डायचे वेले जर्मनी द्वारा अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार "द बॉब्स" से सम्मानित पत्रिका "दुधवा लाइव"

International Journal of Environment & Agriculture, Vol.7, no 05, May 2017, ISSN 2395-5791

"किसी राष्ट्र की महानता और नैतिक प्रगति को इस बात से मापा जाता है कि वह अपने यहां जानवरों से किस तरह का सलूक करता है"- मोहनदास करमचन्द गाँधी

Sep 17, 2010

भारत में वाइल्ड लाइफ़ क्राइम के तहत अब तक का सबसे बड़ा जुर्माना?

photo source: wikipedia
 भारत में वाइल्ड लाइफ़ क्राइम के क्षेत्र में सबसे बड़ा जुर्माना 

दुधवा नेशनल पार्क में एक व्यक्ति ने तेज रफ़्तार में कार चलाई, हार्न बजाया।
एक नील गाय भी टकराई उस कार से!
 वाइल्ड लाइफ़ एक्ट के तहत पाँच लाख दस हजार का जुर्माना

किसी भी निषिद्ध वन क्षेत्र में तेज रफ़्तार में गाड़ी चलाना, हार्न बजाना, किसी भी तरह का प्रदूषण करना वाइल्ड लाइफ़ एक्ट के तहत अपराध माना जाता है, पर अमूनन इस कानून को हर जगह तोड़ा जाता रहा है, किन्तु दुधवा नेशनल पार्क में एक ऐसी ही घटना पर वहाँ के अफ़सरों ने कानून तोड़ने वाले व्यक्ति से एक बड़ी रकम वसूल की है, शायद इस घटना के बाद धड़ल्ले से वन कानून तोड़ने वाले तमाम लोग चौकन्ने हो जाये और शायद सुधर भी जाए!और यह जुर्माना मिशाल बन जाए!

भारत मे किसी को तेज रफ्तार से गाडी चलने और हार्न बजाने पर क्या लाखो का जुर्माना हो सकता है...शायद आप अचंभित हो! ..लेकिन ये सच में हुआ है...उत्तर प्रदेश के दुधवा पार्क मे.जी हां..यहाँ..एक व्यक्ति से पार्क के अफसरो ने ५ लाख रुपये वसूल किए है...वो भी वाइल्ड लाइफ़ क्राइम में......बस इस आदमी की गलती इतनी थी. की उसने जंगल में तेज रफ्तार से अपनी मारुती वैन चलाई.....निषिद्ध क्षेत्र मे गाडी का हार्न भी बजाया....और स्पीड मे ही एक नीलगाय को जबर्दस्त टक्कर मार दी...मामला बीती ३१ जुलाई का है...जब  चन्दन चौकी  से होकर अनिल आर्य नाम का एक पूर्व प्रधान..अपनी मारुती से पलिया आ रहा था....तेज रफ्तार मे उसकी गाडी से एक नीलगाय टकरा गई...इस पर पार्क प्रशासन ने उस पे  मुकदमा..लिखा..और जुर्माना देने को कहा? अनिल ने अपना जुर्म कबूल किया और..5 लाख 10 हजार का जुर्माना पार्क प्रशासन को देना कबूला.....माना जा रहा है..कि दुधवा के साथ पूरे उत्तर प्रदेश  के  वन्य जीवन अपराध  के मामले में. यह सबसे बडा जुर्माना है..पार्क के अफसरों का भी कहना है.. कि एक व्यक्ति पर इतना जुर्माना शायद पहली बार हुआ..है.. इससे पहले भी ७ लाख २० हजार का जुर्माना वन अपराध के तहत है, पर उसमें तमाम लोगों सम्मलित थे। सूत्रों के मुताबिक १४ सितम्बर को अनिल आर्य ने इस जुर्माना की धनराशि अदा की है।



प्रशान्त"पीयूष" ( लेखक पेशे से मीडिया जर्नालिस्ट है,  पूरे एक दशक में कई अखबारों में पत्रकारिता का अनुभव, वन्य जीवन के क्षेत्र में विशेष अभिरूचि। लखीमपुर खीरी में रहते है, इनसे prashantyankee.lmp@gmail.com पर सम्पर्क कर सकते हैं)

1 comments:

corbett blog said...

bhut achchhi khaber hai, van vibhag ne kuchh to kiya.bahut achchha van vibhag ne yeh to vakai kamal kar diya. yadi yeh log kuchh es tarah kee sakhti dikhaye to shayad logo ko kuchh akla aaye.

Post a Comment

आप के विचार!

विविधा

आओ प्यारे कम्प्युटर पर बाघ बचायें!
अरूणेश सी दवे, जहाँ तक रही बात प्रबुद्ध बाघ प्रेमियों की जो नचनियों की तरह सज-धज कर जंगल कम इन्टरनेट पर ज्यादा अवतरित होते हैं, तो उनके लिये मै इंटरनेट मे वर्चुअल अबुझमाड़ बनाने का प्रयास कर रहा हूं । ताकि वो अपनी कोरी कल्पनाओं और वर्चुअल प्रयासों को इस आभासी दुनिया में जाहिर कर अपनी ई-कीर्ति बढ़ा सकें।

सामुदायिक पक्षी सरंक्षण
पक्षियों के संरक्षण का जीवन्त उदाहरण: ग्राम सरेली कृष्ण कुमार मिश्र, लखीमपुर खीरी* उन्नीसवी सदी की शुरूवात में ब्रिटिश हुकूमत के एक अफ़सर को लहूलुहान कर देने से यह गाँव चर्चा में आया मसला था।
तो फ़िर उनसे सीखा हमने योग!
धीरज वशिष्ठ* 84 लाख प्रजातियां और 84 लाख योगासन: पक्षियों-जानवरों से सीखा हमने आसन: धार्मिक चैनलों और बाबा रामदेव के कार्यक्रमों ने आज योग को घर-घर तक पहुंचा दिया है।
नही रहा सुमित!
दुधवा लाइव डेस्क* हाँ हम बात कर रहे है उस हाथी कि जो दो मई २०१० को लखनऊ चिड़ियाघर से दुधवा नेशनल पार्क भेजा गया था! वजह साफ़ थी, कि अब वह बूढ़ा हो गया था

पर्यावरण

क्या वे राज धर्म से वाकिफ़ हैं!
कृष्ण कुमार मिश्र* भारत के कुछ पूर्व नेताओं ने मिसाले कायम की पर्यावरण व वन्य-जीव संरक्षण में

अबूझमाड़ के जंगल- जहाँ बाघ नही नक्सल राज करते हैं!
अरूणेश सी दवे* अबूझमाड़- एक प्राकृतिक स्वर्ग:

मुद्दा

क्या खत्म हो जायेगा भारतीय बाघ
कृष्ण कुमार मिश्र* धरती पर बाघों के उत्थान व पतन की करूण कथा:

दुधवा में गैडों का जीवन नहीं रहा सुरक्षित
देवेन्द्र प्रकाश मिश्र* पूर्वजों की धरती पर से एक सदी पूर्व विलुप्त हो चुके एक सींग वाले भारतीय गैंडा

हस्तियां

पदम भूषण बिली अर्जन सिंह
दुधवा लाइव डेस्क* नव-वर्ष के पहले दिन बाघ संरक्षण में अग्रणी भूमिका निभाने वाले महा-पुरूष पदमभूषण बिली अर्जन सिंह

एक ब्राजीलियन महिला की यादों में टाइगरमैन बिली अर्जन सिंह
टाइगरमैन पदमभूषण स्व० बिली अर्जन सिंह और मैरी मुलर की बातचीत पर आधारित इंटरव्यू:

Featured Post

क्षमा करो गौरैया...

Image Courtesy: Sue Van Coppenhagen  संस्मरण गौरैया और मैं -- (3) ....डा0 शशि प्रभा बाजपेयी बात उस समय की है जब घर के नाम पर ...

वन्य-जीव

भारत की वन-नीति में बदलाव आवश्यक
देवेन्द्र प्रकाश मिश्र* आजादी के बाद बनी भारतीय वन-नीति की समीक्षा वर्ष 1988 में की गई थी।

घायल तेन्दुए को जंगल में छोड़ा गया
दुधवा लाइव डेस्क* अधूरे इलाज के बाद जंगल में छोड़ा गया घायल तेन्दुआ!