डायचे वेले जर्मनी द्वारा अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार "द बॉब्स" से सम्मानित पत्रिका "दुधवा लाइव"

International Journal of Environment & Agriculture, Vol.7, no 05, May 2017, ISSN 2395-5791

"किसी राष्ट्र की महानता और नैतिक प्रगति को इस बात से मापा जाता है कि वह अपने यहां जानवरों से किस तरह का सलूक करता है"- मोहनदास करमचन्द गाँधी

Mar 24, 2011

पानी की बूँद-बूँद को महरूम है बुन्देलखण्ड के बाशिन्दें ?

जल संकट और पलायन ने होली से महरूम किया ! 

१-   जल आपदा के साथ दलित पलायन का गढ़ है गोखरही
२-  त्रिस्तरीय ग्राम पंचायत चुनाव 2010-11 के समय 3500 मतदाता और अब हैं महज 1000         लोग
३-    700 हरिजन एवं अन्य ग्रामीणों का हो रहा गांव से पलायन
४-    15 कुओं में से 11 सूखे जिनमे से 1947 का हरिजन बन्धुओं को समर्पित कुआ भी शामिल

बुन्देलखण्ड़ी होली और यहां का फाग कभी आस पास भले ही चर्चा का विषय हुआ करता था मगर अब हालात इन काल खण्ड़ो से बहुत दूर खड़े हैं। पिछले 7 सूखे देख रहे बुन्देल खण्ड़ के जनपद बांदा में ग्रामीण क्षेत्रों पर जल आपदा और पलायन की त्रासदी लगातार जारी है। ग्राम गोखरही, तिन्दवारी विकास खण्ड़ में इस दफा होली नहीं मनाई गयी वजह साफ है जब गांव के मवेसी,जानवरों के लिये पीने का पानी नहीं अट रहा तो भला रंग और गुलाल का खुमार गांव के बुन्देलियों पर कैसे चढ़ता।

एक सरसरी नजर से इन आकड़ों पर देखे तो तस्वीर अपने आप जमीन की सूखती आखों का हाल बयान करती है। 2010-11 के त्रिस्तरीय ग्राम पंचायत चुनाव में कुल मतदाता गोखरही गांव 3500 थे लेकिन पिछले 3 माह से हो रहे पलायन के चलते जहां हरिजनों के सैकड़ो घरो में ताले जड़े है वहीं गांव में इस समय कुल आबादी मतदाता सूची के हिसाब से 1000 रह गयी है। 700 दलित परिवारो के लोगों के साथ 100 ब्राहृमण, क्षत्रिय परिवार में म0प्र0 के मुरैना,बहुआ(फतेहपुर),राजस्थान के ईट भटटो मे मजदूरी करने के लिये पलायन कर चुके है जो अब आगामी उम्मीद पर निर्भर वर्षा ऋतु में ही घरो को वापस लौटेगें। पलायन करने वालो ंमें शामिल हरिजन बिरादरी के गरीबां,बिन्दा,रामसिया,लालू,मांझिल,बिन्दा,बिसाली,भईयालाल और ऊचें कुनबो के प्रदीप शुक्ला, प्रहलाद तिवारी,आदेश अवस्थी,महदी,दयाराम,शिवप्रसाद,ब्रजकिशोर उन परिवारों के मुखियां है जिनके घरों बीते 3 महीने से पलायन की मोहर लगी है।

केन्द्र सरकार की मनरेगा योजना के विकास का पहिया चुनाव होने के 3माह गुजरने के बाद भी गोखरही में नहीं दौड़ा है। निर्वाचित ग्राम प्रधान महिला श्रीमती मालती देवी का कहना है कि उनका सारा काम गया तिवारी देखते है मतलब साफ है प्रधान पतियों की जमात में खड़े गया तिवारी गांव की प्रधानी करने का बीड़ा उठायें है। जॉब कार्ड धारक सन्तराम यादव ने बताया कि इस वर्ष गोखरही से महुई सम्पर्क मार्ग एवं चन्दन तालाब के किनारे ही एक पुलियां मे मिट्टी डालने का काम कराया गया है ग्रामीणों को समय पर काम और मजदूरी भुगतान न होने से गांव में रोजगार का संकट वर्ष भर बना रहता है जिससे पलायन ही इनके घरों में रोजी रोटी की जुगाड़ करने का एक मात्र जरिया है। उन्होने बताया कि गांव बेरोजगार युवक शारदा प्रसाद,गुलाब चन्द्र, ज्ञान सिंह,अरबिन्द,कमल आदि ऐसे युवा साथीं है जो होली के त्यौंहार के बाद गुजरात चले जायेगें। जानकारों के मुताबिक इस गांव में कुल 15 कुऐ है जिनमें की 11 पूरी तरह सूख चुके है ज्यादातर सूखे कुओं को कूड़ेदान के लिये उपयोग किया जाता है। 



 बुन्देलखण्ड में जल संकट से बावस्ता हो रही है गौरैया
गौर तलब है कि सन् 1947 में बने हरिजन बन्धुओं को समर्पित एक मात्र कुआं भी अपनी बदहाली और दलित जल संकट की कहानी बिन पानी बुन्देलखण्ड़ के गोखरहीं गांव से बतलाने की शासन और प्रशासन को कोशिशे करता रहता है, लेकिन यह सिर्फ नक्कारखाने में बजे तूती की तरह ही है जिसकी आवाज सरकारी अमलो को बेसुरी लगती है। विश्व गोरैयां दिवस 20 मार्च 2011 पर गांव में जागरूकता गोष्ठी आयोजित करने गये स्वैच्छिक संगठन प्रवास को जल संकट के भयावह दौर से गुजर रहे गोखरही गावं के बाशिन्दों ने प्रकृति प्रेम की बानगी के तौर पर एक नन्ही गोरैयां मकानो की दरार में दिखलाने की कामयाब कोशिश की जिससे कही न कहीं उनकी पेयजल संकट की पीड़ा गोरैया के साथ यह प्रश्न चिन्ह लेकर संगठन और सरकार के सामने पूछने की कूबत रख रही थी कि विकास के मानक क्यां पलायन और जल संकट बुनियाद पर तय किये जाते है जिसने गोखरही के हजारों घरों में तालें जड़कर होली से महरूम कर दिया ? बुन्देलखण्ड़ क्षेत्र के जनपद चित्रकूट के जिला अधिकारी ने उ0प्र0 सरकार से सूखा क्षेत्र घोसित करने की सिफारिश की है लेकिन बताते चले कि जल संकट वाली 40 जनपदीय सूची में अन्तरमुखी अकाल का पर्याय बुन्देलखण्ड़ के किसी जनपद को शामिल नही किया गया है वहीं पिछले 3 वर्षाे में जनपद बांदा,चित्रकूट,महोबा,हमीरपुर का जल स्तर 3 मी0 नीचे चला गया है और कहीं भी सूखी धरती पर बिना पत्तियों के खड़े हुये पेड़ो की बीच पानी की उम्मीद छोड़ चुके खेतो पर 200 से 800 मी0 तक 7 फुट गहरी दरारे पड़ चुकी है और इन सब की पीछे सरकार की आकड़ो पर विकास का मॉडल तैयार करने वाली योजनाओं के साथ साथ जलदोहन करने वाले कुटीरउद्योग बुन्देलखण्ड़ का अवैध ग्रेनाइट खनन् उद्योग प्रमुख रूप से दोषी है। जिनसे सैकड़ो ली0 पानी 300 फिट गहरी और 200 ऊचीं पहाड़ खदानों व कृसिंग (पत्थर तोड़ने) मशीन के द्वारा पम्पिंग सेट से बाहर फेका जाता है लेकिन उ0प्र0 सरकार यह मानने को तैयार नहीं की बुन्देलखण्ड़ में खनन् उद्योग जल आपदा का हिस्सा है यहां तक कि उसने इन क्षेत्रों में क्रशर नहीं होने का भी दावा किया है। गोखरही जैसे सैकड़ो गांव आने वाले अप्रैल,मई में पलायन की हूबहू तस्बीर बनकर विकास और विनाश के बिचौलिये शाबित होगंे। क्यां शहरों की तरफ ग्रामीणो का प्रवास उनके माकूल पुनर्वास की दस्तक बनेगा ?


आशीष दीक्षित "सागर" (लेखक सामाजिक कार्यकर्ता है, वन एंव पर्यावरण के संबध में बुन्देलखण्ड अंचल में सक्रिय, प्रवास संस्था के संस्थापक के तौर पर, मानव संसाधनों व महिलाओं की हिमायत, पर्यावरण व जैव-विविधता के संवर्धन व सरंक्षण में सक्रिय, चित्रकूट ग्रामोदय विश्वविद्यालय से एम०एस० डब्ल्यु० करने के उपरान्त भारत सरकार के ग्रामीण विकास मंत्रालय के उपक्रम कपाट में दो वर्षों का कार्यानुभव, उत्तर प्रदेश के बांदा जनपद में निवास, इनसे ashishdixit01@gmail.com पर संपर्क कर सकते हैं)

2 comments:

आशीष सागर said...

Usne Divana Banaya hai Chi - chi ki Aavaj se ,Mahfuj Rakhna usko Sagar kahte hai Insani Baj se

avinash said...

insani baaz...good comment

Post a Comment

आप के विचार!

विविधा

आओ प्यारे कम्प्युटर पर बाघ बचायें!
अरूणेश सी दवे, जहाँ तक रही बात प्रबुद्ध बाघ प्रेमियों की जो नचनियों की तरह सज-धज कर जंगल कम इन्टरनेट पर ज्यादा अवतरित होते हैं, तो उनके लिये मै इंटरनेट मे वर्चुअल अबुझमाड़ बनाने का प्रयास कर रहा हूं । ताकि वो अपनी कोरी कल्पनाओं और वर्चुअल प्रयासों को इस आभासी दुनिया में जाहिर कर अपनी ई-कीर्ति बढ़ा सकें।

सामुदायिक पक्षी सरंक्षण
पक्षियों के संरक्षण का जीवन्त उदाहरण: ग्राम सरेली कृष्ण कुमार मिश्र, लखीमपुर खीरी* उन्नीसवी सदी की शुरूवात में ब्रिटिश हुकूमत के एक अफ़सर को लहूलुहान कर देने से यह गाँव चर्चा में आया मसला था।
तो फ़िर उनसे सीखा हमने योग!
धीरज वशिष्ठ* 84 लाख प्रजातियां और 84 लाख योगासन: पक्षियों-जानवरों से सीखा हमने आसन: धार्मिक चैनलों और बाबा रामदेव के कार्यक्रमों ने आज योग को घर-घर तक पहुंचा दिया है।
नही रहा सुमित!
दुधवा लाइव डेस्क* हाँ हम बात कर रहे है उस हाथी कि जो दो मई २०१० को लखनऊ चिड़ियाघर से दुधवा नेशनल पार्क भेजा गया था! वजह साफ़ थी, कि अब वह बूढ़ा हो गया था

पर्यावरण

क्या वे राज धर्म से वाकिफ़ हैं!
कृष्ण कुमार मिश्र* भारत के कुछ पूर्व नेताओं ने मिसाले कायम की पर्यावरण व वन्य-जीव संरक्षण में

अबूझमाड़ के जंगल- जहाँ बाघ नही नक्सल राज करते हैं!
अरूणेश सी दवे* अबूझमाड़- एक प्राकृतिक स्वर्ग:

मुद्दा

क्या खत्म हो जायेगा भारतीय बाघ
कृष्ण कुमार मिश्र* धरती पर बाघों के उत्थान व पतन की करूण कथा:

दुधवा में गैडों का जीवन नहीं रहा सुरक्षित
देवेन्द्र प्रकाश मिश्र* पूर्वजों की धरती पर से एक सदी पूर्व विलुप्त हो चुके एक सींग वाले भारतीय गैंडा

हस्तियां

पदम भूषण बिली अर्जन सिंह
दुधवा लाइव डेस्क* नव-वर्ष के पहले दिन बाघ संरक्षण में अग्रणी भूमिका निभाने वाले महा-पुरूष पदमभूषण बिली अर्जन सिंह

एक ब्राजीलियन महिला की यादों में टाइगरमैन बिली अर्जन सिंह
टाइगरमैन पदमभूषण स्व० बिली अर्जन सिंह और मैरी मुलर की बातचीत पर आधारित इंटरव्यू:

Featured Post

क्षमा करो गौरैया...

Image Courtesy: Sue Van Coppenhagen  संस्मरण गौरैया और मैं -- (3) ....डा0 शशि प्रभा बाजपेयी बात उस समय की है जब घर के नाम पर ...

वन्य-जीव

भारत की वन-नीति में बदलाव आवश्यक
देवेन्द्र प्रकाश मिश्र* आजादी के बाद बनी भारतीय वन-नीति की समीक्षा वर्ष 1988 में की गई थी।

घायल तेन्दुए को जंगल में छोड़ा गया
दुधवा लाइव डेस्क* अधूरे इलाज के बाद जंगल में छोड़ा गया घायल तेन्दुआ!