International Journal of Environment & Agriculture
ISSN 2395 5791
"किसी राष्ट्र की महानता और नैतिक प्रगति को इस बात से मापा जाता है कि वह अपने यहां जानवरों से किस तरह का सलूक करता है"- मोहनदास करमचन्द गाँधी

जर्मनी द्वारा अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार "द बॉब्स" से सम्मानित पत्रिका "दुधवा लाइव"

Jun 12, 2013

क्या इन बोनसाई बरगदों को जमीन मयस्सर होगी! हम इसी इंतज़ार में है

क्या ये विशाल बरगद ख़त्म हो जायेंगे? अगर ऐसा होगा तो वे परिंदे और वे जानवर जो आसरा लेते है इस विशाल वृक्ष में, उनकी मौजूदगी पर भी सवाल खडा हो जाएगा, साथ ही वो संस्कृति भी विलुप्त हो जायेगी जो बताती है हमें दरख्तों और परिंदों से हमारा रिश्ता, दरअसल ये सब एक दूसरे के पूरक है ,एक पर आया संकट सबके लिए मुश्किलात लेकर आयेगा....चलो फिर किसी पौधे को जमीन दी जाय ताकि एक दिन वह विशाल वृक्ष बन सके और उसके तले  लग सकें ये हमारे सांस्कृतिक मेले और चौपाले, बसेरा कर सके वो जीव जिनके ये घर है...बरगद जैसे दरख़्त....कृष्ण (माडरेटर) 

 "बरगद के वृक्ष कम है, भीड़ ज्यादा, तो बोनसाई की पूजा शुरू कर दी" जी हां यह कहना है, लखीमपुर खीरी के राजगढ़ मोहल्ले की रहने वाली अर्चना दीक्षित का, उनके इस कथन में ही छुपी है पर्यावरण की त्रासदी की पुख्ता वजह, जाहिर है की महिलाओं के लिए सबसे महत्वपूर्ण व्रत/पर्व में वट-सावित्री की यह पूजा बहुत प्रासंगिक है पूरे भारत वर्ष में, जहाँ  महिलाए बरगद के वृक्ष की पूजा करती है, अपने पतियों की आयु एवं स्वास्थ्य के लिए, इस व्रत को अवध में बरसाईतया बरसैताके नाम से भी पुकारा  जाता है,



कुछ दशक पहले की बात है, जब महिलायें बैलगाड़ियों पर सवार होकर कोसो दूर दो गावों के मध्य लगे किसी विशाल बरगद के वृक्ष की पूजा करने जाती थी, यह एक तरह का  सांस्कृतिक मेला था, और आस-पास की महिलाओं का आपस में संपर्क का एक मौक़ा भी, दरअसल वट सावित्री पूजा में हर एक बरगद को नहीं पूजा सकता, उस बरगद का विधि-विधान से जनेऊ हुआ हो और फिर किसी बगीचे या कुएं से विवाह कराया गया हो तभी वह बरगद पूजने योग्य माना जाता है वट सावित्री की पूजा में. किन्तु अब बदलाव और आधुनिक शैली के जीवनचर्या में महिलाओं ने बोनसाई बरगद को विकल्प मानकर पूजना शुरू कर दिया. इसके कई कारण है ख़त्म होते बरगद और जो मौजूद है उनका हिन्दू रीति से उन वृक्षों का संस्कार न होना. बरगद की डाल पूजने से बोनसाई की पूजा करने के इस चलन में वे विशाल बरगद के वृक्ष जिन पर सैकड़ों पक्षी व् जीव जंतु अपना बसेरा करते थे, आप्रसंगिक हो गए है. 

क्या इन बोनसाई बरगदों को जमीन मयस्सर होगी! हम इसी इंतज़ार में है. (DudhwaLive Desk)




शादाब रज़ा हिन्दुस्तान दैनिक में प्रेस फोटोग्राफर हैं. पत्रकारिता से गहरा नाता, लखीमपुर खीरी की संस्कृतियों, पर्यावरण और जंगलों की बेहतरीन तस्वीरनिगारी, लखीमपुर में निवास, इनसे shadabrazarepoter@gmail.com संपर्क किया जा सकता है.



 (सभी तस्वीरें: शादाब रज़ा)











3 comments:

  1. अच्छा प्रश्न उठाया है ... रीति रिवाज, धर्म,आस्था से परे ....
    शादाब जी के फोटो अच्छे हैं ....
    शुक्रिया

    ReplyDelete
  2. shadaab bhai jitne smart hai usse jyada unki soch smart hai, hakiki maslo par unse ghanto baat karke lagta hai ki jahan me abhi animals nd bird ke baare me fikramand log hai, to chinta kam ho jati hai
    ..............welldone shadaab bhai

    ReplyDelete
  3. photo achhe hai....sawal bhi sahi hai.jab bargad lagane ki jagah nahi hogi to yahi hoga...

    ReplyDelete

आप के विचार!

विविधा

आओ प्यारे कम्प्युटर पर बाघ बचायें!
अरूणेश सी दवे, जहाँ तक रही बात प्रबुद्ध बाघ प्रेमियों की जो नचनियों की तरह सज-धज कर जंगल कम इन्टरनेट पर ज्यादा अवतरित होते हैं, तो उनके लिये मै इंटरनेट मे वर्चुअल अबुझमाड़ बनाने का प्रयास कर रहा हूं । ताकि वो अपनी कोरी कल्पनाओं और वर्चुअल प्रयासों को इस आभासी दुनिया में जाहिर कर अपनी ई-कीर्ति बढ़ा सकें।

सामुदायिक पक्षी सरंक्षण
पक्षियों के संरक्षण का जीवन्त उदाहरण: ग्राम सरेली कृष्ण कुमार मिश्र, लखीमपुर खीरी* उन्नीसवी सदी की शुरूवात में ब्रिटिश हुकूमत के एक अफ़सर को लहूलुहान कर देने से यह गाँव चर्चा में आया मसला था।
तो फ़िर उनसे सीखा हमने योग!
धीरज वशिष्ठ* 84 लाख प्रजातियां और 84 लाख योगासन: पक्षियों-जानवरों से सीखा हमने आसन: धार्मिक चैनलों और बाबा रामदेव के कार्यक्रमों ने आज योग को घर-घर तक पहुंचा दिया है।
नही रहा सुमित!
दुधवा लाइव डेस्क* हाँ हम बात कर रहे है उस हाथी कि जो दो मई २०१० को लखनऊ चिड़ियाघर से दुधवा नेशनल पार्क भेजा गया था! वजह साफ़ थी, कि अब वह बूढ़ा हो गया था