डायचे वेले जर्मनी द्वारा अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार "द बॉब्स" से सम्मानित पत्रिका "दुधवा लाइव"

International Journal of Environment & Agriculture, Vol.7, no 06, June 2017, ISSN 2395-5791

"किसी राष्ट्र की महानता और नैतिक प्रगति को इस बात से मापा जाता है कि वह अपने यहां जानवरों से किस तरह का सलूक करता है"- मोहनदास करमचन्द गाँधी

Mar 23, 2011

...अब मेरे घर के आंगन में आती है गौरैय्या


गौरैया तुम रोज मेरे घर आया करो....


वह एक साल पहले की बात है, जब आप सबने दुआएं की थी कि गौरैय्या मेरे घर भी आए। वाकई दिल से निकली थीं वह दुआएं और मेरे घर पर गौरैय्या ने आना शुरू कर दिया। गौरैय्या अब डरती नहीं है, वह बेधड़क पूरे अधिकार के साथ आती है और गेहूं धुलते समय ही आकर चुगने लगती है। पिता जी भी अब अपने कदमों को सहारे से रखते हैं कि कहीं उड़ न जाए। तब मैं शाहजहांपुर था और अब भी मैं शाहजहांपुर हूं। हां, गौरैय्या को अपने घर के आंगन में गेहूं का दाना चुगते देखने के लिए ऊपर वाले ने मुझे छह महीने के लिए मुझे अपने घर पर तैनाती दे दी। मैं और मेरा बेटा एक दिन घर की सीढ़ियों पर बैठे थे और अचानक सामने लगी घास में पड़े गेहूं के दानों को चुगने के लिए गौरैय्या आ गई, मैनें देखा तो खुशी का ठिकाना न रहा। दौड़ कर घर के अंदर गया और सबको बुलाकर लाया गौरैय्या को दिखाने के लिए। फिर मेरा बेटा भी शोर मचा रहा था, जोर-जोर से कह रहा था गौरैय्या तुम आओ मेरे पास...वह गौरैय्या के पास जाना चाहता था, लेकिन वह उड़ जा रही थी। इसके बाद बाद तो बहुत देर तक बेटा रोता रहा कि पापा मुझे गौरैय्या चाहिए। किसी तरह से समझाया, फिर वह खेलने में लग गया...भूल गया। अब मैं अपने घर के आंगन में गौरैय्या को अठखेलियां करते देखता हूं...तब मुझे याद आते हैं, वह लोग जो मेरी एक साल पुरानी खबर पढ़कर खूब रोए थे, तब उनके मुंह से दुआएं निकली थीं कि विवेक भाई के घर गौरैय्या जरूर आए। दुआएं रंग लाईं, गौरैय्या मेरे घर आने लगी।

कुछ दिन पहले की बात है कि मेरे दोस्त सुदीप ने बताया कि भैय्या आप कहां है, फोन ट्राई किया, नहीं मिला। इसीलिए आया हूं आपको यह बताने के लिए कि मेरे गांव के घर के आंगन में लगे आइने को गौरैय्या ने तोड़ दिया है। बड़ा ही सुखद अहसास हुआ था तब। मेरे दोस्त पंकज बाथम ने आफिस आकर बताया कि सेंगर जी मैंने फार्म हाउस पर गौरैय्या बड़ी तादात में आने लगी हैं। ऐसे वह तमाम किस्से मेरे सामने आने लगे, जिसमें गौरैय्या को देखने और गौरैय्या के आने का जिक्र होता है।

पूरा एक साल हो गया। बीस मार्च को गौरैय्या दिवस होता है। मेरे जेहन में बार-बार कुछ लिखने को विचार उमड़ रहे थे, लेकिन होली थी और काम बहुत था, घर आया था दिवाली के बाद तो सबके साथ समय बिताने से अपने को रोक नहीं पा रहा था। गौरैय्या तो आने लगी है मेरे ही नहीं, आप सबके आंगन में भी।

इस गौरैय्या ने मुझे शाहजहांपुर में पहचान दे दी। जो भी मिलता है साल भर के बाद, दो महीने के बाद, छह महीने के बाद आकर केवल उसी गौरैय्या वाली खबर की चर्चा करता है। इस बार गौरैय्या को लोगों ने बहुत याद नहीं किया, इसका कारण है कि अब गौरैय्या लोगों के आंगन में आती है, ताखों में रहती है, दाना चुगती है और हम सबको उसमें दिखती है बेटी और बहन। तो सामने होता है, उसे याद नहीं किया जाता है। धन्यवाद केके भाई...आपकी मुहिम रंग लाई...हम सब आपके सहयोगी के तौर पर काम कर रहे थे। आगे भी कोशिश रहेगी कि हम आपका साथ देते रहें गौरैय्या जैसी और भी चिड़ियों को संरक्षित करने में।

"गौरैया दिवस 20 मार्च 2010 को विवेक सेंगर की गौरैया पर दुधवा लाइव में प्रकाशित एक मार्मिक कथा जिसे पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें।"

विवेक सेंगर (लेखक हिन्दुस्तान दैनिक शाहजहांपुर के ब्यूरो चीफ हैं, इनसे viveksainger1@gmail.com पर सम्पर्क कर सकते हैं)

2 comments:

sushil shukla,shahjahanpur reporter news-24 said...

vivek ji aap bahut accha likhte hain lekhni me aap ka koi jabab nahi hai aap lajavab likhte hain sir ji .aap ne aaj se ek saal pahle amar ujala me gauraiya per ek lekh likha tha jise maine amar ujala aur dudhva live per kam se kam 8 baar padha tha kyunki wo humko baut accha laga tha so maine kaibaar usko padha aur har baar padhne per meri aankho me aansoo chalak aate the.aaj theek ek saal baad aaj fir se hum ne aap ka ye lekh dudhva live per padha aaj firse ek baar isko padhte time per muzhe wohi ek saal purana wala lekh yaad aa aya hai.aap ki manokaamna poori hui is ka matlav hai ki aap bahut lucky man hain. jo aap k ghar me firse gauraiya aane lagi hai.meri god se dua hai ki gauraiya aap k ghar me hi apna ghar bana le aur fir wo parmanent aap hi k ghar me rahe........----------aap ka chota bhai sushil shukla,shahjahanpur reporter news-24

rajiv said...

Dear Vivek ..mast likha hai .. ham log bhi 20 March ko Gauryya Divas manate hain. Birds se mujhe kuch jyada hi lagav hai..please click on this link
http://rajubindas.blogspot.com/2009/05/blog-post_07.html

Post a Comment

आप के विचार!

विविधा

आओ प्यारे कम्प्युटर पर बाघ बचायें!
अरूणेश सी दवे, जहाँ तक रही बात प्रबुद्ध बाघ प्रेमियों की जो नचनियों की तरह सज-धज कर जंगल कम इन्टरनेट पर ज्यादा अवतरित होते हैं, तो उनके लिये मै इंटरनेट मे वर्चुअल अबुझमाड़ बनाने का प्रयास कर रहा हूं । ताकि वो अपनी कोरी कल्पनाओं और वर्चुअल प्रयासों को इस आभासी दुनिया में जाहिर कर अपनी ई-कीर्ति बढ़ा सकें।

सामुदायिक पक्षी सरंक्षण
पक्षियों के संरक्षण का जीवन्त उदाहरण: ग्राम सरेली कृष्ण कुमार मिश्र, लखीमपुर खीरी* उन्नीसवी सदी की शुरूवात में ब्रिटिश हुकूमत के एक अफ़सर को लहूलुहान कर देने से यह गाँव चर्चा में आया मसला था।
तो फ़िर उनसे सीखा हमने योग!
धीरज वशिष्ठ* 84 लाख प्रजातियां और 84 लाख योगासन: पक्षियों-जानवरों से सीखा हमने आसन: धार्मिक चैनलों और बाबा रामदेव के कार्यक्रमों ने आज योग को घर-घर तक पहुंचा दिया है।
नही रहा सुमित!
दुधवा लाइव डेस्क* हाँ हम बात कर रहे है उस हाथी कि जो दो मई २०१० को लखनऊ चिड़ियाघर से दुधवा नेशनल पार्क भेजा गया था! वजह साफ़ थी, कि अब वह बूढ़ा हो गया था

पर्यावरण

क्या वे राज धर्म से वाकिफ़ हैं!
कृष्ण कुमार मिश्र* भारत के कुछ पूर्व नेताओं ने मिसाले कायम की पर्यावरण व वन्य-जीव संरक्षण में

अबूझमाड़ के जंगल- जहाँ बाघ नही नक्सल राज करते हैं!
अरूणेश सी दवे* अबूझमाड़- एक प्राकृतिक स्वर्ग:

मुद्दा

क्या खत्म हो जायेगा भारतीय बाघ
कृष्ण कुमार मिश्र* धरती पर बाघों के उत्थान व पतन की करूण कथा:

दुधवा में गैडों का जीवन नहीं रहा सुरक्षित
देवेन्द्र प्रकाश मिश्र* पूर्वजों की धरती पर से एक सदी पूर्व विलुप्त हो चुके एक सींग वाले भारतीय गैंडा

हस्तियां

पदम भूषण बिली अर्जन सिंह
दुधवा लाइव डेस्क* नव-वर्ष के पहले दिन बाघ संरक्षण में अग्रणी भूमिका निभाने वाले महा-पुरूष पदमभूषण बिली अर्जन सिंह

एक ब्राजीलियन महिला की यादों में टाइगरमैन बिली अर्जन सिंह
टाइगरमैन पदमभूषण स्व० बिली अर्जन सिंह और मैरी मुलर की बातचीत पर आधारित इंटरव्यू:

Featured Post

क्षमा करो गौरैया...

Image Courtesy: Sue Van Coppenhagen  संस्मरण गौरैया और मैं -- (3) ....डा0 शशि प्रभा बाजपेयी बात उस समय की है जब घर के नाम पर ...

वन्य-जीव

भारत की वन-नीति में बदलाव आवश्यक
देवेन्द्र प्रकाश मिश्र* आजादी के बाद बनी भारतीय वन-नीति की समीक्षा वर्ष 1988 में की गई थी।

घायल तेन्दुए को जंगल में छोड़ा गया
दुधवा लाइव डेस्क* अधूरे इलाज के बाद जंगल में छोड़ा गया घायल तेन्दुआ!