International Journal of Environment & Agriculture
ISSN 2395 5791
"किसी राष्ट्र की महानता और नैतिक प्रगति को इस बात से मापा जाता है कि वह अपने यहां जानवरों से किस तरह का सलूक करता है"- मोहनदास करमचन्द गाँधी

जर्मनी द्वारा अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार "द बॉब्स" से सम्मानित पत्रिका "दुधवा लाइव"

Mar 7, 2010

दो कवितायें- विश्व गौरैया दिवस २० मार्च के उपलक्ष्य में

फ़ोटो साभार: सतपाल सिंह
माँ चाहती है
   रामेन्द्र जनवार

माँ चाहती है
यूं ही बना रहे
गोबर लिपा आँगन
लगा रहे आंगन में
तुलसी का बिरवा

माँ चाहती है
मुंडेर पर जब-तब
आता रहे कागा
बना रहे घर में
अपनों का आना-जाना

माँ चाहती है
आंगन के छप्पर से
चुन-चुन कर तिनके
नन्ही गौरैया बेखौफ़
बनाती रहे घोंसला अपना

माँ यही चाहती है 
कि बची रहें संवेदनायें
कायम रहे सरोकार
बनी रहे दुनिया सारी

माँ चाहती है
कि हर घर के आंगन में
चहकती हुई, फ़ुदकती हुई
बाँटती रहे खुशियां यूं ही
मासूम नन्ही गौरैया

------------x------------

गौरैया बहुत परेशान

सूखे-सूखे ताल-पोखर
सूने खलिहान
बीघा भर धरती में
मुठ्ठी भर धान
चुग्गा-चाई का कहीं
ठौर ना ठिकान
गौरैया बहुत परेशान

कौन जाने कहाँ गए
मेघों के साए
तपती दुपहरिया
पंखों को झुलसाए
भारी मुश्किल में है
नन्ही सी जान
गौरैया बहुत परेशान

घनी-घनी शाखों पर 
बाज़ों का डेरा
कहां बनाए जाकर
अपना बसेरा
मंजिल अनजानी है
रस्ते वीरान
गौरैया बहुत परेशान
--------x--------------

- रामेन्द्र जनवार (लेखक: मीडिया प्रभारी श्री जितिन प्रसाद, केन्द्रीय राज्यमंत्री, पेट्रोलियम व प्राकृतिक गैस,  सन १९८५-८६ में लखनऊ विश्व-विद्यालय के महामंत्री रह चुके है,  सन १९८५ में ही मास्को रूस में आयोजित अन्तर्राष्ट्रीय युवा महोत्सव  में भागीदारी, आंदोलनी विचारधारा से हैं, खीरी जनपद के ओयल कस्बे में रहते हैं। इनसे ramendra.janwar78@rediffmail.com व 09838980878 पर संपर्क कर सकते हैं।)

10 comments:

  1. "किसी ने कहा था कि इस दुनिया में केवल 3 चीज़ें दिलचस्प हैं बच्चे,साधु और चिड़िया। बहुत सुन्दर कविताएँ.........."
    प्रणव सक्सैना
    amitraghat.blogspot.com

    ReplyDelete
  2. गौरैया बहुत परेशान- रामेन्द्र जनवार,मीडिया प्रभारी श्री जितिन प्रसाद, केन्द्रीय राज्यमंत्री, पेट्रोलियम व प्राकृतिक गैस.nice

    ReplyDelete
  3. सुबह सुबह आँखें नम कर गईं ये कविताएँ।
    हमारी सम्वेदनाएँ सरल जीवन का आश्रय ले कर ही क्यों उमगती हैं ?

    ReplyDelete
  4. thanks for sharing this beautiful words!

    ReplyDelete
  5. wah comrade...apne to hamko 20 sal pahle pahucha diya

    ReplyDelete
  6. gajiyabad me navodaya vidhalaya ke pass ek kasba hai DHOOMMANIKPUR janha lagbhag 1000 GAURAIYA RAHTI HAI. PL DO SOMETHING. OM PRAKASH SINGH FAIZABAD

    ReplyDelete
  7. hamne apne ghar me pal rakhe hai gauraiya kya aap bhi aisa karenge. yakeen maniye aap ko sukun milega

    ReplyDelete
  8. saral & sunder shabdon me piroryee dono kavitaon k liye...
    prakrati prem bemisal.......
    bahut-2 subhkamnayen

    ReplyDelete
  9. mere man ko jaisey kisi ne bahut dinoo baad dhakka diya ho.sandar prastuti mein ish kavita ka apna dard chipa hai jo rah rah kar udney ko kah rah ahi .....

    ReplyDelete

आप के विचार!

विविधा

आओ प्यारे कम्प्युटर पर बाघ बचायें!
अरूणेश सी दवे, जहाँ तक रही बात प्रबुद्ध बाघ प्रेमियों की जो नचनियों की तरह सज-धज कर जंगल कम इन्टरनेट पर ज्यादा अवतरित होते हैं, तो उनके लिये मै इंटरनेट मे वर्चुअल अबुझमाड़ बनाने का प्रयास कर रहा हूं । ताकि वो अपनी कोरी कल्पनाओं और वर्चुअल प्रयासों को इस आभासी दुनिया में जाहिर कर अपनी ई-कीर्ति बढ़ा सकें।

सामुदायिक पक्षी सरंक्षण
पक्षियों के संरक्षण का जीवन्त उदाहरण: ग्राम सरेली कृष्ण कुमार मिश्र, लखीमपुर खीरी* उन्नीसवी सदी की शुरूवात में ब्रिटिश हुकूमत के एक अफ़सर को लहूलुहान कर देने से यह गाँव चर्चा में आया मसला था।
तो फ़िर उनसे सीखा हमने योग!
धीरज वशिष्ठ* 84 लाख प्रजातियां और 84 लाख योगासन: पक्षियों-जानवरों से सीखा हमने आसन: धार्मिक चैनलों और बाबा रामदेव के कार्यक्रमों ने आज योग को घर-घर तक पहुंचा दिया है।
नही रहा सुमित!
दुधवा लाइव डेस्क* हाँ हम बात कर रहे है उस हाथी कि जो दो मई २०१० को लखनऊ चिड़ियाघर से दुधवा नेशनल पार्क भेजा गया था! वजह साफ़ थी, कि अब वह बूढ़ा हो गया था