डायचे वेले जर्मनी द्वारा अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार "द बॉब्स" से सम्मानित पत्रिका "दुधवा लाइव"

International Journal of Environment & Agriculture, Vol.7, no 06, June 2017, ISSN 2395-5791

"किसी राष्ट्र की महानता और नैतिक प्रगति को इस बात से मापा जाता है कि वह अपने यहां जानवरों से किस तरह का सलूक करता है"- मोहनदास करमचन्द गाँधी

Nov 7, 2014

पन्ना टाइगर रिजर्व में बाघ पुनर्वासन की कहानी

 पन्ना टाइगर रिजर्व का प्रवेश द्वार
गौरवशाली अतीत की ओर लौटा पन्ना टाइगर रिजर्व 

बाघ पुर्नस्थापना की पहली बाघिन टी - 1 ने चौथी बार दिया शावकों को जन्म 

पांच वर्ष के भीतर ही बाघों की संख्या पहुंची शून्य से तीस के पार 

(पन्ना, 4 नवम्बर - 2014) म.प्र. का पन्ना टाइगर रिजर्व अपने गौरवशाली अतीत की ओर तेजी के साथ लौट रहा है. यहां बाघों की वंशवृद्धि में अहम भूमिका निभाने वाली बाघिन टी - 1 ने चौथी बार शावकों को जन्म दिया है. पन्ना टाइगर रिजर्व के जंगल में इन नन्हें मेहमानों के आगमन से यहां बाघों की संख्या तीस के पार जा पहुंची है. यह चमत्कारिक उपलब्धि यहां पर पांच वर्ष के भीतर हासिल हुई है जो अपने आप में एक मिशाल है. 
उल्लेखनीय है कि चौथी बार शावकों को जन्म देने वाली बाघिन टी - 1 पन्ना बाघ पुर्नस्थापना योजना की पहली बाघिन है, जिसे मार्च 2009 में बांधवगढ़ से पन्ना लाया गया था. बाघ विहीन पन्ना टाइगर रिजर्व में सबसे पहला कदम इसी बाघिन के पड़े थे, जो बहुत ही शुभ और फलदायी साबित हुए. क्षेत्र संचालक पन्ना टाइगर रिजर्व आर.श्रीनिवास मूर्ति ने बताया कि बाघिन टी - 1 के द्वारा ठीक एक माह पूर्व चौथी बार शावकों को जन्म दिए जाने की पुष्टि अनुश्रवण के आधार पर हुई है. इस बाघिन के अनुश्रवण दल द्वारा गत 3 नवम्बर रविवार को मंडला वन परिक्षेत्र में बाघिन टी - 1 के नन्हें शावकों में से एक को प्रत्यक्ष रूप से देखा भी गया है. इतना ही नहीं इस नन्हें बाघ शावक का छायाचित्र लेने में भी कामयाबी मिली है. चौथी बार इस बाघिन ने कितने शावकों को जन्म दिया है अभी इस बात की पुष्टि नहीं हो सकी है. आने वाले दिनों में जब शावक अपनी मां के साथ बाहर निकलने लगेंगे तभी उनकी संख्या का सही आकलन हो पायेगा. 


पन्ना टाइगर रिजर्व के लिए भाग्यशाली साबित होने वाली बांधवगढ़ की इस बाघिन के अतीत पर नजर डालने से पता चलता है कि इस बाघिन ने कभी भी चार से कम शावकों को जन्म नहीं दिया. बाघिन टी - 1 ने पहली बार यहां 19 अप्रैल 2010 में चार शावकों को जन्म दिया था. दूसरी बार फिर इसने चार शावक जन्मे थे तथा तीसरी बार भी इस बाघिन ने अप्रैल 2014 में शावकों को जन्म दिया लेकिन किन्ही अज्ञात प्राकृतिक कारणों के चलते उसने इन शावकों का त्याग कर दिया, परिणाम स्वरूप तीसरी बार बाघिन के कितने शावक हुए, इसका आकलन नहीं हो सका. लेकिन इस बाघिन के इतिहास को दृष्टिगत रखते हुए यह अनुमान लगाया जा रहा है कि जन्मे शावकों की संख्या चार हो सकती है. पन्ना टाइगर रिजर्व में आने वाली अन्य दूसरी बाघिने टी-2 व टी-4 ने यहां तीन - तीन बार शावकों को जन्म देकर बाघों की वंश वृद्धि में अपना योगदान दिया है. मालुम हो कि मार्च 2009 में जब पन्ना बाघ पुर्नस्थापना योजना शुरू हुई थी, उस समय किसी ने भी इस बात की कल्पना नहीं की थी कि बाघों का उजड़ चुका संसार यहां इतनी तेज गति से पुन: आबाद हो सकेगा. विशेषज्ञों का भी यही कहना था कि सब कुछ यदि बेहतर रहा तो पन्ना टाइगर रिजर्व में बाघों की संख्या 15 से अधिक होने में कम से कम 10 साल लग जायेंगे. लेकिन प्रकृति ने विशेषज्ञों के सारे आकलन व ज्ञान को झुठलाते हुए पांच साल से भी कम समय में पन्ना टाइगर रिजर्व को उस बुलंदी और मुकाम पर पहुंचा दिया, जहां वह कभी था. निश्चित ही इस अनूठी सफलता का श्रेय पन्ना टाइगर रिजर्व के क्षेत्र संचालक आर.श्रीनिवास मूर्ति व उनके समर्पित सहयोगियों को जाता है जिन्होंने पन्ना टाइगर रिजर्व को फिर से आबाद करने के लिए अथक परिश्रम किया और प्रकृति के उसके सृजन में सहभागी बने. श्री मूर्ति का यह मानना है कि प्रकृति सृजन का कार्य स्वयं करती है, हमने तो सिर्फ अनुकूल माहौल व परिस्थितियां निर्मित करने का काम किया है जिसमें पन्ना टाइगर रिजर्व के अधिकारियों व कर्मचारियों सहित इस जिले के नागरिकों का भी सराहनीय योगदान रहा है. 



बाघिन टी - 1 का नन्हा शावक
बढ़ती संख्या से छोटा पडऩे लगा जंगल का दायरा 


यह जानकर सुखद अनुभूति होती है कि पन्ना टाइगर रिजर्व दुनिया का पहला संरक्षित क्षेत्र है जहां बाघों के पुर्नस्थापना का कार्यक्रम इतने कम समय में इतना सफल रहा है. पन्ना का यह संरक्षित वन क्षेत्र बीते चार - पांच सालों में बाघों की नर्सरी के रूप में विकसित हुआ है. यहां जन्म लेने वाले बाघ शावक सुरक्षित और अनुकूल माहौल में पलकर न सिर्फ बड़े होते हैं बल्कि जंगल की निराली दुनिया और कानून से भी परिचित होते हैं. शिकार करने में कुशलता व दक्षता हासिल होते ही मां से अलग होकर शावक स्वच्छन्द रूप से विचरण करते हुए अपने इलाके का निर्धारण करते हैं. बाघों की तेजी से बढ़ती संख्या के कारण पन्ना टाइगर रिजर्व का सीमित दायरा अब छोटा पडऩे लगा है, नतीजतन यहां के बाघ समूचे बुन्देलखण्ड व बघेलखण्ड के जंगलों में भी विचरण करने लगे हैं. इसी को कहते हैं अच्छे दिनों का आना जिसने बुरे दिनों को विस्मृत कर दिया है. पन्ना के जंगलों की यह समृद्धि और खुशहाली बनी रही, इसी में यहां के रहवासियों की भी समृद्धि और खुशहाली निहित है. 


अरुण सिंह 
aruninfo.singh08@gmail.com

1 comments:

bundelkhand life said...

this is a good news for all of bundelkhand but . all of utter pedesh lost her ecology. banda. hamirpur mahoba jalon jhansi lalitpur . lost all type of wildlife. tree only pepar not in forest.

Post a Comment

आप के विचार!

विविधा

आओ प्यारे कम्प्युटर पर बाघ बचायें!
अरूणेश सी दवे, जहाँ तक रही बात प्रबुद्ध बाघ प्रेमियों की जो नचनियों की तरह सज-धज कर जंगल कम इन्टरनेट पर ज्यादा अवतरित होते हैं, तो उनके लिये मै इंटरनेट मे वर्चुअल अबुझमाड़ बनाने का प्रयास कर रहा हूं । ताकि वो अपनी कोरी कल्पनाओं और वर्चुअल प्रयासों को इस आभासी दुनिया में जाहिर कर अपनी ई-कीर्ति बढ़ा सकें।

सामुदायिक पक्षी सरंक्षण
पक्षियों के संरक्षण का जीवन्त उदाहरण: ग्राम सरेली कृष्ण कुमार मिश्र, लखीमपुर खीरी* उन्नीसवी सदी की शुरूवात में ब्रिटिश हुकूमत के एक अफ़सर को लहूलुहान कर देने से यह गाँव चर्चा में आया मसला था।
तो फ़िर उनसे सीखा हमने योग!
धीरज वशिष्ठ* 84 लाख प्रजातियां और 84 लाख योगासन: पक्षियों-जानवरों से सीखा हमने आसन: धार्मिक चैनलों और बाबा रामदेव के कार्यक्रमों ने आज योग को घर-घर तक पहुंचा दिया है।
नही रहा सुमित!
दुधवा लाइव डेस्क* हाँ हम बात कर रहे है उस हाथी कि जो दो मई २०१० को लखनऊ चिड़ियाघर से दुधवा नेशनल पार्क भेजा गया था! वजह साफ़ थी, कि अब वह बूढ़ा हो गया था

पर्यावरण

क्या वे राज धर्म से वाकिफ़ हैं!
कृष्ण कुमार मिश्र* भारत के कुछ पूर्व नेताओं ने मिसाले कायम की पर्यावरण व वन्य-जीव संरक्षण में

अबूझमाड़ के जंगल- जहाँ बाघ नही नक्सल राज करते हैं!
अरूणेश सी दवे* अबूझमाड़- एक प्राकृतिक स्वर्ग:

मुद्दा

क्या खत्म हो जायेगा भारतीय बाघ
कृष्ण कुमार मिश्र* धरती पर बाघों के उत्थान व पतन की करूण कथा:

दुधवा में गैडों का जीवन नहीं रहा सुरक्षित
देवेन्द्र प्रकाश मिश्र* पूर्वजों की धरती पर से एक सदी पूर्व विलुप्त हो चुके एक सींग वाले भारतीय गैंडा

हस्तियां

पदम भूषण बिली अर्जन सिंह
दुधवा लाइव डेस्क* नव-वर्ष के पहले दिन बाघ संरक्षण में अग्रणी भूमिका निभाने वाले महा-पुरूष पदमभूषण बिली अर्जन सिंह

एक ब्राजीलियन महिला की यादों में टाइगरमैन बिली अर्जन सिंह
टाइगरमैन पदमभूषण स्व० बिली अर्जन सिंह और मैरी मुलर की बातचीत पर आधारित इंटरव्यू:

Featured Post

क्षमा करो गौरैया...

Image Courtesy: Sue Van Coppenhagen  संस्मरण गौरैया और मैं -- (3) ....डा0 शशि प्रभा बाजपेयी बात उस समय की है जब घर के नाम पर ...

वन्य-जीव

भारत की वन-नीति में बदलाव आवश्यक
देवेन्द्र प्रकाश मिश्र* आजादी के बाद बनी भारतीय वन-नीति की समीक्षा वर्ष 1988 में की गई थी।

घायल तेन्दुए को जंगल में छोड़ा गया
दुधवा लाइव डेस्क* अधूरे इलाज के बाद जंगल में छोड़ा गया घायल तेन्दुआ!