डायचे वेले जर्मनी द्वारा अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार "द बॉब्स" से सम्मानित पत्रिका "दुधवा लाइव"

International Journal of Environment & Agriculture, Vol.7, no 05, May 2017, ISSN 2395-5791

"किसी राष्ट्र की महानता और नैतिक प्रगति को इस बात से मापा जाता है कि वह अपने यहां जानवरों से किस तरह का सलूक करता है"- मोहनदास करमचन्द गाँधी

Jul 14, 2010

इन्हीं से उम्दा उड़ानों की तरकीबें सीख रहे है एरोनॉटिकल सांइस के वैज्ञानिक!

सतपाल सिंह* खीरी जनपद में कुछ रंग-बिरंगे ड्रैगनफ़्लाई व डैमजलफ़्लाई:(तस्वीरें संक्षिप्त विवरण के साथ)

Pygmy blue dartlet (Enellagma parvum)
ये छोटे आकार के डैमजलफ़्लाई है, इस तस्वीर में नर डैमजलफ़्लाई है।
Photo:1-Golden Dartlet (Ischnura aurora)

Mating pair of Golden dartlet
Mating pair of Golden dartlet


 फोटो:1, ये नर गोल्डन डार्टलेट डैमजलफ़्लाई है, इसके अगले पंखों पर लाल रंग के धब्बे और पिछले पंखों पर भूरे-हरे रंग के धब्बे होते हैं। इसके उदर के आखिरी 8-9 खण्डों का रंग नीला व आखिरी 10वां खण्ड काला होता है। मादा के उदर पर नीला रंग नही होता। और उदर (abdomen) के ऊपरी हिस्से पर एक काली रेखा मौजूद होती है।
Green Marsh Hawk (Mating pair)


ग्रीन मार्श हॉक (Orthetrum sabina) ड्रैगनफ़्लाई हैं। यह सामन्यत: पूरे एशिया, आस्ट्रेलिया, मध्य-पूर्व व उत्तरी अफ़्रीका में पाया जाता है। कहते हैं कि यह फ़ोटोग्राफ़र के लिए बहुत ही व्यवहारिक होते हैं, और इनके नजदीक जाने पर भी ये नही उड़ते!
Ruddy Marsh Skimmer (Crocothemis servilia)

मादा रूडी मार्श स्किमर हैं, इसका रंग पीला व उदर पर काली धारी होती है। नर का रंग गाढ़ा लाल होता है।

डैमजलफ़्लाई व ड्रैगनफ़्लाई को देखने के लिए किसी भी तालाब, या नदी का किनारा, हरे-भरे नम खेत सबसे उपयुक्त जगह है, जहाँ ये सुन्दर आकृतियों व रंगों वाले जीव जो हवा में अदभुत उड़ाने भरते हुए दिखाई दे जायेंगें।  इन जीवों की अद्वतीय उड़ानों ने मानव को सदा आकर्षित किया हैं, यही कारण हैं कि विभिन्न देशों के रक्षा विभागों द्वारा प्रकृति के इन हेलीकाप्टर्स की नकल करने के सारे प्रयास जारी हैं।
सभी तस्वीरें खीरी जनपद में ली गयी। जो इस भू-भाग पर इन जीवों की उपस्थित को दर्ज करती हैं।

(सतपाल सिंह: लेखक वाइल्ड लाइफ़ फोटोग्राफ़र हैं। लखीमपुर खीरी जनपद के मोहम्मदी में निवास। भारत की प्रतिष्ठित फोटोग्राफ़िक संस्थाओं से जुड़े हुए हैं। अभी तक कई फोटोग्राफ़ी प्रदर्शनियों में हिस्सा ले चुके हैं। इनसे satpalsinghwlcn@gmail.com पर संपर्क कर सकते हैं।)

1 comments:

Udan Tashtari said...

बड़ी सुन्दर तस्वीरें आई हैं..

Post a Comment

आप के विचार!

विविधा

आओ प्यारे कम्प्युटर पर बाघ बचायें!
अरूणेश सी दवे, जहाँ तक रही बात प्रबुद्ध बाघ प्रेमियों की जो नचनियों की तरह सज-धज कर जंगल कम इन्टरनेट पर ज्यादा अवतरित होते हैं, तो उनके लिये मै इंटरनेट मे वर्चुअल अबुझमाड़ बनाने का प्रयास कर रहा हूं । ताकि वो अपनी कोरी कल्पनाओं और वर्चुअल प्रयासों को इस आभासी दुनिया में जाहिर कर अपनी ई-कीर्ति बढ़ा सकें।

सामुदायिक पक्षी सरंक्षण
पक्षियों के संरक्षण का जीवन्त उदाहरण: ग्राम सरेली कृष्ण कुमार मिश्र, लखीमपुर खीरी* उन्नीसवी सदी की शुरूवात में ब्रिटिश हुकूमत के एक अफ़सर को लहूलुहान कर देने से यह गाँव चर्चा में आया मसला था।
तो फ़िर उनसे सीखा हमने योग!
धीरज वशिष्ठ* 84 लाख प्रजातियां और 84 लाख योगासन: पक्षियों-जानवरों से सीखा हमने आसन: धार्मिक चैनलों और बाबा रामदेव के कार्यक्रमों ने आज योग को घर-घर तक पहुंचा दिया है।
नही रहा सुमित!
दुधवा लाइव डेस्क* हाँ हम बात कर रहे है उस हाथी कि जो दो मई २०१० को लखनऊ चिड़ियाघर से दुधवा नेशनल पार्क भेजा गया था! वजह साफ़ थी, कि अब वह बूढ़ा हो गया था

पर्यावरण

क्या वे राज धर्म से वाकिफ़ हैं!
कृष्ण कुमार मिश्र* भारत के कुछ पूर्व नेताओं ने मिसाले कायम की पर्यावरण व वन्य-जीव संरक्षण में

अबूझमाड़ के जंगल- जहाँ बाघ नही नक्सल राज करते हैं!
अरूणेश सी दवे* अबूझमाड़- एक प्राकृतिक स्वर्ग:

मुद्दा

क्या खत्म हो जायेगा भारतीय बाघ
कृष्ण कुमार मिश्र* धरती पर बाघों के उत्थान व पतन की करूण कथा:

दुधवा में गैडों का जीवन नहीं रहा सुरक्षित
देवेन्द्र प्रकाश मिश्र* पूर्वजों की धरती पर से एक सदी पूर्व विलुप्त हो चुके एक सींग वाले भारतीय गैंडा

हस्तियां

पदम भूषण बिली अर्जन सिंह
दुधवा लाइव डेस्क* नव-वर्ष के पहले दिन बाघ संरक्षण में अग्रणी भूमिका निभाने वाले महा-पुरूष पदमभूषण बिली अर्जन सिंह

एक ब्राजीलियन महिला की यादों में टाइगरमैन बिली अर्जन सिंह
टाइगरमैन पदमभूषण स्व० बिली अर्जन सिंह और मैरी मुलर की बातचीत पर आधारित इंटरव्यू:

Featured Post

क्षमा करो गौरैया...

Image Courtesy: Sue Van Coppenhagen  संस्मरण गौरैया और मैं -- (3) ....डा0 शशि प्रभा बाजपेयी बात उस समय की है जब घर के नाम पर ...

वन्य-जीव

भारत की वन-नीति में बदलाव आवश्यक
देवेन्द्र प्रकाश मिश्र* आजादी के बाद बनी भारतीय वन-नीति की समीक्षा वर्ष 1988 में की गई थी।

घायल तेन्दुए को जंगल में छोड़ा गया
दुधवा लाइव डेस्क* अधूरे इलाज के बाद जंगल में छोड़ा गया घायल तेन्दुआ!