International Journal of Environment & Agriculture
ISSN 2395 5791
"किसी राष्ट्र की महानता और नैतिक प्रगति को इस बात से मापा जाता है कि वह अपने यहां जानवरों से किस तरह का सलूक करता है"- मोहनदास करमचन्द गाँधी

जर्मनी द्वारा अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार "द बॉब्स" से सम्मानित पत्रिका "दुधवा लाइव"

Aug 29, 2010

मैलानी जंगल में बाघ ने किया हमला!

बाघ के हमले में ग्रामीण जख्मी
-बोले अफसर, जंगल में मत जाना....खतरा ही खतरा
दुधवा लाइव डेस्क: मैलानी-खीरी। पीलीभीत उसके बाद शाहजहांपुर के जंगल से होता हुआ बाघ अब मैलानी के जंगल में शामिल हो चुका है। शनिवार की रात उसने मैलानी जंगल के कम्पार्टमेंट संख्या एक में गांव कोरियानी के रामभजन पर हमला कर दिया। वन विभाग और ग्रामीणों ने उसे गम्भीर हालत में मैलानी में भर्ती कराया है। इस घटना के बाद जंगल में ग्रामीणों के प्रवेश पर रोक लगा दी गई है।

गांव कोरियानी निवासी रामभजन रविवार की तड़के सुबह मैलानी जंगल के कम्पार्टमेंट संख्या एक में किसी काम से जा रहा था। तभी बाघ ने हमला कर दिया। रामभजन की चीख-पुकार सुनकर फारेस्ट की निगरानी टीमें मौके पर पहुंची और ग्रामीणों के सहयोग से उसे अस्पताल में भर्ती कराया। बाघ के बढ़ते खतरे को देखते हुए वन विभाग ने मैलानी जंगल में घुसने के लिए बनाए गए रास्तों पर पहरा लगा दिया है। किसी के जंगल में घुसने पर पाबंदी लगाई गई है। उत्तर प्रदेश बाघ संरक्षण समिति की ओर से रामभजन को पांच हजार रुपये की मदद दी गई है। उसका इलाज भी जंगल महकमा कराएगा। डीएफओ आरसी झा ने रेंजर मैलानी एके श्रीवास्तव को इस बाबत दिशा-निर्देश दिया है।

बजवा दी गई डुग्गी

रामभजन पर हमले के बाद वनाधिकारियों ने मैलानी कस्बे में डुग्गी पिटवाई और लोगों को खतरे से आगाह किया। मैलानी रेंजर एके श्रीवास्तव ने लोगों से अपील की है कि वे आवागमन में सतर्कता बरतें।

1 comment:

  1. अब कोई आपके घर में घुसकर उसे बर्बाद करेगा तो आप क्या करेंगे ?
    अच्छा लेख है .......... आभार
    http://thodamuskurakardekho.blogspot.com/

    ReplyDelete

आप के विचार!

विविधा

आओ प्यारे कम्प्युटर पर बाघ बचायें!
अरूणेश सी दवे, जहाँ तक रही बात प्रबुद्ध बाघ प्रेमियों की जो नचनियों की तरह सज-धज कर जंगल कम इन्टरनेट पर ज्यादा अवतरित होते हैं, तो उनके लिये मै इंटरनेट मे वर्चुअल अबुझमाड़ बनाने का प्रयास कर रहा हूं । ताकि वो अपनी कोरी कल्पनाओं और वर्चुअल प्रयासों को इस आभासी दुनिया में जाहिर कर अपनी ई-कीर्ति बढ़ा सकें।

सामुदायिक पक्षी सरंक्षण
पक्षियों के संरक्षण का जीवन्त उदाहरण: ग्राम सरेली कृष्ण कुमार मिश्र, लखीमपुर खीरी* उन्नीसवी सदी की शुरूवात में ब्रिटिश हुकूमत के एक अफ़सर को लहूलुहान कर देने से यह गाँव चर्चा में आया मसला था।
तो फ़िर उनसे सीखा हमने योग!
धीरज वशिष्ठ* 84 लाख प्रजातियां और 84 लाख योगासन: पक्षियों-जानवरों से सीखा हमने आसन: धार्मिक चैनलों और बाबा रामदेव के कार्यक्रमों ने आज योग को घर-घर तक पहुंचा दिया है।
नही रहा सुमित!
दुधवा लाइव डेस्क* हाँ हम बात कर रहे है उस हाथी कि जो दो मई २०१० को लखनऊ चिड़ियाघर से दुधवा नेशनल पार्क भेजा गया था! वजह साफ़ थी, कि अब वह बूढ़ा हो गया था