International Journal of Environment & Agriculture
ISSN 2395 5791
"किसी राष्ट्र की महानता और नैतिक प्रगति को इस बात से मापा जाता है कि वह अपने यहां जानवरों से किस तरह का सलूक करता है"- मोहनदास करमचन्द गाँधी

जर्मनी द्वारा अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार "द बॉब्स" से सम्मानित पत्रिका "दुधवा लाइव"

Mar 19, 2010

विश्व गौरैया दिवस पर सौजन्या संस्था का सन्देश

 डा० उमा कटियार*  २० मार्च "विश्व गौरैया दिवस" के अवसर पर अपने घर आँगन में डोलती प्यारी
चिड़िया जो अब कहीं नही दिखती, वाश-बेसिन पर लगे दर्पण में अपनी ही तस्वीर पर चोंच मारते-मारते थकती वह मासूम.....हमारी ही ज्यादतियों से खो गयी। ’हर हाथ में मोबाइल’ तो आया अवश्य पर टावरों के अत्याचार से इस चिड़िया का वंश नाश हो गया। प्रकृति कुछ जीव-जन्तुओं को जंगल में ही रखना ठीक समझती है, लेकिन कुछ ऐसे भी हैं जो हमारे सामाजिक परिवेश में घरेलू रहन-सहन का हिस्सा बने हैं, गौरैया ही ऐसी दुलारी चिड़िया है, जो दुर्लभ हो गयी है। हमारी जन-जन से यह पुरजोर अपील है कि इस मांगलिक पक्षी को लौटा लाने में पूरी ताकत लगायें।

अब न वह पानी, हवा, खुशबू न बगिया
अब न वह मकरन्द फ़ूलों में

अब न दिल में प्रीति प्यारे पंछियों की
अब न वह मस्ती है झूलों में

चहचहानाजब घरों में दे सुनायी
जान जाते थे चिरैया घर आयी

दौड़ते थे ले के हम माँ का महावर
उसको रंगने के लिए हर जुति लगायी

आज मेरे हाथ से चावल के दानें
मुरमुरी लैया व गेहूं के ठिकाने

ध्वस्त चूहे कर रहे, हर अन्न दाना
अब न गौरैया चुने वे अपने दानें

वो बहुत बेखौफ़ होकर घर में आती
खूब रूकती दाने चुगती, चहचहाती

मेरे मन के पत्र पर नक्शे बनाती
अब कभी आँगन में, उसका चहचहाना

धूल में गर्दन खुजा करके नहाना
मुझको उसको रंग देने का बहाना

हो गया वीरान वह सपना सुहाना!
------------------------------!
डा० उमा कटियार ( लेखिका समाज सेवी हैं,  लखीमपुर खीरी में महिलाओं के संगठन सौजन्या की प्रमुख, सामाजिक सरोकारों में सक्रियता)

इस गौरैया की तस्वीर साभार: अब्दुल सलीम

0 comments:

Post a Comment

आप के विचार!

विविधा

आओ प्यारे कम्प्युटर पर बाघ बचायें!
अरूणेश सी दवे, जहाँ तक रही बात प्रबुद्ध बाघ प्रेमियों की जो नचनियों की तरह सज-धज कर जंगल कम इन्टरनेट पर ज्यादा अवतरित होते हैं, तो उनके लिये मै इंटरनेट मे वर्चुअल अबुझमाड़ बनाने का प्रयास कर रहा हूं । ताकि वो अपनी कोरी कल्पनाओं और वर्चुअल प्रयासों को इस आभासी दुनिया में जाहिर कर अपनी ई-कीर्ति बढ़ा सकें।

सामुदायिक पक्षी सरंक्षण
पक्षियों के संरक्षण का जीवन्त उदाहरण: ग्राम सरेली कृष्ण कुमार मिश्र, लखीमपुर खीरी* उन्नीसवी सदी की शुरूवात में ब्रिटिश हुकूमत के एक अफ़सर को लहूलुहान कर देने से यह गाँव चर्चा में आया मसला था।
तो फ़िर उनसे सीखा हमने योग!
धीरज वशिष्ठ* 84 लाख प्रजातियां और 84 लाख योगासन: पक्षियों-जानवरों से सीखा हमने आसन: धार्मिक चैनलों और बाबा रामदेव के कार्यक्रमों ने आज योग को घर-घर तक पहुंचा दिया है।
नही रहा सुमित!
दुधवा लाइव डेस्क* हाँ हम बात कर रहे है उस हाथी कि जो दो मई २०१० को लखनऊ चिड़ियाघर से दुधवा नेशनल पार्क भेजा गया था! वजह साफ़ थी, कि अब वह बूढ़ा हो गया था