International Journal of Environment & Agriculture
ISSN 2395 5791
"किसी राष्ट्र की महानता और नैतिक प्रगति को इस बात से मापा जाता है कि वह अपने यहां जानवरों से किस तरह का सलूक करता है"- मोहनदास करमचन्द गाँधी

जर्मनी द्वारा अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार "द बॉब्स" से सम्मानित पत्रिका "दुधवा लाइव"

Mar 19, 2012

चलो हम उसे और उसके नशेमन को बचा ले...

विश्व गौरैया दिवस-

२० मार्च गौरैया दिवस के रूप में बिगत दो वर्षों से मनाया जा रहा है. दुधवा लाइव की पहल पर यह "गौरैया बचाओ अभियान" सबसे पहले सन २०१० में शुरू किया गया, उत्तर भारत के पूरे तराई क्षेत्र के जनपदों में इस अभियान ने शहरों से लेकर गांवों तक पक्षी सरंक्षण में अपनी सार्थक भूमिका निभाई। जागरूकता का पैमाना इस बात से आंका जा सकता है, कि गांवों और शहरों मे लोगों ने अपने दरों-दीवार पर पानी और दाना रखना शुरू कर दिया,  अपने आंगन के इस पक्षी की वापसी की उम्मीद से..नतीजे भी सामने आये हर जगह से फ़ोन और मेल आना शुरू हुए कि "गौरैया हमारे घर वापस आ गयी"

गौरैया बचाओ अभियान में रेडियों अखबार और टेलीविजन ने जो सहयोग दिए वो सराहनीय रहे, जन-जन तक पक्षी सरंक्षण की बात पहुंची और उस पर अमल भी हुआ। इस वर्ष भी हम मीडिया और सरंक्षण पर काम कर रहे गैर-सरकारी संस्थानों से उम्मीद करेगें कि वह जीवों के महत्व को बतलाने और उन्हे कैसे बचाया जाय इस अनियोजित विकास के दौर में, इस बात को सबके मध्य पहुंचानें में अपना सहयोग देंगें।

कृष्ण कुमार मिश्र
दुधवा लाइव 

3 comments:

  1. Mishra ji you are doing well job,I appreciate.

    ReplyDelete
  2. bilkul sir
    hum sabhi apke saath hai,
    our jo bhi ho sakega hum karenge,
    u r our inspiration sir.

    ReplyDelete
  3. http://www.jagran.com/punjab/sangrur-8951533.html

    ReplyDelete

आप के विचार!

विविधा

आओ प्यारे कम्प्युटर पर बाघ बचायें!
अरूणेश सी दवे, जहाँ तक रही बात प्रबुद्ध बाघ प्रेमियों की जो नचनियों की तरह सज-धज कर जंगल कम इन्टरनेट पर ज्यादा अवतरित होते हैं, तो उनके लिये मै इंटरनेट मे वर्चुअल अबुझमाड़ बनाने का प्रयास कर रहा हूं । ताकि वो अपनी कोरी कल्पनाओं और वर्चुअल प्रयासों को इस आभासी दुनिया में जाहिर कर अपनी ई-कीर्ति बढ़ा सकें।

सामुदायिक पक्षी सरंक्षण
पक्षियों के संरक्षण का जीवन्त उदाहरण: ग्राम सरेली कृष्ण कुमार मिश्र, लखीमपुर खीरी* उन्नीसवी सदी की शुरूवात में ब्रिटिश हुकूमत के एक अफ़सर को लहूलुहान कर देने से यह गाँव चर्चा में आया मसला था।
तो फ़िर उनसे सीखा हमने योग!
धीरज वशिष्ठ* 84 लाख प्रजातियां और 84 लाख योगासन: पक्षियों-जानवरों से सीखा हमने आसन: धार्मिक चैनलों और बाबा रामदेव के कार्यक्रमों ने आज योग को घर-घर तक पहुंचा दिया है।
नही रहा सुमित!
दुधवा लाइव डेस्क* हाँ हम बात कर रहे है उस हाथी कि जो दो मई २०१० को लखनऊ चिड़ियाघर से दुधवा नेशनल पार्क भेजा गया था! वजह साफ़ थी, कि अब वह बूढ़ा हो गया था