International Journal of Environment & Agriculture
ISSN 2395 5791
"किसी राष्ट्र की महानता और नैतिक प्रगति को इस बात से मापा जाता है कि वह अपने यहां जानवरों से किस तरह का सलूक करता है"- मोहनदास करमचन्द गाँधी

जर्मनी द्वारा अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार "द बॉब्स" से सम्मानित पत्रिका "दुधवा लाइव"

Aug 7, 2017

विश्व पर्यावरण दिवस पर दिल्ली में सोलर बस को हरी झंडी


ग्रीनपीस इंडिया की पहलपहियों पर घर- जो छत सौर पैनलों पर चलने वाले आवश्यक घरेलू उपकरणों से सुसज्जित है- के साथस्थानीय निवासियों के बीच सौर ऊर्जा को प्रचलन में लाने और उनमें जागरूकता पैदा करने के लिए पूरे दिल्ली का दौरा करेगी

नई दिल्ली, 5 जुन, 2017 विश्व पर्यावरण दिवस पर ग्रीनपीस इंडिया ने एक अनोखी यात्रा शुरु की है। दिल्ली के छतों पर सौर ऊर्जा के लाभ के बारे में जागरूकता पैदा करने के लिए ग्रीनपीस ने सौर धूमकेतु को चौपहिया वाहन के घरनुमा छत पर लगाया है जो सभी आधुनिक उपकरणों से लैस हैजो दर्शाता है कि कितनी आसानी से पूरे घरेलू उपकरणों को सौर ऊर्जा से चलाया जा सकता है।

बिजली की बचत वाली बल्बों से सजी इस घरनुमा गाड़ी में मोबाइल चार्जिंग के लिए प्वाईंट हैउसमें एक एयर कूलर लगा हैएक फ्रीज है और साथ हीएक एयर कंडीशन भी है। आगामी बीस दिनों तक सौर धूमकेतु छत पर सौर पैनलों से होनेवाले फायदों के बारे में जागरूकता पैदा करने के लिए दिल्ली के विभिन्न रेसिडेंस वेलफेयर एसोसिएशन (आर डब्लू ए) के साथ बातचीत करने पूरे शहर का दौरा करेगा।

ग्रीनपीस इंडिया की जलवायु और ऊर्जा कैंपेनर पुजारिनी सेन का कहना है, “दिल्ली सरकार पिछले साल सौर ऊर्जा नीति लेकर आई थी। लेकिन तरह-तरह के लाभ दिए जाने के वायदे के बावजूद दिल्ली के अधिकांश लोगों ने इसके बारे में सोचा ही नहीं है। इसलिए आवासीय इलाकों में इसका विस्तार नहीं के बराबर हुआ है।

दिल्ली की कुल सौर क्षमता 2500 मेगावाट है जिसमें 1250 मेगावाट सौर ऊर्जा छत से मिल सकती है। राज्य सरकार का 2020 तक का सौर ऊर्जा का अधिकारिक लक्ष्य 1000मेगावाट है और 2025 तक इसे बढ़ाकर 2000 मेगावाट करने की है। लेकिन दिसबंर 2016 तक मात्र 35.9 मेगावाट सौर ऊर्जा ही स्थापित किया जा सका है और 2016 के मार्च तक तो सिर्फ मेगावाट सौर ऊर्जा ही आवासीय इलाकों से उत्पादन होता था।  

पुजारिनी सेन कहती हैं, “हम आशा करते हैं कि सौर ऊर्जा से सुसज्जित बस अधिक से अधिक लोगों को सौर ऊर्जा की तरफ कदम बढ़ाने में मदद करेगा। आर डब्लू ए के साथ जब हमारी शुरूआती बातचीत हो रही थी तो हमें ऐसा लगा कि सौर ऊर्जा के बारे में कई गलतफहमियां हैं जिसे खत्म करने  की जरूरत है। एक व्यापक मान्यता यह है कि रूफटॉप सौर ऊर्जा के लिए बहुत अधिक पूंजी की जरूरत पड़ती है जबकि हकीकत यह है कि राज्य और केन्द्र सरकार द्वारा दिए जा रहे लाभ को मिला दिया जाए तो अब यह कोई समस्या ही नहीं रह गई है।



पुजारिनी बताती हैं कि दिल्ली में नवीन और नवीकरणीय ऊर्जा मंत्रालय (एमएनआरई) द्वारा 30 फीसदी का प्रोत्साहन राशि मिलती है। इसके अलावा सौर ऊर्जा पर आनेवाले कुल खर्च पर पचास फीसदी तक का ऋृण लिया जा सकता है। इसके साथ-साथनेट मीटरिंग के माध्यम से ग्रिड कनेक्टिविटी उपभोक्ताओं को मुख्य ग्रिड से उत्पन्न अतिरिक्त बिजली की बिक्री और अपने बिजली के बिल को बचाने की अनुमति भी देता है। चार से पांच वर्षों के बीच उपभोक्ता अपना पैसा वसूल कर सकता है। जबकि सोलर पैनल का जीवन 25 वर्षों तक होता है और रखरखाव पर न्युनतम खर्चा है।

अपार्टमेंट्स में रहनेवालों के लिए सबसे बड़ी समस्या छत पर अधिकार को लेकर होता है कि छत पर किसका अधिकार है क्योंकि समान्यतया जो परिवार टॉप फ्लॉर पर रहते हैं छत का स्वामित्व उसी का होता है। पुजारिनी दिल्ली के अलकन्दा के ऋृषि अपार्टमेंट्स का उदाहरण देते हुए बताती हैं, “ऐसे मामलों में आर डब्लू ए कॉलनी के कॉमन एरिया में एक सौर ऊर्जा प्रणाली स्थापित करने का सामूहिक निर्णय ले सकते हैं जहां के लोगों ने 21 केडब्लूपी सिस्टम स्थापित करने का वायदा किया है।

पुजारिनी कहती हैं, “हमें सिर्फ दिमाग खुला रखने की जरूरत है। रूफटॉप ऊर्जा कोयला से उत्पन्न होने वाली बिजली का अनुकुल विकल्प है जो पर्यावरण के लिए हितकर है। यह बार-बार साबित हुआ है कि थर्मल विद्युत संयंत्र सबसे अधिक वायु प्रदूषण फैलाता है और इससे हर साल तकरीबन 12 लाख लोगों की मौत होती है। दिल्ली हमारे देश का सबसे प्रदूषित शहर है अगर हम सौर ऊर्जा की तरफ कदम बढ़ाते हैं तो एक छोटी सी पहलकदमी से हम शहर की अावोहवा में बेहतर ढ़ंग से सांस ले पाएगें।

Contact information:
Pujarini Sen, Climate and Energy campaigner, Greenpeace India: 8586016050; pujarini.sen@greenpeace.org
Avinash Chanchal, avinash.kumar@greenpeace.org , 8882153664

2 comments:

  1. Nice post ... keep sharing this kind of article with us......visit www.dialusedu.blogspot.in for amazing posts ......jo sayad hi aapne kbhi padhe ho.....ek bar jarur visit kren

    ReplyDelete
  2. this is fantastic, i love to read it throughout with lots of interest!! thanks for sharing it..

    ReplyDelete

आप के विचार!

विविधा

आओ प्यारे कम्प्युटर पर बाघ बचायें!
अरूणेश सी दवे, जहाँ तक रही बात प्रबुद्ध बाघ प्रेमियों की जो नचनियों की तरह सज-धज कर जंगल कम इन्टरनेट पर ज्यादा अवतरित होते हैं, तो उनके लिये मै इंटरनेट मे वर्चुअल अबुझमाड़ बनाने का प्रयास कर रहा हूं । ताकि वो अपनी कोरी कल्पनाओं और वर्चुअल प्रयासों को इस आभासी दुनिया में जाहिर कर अपनी ई-कीर्ति बढ़ा सकें।

सामुदायिक पक्षी सरंक्षण
पक्षियों के संरक्षण का जीवन्त उदाहरण: ग्राम सरेली कृष्ण कुमार मिश्र, लखीमपुर खीरी* उन्नीसवी सदी की शुरूवात में ब्रिटिश हुकूमत के एक अफ़सर को लहूलुहान कर देने से यह गाँव चर्चा में आया मसला था।
तो फ़िर उनसे सीखा हमने योग!
धीरज वशिष्ठ* 84 लाख प्रजातियां और 84 लाख योगासन: पक्षियों-जानवरों से सीखा हमने आसन: धार्मिक चैनलों और बाबा रामदेव के कार्यक्रमों ने आज योग को घर-घर तक पहुंचा दिया है।
नही रहा सुमित!
दुधवा लाइव डेस्क* हाँ हम बात कर रहे है उस हाथी कि जो दो मई २०१० को लखनऊ चिड़ियाघर से दुधवा नेशनल पार्क भेजा गया था! वजह साफ़ थी, कि अब वह बूढ़ा हो गया था