़ चौराहा पहुंची. यहां से रैली बड़ा बाजार, बल्देव मंदिर होते हुए छत्रसाल पार्क में समाप्त हुई. यहां पर रैली में शामिल रहे छात्र - छात्राओं ने स्वल्पाहार किया और उन्हें पन्ना टाइगर रिजर्व के पांच साल के सफर की दास्तान भी सुनाई गई. 



राष्ट्रीय पर्व की तरह दिखा माहौल 
अपनी तरह की इस अनूठी रैली में राष्ट्रीय पशु बाघ के प्रति नौनिहालों में सम्मान और प्यार का भाव देखते ही बन रहा था. एक किमी. से भी लम्बी इस विशाल रैली में जय हिन्द और जय शेरखान के नारे गंूज रहे थे. ऐसा प्रतीत हो रहा था मानों यह बाघों के जन्म दिन की रैली न होकर राष्ट्रीय पर्व के उपलक्ष्य में निकली रैली हो. पन्ना टाइगर रिजर्व ने बीते पांच सालों में जो उपलब्धि हासिल की है उससे पन्ना का गौरव और सम्मान वापस लौटा है. हर किसी की जुबान में यह नारा गूंज रहा था कि पांच साल में 35 बाघ, बाघ शून्य का धोया दाग. इसी के साथ रैली में शामिल बच्चे व नागरिक यह भी कह रहे थे कि जो खोया था उसे पाया है, अब इसे संजोकर रखना है. 



सुव्यवस्थित रैली को सभी ने सराहा 
जन समर्थन से बाघ संरक्षण का नारा बुलंद करने तथा जन - जन में जागरूकता लाने के लिए बाघ जन्मोत्सव पर निकली इस भव्य रैली की हर कोई सराहना कर रहा है. समूचे नगर का परिक्रमा करने के दौरान रैली में जिस तरह की व्यवस्थायें की गई थीं, उससे बच्चे व बड़े सभी उत्साहित और प्रफुल्लित थे. पन्ना टाइगर रिजर्व व वन विभाग के कर्मचारी रैली में शामिल बच्चों को ठंडा पानी उपलब्ध कराने हेतु जहां मुस्तैदी से डटे थे वहीं रैली में किसी भी तरह का व्यवधान उत्पन्न न हो इसके लिए नगर निरीक्षक सहित पुलिस बल भी रैली के आगे व पीछे साथ - साथ रहा. जिस मार्ग से यह रैली निकली लोग बड़ी उत्सुकता के साथ अपने घरों की छत व सडक़ के किनारे खड़े होकर देखा और तख्तियों में लिखे संदेश को ध्यान से पढ़ा. 



रैली में ये लोग रहे शामिल 
शहर में निकली बाघ जन्मोत्सव की यह रैली आज समूचे नगर वासियों के लिए कौतूहल और आकर्षण का केन्द्र रही. देश और दुनिया में शायद यह पहला ऐसा अवसर था जब बाघों के जन्म दिन की खुशी में इतनी भव्य और विशाल रैली निकली है. रैली का नेतृत्व पन्ना टाइगर रिजर्व के क्षेत्र संचालक आर.श्रीनिवास मूर्ति स्वयं कर रहे थे. उनके साथ विश्व प्रकृति निधि भारत नई दिल्ली के महासचिव रवि सिंह, उप संचालक अनुपम सहाय व विक्रम सिंह भी पूरे समय मौजूद रहे. रैली में महर्षि विद्या मन्दिर पन्ना के छात्र - छात्राओं व शिक्षकों की भूमिका अत्यधिक सराहनीय रही. जिला पंचायत पन्ना के युवा अध्यक्ष रविराज सिंह यादव पूरे उत्साह के साथ रैली में भागीदारी निभाई तथा पन्ना टाइगर रिजर्व व बाघों को पन्ना ही नहीं अपितु समूचे बुन्देलखण्ड का गौरव बताया. निश्चित रूप से यह रैली स्कूल बच्चों व पन्ना नगर वासियों के लिए अविस्मरणीय रहेगी. 

अरुण सिंह 
पन्ना-मध्य प्रदेश 
भारत 
aruninfo.singh08@gmail.com

0 comments:

Post a Comment

आप के विचार!

विविधा

आओ प्यारे कम्प्युटर पर बाघ बचायें!
अरूणेश सी दवे, जहाँ तक रही बात प्रबुद्ध बाघ प्रेमियों की जो नचनियों की तरह सज-धज कर जंगल कम इन्टरनेट पर ज्यादा अवतरित होते हैं, तो उनके लिये मै इंटरनेट मे वर्चुअल अबुझमाड़ बनाने का प्रयास कर रहा हूं । ताकि वो अपनी कोरी कल्पनाओं और वर्चुअल प्रयासों को इस आभासी दुनिया में जाहिर कर अपनी ई-कीर्ति बढ़ा सकें।

सामुदायिक पक्षी सरंक्षण
पक्षियों के संरक्षण का जीवन्त उदाहरण: ग्राम सरेली कृष्ण कुमार मिश्र, लखीमपुर खीरी* उन्नीसवी सदी की शुरूवात में ब्रिटिश हुकूमत के एक अफ़सर को लहूलुहान कर देने से यह गाँव चर्चा में आया मसला था।
तो फ़िर उनसे सीखा हमने योग!
धीरज वशिष्ठ* 84 लाख प्रजातियां और 84 लाख योगासन: पक्षियों-जानवरों से सीखा हमने आसन: धार्मिक चैनलों और बाबा रामदेव के कार्यक्रमों ने आज योग को घर-घर तक पहुंचा दिया है।
नही रहा सुमित!
दुधवा लाइव डेस्क* हाँ हम बात कर रहे है उस हाथी कि जो दो मई २०१० को लखनऊ चिड़ियाघर से दुधवा नेशनल पार्क भेजा गया था! वजह साफ़ थी, कि अब वह बूढ़ा हो गया था

पर्यावरण

क्या वे राज धर्म से वाकिफ़ हैं!
कृष्ण कुमार मिश्र* भारत के कुछ पूर्व नेताओं ने मिसाले कायम की पर्यावरण व वन्य-जीव संरक्षण में

अबूझमाड़ के जंगल- जहाँ बाघ नही नक्सल राज करते हैं!
अरूणेश सी दवे* अबूझमाड़- एक प्राकृतिक स्वर्ग:

मुद्दा

क्या खत्म हो जायेगा भारतीय बाघ
कृष्ण कुमार मिश्र* धरती पर बाघों के उत्थान व पतन की करूण कथा:

दुधवा में गैडों का जीवन नहीं रहा सुरक्षित
देवेन्द्र प्रकाश मिश्र* पूर्वजों की धरती पर से एक सदी पूर्व विलुप्त हो चुके एक सींग वाले भारतीय गैंडा

हस्तियां

पदम भूषण बिली अर्जन सिंह
दुधवा लाइव डेस्क* नव-वर्ष के पहले दिन बाघ संरक्षण में अग्रणी भूमिका निभाने वाले महा-पुरूष पदमभूषण बिली अर्जन सिंह

एक ब्राजीलियन महिला की यादों में टाइगरमैन बिली अर्जन सिंह
टाइगरमैन पदमभूषण स्व० बिली अर्जन सिंह और मैरी मुलर की बातचीत पर आधारित इंटरव्यू:

Featured Post

क्षमा करो गौरैया...

Image Courtesy: Sue Van Coppenhagen  संस्मरण गौरैया और मैं -- (3) ....डा0 शशि प्रभा बाजपेयी बात उस समय की है जब घर के नाम पर ...

वन्य-जीव

भारत की वन-नीति में बदलाव आवश्यक
देवेन्द्र प्रकाश मिश्र* आजादी के बाद बनी भारतीय वन-नीति की समीक्षा वर्ष 1988 में की गई थी।

घायल तेन्दुए को जंगल में छोड़ा गया
दुधवा लाइव डेस्क* अधूरे इलाज के बाद जंगल में छोड़ा गया घायल तेन्दुआ!