डायचे वेले जर्मनी द्वारा अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार "द बॉब्स" से सम्मानित पत्रिका "दुधवा लाइव"

International Journal of Environment & Agriculture, Vol.7, no 06, June 2017, ISSN 2395-5791

"किसी राष्ट्र की महानता और नैतिक प्रगति को इस बात से मापा जाता है कि वह अपने यहां जानवरों से किस तरह का सलूक करता है"- मोहनदास करमचन्द गाँधी

Dec 23, 2014

आज का दिन मुक़र्रर है अन्नदाता के नाम...



23 दिसंबर 2014 किसान दिवस

समाजवाद का ये ही नारा- नही मरा किसान हमारा !

गत 26 फरवरी को विधान सभा सत्र में उत्तर प्रदेश के बाँदा जिले से कांग्रेस के विधायक दलजीत सिंह ने और हमीरपुर से भाजपा विधायक साध्वी निरंजन ज्योति ने बुंदेलखंड में किसान आत्महत्या और कर्ज से खुदकुशी का मामला प्रश्नकाल में उठाया.

साध्वी निरंजन ने बाकायदा किसानो के नाम गिनवाकर सदन से पूछा कि बुंदेलखंड का किसान कर्ज से टूट कर आत्महत्या क्यों कर रहा है ? अब तक कितने किसानो ने बुंदेलखंड में आत्महत्या की है ?


उन्होंने राजस्व मंत्री अम्बिका चौधरी से जानना चाहा कि किसानो का इस बेमोसम बारिस से कितना नुकसान हुआ , किसान को कितना मुआवजा दिया जायेगा और कब ? इस पर जवाब में सपा के शिवपाल सिंह यादव और राजस्व मंत्री ने कहा कि बुंदेलखंड का आज तक कोई किसान कर्ज से नहीं आत्महत्या किया है ! जबकि बीते साल के अंत तक बुंदेलखंड में 3269 किसानो ने कर्जखोरी में आत्महत्या की है l और 7 जनवरी 2014 से 14 नवम्बर 2014 तक कुल 58 किसान आत्महत्या से जान दिए है जहाँ तक कर्जमाफी का सवाल है तो समाजवादी सरकार ने बुंदेलखंड में 29928 किसानो का 62 करोड़ 82 लाख 74 हजार 617 रुपया कर्जा माफ़ किया है ! यहाँ ये भी बतलाना है कि बुंदेलखंड का अधिकतर किसान बड़े बैंक मसलन एसबीआई, इलाहाबाद यू.पी. ग्रामीण बैंक अन्य का कर्जा लिए है जबकि न के बराबर किसान कापरेटिव बैंक से कर्जा लिए है जिसका कर्जा समाजवादी सरकार ने माफ़ी किया है.



  चुनाव पूर्व इसी सरकार के नेताओ ने किसानो का पूरा कर्जा माफ़ किये जाने की घोषणा की थी सरकार ने कभी ये माना ही नही कि कोई किसान कर्ज से मर रहा है ये सरकार रही हो या और कोई  मगर हाँ जब जिसकी सरकार नही होती है तो अवश्य विपक्षी दल किसान को मुद्दा बनाने का काम कर रहा होता है सत्ता आने पर सब भूल जाते है इस किसान को  लोकसभा चुनाव 2014 में हर पार्टी का अपना चुनावी मेनिफेस्टो – घोषणा पत्र बना. विकास के बरगलाने वाले और अच्छे दिनों के ख्याली मुद्दों के साथ केंद्र सरकार भी बन गई.

 माननीय लोगो के अगर पिछले 5 साल के रिपोर्ट कार्ड देखे जाये तो शायद कोई सांसद अपने मतदान क्षेत्र में एक माह भी लगातार रहा हो ये बड़ी बात है क्यों हर लोकसभा या विधान सभा क्षेत्र का घोषणा पत्र वहां की आवाम या किसान के साथ बैठकर तैयार नही किया जाता है ? आखिर क्यों जनता से ये नही पूछना वाजिब समझा जाता है कि आपको विकास किन शर्तो पर और किस स्वरुप में चाहिए ?



केन – बेतवा नदी गठजोड़ जैसी प्रकृति विरोधी बांध परियोजना बनाकर केन्द्रीय जल संसाधन मंत्री उमा भारती कौन सा जल संकट समाधान करने जा रही है ? नपुंसक बीजो पर खेतो में तैयार होती फसले सरकारी खाद और बीज गोदाम के चक्कर लगाकर कमीशन खोरी में तरबतर है. ओला, पाला या सूखे से टूटे खेतो की जान लेने का ज़िम्मेदार ये किसान नीतियाँ ही है जिनमे किसान हित नही होता बल्कि यूज़ कर्जदार , मुफ्तखोर बना देने की साजिश होती है. 

यह सियासत को ही तय करना पड़ेगा, किसान को गर अन्नदाता मानकर चलते है तो चुनाव के पहले और बाद में उसको कृषि नीति में सहभागी नियोक्ता के रूप में रखना चाहिए. नदी – बांध परियोजना बनाते समय किसान – आदिवासी लोगो से सुझाव लेना चाहिए.


आशीष सागर दीक्षित (लेखक बुंदेलखंड की जल जंगल और जमीन के मसायल पर संघर्षशील सामाजिक कार्यकर्ता, पत्रकार व् प्रवासनामा पाक्षिक पत्रिका के संपादक है इनसे prawasnama@gmail.com पर संपर्क कर सकते है ) 

11 comments:

अमित वर्मा said...

‘भारत- निर्माण’ ‘अतुल्य- भारत’ तथा ‘इंडिया विज़न- २०२०’ जैसे आकर्षक और लोकलुभावन नारों के बीच आज हमें २१वीं सदी में आये एक दशक से ज़्यादा हो चुका है। क्या वाकई हम अपने आप को उपरोक्त आदर्शवादी और आशावादी सपने को वास्तविक धरातल पर पाते है??
कहा जाता है की मनुष्य स्वयं अपने भाग्य का निर्माता होता है। इतिहास साक्षी है हमारे ‘भाग्य निर्माण’ का और ‘भारत निर्माण’ का। भारत के ३५ राज्यों / केन्द्रशासित प्रदेशों, ६४० जिलों, ५९२४ तहसीलों / तालुकों, ७९३३ कस्बों (४०४१ सांविधिक नगर और ३८९२ जनगणना नगर) तथा ६.४१ लाख गांव और गावों का भाग्य निर्माता, भारतीय ग्रामीण किसान। हमारी अर्थव्यवस्था की रीढ़ कृषि तथा उसकी मजबूती का मूलाधार ग्रामीण कृषक ! जो कड़ी धूप, मुसलाधार बारिश- सूखे की मार सहकर जब यह घुटनों तक कीचड़ से भरे खेतों में जाता है तो सुगन्धित बासमती एवं भारत के १२१०५६९५७३ करोड़ (२०११ की जनगणना के अंतिम आकड़ों पर आधारित) लोगों की रोटी का इंतजाम होता है, पर विडम्बना ये कि आज तक कभी कोई राष्ट्रीय नागरिक सम्मान इन्हें नहीं मिला। आज नयी सदी के भारत की ब्रिटिश नीति ‘इंडिया’ अपने भाग्य निर्माता का मूल्याकन नहीं करना चाहती ……..और करे भी क्यों ?……….क्योंकि गुलाम मानसिकता वाले राष्ट्र का मूल्यांकन करे कौन ??
आज जब हम अपनी प्राचीन गौरवशाली सांस्कृतिक परम्परा का सिंहावलोकन करे तो पाते है कि इस सांस्कृतिक समृध्दि के पीछे एक मजबूत आर्थिक- सामाजिक अवसंरचना का कितना महत्वपूर्ण योगदान रहा है। तभी हम संसार की प्राचीनतम सजीव सभ्यता एवं संस्कृतियों में से है।
वर्तमान परिदृश्य में हमारी समाजगत जटिलता के मूल में, सांस्कृतिक समन्वय एवं ग्रामीण सामाजिक अधोसंरचना तथा एक राष्ट्र की अवधारणा की केन्द्रीय भूमिका से कोई भी इनकार नहीं कर सकता है। फिर भी आज सबसे ज्यादा उपेक्षित और तिरस्कृत यही पक्ष ‘भारत’ है। हमारी दिव्आयामी मानसिकता तथा उससे उपजी दिव् राष्ट्र की अवधारणा ……जिसमे पहला पक्ष ‘भारत’ और दूसरा पक्ष ‘इन्डिया’।
आज हमारे सामने की द्वन्द की स्थिति है, जिसमें यही दोनों पक्ष आमने सामने है और उसमे भी ‘इन्डिया’ का पक्ष ‘भारत’ पर हावी है।
आज हमारे पास नारे तो बड़े मनोहारी तथा दावे बड़े तर्कशील हैं, किन्तु वास्तविकता में उन्हें क्रियान्वित करने की दृढ़ इच्छाशक्ति एवं मजबूत संकल्पशक्ति का सर्वथा आभाव सा दृष्टिगत होता है। इतनी विशाल शक्ति का स्वामी होने तथा उसमें भी युवाओं की प्रतिशतता आधे से कही ज़्यादा होने के बावजूद ‘आज का युवा भारत’ क्यों २१वीं सदी में ‘विकासशील से विकासोन्मुख’ के बीच ही मैराथन दौड़ का हिस्सा मात्र बना हुआ है? जहाँ तक मेरी समझ है इसका मूल स्रोत महज़ किताबी ज्ञान है क्योंकि इस देश में एयरकंडीसन कमरों में बैठकर जमीन से जुड़ी नीतियों / नियमों का क्रियान्वयन उन हाथों में सौपा जाता है जिनका वास्तविक रूप में उस विषयवस्तु से दूर दूर तक कभी कोई ताल्लुक रहा ही नहीं।
आज हम जनसंख्या- विस्फोट का हवाला देते हुए उसके केवल नकारात्मक पक्ष की ही बात करते है, हमारा ध्यान उसके दुसरे सकारात्मक पक्ष उसके विशाल और मानव शारीरिकी एवं बौद्धिक सम्पदा पर क्यों नहीं जाता जो की एक मजबूत अर्थव्यवस्था का आधार है। बाजारीकरण के इस युग में आज इस विशाल बाज़ार पर अपनी गिद्ध दृष्टि जमाए बहुराष्ट्रीय कम्पनियाँ जिस तीव्र गति से अपने पाँव पसार रही है उससे क्या निष्कर्ष निकला जा सकता है ?
निष्कर्ष सिर्फ इतना ही नहीं होगा की इंडिया सिर्फ एक Economic Hub के रूप में विकसित होता एक बड़ा अन्तर्राष्ट्रीय बाज़ार दिखता तो प्रतीत होगा ……..बल्कि निष्कर्ष ये भी होगा कि भारत गरीबी भुखमरी और गुलामी की तरफ भी बढ़ेगा। आज यह गुलामी हमारी मानसिक और बौद्धिक गुलामी का प्रतीक बन रही है।
पिछले ६ दसको में देश बदला है पर आम आदमी की जिंदगी और मुश्किल हुई है। जो हजारो टन अनाज सड़ रहा है वो ऐसे ही सड़ता रहेगा। गरीब चाहे भूखा मरे पर स्टाइल मारने का हक तो उसे भी है…..उसके झोपड़ों तक बिजली, पीने का साफ पानी नहीं पहुंचा पर टीवी पहुंचा दी गई, ताकि मूर्खों के स्वप्रलोक में वह भी मगन रहे, राजनीति का एक सिद्धांत है …अगर जनता को तुम रोटी नहीं दे सकते तो उन्हें सर्कस दिखाओ !

prawasnama banda said...

पहला सारी नदियां पी गया
क्योंकि वह बहुत प्यासा था

दूसरा सारे जंगल भकोस गया
क्योंकि वह बहुत भूखा था

तीसरा सारी जमीन हड़प गया
क्योंकि उसका कुनबा बहुत बड़ा हो गया था

ऐसा कहती हैं सरकारी रपटें

और जब हम अपनी भूख प्यास
और छत की बात करते हैं
सरकारी रपटें कुछ नहीं कहती
पुलिस का बयान कहता है
कुछ अतिवादी लोग मार गिराए गए हैं....!

rupal ajabe said...

किस सरकार से उम्मीद लगाए हैं जो ख़ुद भूमि अधिग्रहण जैसे तमाम कानूनों, नीतियों को बदलना ही अपनी मुख्य नीति बनाए है!!??...छत्तीसगढ़, झारखण्ड, उत्तराखण्ड तो सब इन्हीं के सताए हुए हैं!! बड़े पैमाने पर कृषि भूमि और किसान तबाह किए जा रहे हैं!!...कुछ इनसे ज़्यादा आगे हमें सोचने की ज़रूरत है!!...

Mrs Jennifer said...

हम सरकार अनुमोदित कर रहे हैं और प्रमाणित ऋण ऋणदाता हमारी कंपनी व्यक्तिगत से अपने विभाग से स्पष्ट करने के लिए 2% मौका ब्याज दर पर वित्तीय मदद के लिए बातचीत के जरिए देख रहे हैं जो इच्छुक व्यक्तियों या कंपनियों के लिए औद्योगिक ऋण को लेकर ऋण की पेशकश नहीं करता है।, शुरू या आप व्यापार में वृद्धि एक पाउंड (£) में दी गई हमारी कंपनी ऋण से ऋण, डॉलर ($) और यूरो के साथ। तो अब एक ऋण के लिए अधिक जानकारी के लिए हमसे संपर्क करना चाहिए रुचि रखते हैं, जो लोगों के लागू होते हैं। उधारकर्ताओं के डेटा की जानकारी भरने। Jenniferdawsonloanfirm20@gmail.com: के माध्यम से अब हमसे संपर्क करें
(2) राज्य:
(3) पता:
(4) शहर:
(5) सेक्स:
(6) वैवाहिक स्थिति:
(7) काम:
(8) मोबाइल फोन नंबर:
(9) मासिक आय:
(10) ऋण राशि की आवश्यकता:
(11) ऋण की अवधि:
(12) ऋण उद्देश्य:

हम तुम से जल्द सुनवाई के लिए तत्पर हैं के रूप में अपनी समझ के लिए धन्यवाद।

ई-मेल: jenniferdawsonloanfirm20@gmail.com

Mr.Anthony Dave. said...

आप तत्काल ऋण की जरूरत है?
* आपके बैंक खाते में बहुत तेजी से और तत्काल हस्तांतरण
आप में पैसा पाने के बाद * चुकौती नौ महीने के शुरू होता है अपने

बैंक खाते
2% की * कम ब्याज दर
* लंबे समय तक चुकौती (1-30 वर्ष) की अवधि
* लचीला ऋण की शर्तों और मासिक भुगतान
*। कब तक यह निधि के लिए ले करता है? ऋण आवेदन पत्र प्रस्तुत करने के बाद,

आप उम्मीद कर सकते हैं प्रारंभिक जवाब यह है कि कम से कम 24 घंटे और

जरूरत है कि हम जानकारी प्राप्त करने के बाद 72-96 घंटे के भीतर वित्त पोषण

आप से।

अधिकृत वैध और लाइसेंस प्राप्त ऋण कंपनी से संपर्क करें
अन्य देशों के लिए है कि वित्तीय सहायता।
अधिक जानकारी और अब से संपर्क के माध्यम से एक ऋण आवेदन पत्र के लिए

ईमेल: trustloan87@gmail.com

उत्तम संबंध,
Mr.Anthony डेव।
मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ)
ट्रस्ट ऋण कंपनी

Mr.Anthony Dave. said...

आप तत्काल ऋण की जरूरत है?
* आपके बैंक खाते में बहुत तेजी से और तत्काल हस्तांतरण
आप में पैसा पाने के बाद * चुकौती नौ महीने के शुरू होता है अपने

बैंक खाते
2% की * कम ब्याज दर
* लंबे समय तक चुकौती (1-30 वर्ष) की अवधि
* लचीला ऋण की शर्तों और मासिक भुगतान
*। कब तक यह निधि के लिए ले करता है? ऋण आवेदन पत्र प्रस्तुत करने के बाद,

आप उम्मीद कर सकते हैं प्रारंभिक जवाब यह है कि कम से कम 24 घंटे और

जरूरत है कि हम जानकारी प्राप्त करने के बाद 72-96 घंटे के भीतर वित्त पोषण

आप से।

अधिकृत वैध और लाइसेंस प्राप्त ऋण कंपनी से संपर्क करें
अन्य देशों के लिए है कि वित्तीय सहायता।
अधिक जानकारी और अब से संपर्क के माध्यम से एक ऋण आवेदन पत्र के लिए

ईमेल: trustloan87@gmail.com

उत्तम संबंध,
Mr.Anthony डेव।
मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ)
ट्रस्ट ऋण कंपनी

Anonymous said...

सभी ऋण चाहने वालों के लिए अच्छी खबर
मैं लौरा जॉर्ज सीईओ, संघीय क्रडिट केंद्रीय वित्त पीएलसी हूँ, हम लाइसेंस प्राप्त, पंजीकृत और लोगों के लिए ऋण के सभी प्रकार के देने में माहिर और संगठनों के सहयोग कि अंतरराष्ट्रीय ऋणदाता मान्यता प्राप्त हैं। आप संविदा, के लिए ऋण की जरूरत होती है तो अगर परियोजनाओं, निवेश, निजी व्यवसाय, अच्छा ब्याज दर के साथ करों, बिल, शिक्षा, कार, घर, ऋण समेकन, फौजदारी और अन्य कई लोगों ऋण। हम 2% ब्याज दर के साथ, अधिकतम में 1 से 25 वर्ष की एक न्यूनतम के लिए ऋण प्रदान करते हैं। हमारे ऋण की पेशकश नीचे मुद्राओं में हैं .....
ग्रेट ब्रिटेन पाउंड, संयुक्त राज्य अमेरिका डॉलर, कनाडा डॉलर, सिंगापुर डॉलर, ब्रुनेई डॉलर, मलेशियाई रिंगित, ऑस्ट्रेलियाई डॉलर आदि हम आप अपने पर्सनल में अपने ऋण की राशि प्राप्त है कि गारंटी और आश्वासन दिया जा रहा है के रूप में हम से एक ऋण प्राप्त करने में आप सबसे अच्छा संतुष्टि देता है बैंक खाते, एटीएम और क्रेडिट कार्ड। वेस्टर्न यूनियन / रिया धन / पैसा ग्राम। Laurageorgeloanfirm@gmail.com या laurageorgeloanfirm@hotmail.com के माध्यम से हमसे संपर्क करें

Bolton Micro Finance said...

आप एक आदमी या एक औरत हैं, आप एक ऋण के लिए अपने व्यापार के बढ़ने के लिए देख रहे हैं
या अपने स्वयं के व्यवसाय या ऋण, बिलों का भुगतान, अपने घर का किराया? यदि हाँ, तो हम अधिक से अधिक € 500,000,000.00 एक परिपक्वता है कि आप खर्च कर सकते हैं, और ऋण के किसी भी प्रकार है, जो ग्राहक के अनुरोध किया जाना चाहिए साथ (€) तक € 15,000.00 (€) के अपने जवाब ऋण है: * व्यक्तिगत ऋण * व्यवसाय ऋण, व्यक्तिगत ऋण * 2% ब्याज अधिक जानकारी के लिए संपर्क ईमेल के लिए ब्याज प्रदान की (boltonmicrofinance@gmail.com)

MRS LINDA ROBORT LOAN FIRM said...

Hello everyone am here to testify how i got my loan from MRS LINDA ROBORT LOAN FIRM a friend of mine introduce me to MRS LINDA ROBORT LOAN FIRM who promised to help me and indeed she did as she promised without any form of delay.I never thought there are still reliable loan lenders until i met MRS LINDA ROBORT LOAN FIRM,who are indeed helped with the loan and changed my belief.I dont know if you are in any way in need of a genuine and urgent loan,free feel to contact

MRS LINDA ROBORT LOAN FIRM

email: mrslindarobertloanfirm@outlook.com

https://mrslindarobortloanfirm.yolasite.com/

Whatsapp: +1 727 731 9117

Hotline :+1 336 283 2076

Elton Jane said...

अली potrebujete posojilo ZA Zaghonan PODJETJE? 2% posojila ponujajo zainteresirane organizacije में posameznike दा NAS kontaktirate Preko email..globalalliancecompanyg@gmail.com

victoria emmanuel said...

ऋण! ऋण !! ऋण !!!
क्या आप एक सम्मानित और मान्यता प्राप्त निजी ऋण कंपनी की तलाश कर रहे हैं जो जीवन समय अवसरों पर ऋण देता है। हम बहुत ही त्वरित और आसान तरीके से सभी प्रकार के ऋण प्रदान करते हैं, व्यक्तिगत ऋण, कार ऋण, गृह ऋण, छात्र ऋण, व्यापार ऋण, निवेश ऋण, ऋण समेकन, और अधिक क्या आपको बैंकों और अन्य वित्तीय संस्थानों द्वारा अस्वीकार कर दिया गया है? क्या आपको एक समेकन ऋण या बंधक की जरूरत है? अब और नहीं खोजिए क्योंकि हम यहां अपनी सारी वित्तीय परेशानियों को अतीत की बातों के लिए बनाने के लिए यहां हैं। हम 2% की दर से वित्तीय सहायता की आवश्यकता वाले व्यक्तियों और व्यवसायों के लिए ऋण धनराशि निकालते हैं कोई सामाजिक सुरक्षा नंबर आवश्यक नहीं है और कोई क्रेडिट जाँच की आवश्यकता नहीं है, गारंटी की 100%। मैं इस माध्यम का उपयोग करना चाहता हूं कि आपको सूचित किया जाए कि हम विश्वसनीय और लाभार्थी सहायता प्रदान करते हैं और हमें आपको एक ऋण प्रदान करने में खुशी होगी।
तो आज हमें ईमेल करें: (victoriaemmanuelloan@gmail.com) अब एक ऋण के लिए आवेदन करने के लिए

Post a Comment

आप के विचार!

विविधा

आओ प्यारे कम्प्युटर पर बाघ बचायें!
अरूणेश सी दवे, जहाँ तक रही बात प्रबुद्ध बाघ प्रेमियों की जो नचनियों की तरह सज-धज कर जंगल कम इन्टरनेट पर ज्यादा अवतरित होते हैं, तो उनके लिये मै इंटरनेट मे वर्चुअल अबुझमाड़ बनाने का प्रयास कर रहा हूं । ताकि वो अपनी कोरी कल्पनाओं और वर्चुअल प्रयासों को इस आभासी दुनिया में जाहिर कर अपनी ई-कीर्ति बढ़ा सकें।

सामुदायिक पक्षी सरंक्षण
पक्षियों के संरक्षण का जीवन्त उदाहरण: ग्राम सरेली कृष्ण कुमार मिश्र, लखीमपुर खीरी* उन्नीसवी सदी की शुरूवात में ब्रिटिश हुकूमत के एक अफ़सर को लहूलुहान कर देने से यह गाँव चर्चा में आया मसला था।
तो फ़िर उनसे सीखा हमने योग!
धीरज वशिष्ठ* 84 लाख प्रजातियां और 84 लाख योगासन: पक्षियों-जानवरों से सीखा हमने आसन: धार्मिक चैनलों और बाबा रामदेव के कार्यक्रमों ने आज योग को घर-घर तक पहुंचा दिया है।
नही रहा सुमित!
दुधवा लाइव डेस्क* हाँ हम बात कर रहे है उस हाथी कि जो दो मई २०१० को लखनऊ चिड़ियाघर से दुधवा नेशनल पार्क भेजा गया था! वजह साफ़ थी, कि अब वह बूढ़ा हो गया था

पर्यावरण

क्या वे राज धर्म से वाकिफ़ हैं!
कृष्ण कुमार मिश्र* भारत के कुछ पूर्व नेताओं ने मिसाले कायम की पर्यावरण व वन्य-जीव संरक्षण में

अबूझमाड़ के जंगल- जहाँ बाघ नही नक्सल राज करते हैं!
अरूणेश सी दवे* अबूझमाड़- एक प्राकृतिक स्वर्ग:

मुद्दा

क्या खत्म हो जायेगा भारतीय बाघ
कृष्ण कुमार मिश्र* धरती पर बाघों के उत्थान व पतन की करूण कथा:

दुधवा में गैडों का जीवन नहीं रहा सुरक्षित
देवेन्द्र प्रकाश मिश्र* पूर्वजों की धरती पर से एक सदी पूर्व विलुप्त हो चुके एक सींग वाले भारतीय गैंडा

हस्तियां

पदम भूषण बिली अर्जन सिंह
दुधवा लाइव डेस्क* नव-वर्ष के पहले दिन बाघ संरक्षण में अग्रणी भूमिका निभाने वाले महा-पुरूष पदमभूषण बिली अर्जन सिंह

एक ब्राजीलियन महिला की यादों में टाइगरमैन बिली अर्जन सिंह
टाइगरमैन पदमभूषण स्व० बिली अर्जन सिंह और मैरी मुलर की बातचीत पर आधारित इंटरव्यू:

Featured Post

क्षमा करो गौरैया...

Image Courtesy: Sue Van Coppenhagen  संस्मरण गौरैया और मैं -- (3) ....डा0 शशि प्रभा बाजपेयी बात उस समय की है जब घर के नाम पर ...

वन्य-जीव

भारत की वन-नीति में बदलाव आवश्यक
देवेन्द्र प्रकाश मिश्र* आजादी के बाद बनी भारतीय वन-नीति की समीक्षा वर्ष 1988 में की गई थी।

घायल तेन्दुए को जंगल में छोड़ा गया
दुधवा लाइव डेस्क* अधूरे इलाज के बाद जंगल में छोड़ा गया घायल तेन्दुआ!