डायचे वेले जर्मनी द्वारा अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार "द बॉब्स" से सम्मानित पत्रिका "दुधवा लाइव"

International Journal of Environment & Agriculture, Vol.7, no 05, May 2017, ISSN 2395-5791

"किसी राष्ट्र की महानता और नैतिक प्रगति को इस बात से मापा जाता है कि वह अपने यहां जानवरों से किस तरह का सलूक करता है"- मोहनदास करमचन्द गाँधी

Dec 26, 2014

तो यूं बना पेंच से आया बाघ टी -3 मिस्टर पन्ना

पन्ना टाईगर रिजर्व को आबाद करने वाला बाघ टी - 3
पन्ना बाघ पुर्नस्थापना योजना के पांच वर्ष हुए पूरे 
बाघों की नई दुनिया आबाद करके रच दिया इतिहास 

पन्ना, 25 दिसम्बर -  
पांच साल में म.प्र. के पन्ना टाइगर रिजर्व ने देश और दुनिया में अपनी एक अलग पहचान बनाई है. इन पांच सालों में यहां जो कुछ हुआ उसे देखकर दुनिया भर के वन्य जीव प्रेमी उत्साहित और हतप्रभ हैं. वर्ष 2009 में बाघों से उजड़ चुका पन्ना टाइगर रिजर्व फिर बाघों से आबाद हो चुका है और यह करिश्मा पेंच से पन्ना लाये गये नर बाघ टी - 3 ने कर दिखाया है, जिसे अब मिस्टर पन्ना के नाम से जाना जाता है. इतिहास रचने वाले इस बाघ को पांच वर्ष पूर्व 26 दिसम्बर 2009 को पन्ना टाइगर रिजर्व में बाघों की वंश वृद्धि के लिए छोंड़ा गया था, इसलिए यह दिन पन्ना बाघ पुर्नस्थापना योजना के लिए एक चिर स्मरणीय दिन है. 


उल्लेखनीय है कि पन्ना में बाघों की नई दुनिया आबाद करने के लिए 7 नवम्बर 2009 को पेंच टाइगर रिजर्व से नर बाघ टी - 3 को यहां लाया जाकर इन्क्लोजर में रखा गया. बाड़े में कुछ दिन रखने के बाद 13 नवम्बर को खुले जंगल में स्वच्छन्द विचरण के लिए छोंड़ दिया गया. मालुम हो कि बाघ टी - 3 को पन्ना लाये जाने से पूर्व कान्हा व बांधवगढ़ से दो बाघिनों को लाया जाकर टाइगर रिजर्व के जंगल में छोंड़ दिया गया था ताकि नर बाघ के संपर्क में आकर दोनों बाघिन वंशवृद्धि कर सकें. लेकिन नर बाघ की मुलाकात इन बाघिनों से नहीं हो सकी और 27 नवम्बर को पेंच का यह बाघ पन्ना से अपने घर पेंच की तरफ कूच कर गया. पूरे 30 दिनों तक यह बाघ कड़ाके की ठंड में अनवरत यात्रा करते हुए 442 किमी. की दूरी तय कर डाली. जिसे 25 दिसम्बर को पकड़ लिया गया और 26 दिसम्बर को दुबारा पन्ना टाइगर रिजर्व में छोड़ा गया. 


पन्ना टाइगर रिजर्व के क्षेत्र संचालक आर.श्रीनिवास मूर्ति बताते हैं कि टी - 3 पेंच से लाया गया वह नर बाघ है जो एक तरह से पुन: स्थापित बाघों के कुनबा का पिता है. बाघ टी - 3 के 30 दिनों की यात्रा का स्मरण करते हुए श्री मूर्ति बताते हैं कि ये दिन हमारे लिए बेहद चुनौतीपूर्ण व महत्व के थे, क्यों कि इसी नर बाघ पर पन्ना बाघ पुर्नस्थापना योजना का भविष्य टिका हुआ था. इन 30 दिनों में टी - 3 ने बाघ आवास व उनके जीवन के बारे में पन्ना टाइगर रिजर्व की टीम व पूरे देश को इतना ज्ञान दिया जो अन्यत्र संभव नहीं था. यह बाघ पन्ना के दक्षिणी दिशा में छतरपुर, सागर एवं दमोह जिलों में विचरण करते हुए 442 किमी. की यात्रा की. जिस इलाके में बाघ विचरण कर रहा था वह पूरी तरह असुरक्षित था और शिकार हो जाने की प्रबल संभावना थी. लेकिन हमने हिम्मत नहीं हारी और कडाके की ठंड में नदी, नाले व जंगल पार करते हुए उक्त बाघ को सुरक्षित तरीके से पुन: बेहोश करते हुए पन्ना टाइगर रिजर्व में मुक्त किया. बाघ टी - 3 की इस खोज ने ही पन्ना टाइगर रिजर्व के प्रबंधन को एक टीम का रूप दिया. अपनी इस यात्रा में बाघ प्रतिदिन 15 से 50 किमी. तक चला, जिस जगह शिकार करता वहां तीन से चार दिन तक रूकता. इस यात्रा के दौरान चार भारतीय वन अधिकारियों ने बाघ टी - 3 का पीछा करने वाली टीम का नेतृत्व किया. टीम में 70 वनकर्मी, चार हांथी व 25 वाहन शामिल रहे. बाघ ने केन, सुनार, बेबस और व्यारमा जैसी नदियों को तैरकर पार किया.
बाघ द्वारा विचरण के दौरान खोजे गए कॉरीडोर का मानचित्र


पांच साल में जन्मे 32 से अधिक बाघ शावक 
पन्ना बाघ पुर्नस्थापनायोजना के इन पांच सालों में 32 से भी अधिक बाघ शावकों का जन्म हुआ. इन जन्मे बाघ शावकों में 6 की मृत्यु हो गई तथा 7 बाघ यहां पल बढक़र बाहर निकल गये और बुन्देलखण्ड क्षेत्र के जंगलों में स्वच्छन्द विचरण कर रहे हैं. क्षेत्र संचालक श्री मूर्ति के मुताबिक मौजूदा समय पन्ना टाइगर रिजर्व में 22 बाघों का कुनबा है. आपने बताया कि बाघ टी - 3 ने अपने 30 दिन की बाहरी यात्रा में पन्ना टाइगर रिजर्व एवं नौरादेही के कॉरीडोर को खोज निकाला. यहां जन्मे एक अन्य बाघ पन्ना - 212 ने इतिहास रचते हुए पन्ना - बांधवगढ़ - संजय टाइगर रिजर्व के कॉरीडोर की खोज की तथा संजय टाइगर रिजर्व में बाघिन के साथ जोड़ा बनाकर पिता का दर्जा भी हासिल किया. पन्ना की बाघ पुर्नस्थापना योजना को मिली उल्लेखनीय सफलता के लिए श्री मूर्ति ने स्थानीय लोगों से मिले सहयोग को भी अहम बताया और कहा कि जन सहयोग के बिना इतना बड़ा कार्य संभव नहीं था.

अरुण सिंह 
पन्ना टाइगर रिजर्व मध्य प्रदेश भारत
 aruninfo.singh08@gmail.com


0 comments:

Post a Comment

आप के विचार!

विविधा

आओ प्यारे कम्प्युटर पर बाघ बचायें!
अरूणेश सी दवे, जहाँ तक रही बात प्रबुद्ध बाघ प्रेमियों की जो नचनियों की तरह सज-धज कर जंगल कम इन्टरनेट पर ज्यादा अवतरित होते हैं, तो उनके लिये मै इंटरनेट मे वर्चुअल अबुझमाड़ बनाने का प्रयास कर रहा हूं । ताकि वो अपनी कोरी कल्पनाओं और वर्चुअल प्रयासों को इस आभासी दुनिया में जाहिर कर अपनी ई-कीर्ति बढ़ा सकें।

सामुदायिक पक्षी सरंक्षण
पक्षियों के संरक्षण का जीवन्त उदाहरण: ग्राम सरेली कृष्ण कुमार मिश्र, लखीमपुर खीरी* उन्नीसवी सदी की शुरूवात में ब्रिटिश हुकूमत के एक अफ़सर को लहूलुहान कर देने से यह गाँव चर्चा में आया मसला था।
तो फ़िर उनसे सीखा हमने योग!
धीरज वशिष्ठ* 84 लाख प्रजातियां और 84 लाख योगासन: पक्षियों-जानवरों से सीखा हमने आसन: धार्मिक चैनलों और बाबा रामदेव के कार्यक्रमों ने आज योग को घर-घर तक पहुंचा दिया है।
नही रहा सुमित!
दुधवा लाइव डेस्क* हाँ हम बात कर रहे है उस हाथी कि जो दो मई २०१० को लखनऊ चिड़ियाघर से दुधवा नेशनल पार्क भेजा गया था! वजह साफ़ थी, कि अब वह बूढ़ा हो गया था

पर्यावरण

क्या वे राज धर्म से वाकिफ़ हैं!
कृष्ण कुमार मिश्र* भारत के कुछ पूर्व नेताओं ने मिसाले कायम की पर्यावरण व वन्य-जीव संरक्षण में

अबूझमाड़ के जंगल- जहाँ बाघ नही नक्सल राज करते हैं!
अरूणेश सी दवे* अबूझमाड़- एक प्राकृतिक स्वर्ग:

मुद्दा

क्या खत्म हो जायेगा भारतीय बाघ
कृष्ण कुमार मिश्र* धरती पर बाघों के उत्थान व पतन की करूण कथा:

दुधवा में गैडों का जीवन नहीं रहा सुरक्षित
देवेन्द्र प्रकाश मिश्र* पूर्वजों की धरती पर से एक सदी पूर्व विलुप्त हो चुके एक सींग वाले भारतीय गैंडा

हस्तियां

पदम भूषण बिली अर्जन सिंह
दुधवा लाइव डेस्क* नव-वर्ष के पहले दिन बाघ संरक्षण में अग्रणी भूमिका निभाने वाले महा-पुरूष पदमभूषण बिली अर्जन सिंह

एक ब्राजीलियन महिला की यादों में टाइगरमैन बिली अर्जन सिंह
टाइगरमैन पदमभूषण स्व० बिली अर्जन सिंह और मैरी मुलर की बातचीत पर आधारित इंटरव्यू:

Featured Post

क्षमा करो गौरैया...

Image Courtesy: Sue Van Coppenhagen  संस्मरण गौरैया और मैं -- (3) ....डा0 शशि प्रभा बाजपेयी बात उस समय की है जब घर के नाम पर ...

वन्य-जीव

भारत की वन-नीति में बदलाव आवश्यक
देवेन्द्र प्रकाश मिश्र* आजादी के बाद बनी भारतीय वन-नीति की समीक्षा वर्ष 1988 में की गई थी।

घायल तेन्दुए को जंगल में छोड़ा गया
दुधवा लाइव डेस्क* अधूरे इलाज के बाद जंगल में छोड़ा गया घायल तेन्दुआ!