डायचे वेले जर्मनी द्वारा अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार "द बॉब्स" से सम्मानित पत्रिका "दुधवा लाइव"

International Journal of Environment & Agriculture, Vol.7, no 06, June 2017, ISSN 2395-5791

"किसी राष्ट्र की महानता और नैतिक प्रगति को इस बात से मापा जाता है कि वह अपने यहां जानवरों से किस तरह का सलूक करता है"- मोहनदास करमचन्द गाँधी

Jun 8, 2013

वो पुलिया वाली बरगदिया

वो पुलिया वाली बरगदिया 

आज वट-सावित्री की पूजा है। सोचा दरख्तों से इंसान के इन जज्बाती  रिश्तों पर कुछ कहूं, जो कहानी कहते है हमारी बुनियाद की, परंपराओं की, और उधेड़ते है अतीत की उन सिलवटों को जो वक्त की मुसलसल रफ़्तार में पीछे रह गयी , बात बरगद की हो रही है तो बताऊ की मैं इस दरख़्त से वाकिफ हुआ अपने बचपन के उस गाँव से जिसे मैनहन के नाम से पुकारा जाता है, इस जान-पहचान के सिलसिले में दो बड़े किस्से है, पहला है, वो पुलिया वाली बरगदिया ....जी यही नाम था  जब पिता जी को देर हो जाती कस्बे से घर आने में तो दादी यही कहती थी जाओ कोई देखकर आओ वो पुलिया वाली बरगदिया तक।।।हाँ मेरे बाबा भी यही कहते थे की चिंता मत करो वो पुलिया वाली बरगदिया तक आ गएँ होगे ..बस आते ही होगे अभी। और जब मैं बाजार जाता अपने बाबा की उंगली पकड् कर या उनके कन्धों पर बैठकर तब भी वो पुलिया वाली बरगदिया मिलती हमें रास्ते में और हम उसी की छाया में सुस्ताते। वैसे किसी छोटी चीज को स्त्रीलिंग में उच्चारित करना बड़ी सामान्य बात है हमारे यहाँ फिर चाहे वो छोटी पहाड़ी (पहाड़ ) हो या वृक्ष बरगदिया (बरगद)! (फ़ेमनिस्ट क्षमा करे...वैसे दुलार में भी चीजों को स्त्रीलिंग बना दिया जाता है) खैर बरगदिया के बड़े किस्से थे, कभी डाकुओं की मौजूदगी के अड्डे के रूप में, तो कभी भूत-प्रेतों के  उस बरगदिया पर निवास करने की कहानी,,,,,,पर हमारे गाँव के  लोगों को उस बरगदिया से दो-चार होना पडता था रोज, राह वही थी कस्बे की,,,,मैं उम्र में जब बडा हुआ तो क़स्बे के स्कूल में दाखिला दिलाया गया, फिर  क्या था मैं भी दो-चार होने लगा रोज उस पुलिया वाली बरगदिया से, दोपहर की तपती धूप में हम मुसाफिरों का वही तो आसरा थी, एक पूरे रास्ते भर में, हमारे गाँव मैनहन से मितौली के मध्य नहर की पगडंडी पर वह अकेला दरख़्त था। 

जब  इम्तिहान  होते तो रोज हम सभी बच्चे उस पुलिया वाली बरगदिया की झूलती डालों में लटक जाते और उसे चूमते यह हम बच्चों की आस्था का विषय था उस दरख़्त के लिए, वक्त गुजरता गया, हम हर रोज कुछ देर उसी बरगदिया की सरपरस्ती में सूरज की तपिश से महफूज रहते, उस बरगदिया के नीचे एक अधेड़ आदमी हमें रोज मिलता हाथ में हसिया या खुरपा या फिर बांका लिए (ये सभी औजार कृषि के लिए प्रयुक्त होते है), दरअसल यह दरख़्त जिस खेत के किनारे था, वह व्यक्ति उस खेत का मालिक था और इस बरगदिया का भी, तालीम के सफ़र में हमें गाँव से शहर आना हुआ, मगर शहर से गाँव जाने पर रास्ते में उस जगह से ही निकलना होता, बचपन की कोमल स्मृतियाँ  घुमड़  जाती उस बरगदिया को देखकर,,,,,,,कई वर्षों बाद मैं गुजर रहा था उसी राह पर तो उस दरख़्त की छाँव में बैठ गया और तभी वह आदमी भी अचानक खेत से आकर मेरे पास बैठ गया, जो कभी रोज मिलता था हमें, पर कुछ बोलता नहीं था तब,,, पर आज वह बोला "भैया यहि पुलियाक़ि आगे देखौ एक पीपल का पेड लगाई दिहे हन, कुछ सालन मा बड़ो हुई जाई, तौ लोगन का छाही मिलत रही, तब तक यह बरगदिया रहै न रहै, बुढ़ाई गयी है" 

मैं अभिभूत हो गया उस व्यक्ति के इस कथन से और कार्य से, मैं लगातार गाँव पहुंचता रहा उसी रास्ते, तब तक वह बरगदिया और वह निरंतर बढता पीपल का वृक्ष मुझे मिलता रहा और उन दोनो दरख्तों के साथ साथ वह आदमी भी मुझे याद आता रहा,,,,,जो आज भी विस्मृत नहीं हुआ है मेरे मन से,,,,,,,उसकी सोच ने मेरे बाल मन को बहुत प्रभावित किया था, अपने तमाम संस्कारों की फेहरिस्त में उस व्यक्ति का संस्कार भी अंकित हो गया मेरे मन में हमेशा के लिए ,,,,,,,,,,,अब राह बदल गयी, उस नहर की की पगडंडी के बजाए  हम ग्रामीण तारकोल से बनी सड़क पर गुजरने लगे जो नहर से उत्तर काफी दूर है, सोचता हूँ की उन दोनों से मिल आऊँ नहर वाली पगडंडीके रास्ते से उस पुलिया वाली बरगदिया और उस जवान पीपल से, पर कही मन में डर है, कि क्या मुझे वो दोनों वही पर मिलेगे? कही उस व्यक्ति की बात सही हुई तो,,,,,की बरगदिया बूढ़ी हो चली है, इस लिए नया पीपल का वृक्ष लगा दिया है कुछ दूर पर पुलिया के पार ताकि राहगीरों को छाया मिलती रहे, पता नहीं कब बरगदिया…। 

एक बात और इसी बरगद ने मुझे धरती के समानांतर फैलाव का सबक सिखाया बजाए इसके कि मैं अपनी जड़ों से दूर धरती के लम्बवत बढ़ता चला जाऊं उस निर्वात में, अपने लोगों से दूर, जहां सिर्फ खुद का कथित आभास व् दिवास्वप्न हो, यथार्थ से अलाहिदा ! 

 (,,,,,अभी इतना ही दूसरी कहानी दूसरी क़िस्त में)

कृष्ण कुमार मिश्र
ग्राम- मैनहन पोस्ट- ओदारा
जिला -खीरी 
09451925997


2 comments:

shikha kaushik said...

rochak prastuti .aabhar

Archana said...

हमारे ननिहाल का पीपल बूढ़ा हो चला है...और पिछले दिनों उससे मिलना हुआ तो उस पर बैठने वाले पक्षी भी याद आये जो सुबह जबरन जगा दिया करते थे... अच्छा लगा बरगदिया के बारे में जानना...
आभार ..

Post a Comment

आप के विचार!

विविधा

आओ प्यारे कम्प्युटर पर बाघ बचायें!
अरूणेश सी दवे, जहाँ तक रही बात प्रबुद्ध बाघ प्रेमियों की जो नचनियों की तरह सज-धज कर जंगल कम इन्टरनेट पर ज्यादा अवतरित होते हैं, तो उनके लिये मै इंटरनेट मे वर्चुअल अबुझमाड़ बनाने का प्रयास कर रहा हूं । ताकि वो अपनी कोरी कल्पनाओं और वर्चुअल प्रयासों को इस आभासी दुनिया में जाहिर कर अपनी ई-कीर्ति बढ़ा सकें।

सामुदायिक पक्षी सरंक्षण
पक्षियों के संरक्षण का जीवन्त उदाहरण: ग्राम सरेली कृष्ण कुमार मिश्र, लखीमपुर खीरी* उन्नीसवी सदी की शुरूवात में ब्रिटिश हुकूमत के एक अफ़सर को लहूलुहान कर देने से यह गाँव चर्चा में आया मसला था।
तो फ़िर उनसे सीखा हमने योग!
धीरज वशिष्ठ* 84 लाख प्रजातियां और 84 लाख योगासन: पक्षियों-जानवरों से सीखा हमने आसन: धार्मिक चैनलों और बाबा रामदेव के कार्यक्रमों ने आज योग को घर-घर तक पहुंचा दिया है।
नही रहा सुमित!
दुधवा लाइव डेस्क* हाँ हम बात कर रहे है उस हाथी कि जो दो मई २०१० को लखनऊ चिड़ियाघर से दुधवा नेशनल पार्क भेजा गया था! वजह साफ़ थी, कि अब वह बूढ़ा हो गया था

पर्यावरण

क्या वे राज धर्म से वाकिफ़ हैं!
कृष्ण कुमार मिश्र* भारत के कुछ पूर्व नेताओं ने मिसाले कायम की पर्यावरण व वन्य-जीव संरक्षण में

अबूझमाड़ के जंगल- जहाँ बाघ नही नक्सल राज करते हैं!
अरूणेश सी दवे* अबूझमाड़- एक प्राकृतिक स्वर्ग:

मुद्दा

क्या खत्म हो जायेगा भारतीय बाघ
कृष्ण कुमार मिश्र* धरती पर बाघों के उत्थान व पतन की करूण कथा:

दुधवा में गैडों का जीवन नहीं रहा सुरक्षित
देवेन्द्र प्रकाश मिश्र* पूर्वजों की धरती पर से एक सदी पूर्व विलुप्त हो चुके एक सींग वाले भारतीय गैंडा

हस्तियां

पदम भूषण बिली अर्जन सिंह
दुधवा लाइव डेस्क* नव-वर्ष के पहले दिन बाघ संरक्षण में अग्रणी भूमिका निभाने वाले महा-पुरूष पदमभूषण बिली अर्जन सिंह

एक ब्राजीलियन महिला की यादों में टाइगरमैन बिली अर्जन सिंह
टाइगरमैन पदमभूषण स्व० बिली अर्जन सिंह और मैरी मुलर की बातचीत पर आधारित इंटरव्यू:

Featured Post

क्षमा करो गौरैया...

Image Courtesy: Sue Van Coppenhagen  संस्मरण गौरैया और मैं -- (3) ....डा0 शशि प्रभा बाजपेयी बात उस समय की है जब घर के नाम पर ...

वन्य-जीव

भारत की वन-नीति में बदलाव आवश्यक
देवेन्द्र प्रकाश मिश्र* आजादी के बाद बनी भारतीय वन-नीति की समीक्षा वर्ष 1988 में की गई थी।

घायल तेन्दुए को जंगल में छोड़ा गया
दुधवा लाइव डेस्क* अधूरे इलाज के बाद जंगल में छोड़ा गया घायल तेन्दुआ!