डायचे वेले जर्मनी द्वारा अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार "द बॉब्स" से सम्मानित पत्रिका "दुधवा लाइव"

International Journal of Environment & Agriculture, Vol.7, no 06, June 2017, ISSN 2395-5791

"किसी राष्ट्र की महानता और नैतिक प्रगति को इस बात से मापा जाता है कि वह अपने यहां जानवरों से किस तरह का सलूक करता है"- मोहनदास करमचन्द गाँधी

Feb 4, 2011

दुधवा के स्थापना दिवस (२ फ़रवरी १९७७) पर विविध कार्यक्रम

वन-संपदा के रखवालों को वर्दियां व वाटर बाक्स दिए गये

पलियाकलां-खीरी। दुधवा नेशनल पार्क के स्थापना दिवस पर आयोजित कार्यक्रम में महावतों एवं चतुर्थ श्रेणी के कर्मचारियों समेत गाइडों को वर्दियां एवं वाटर बाक्स प्रदान किए गए।


जानकारी के अनुसार दुधवा नेशनल पार्क परिसर के सभागार में आयोजित स्थापना दिवस कार्यक्रम में दुधवा टाइगर रिजर्व के फील्ड निदेशक शैलेष प्रसाद ने दुधवा के महावत इरसाद अली, मोहम्मद उमर, लल्लन बक्स, इदरीश अहमद, इमाम बक्स, जगरूप, नरेश कुमार, रामेश्वर आदि को वर्दी के साथ वाटर बक्स प्रदान करने के साथ दुधवा के सबसे पुराने गाइड नसीम खान को वर्दी पदान की गई। इसके अतिरिक्त लाल बहादुर, सोबरन लाला, इस्लाम, रामधन, लुट्टन, अयूब, अनीश, मनोहर आदि चतुर्थ श्रेणी कर्मचारियों कारे वर्दी प्रदान करते हुए एफडी श्री प्रसाद ने कर्मचारियों के कार्यो की सराहना करके उनका उत्साहवर्धन किया। इस अवसर पर दुधवा के उपनिदेशक संजय पाठक, डब्लूडब्लूएफ के वरिष्ठ परियोजना अधिकारी डा. मुदित गुप्ता, आदर्श मिश्र, रेंजर एसपी सिंह, रेंजर गिरधारी लाल मौर्या, सिरदार बक्स सिंह, राधेश्याम भार्गव, सर्वजीत, विजय आदि पार्क कर्मचारी उपस्थित रहे।


जंगली हाथियों द्वारा पहुंचाई गयी क्षति का मुवावजा:


 दुधवा नेशनल पार्क के समीपवर्ती आबाद आदिवासी जनजाति थारूक्षेत्र में हाथियों द्वारा पहुंचाई गई क्षति से प्रभावित हुए 84 किसानों को लगभग डेढ़ लाख रूपए की मुआवजा राशि का वितरण किया गया।


जानकारी के अनुसार दुधवा पर्यटन परिसर दुधवा के सभागार में दुधवा टाइगर रिजर्व के फील्ड निदेशक शैलेष प्रसाद ने थारूक्षेत्र में हाथियों द्वारा पहुंचाई गई फसल क्षति से प्रभावित हुए 84 किसानों में शासन द्वारा निर्धारित मुआवजा राशि का वितरण किया। श्री प्रसाद ने कहा कि क्षति के हिसाब से यह राशि बहुत ही कम है इससे क्षतिपूर्ति तो नहीं हो सकती है वरन् यह मानवीय व्यक्त करने के लिए है। दुधवा के उपनिदेशक संजय पाठक ने बताया कि हाथी आदि के द्वारा पहुंचाई जाने वाली फसल क्षति के लिए शासन द्वारा एक एकड़ गन्ना फसल के लिए तीन हजार रूपए गेंहूं, धान आदि के लिए पच्चीस सौ रूपए तथा अन्य फसलों का साढ़े बारह सौ रूपए की क्षतिपूर्ति निर्धारित है इसी तरह कच्चा घर पूरी तरह क्षतिग्रस्त है तो पन्द्रह सौ रूपए, आंशिक पर साढे सात सौ रूपए और झोपड़ी के लिए पांच सौ रूपए क्षतिपूर्ति दी जाती है। श्री पाठक ने बताया कि थारूक्षेत्र के 84 किसानों में एक लाख उनचास हजार रूपए की क्षतिपूर्ति वितरित की गई है।
दुधवा लाइव डेस्क

1 comments:

Famous Trip said...

WoW!! after reading this post and the scene is become in front of us that, Dudhwa is one the best national park in India where we can spot Royal Bengal Tiger... Really a nice jungle it is....

Post a Comment

आप के विचार!

विविधा

आओ प्यारे कम्प्युटर पर बाघ बचायें!
अरूणेश सी दवे, जहाँ तक रही बात प्रबुद्ध बाघ प्रेमियों की जो नचनियों की तरह सज-धज कर जंगल कम इन्टरनेट पर ज्यादा अवतरित होते हैं, तो उनके लिये मै इंटरनेट मे वर्चुअल अबुझमाड़ बनाने का प्रयास कर रहा हूं । ताकि वो अपनी कोरी कल्पनाओं और वर्चुअल प्रयासों को इस आभासी दुनिया में जाहिर कर अपनी ई-कीर्ति बढ़ा सकें।

सामुदायिक पक्षी सरंक्षण
पक्षियों के संरक्षण का जीवन्त उदाहरण: ग्राम सरेली कृष्ण कुमार मिश्र, लखीमपुर खीरी* उन्नीसवी सदी की शुरूवात में ब्रिटिश हुकूमत के एक अफ़सर को लहूलुहान कर देने से यह गाँव चर्चा में आया मसला था।
तो फ़िर उनसे सीखा हमने योग!
धीरज वशिष्ठ* 84 लाख प्रजातियां और 84 लाख योगासन: पक्षियों-जानवरों से सीखा हमने आसन: धार्मिक चैनलों और बाबा रामदेव के कार्यक्रमों ने आज योग को घर-घर तक पहुंचा दिया है।
नही रहा सुमित!
दुधवा लाइव डेस्क* हाँ हम बात कर रहे है उस हाथी कि जो दो मई २०१० को लखनऊ चिड़ियाघर से दुधवा नेशनल पार्क भेजा गया था! वजह साफ़ थी, कि अब वह बूढ़ा हो गया था

पर्यावरण

क्या वे राज धर्म से वाकिफ़ हैं!
कृष्ण कुमार मिश्र* भारत के कुछ पूर्व नेताओं ने मिसाले कायम की पर्यावरण व वन्य-जीव संरक्षण में

अबूझमाड़ के जंगल- जहाँ बाघ नही नक्सल राज करते हैं!
अरूणेश सी दवे* अबूझमाड़- एक प्राकृतिक स्वर्ग:

मुद्दा

क्या खत्म हो जायेगा भारतीय बाघ
कृष्ण कुमार मिश्र* धरती पर बाघों के उत्थान व पतन की करूण कथा:

दुधवा में गैडों का जीवन नहीं रहा सुरक्षित
देवेन्द्र प्रकाश मिश्र* पूर्वजों की धरती पर से एक सदी पूर्व विलुप्त हो चुके एक सींग वाले भारतीय गैंडा

हस्तियां

पदम भूषण बिली अर्जन सिंह
दुधवा लाइव डेस्क* नव-वर्ष के पहले दिन बाघ संरक्षण में अग्रणी भूमिका निभाने वाले महा-पुरूष पदमभूषण बिली अर्जन सिंह

एक ब्राजीलियन महिला की यादों में टाइगरमैन बिली अर्जन सिंह
टाइगरमैन पदमभूषण स्व० बिली अर्जन सिंह और मैरी मुलर की बातचीत पर आधारित इंटरव्यू:

Featured Post

क्षमा करो गौरैया...

Image Courtesy: Sue Van Coppenhagen  संस्मरण गौरैया और मैं -- (3) ....डा0 शशि प्रभा बाजपेयी बात उस समय की है जब घर के नाम पर ...

वन्य-जीव

भारत की वन-नीति में बदलाव आवश्यक
देवेन्द्र प्रकाश मिश्र* आजादी के बाद बनी भारतीय वन-नीति की समीक्षा वर्ष 1988 में की गई थी।

घायल तेन्दुए को जंगल में छोड़ा गया
दुधवा लाइव डेस्क* अधूरे इलाज के बाद जंगल में छोड़ा गया घायल तेन्दुआ!