डायचे वेले जर्मनी द्वारा अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार "द बॉब्स" से सम्मानित पत्रिका "दुधवा लाइव"

International Journal of Environment & Agriculture, Vol.7, no 06, June 2017, ISSN 2395-5791

"किसी राष्ट्र की महानता और नैतिक प्रगति को इस बात से मापा जाता है कि वह अपने यहां जानवरों से किस तरह का सलूक करता है"- मोहनदास करमचन्द गाँधी

Mar 20, 2010

खीरी जनपद में धूमधाम से मनाया गया गौरैया दिवस - मितौली रहा केंद्र

"एक संदेश - माननीय श्री जितिन प्रसाद, राज्य मंत्री पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस, भारत सरकार ने खीरी वासियों को विश्व गौरैया दिवस
पर बधाई दी है, साथ ही इस बात पर खुशी जाहिर की है, कि पक्षी सरंक्षण में खीरी जनपद  से जो पहल हुई है, वह बहुत सराहनीय है, उन्होंने कहा उन्हें भी पक्षियों से प्रेम है, इसलिए भविष्य में वह इस तरह के  सुन्दर प्रयासों में अपना योगदान देते रहेंगे,"
दुधवा लाइव डेस्क*  खीरी जनपद में धूमधाम से मनाया गया गौरैया दिवस - मितौली रहा केंद्र लखीमपुर: विश्व गौरैया दिवस के मौके पर गौरैया को बचाने और उसके सरंक्षण की मुहिम “दुधवा लाइव डाट काम” ने शनिवार को शुरू कर दी। मुहिम का केन्द्र बेहजम और मितौली ब्लाक को बनाया गया है। इन दोनों ब्लाकों में गौरैया बचाने की अपील के लिए सेमिनार व जागरूकता कार्यक्रम किए गये। कन्हैया उच्चतर माध्यमिक विद्यालय बेहजम में बतौर मुख्य अतिथि युवराज दत्त महाविद्यालय के प्राध्यापक डा० सत्येन्द्र दुबे ने कहा, “गौरैया हमारे आँगन से ही नही बल्कि हमारे मुहावरे से, उसकी चीं..चीं..भाषा में से फ़ुदकना, तथा लोक गीतों में से भी गौरैया गायब हो गयी है” डा० दुबे के मुताबिक आज बच्चों की किताबों से घोसले की तस्वीर तक नदारद हो चुकी है, ऐसे में हमको गाँव याद आता है और उसका जनजीवन भी यादों में चला आता है।


सेमिनार में बोलते हुए केन्द्रीय मन्त्री जितिन प्रसाद के मीडिया प्रभारी और सामाजिक कार्यकर्ता रामेन्द्र जनवार ने बेहद भावुक अंदाज में कहा, “गौरैया हमारे आँगन का पक्षी है, हमारी सभ्यता की निशानी है। कहते हैं, कि गौरैया जिस घर में आती है, वहाँ से खुशिया दूर नही जाती कभी। उन्होंने कहा कि यह अफ़सोसजनक बात है, कि जो दोस्त हमेशा आसपास रहते थे, आज उनकी तलाश करनी पड़ रही है। दुधवा लाइव डाट काम के संपादक के०के० मिश्र ने स्कूली छात्रों से अपील की कि वह इस सेमिनार को संदेश लेकर घरों तक जाएं। उन्होंने लुप्त होने की वजहे भी बताईं। सेमिनार को प्रबंधक अनिल वर्मा, प्रधानाचार्य अतुल जायसवाल ने भी संबोधित किया। संचालक आयुष श्रीवास्तव ने किया।
मितौली
इधर मितौली के ब्लाक सभागार में आयोजित सेमिनार में भी यह अपील की गयी कि गौरैया बचाने की मुहिम अपने गाँव और घर से शुरू करनी है।

सेमिनार में बोलते हुए ब्लाक प्रमुख डा० नरेन्द्र सिंह ने आन्दोंलन के प्रणेता कृष्ण कुमार मिश्र को धन्यवाद देते हुए कहा, कि गौरैया को सरंक्षित करने के लिए हमें कीटनाशक, पालीथीन, और जहरीले केमिकल के प्रयोग को रोकना होगा। राजा लोने सिंह इंटर कालेज के शिक्षक गणेश शंकर शुक्ल ने कहा कि पहले हम छतों पर पानी रखा करते थे। आप हमारे मन से उसका प्रेम खत्म हो गया है। खण्ड विकास अधिकारी मितौली हरिश्चन्द्र ने कार्यक्रम और अभियान में सहयोग देने की बात कही, सेमिनार को डा० सत्येन्द्र दुबे, कृष्ण कुमार मिश्र, रामेन्द्र जनवार, मंयक बाजपेयी ने संबोधित किया, नवोदय विद्यालय मितौली के बायोलोजी प्रवक्ता ने पक्षी सरंक्षण के महत्व को विस्तार से बताया। संचालन सर्वेश कटियार ने किया।

इसी इलाके में १५  स्कूलों के साथ रोजी-रोटी संस्था द्वारा ५००० बच्चों को पक्षी  सरंक्षण का महत्त्व बताते हुए तमाम सांस्कृतिक गतिविधियां कराई संस्था के प्रमुख विनोद सिंह के मुताबिक़ वह दुधवा लाइव डाट काम द्वारा चलाये जाने वाले अभियानों में सहभागिता करने की बात कही है"

रामेन्द्र जनवार ने कहा कि "मितौली ही अब गौरैया बचाओ "जन-अभियान"  केन्द्र हैं, क्योंकि यह अभियान इसी क्षेत्र के रहने वाले कृष्ण कुमार मिश्र द्वारा शुरू किया गया, जो अब पूरे प्रदेश में  व्याप्त हो चुका है।
इसी के चलते मितौली में ही गौरैया ग्राम व पक्षी मित्र पुरस्कारों की घोषणा की गयी, अगले वर्ष निगरानी समिति व चयन समिति द्वारा वह ग्राम व व्यक्ति चयनित किए जायेंगे जो गौरैया सरंक्षण में अपनी महत्व-पूर्ण भूमिका निभायेंगे।

8 comments:

Suman said...

nice

अफ़लातून said...

ब्लॉग जगत में इस बाबत चेतना लाने वाले कृष्ण कुमार मिश्र को हार्दिक बधाई ।

कृष्ण मुरारी प्रसाद said...

विश्व गौरैया दिवस-- गौरैया...तुम मत आना...(कविता)....
http://laddoospeaks.blogspot.com/2010/03/blog-post_20.html

Harit said...

Devnagri mein type karna mere liye eik kathin kaam hai isliye english ke fonts prayog karne pad rahe hein.
Mishra ji, aapne eik sarahniy evam historical initiative liya hai. Aapko dher saari shubhkamnayen.
Because Kheri ki mitti pairon mein lagi hui hai isliye aur zyada sukh ki anubhuti ho rahi hai ki is kaam ka aarambh Kheri se hua hai.
Mishra ji aapko eik baar phir se Badhai.

अब्दुल सलीम खान said...

केके जी ,
हार्दिक बधाई

sushant jha said...

KK Mishra ji...congrats a lot for yr initiative

Pankaj Upadhyay (पंकज उपाध्याय) said...

अरे कोई खीरी से भी लिख रहा है..मिलकर बहुत खुशी हुई..दुधवा लाईव.. क्या बात है...

Anonymous said...

Its good to celebrate the World House Sparrow Day. However, Mr.Dilwar should understand that he is not as great as Salim Ali to celebrate his own birthday as World House Sparrow Day.

Post a Comment

आप के विचार!

विविधा

आओ प्यारे कम्प्युटर पर बाघ बचायें!
अरूणेश सी दवे, जहाँ तक रही बात प्रबुद्ध बाघ प्रेमियों की जो नचनियों की तरह सज-धज कर जंगल कम इन्टरनेट पर ज्यादा अवतरित होते हैं, तो उनके लिये मै इंटरनेट मे वर्चुअल अबुझमाड़ बनाने का प्रयास कर रहा हूं । ताकि वो अपनी कोरी कल्पनाओं और वर्चुअल प्रयासों को इस आभासी दुनिया में जाहिर कर अपनी ई-कीर्ति बढ़ा सकें।

सामुदायिक पक्षी सरंक्षण
पक्षियों के संरक्षण का जीवन्त उदाहरण: ग्राम सरेली कृष्ण कुमार मिश्र, लखीमपुर खीरी* उन्नीसवी सदी की शुरूवात में ब्रिटिश हुकूमत के एक अफ़सर को लहूलुहान कर देने से यह गाँव चर्चा में आया मसला था।
तो फ़िर उनसे सीखा हमने योग!
धीरज वशिष्ठ* 84 लाख प्रजातियां और 84 लाख योगासन: पक्षियों-जानवरों से सीखा हमने आसन: धार्मिक चैनलों और बाबा रामदेव के कार्यक्रमों ने आज योग को घर-घर तक पहुंचा दिया है।
नही रहा सुमित!
दुधवा लाइव डेस्क* हाँ हम बात कर रहे है उस हाथी कि जो दो मई २०१० को लखनऊ चिड़ियाघर से दुधवा नेशनल पार्क भेजा गया था! वजह साफ़ थी, कि अब वह बूढ़ा हो गया था

पर्यावरण

क्या वे राज धर्म से वाकिफ़ हैं!
कृष्ण कुमार मिश्र* भारत के कुछ पूर्व नेताओं ने मिसाले कायम की पर्यावरण व वन्य-जीव संरक्षण में

अबूझमाड़ के जंगल- जहाँ बाघ नही नक्सल राज करते हैं!
अरूणेश सी दवे* अबूझमाड़- एक प्राकृतिक स्वर्ग:

मुद्दा

क्या खत्म हो जायेगा भारतीय बाघ
कृष्ण कुमार मिश्र* धरती पर बाघों के उत्थान व पतन की करूण कथा:

दुधवा में गैडों का जीवन नहीं रहा सुरक्षित
देवेन्द्र प्रकाश मिश्र* पूर्वजों की धरती पर से एक सदी पूर्व विलुप्त हो चुके एक सींग वाले भारतीय गैंडा

हस्तियां

पदम भूषण बिली अर्जन सिंह
दुधवा लाइव डेस्क* नव-वर्ष के पहले दिन बाघ संरक्षण में अग्रणी भूमिका निभाने वाले महा-पुरूष पदमभूषण बिली अर्जन सिंह

एक ब्राजीलियन महिला की यादों में टाइगरमैन बिली अर्जन सिंह
टाइगरमैन पदमभूषण स्व० बिली अर्जन सिंह और मैरी मुलर की बातचीत पर आधारित इंटरव्यू:

Featured Post

क्षमा करो गौरैया...

Image Courtesy: Sue Van Coppenhagen  संस्मरण गौरैया और मैं -- (3) ....डा0 शशि प्रभा बाजपेयी बात उस समय की है जब घर के नाम पर ...

वन्य-जीव

भारत की वन-नीति में बदलाव आवश्यक
देवेन्द्र प्रकाश मिश्र* आजादी के बाद बनी भारतीय वन-नीति की समीक्षा वर्ष 1988 में की गई थी।

घायल तेन्दुए को जंगल में छोड़ा गया
दुधवा लाइव डेस्क* अधूरे इलाज के बाद जंगल में छोड़ा गया घायल तेन्दुआ!