वन्य जीवन एवं पर्यावरण

International Journal of Environment & Agriculture ISSN 2395 5791

Breaking

बीती सदी में बापू ने कहा था

"किसी राष्ट्र की महानता और नैतिक प्रगति को इस बात से मापा जाता है कि वह अपने यहां जानवरों से किस तरह का सलूक करता है"- मोहनदास करमचन्द गाँधी

ये जंगल तो हमारे मायका हैं

Feb 21, 2010

प्रकृति के सौन्दर्य से उपजी मानव मस्तिष्क में कविता

Photo by: ©Krishna Kumar Mishra*
गौरव गिरि* प्रकृति के सौन्दर्य ने मानव मस्तिष्क में शब्दों का निर्माण करने के लिए प्रेरित किया।
जंगल में:-
इन खामोश जंगलों की
बेइंतहा खूबसूरती को
अक्सर महसूस किया है मैने,
उन राहों से गुजरते हुए
जो बनायी हैं, प्रकृति ने
अपने हसीन सहचरों के लिए
घने पेड़ों से झांकती हुई

नाजुक सुनहरी किरणों को
जीवन में देखा है मैने
उमंगो की तरह
उसकी गहनता ने प्रेरित किया है
मुझे विचारों की महानता से
और खामोशी से सीखा है
जीवन में आत्म-विवेचन

गौरव गिरि (लेखक बज़रखा शिव-मन्दिर ट्रस्ट के महन्त हैं, जिला खीरी में रहते हैं, इनसे 09005200709 पर संपर्क कर सकते हैं)
*तस्वीर बजरखा शिव-मन्दिर की है जो तकरीबन चार वर्ष पूर्व ©कृष्ण कुमार मिश्र द्वारा खींची गयी थी।

No comments:

Post a Comment

आप के विचार!

जर्मनी द्वारा अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार "द बॉब्स" से सम्मानित पत्रिका "दुधवा लाइव"

हस्तियां

पदम भूषण बिली अर्जन सिंह
दुधवा लाइव डेस्क* नव-वर्ष के पहले दिन बाघ संरक्षण में अग्रणी भूमिका निभाने वाले महा-पुरूष पदमभूषण बिली अर्जन सिंह

एक ब्राजीलियन महिला की यादों में टाइगरमैन बिली अर्जन सिंह
टाइगरमैन पदमभूषण स्व० बिली अर्जन सिंह और मैरी मुलर की बातचीत पर आधारित इंटरव्यू:

मुद्दा

क्या खत्म हो जायेगा भारतीय बाघ
कृष्ण कुमार मिश्र* धरती पर बाघों के उत्थान व पतन की करूण कथा:

दुधवा में गैडों का जीवन नहीं रहा सुरक्षित
देवेन्द्र प्रकाश मिश्र* पूर्वजों की धरती पर से एक सदी पूर्व विलुप्त हो चुके एक सींग वाले भारतीय गैंडा

Post Top Ad

Your Ad Spot