डायचे वेले जर्मनी द्वारा अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार "द बॉब्स" से सम्मानित पत्रिका "दुधवा लाइव"

International Journal of Environment & Agriculture, Vol.7, no 04, April 2017, ISSN 2395-5791

"किसी राष्ट्र की महानता और नैतिक प्रगति को इस बात से मापा जाता है कि वह अपने यहां जानवरों से किस तरह का सलूक करता है"- मोहनदास करमचन्द गाँधी

Apr 4, 2017

World Migratory Bird Day 2017 - "Their Future is Our Future"


World Migratory Bird Day 2017 - "Their Future is Our Future - A Healthy Planet for Migratory Birds and People"

Join the celebration of a great natural wonder on World Migratory Bird Day! Take action and celebrate, conserve and raise awareness of migratory birds on or around 10 May 2017 by organizing educational programmes, lectures, bird walks, visits to bird-watching sites, competitions, art exhibitions and other public events.

For more than ten years now, World Migratory Bird Day (WMBD) has raised awareness about the need for conservation of migratory birds and their habitats, about the threats they face, their ecological importance, and about the need for international cooperation to conserve them. Every year people across the planet take action and organize public events such as bird festivals, education programmes, exhibitions and bird-watching excursions to celebrate WMBD. The main day for the international celebrations is 10 May, but activities can also be undertaken at any time of the year when the regional peak of migrations takes place.

With the 2017 theme "Their Future is our Future - A healthy planet for migratory birds and people", World Migratory Bird Day 2017 will throw light on the topic of "Sustainable Development for Wildlife and People". The 2017 theme is linked to the UN Sustainable Development Goals and highlights the interdependence of people and nature, and more specifically people and migratory birds, as they share the same planet and the same limited resources. Human activity can have a negative impact on birds' migration, while humankind relies on birds in many ways. The 2017 campaign will aim at raising awareness of the need for sustainable management of our natural resources, demonstrating that bird conservation is also crucial for the future of humankind.

Let's work together to conserve migratory birds and their habitats worldwide! And don't forget,

Their Future is Our Future!

What is World Migratory Bird Day?
World Migratory Bird Day was initiated in 2006 and is an annual awareness-raising campaign highlighting the need for the conservation of migratory birds and their habitats. It is jointly organized by the Secretariats of the Convention on the Conservation of Migratory Species of Wild Animals (CMS) and the Agreement on the Conservation of African-Eurasian Migratory Waterbirds (AEWA) - two international wildlife treaties administered by UN Environment - and a growing number of partners.

Contact:
contact@worldmigratorybirdday.org
www.worldmigratorybirdday.org
#WorldMigratoryBirdDay 
 

0 comments:

Post a Comment

आप के विचार!

विविधा

आओ प्यारे कम्प्युटर पर बाघ बचायें!
अरूणेश सी दवे, जहाँ तक रही बात प्रबुद्ध बाघ प्रेमियों की जो नचनियों की तरह सज-धज कर जंगल कम इन्टरनेट पर ज्यादा अवतरित होते हैं, तो उनके लिये मै इंटरनेट मे वर्चुअल अबुझमाड़ बनाने का प्रयास कर रहा हूं । ताकि वो अपनी कोरी कल्पनाओं और वर्चुअल प्रयासों को इस आभासी दुनिया में जाहिर कर अपनी ई-कीर्ति बढ़ा सकें।

सामुदायिक पक्षी सरंक्षण
पक्षियों के संरक्षण का जीवन्त उदाहरण: ग्राम सरेली कृष्ण कुमार मिश्र, लखीमपुर खीरी* उन्नीसवी सदी की शुरूवात में ब्रिटिश हुकूमत के एक अफ़सर को लहूलुहान कर देने से यह गाँव चर्चा में आया मसला था।
तो फ़िर उनसे सीखा हमने योग!
धीरज वशिष्ठ* 84 लाख प्रजातियां और 84 लाख योगासन: पक्षियों-जानवरों से सीखा हमने आसन: धार्मिक चैनलों और बाबा रामदेव के कार्यक्रमों ने आज योग को घर-घर तक पहुंचा दिया है।
नही रहा सुमित!
दुधवा लाइव डेस्क* हाँ हम बात कर रहे है उस हाथी कि जो दो मई २०१० को लखनऊ चिड़ियाघर से दुधवा नेशनल पार्क भेजा गया था! वजह साफ़ थी, कि अब वह बूढ़ा हो गया था

पर्यावरण

क्या वे राज धर्म से वाकिफ़ हैं!
कृष्ण कुमार मिश्र* भारत के कुछ पूर्व नेताओं ने मिसाले कायम की पर्यावरण व वन्य-जीव संरक्षण में

अबूझमाड़ के जंगल- जहाँ बाघ नही नक्सल राज करते हैं!
अरूणेश सी दवे* अबूझमाड़- एक प्राकृतिक स्वर्ग:

मुद्दा

क्या खत्म हो जायेगा भारतीय बाघ
कृष्ण कुमार मिश्र* धरती पर बाघों के उत्थान व पतन की करूण कथा:

दुधवा में गैडों का जीवन नहीं रहा सुरक्षित
देवेन्द्र प्रकाश मिश्र* पूर्वजों की धरती पर से एक सदी पूर्व विलुप्त हो चुके एक सींग वाले भारतीय गैंडा

हस्तियां

पदम भूषण बिली अर्जन सिंह
दुधवा लाइव डेस्क* नव-वर्ष के पहले दिन बाघ संरक्षण में अग्रणी भूमिका निभाने वाले महा-पुरूष पदमभूषण बिली अर्जन सिंह

एक ब्राजीलियन महिला की यादों में टाइगरमैन बिली अर्जन सिंह
टाइगरमैन पदमभूषण स्व० बिली अर्जन सिंह और मैरी मुलर की बातचीत पर आधारित इंटरव्यू:

Featured Post

क्षमा करो गौरैया...

Image Courtesy: Sue Van Coppenhagen  संस्मरण गौरैया और मैं -- (3) ....डा0 शशि प्रभा बाजपेयी बात उस समय की है जब घर के नाम पर ...

वन्य-जीव

भारत की वन-नीति में बदलाव आवश्यक
देवेन्द्र प्रकाश मिश्र* आजादी के बाद बनी भारतीय वन-नीति की समीक्षा वर्ष 1988 में की गई थी।

घायल तेन्दुए को जंगल में छोड़ा गया
दुधवा लाइव डेस्क* अधूरे इलाज के बाद जंगल में छोड़ा गया घायल तेन्दुआ!