डायचे वेले जर्मनी द्वारा अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार "द बॉब्स" से सम्मानित पत्रिका "दुधवा लाइव"

International Journal of Environment & Agriculture, Vol.7, no 06, June 2017, ISSN 2395-5791

"किसी राष्ट्र की महानता और नैतिक प्रगति को इस बात से मापा जाता है कि वह अपने यहां जानवरों से किस तरह का सलूक करता है"- मोहनदास करमचन्द गाँधी

Dec 3, 2012

ये जज्बात जो हमें इंसान होने का सबूत देते है..

 एक वाकया नाजिर हुआ हमारे सलीम भाई के मार्फ़त जो अक्सर परिंदों और जानवरों के मसलों को सुर्खिया देते है अपनी कलम से ताकि सोये हुए इंसानी जज्बात जाग सके ऐसा ही वाकया परसों मोबाइल से उन्होंने बताया की किसी इंसानी शक्ल वाले हैवान ने एक कुतिया की आंते फाड़ डाली और वह तड़पती  रही, उसके पेट से आंते बाहर निकल आई और मिट्टी में सनती रही, किसी भी इंसानी दिल का पसीजना जाहिर था और उस जगह कुछ जिम्मेदार लोगों ने वो किया जो इंसानियत के ज़िंदा रहने का सिलसिला देती है, एक इंसानों के डाक्टर ने जितनी कुशलता से उस कुतिया का आपरेशन किया और उसे ठीक किया इससे ये जाहिर होता है की इंसानी कूबत कुछ भी करा सकती है, जो अपेक्षाए जानवरों के डाक्टर से की जाती है वह काम वे पशु-चिकित्सक कभी नहीं कर पाए और एक BAMS डाक्टर ने जो सराहनीय कार्य किया उसके जज्बे को दुधवा लाइव का सलाम ....तो पढ़िए ये वाकया  जो हमारे इंसान होने का सबूत देता है ....माडरेटर 

जानवर का दर्द देखकर तडफ़ उठे इंसानी दिल

पड़रिया तुला में एक कुतिया का किसी ने फाड़ डाला था पेट,

पेट से लटकती आंतें देखकर व्यापारियों व डाक्टरों ने रात को ही किया आपरेशन,

दूसरे दिन तेजी से सुधरी कुतिया की हालत, इलाज जारी।
लखीमपुर (खीरी)। जिले के पड़रिया तुला कस्बे में शुक्रवार को रब के बंदों ने जो किया, वह वाकई काबिले तारीफ है। कस्बे में आवारा घूमने वाले एक जानवर(कुतिया) को किसी ने पेट में चाकू मार दिया, जिससे उसके पेट से कई फिट आंत बाहर लटकने लगी। अपने जख्म को लिए ये जानवर बेबस तडफ़ रहा था। जानवर की पीड़ा देखकर यहां के प्राईवेट डाक्टर व व व्यापारियों ने उसके इलाज का संकल्प लिया रात को ही उस आवारा जानवर को अपने मिल गए, कुतिया के जख्मों को साफकर आंतो को सकुशल जोडऩे के बाद २४ घंटे से उस का इलाज कर रहे हैं। 

इंसान व जानवर में भले कोई रिश्ता न हो, लेकिन जानवर का दर्द देखकर इंसानी दिल भी तडफ़ उठते हैं। पड़रिया तुला में किसी ने एक कुतिया के पेट में गहरा चाकू मार दिया, जिससे कुतिया के पेट में चार इंच घाव के साथ पेट की आंते कट गईं और करीब पांच फिट तक आंत पेट से बाहर निकल कर लटकने लगीं। शाम को हुई इस घटना के बाद वह बेजुबान दर्द से तडफ़ता घूम रहा था, तभी कस्बे के व्यापारियों को उसका दर्द न देखा गया, व्यापारी कस्बे के चिकित्सक डा. सतेंद्र कुमार यादव के पास ले गए, इंसानों का इलाज करने वाले डाक्टर भी इस मंजर को देखकर सिहर उठे, उन्होनें व्यापारियों के आग्रह पर तुरंत ही इलाज करने की ठान ली। रात को ही उसका पेट की आंते साफकर कटी हुईं आंते सिल दी गई, और पेट पर भी टांके लगा दिए गए। रात भर उस बेजुबान को अपने पास रखकर सुबह दोबारा इंजेक्शन व दवाईयां दी गईं। अब उसकी हालत में तेजी से सुधार हुआ है। 


अब्दुल सलीम खान (संवेदनशील मसायल पर पैनी नजर, लेखन में अपने आस-पास के मानवीय मुद्दों को अपनी कलम से जाहिर करने की तमाम सफल कोशिशे, पत्रकारिता में एक दशक से अधिक समय से सक्रिय, खीरी जनपद के गुलरिया में निवास, इनसे salimreporter.lmp@gmail.com  संपर्क कर सकते हैं। )


4 comments:

अमित वर्मा said...

कहते हैं मनुष्य एक सामाजिक प्राणी है. दया, करूणा, सेवा जैसे गुण ही उसे मानवीय बनाते हैं, पर इस अमानवीय कृत्य को देखें तो खुद को मानव कहलाने में शर्म महसूस करेंगे!.....पर चिकित्सक डा. सतेंद्र कुमार यादव जी एवं सहयोगी व्यापारी गण जैसे लोग ही उपर्युक्त कथन की बुनियाद है जिसपर मानवता रूपी इमारत आज भी बुलंद है....मैं इनके ज़ज्बे को तहे दिल से सलाम करता हूँ !!!

Archana said...

बहुत ही प्रशंसनीय कार्य और इस कार्य को अंजाम देने वाले डॉक्टर साहब को हमारा भी सलाम ...
आज जहाँ इन्सान, इन्सान का दर्द नहीं बाँट पा रहा वहाँ इस तरह के कार्य को अन्जाम तक पहुँचाना एक मिसाल है ...
उन सभी व्यापारियों का भी आभार जो इस कार्य के भागी बने..
श्री अब्दुल सलीम खान जी और दुधवा लाईव भी बधाई के पात्र हैं जो जनजागरण का संदेश लोगों तक पहुँचाया...

Mukesh Kumar Sinha said...

dil se salam...

manoj thakur said...

bhut hi acha kam kiya mitro aap sabhe ko is kamm ki leye saduwad

Post a Comment

आप के विचार!

विविधा

आओ प्यारे कम्प्युटर पर बाघ बचायें!
अरूणेश सी दवे, जहाँ तक रही बात प्रबुद्ध बाघ प्रेमियों की जो नचनियों की तरह सज-धज कर जंगल कम इन्टरनेट पर ज्यादा अवतरित होते हैं, तो उनके लिये मै इंटरनेट मे वर्चुअल अबुझमाड़ बनाने का प्रयास कर रहा हूं । ताकि वो अपनी कोरी कल्पनाओं और वर्चुअल प्रयासों को इस आभासी दुनिया में जाहिर कर अपनी ई-कीर्ति बढ़ा सकें।

सामुदायिक पक्षी सरंक्षण
पक्षियों के संरक्षण का जीवन्त उदाहरण: ग्राम सरेली कृष्ण कुमार मिश्र, लखीमपुर खीरी* उन्नीसवी सदी की शुरूवात में ब्रिटिश हुकूमत के एक अफ़सर को लहूलुहान कर देने से यह गाँव चर्चा में आया मसला था।
तो फ़िर उनसे सीखा हमने योग!
धीरज वशिष्ठ* 84 लाख प्रजातियां और 84 लाख योगासन: पक्षियों-जानवरों से सीखा हमने आसन: धार्मिक चैनलों और बाबा रामदेव के कार्यक्रमों ने आज योग को घर-घर तक पहुंचा दिया है।
नही रहा सुमित!
दुधवा लाइव डेस्क* हाँ हम बात कर रहे है उस हाथी कि जो दो मई २०१० को लखनऊ चिड़ियाघर से दुधवा नेशनल पार्क भेजा गया था! वजह साफ़ थी, कि अब वह बूढ़ा हो गया था

पर्यावरण

क्या वे राज धर्म से वाकिफ़ हैं!
कृष्ण कुमार मिश्र* भारत के कुछ पूर्व नेताओं ने मिसाले कायम की पर्यावरण व वन्य-जीव संरक्षण में

अबूझमाड़ के जंगल- जहाँ बाघ नही नक्सल राज करते हैं!
अरूणेश सी दवे* अबूझमाड़- एक प्राकृतिक स्वर्ग:

मुद्दा

क्या खत्म हो जायेगा भारतीय बाघ
कृष्ण कुमार मिश्र* धरती पर बाघों के उत्थान व पतन की करूण कथा:

दुधवा में गैडों का जीवन नहीं रहा सुरक्षित
देवेन्द्र प्रकाश मिश्र* पूर्वजों की धरती पर से एक सदी पूर्व विलुप्त हो चुके एक सींग वाले भारतीय गैंडा

हस्तियां

पदम भूषण बिली अर्जन सिंह
दुधवा लाइव डेस्क* नव-वर्ष के पहले दिन बाघ संरक्षण में अग्रणी भूमिका निभाने वाले महा-पुरूष पदमभूषण बिली अर्जन सिंह

एक ब्राजीलियन महिला की यादों में टाइगरमैन बिली अर्जन सिंह
टाइगरमैन पदमभूषण स्व० बिली अर्जन सिंह और मैरी मुलर की बातचीत पर आधारित इंटरव्यू:

Featured Post

क्षमा करो गौरैया...

Image Courtesy: Sue Van Coppenhagen  संस्मरण गौरैया और मैं -- (3) ....डा0 शशि प्रभा बाजपेयी बात उस समय की है जब घर के नाम पर ...

वन्य-जीव

भारत की वन-नीति में बदलाव आवश्यक
देवेन्द्र प्रकाश मिश्र* आजादी के बाद बनी भारतीय वन-नीति की समीक्षा वर्ष 1988 में की गई थी।

घायल तेन्दुए को जंगल में छोड़ा गया
दुधवा लाइव डेस्क* अधूरे इलाज के बाद जंगल में छोड़ा गया घायल तेन्दुआ!