डायचे वेले जर्मनी द्वारा अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार "द बॉब्स" से सम्मानित पत्रिका "दुधवा लाइव"

International Journal of Environment & Agriculture, Vol.7, no 06, June 2017, ISSN 2395-5791

"किसी राष्ट्र की महानता और नैतिक प्रगति को इस बात से मापा जाता है कि वह अपने यहां जानवरों से किस तरह का सलूक करता है"- मोहनदास करमचन्द गाँधी

Apr 6, 2017

एक ऐसी जगह जहाँ सब कुछ केले का...




बनाना एग्रो रिजॉर्ट टीकापुर नेपाल

केले की खेती के साथ साथ पर्यटन का भी व्यवसाय

केले में मौजूद हैं रेडियोएक्टिव पोटैशियम-40 

यदि आप केला खा रहें है तो आप रेडियोएक्टिव पोटैशियम-40 भी खा रहे हैं! सोचिए!

सुदूर पश्चिम नेपाल देश के कैलाली जनपद के टीकापुर में एक जगह ऐसी है जो आप के मन को कौतूहल से भर देगी, ग्रामीण इलाके में केले के बागानों के मध्य एक रिजॉर्ट, जी हाँ यह शायद भारत-नेपाल या शायद दुनिया में पहली जगह होगी जहां किसान टूरिज्म को बढ़ावा दे रहे हैं, वह भी एक केले की प्रजाति की दम पर, ग्रामीण क्षेत्रों में अनेक जगहें हैं जहाँ टूरिज्म की व्यवस्था हैं, किन्तु कृषि के साथ वह भी सिर्फ केले को आधार पर यह पर्यटन व्यवसाय अनूठा और अप्रतिम हैं, कहते हैं रचनात्मकता कहीं भी किसी भी इंसान के मस्तिष्क में उपज सकती है, जिसका उदाहरण नेपाल की इस छोटी से जगह टीकापुर का यह "बनाना एग्रो रिजॉर्ट" है.

भारत में कृषि की उन्नत तकनीक और उपजाऊ कृषि भूमियां हैं, जहाँ किसान खेती के साथ ग्रामीण पर्यटन का व्यवसाय कर सकते हैं, थोड़ी लगन और म्हणत किसी के भी गाँव की खेती किसानी की जमीन को कृषिकार्य के साथ साथ टूरिज्म में भी पैसा कमाने का जरिया बन सकती है.



टीकापुर नेपाल -धनगढी से पूर्व चीसा-पानी वाले राजमार्ग पर लगभग ५० किलोमीटर दूर चलने पर सड़क से दक्षिण कुछ मील के फासले पर ग्रामीण अंचल में यह बनाना फ़ार्म और बनाना एग्रो रिजॉर्ट स्थित है, भारत की तराई में बसे जनपद लखीमपुर खीरी की इंडो नेपाल सरहद में तिकुनिया से तो यह रिजॉर्ट बहुत ही नज़दीक है, यहाँ की खासियत यह है की इनके रेस्तरा में  आपको खाने के लिये जो भी मिलेगा वह केले का ही बना होगा यहाँ तक चाय काफी को छोड़कर आप को पीने के लिए केले से बनी वाइन, केले की लस्सी, केले की ब्रांडी, केले का जूस, अब आइए खाने की वस्तुओं पर तो यहाँ केले की टिक्की, केले का पनीर, केले के पराठे, केला चिली, केला सूप, केले का सलाद, बनाना मोमो, केले की पकौड़ी, केले का अचार और न जाने कितनी केले की रेसिपी आप को यहाँ मिल जाएंगी, ठहरने के लिए डिजायन की हुई हट, और बैठने के लिए केले के बगीचे में बहुत दूर में फैला हुआ यह रिजॉर्ट आरामदायक कुर्सियों और ममेजों से सुसज्जित है, केले के जंगल में बैठकर केले से ही बनी चीजों का स्वाद लेना अपने आप में एक अद्भुत एहसास दिलाता है, और हाँ यहाँ केले से बने हस्तशिल्प को देख व् खरीद भी सकते है.

नेपाल के व्यवसायी कालू हमाल इस रिजॉर्ट के मालिक हैं, बहुत काम जमीन में कुछ केले के पौधों के साथ इन्होंने यह रिजॉर्ट बनाया जो अब पूरे नेपाल में प्रसिद्द, मिस्टर कालू हमाल कभी इंस्टिट्यूट ऑफ़ एग्रीकल्चर एन्ड एनीमल साइंस से भी सम्बद्ध रहे. इनका यह प्रयोग भारत में भी किसानों को एक नई दिशा दे सकता है.

केले से हर भारतीय अच्छी तरह से वाकिफ है, केले के पौधे को वृहस्पति और विष्णु भगवान् के रूप में माना जाता है, ये केला दक्षिण भारत और उत्तर भारत की वैवाहिक व् धार्मिक आयोजनों में इस्तेमाल होता है, इसकी उत्पत्ति भारत मलाया क्षेत्र में मानी जाती है, लीनियस ने सर्व प्रथम इसका नामकरण किया और नाम रखा मूसा सैपिएंटम, जो की अगस्तस के डाक्टर एंटोनियस मूसा के नाम पर था, केले की दो जंगली प्रजातियां मूसा एक्युमिनिटा और मूसा बैलबिसियाना है, इन प्रजातियों में केले के फल के अंदर बड़े बड़े कठोर बीज होते है, इन्हें क्रास कराकर वैज्ञानिकों ने मूसा पैराडिसियइका जैसी प्रजाति बनाई,  मूसा (केला) जीनस  में अभी तक ७० प्रजातियां खोजी जा चुकी हैं किन्तु आनुवंशिक पद्धतियों से संम्वर्धित केले की अब तमाम उन्नत किस्में उपलब्ध है, किन्तु शुरुवाती दौर में ये केला दो मुख्य किस्मों में आम जनमानस में जाना जाता था एक को लोग बनाना कहते थे जिसके पके फल खाने में इस्तेमाल करते थे और दुसरे को प्लैनटेन्स कहते है जो पकाकर सब्जी के तौर पर खाया जाता है, मगर यह विभेद सिर्फ आम जनमानस में सामाजिक है, वैज्ञानिक नही.

केले में पोटैशियम की अच्छी मात्रा होती है साथ ही इसमें कुछ मात्रा में आइसोटोप पोटैशियम-४० भी मौजूद होता है,  इसलिए आप केले को रेडियोएक्टिव फल भी कह सकते हैं, और जब आप केला खा रहे होते हैं तो आप रेडियोएक्टिव पोटैशियम-४० भी खा रहे होते हैं, पर घबराने की जरुरत नही, प्रकृति में सभी तत्व जरुरी हैं, और अन्य कई फलों और सब्जियों में भी होते है, रेडियोएक्टिविटी एक निश्चित मात्रा में वनस्पतियों में मौजूद है, इसलिए यदि एक दिन में आप एक करोड़ केला खा लेंगे तभी यह रेडियो एक्टिव तत्व आप को नुक्सान पहुंचाएंगा ! अन्यथा नही, केला विटामिन सी, विटामिन बी ६, विटामिन दी और कार्बोहायड्रेट का बेहतर स्रोत है, फाइबर मौजूद होने की वजह से यह स्वास्थ्य के लिए भी गज़ब का फल है. केला पोषक तत्वों से तो भरपूर है ही, औषधि के रूप में भी इसका इस्तेमाल होता है, केले की पत्तियां और फूल, सूजन, दर्द और केले का फल पेट की बीमारियों में फायदेमंद है, केले के तने के मध्यभाग के रस से पथरी का इलाज़ और डायबिटीज में मुफीद बताया गया है. पारम्परिक औषधियों में केले के फूल को पकाकर खाने से डायबटीज, अल्सर, पेचिस, जैसी बीमारियों में लाभप्रद बताया गया है. 

नेपाल के इस बनाना रिजार्ट के किस्से के अतरिक्त दुनिया में केले को लेकर बहुत सी कहानियाँ है, इनमे से एक है बनाना म्यूजियम वाशिंगटन अमरीका में जहाँ बनाना से जुडी आप 4000 वस्तुएं देख सकते हैं.





कृष्ण कुमार मिश्र 
मैनहन-26272701 
भारत 
krishna.manhan@gmail.com 









0 comments:

Post a Comment

आप के विचार!

विविधा

आओ प्यारे कम्प्युटर पर बाघ बचायें!
अरूणेश सी दवे, जहाँ तक रही बात प्रबुद्ध बाघ प्रेमियों की जो नचनियों की तरह सज-धज कर जंगल कम इन्टरनेट पर ज्यादा अवतरित होते हैं, तो उनके लिये मै इंटरनेट मे वर्चुअल अबुझमाड़ बनाने का प्रयास कर रहा हूं । ताकि वो अपनी कोरी कल्पनाओं और वर्चुअल प्रयासों को इस आभासी दुनिया में जाहिर कर अपनी ई-कीर्ति बढ़ा सकें।

सामुदायिक पक्षी सरंक्षण
पक्षियों के संरक्षण का जीवन्त उदाहरण: ग्राम सरेली कृष्ण कुमार मिश्र, लखीमपुर खीरी* उन्नीसवी सदी की शुरूवात में ब्रिटिश हुकूमत के एक अफ़सर को लहूलुहान कर देने से यह गाँव चर्चा में आया मसला था।
तो फ़िर उनसे सीखा हमने योग!
धीरज वशिष्ठ* 84 लाख प्रजातियां और 84 लाख योगासन: पक्षियों-जानवरों से सीखा हमने आसन: धार्मिक चैनलों और बाबा रामदेव के कार्यक्रमों ने आज योग को घर-घर तक पहुंचा दिया है।
नही रहा सुमित!
दुधवा लाइव डेस्क* हाँ हम बात कर रहे है उस हाथी कि जो दो मई २०१० को लखनऊ चिड़ियाघर से दुधवा नेशनल पार्क भेजा गया था! वजह साफ़ थी, कि अब वह बूढ़ा हो गया था

पर्यावरण

क्या वे राज धर्म से वाकिफ़ हैं!
कृष्ण कुमार मिश्र* भारत के कुछ पूर्व नेताओं ने मिसाले कायम की पर्यावरण व वन्य-जीव संरक्षण में

अबूझमाड़ के जंगल- जहाँ बाघ नही नक्सल राज करते हैं!
अरूणेश सी दवे* अबूझमाड़- एक प्राकृतिक स्वर्ग:

मुद्दा

क्या खत्म हो जायेगा भारतीय बाघ
कृष्ण कुमार मिश्र* धरती पर बाघों के उत्थान व पतन की करूण कथा:

दुधवा में गैडों का जीवन नहीं रहा सुरक्षित
देवेन्द्र प्रकाश मिश्र* पूर्वजों की धरती पर से एक सदी पूर्व विलुप्त हो चुके एक सींग वाले भारतीय गैंडा

हस्तियां

पदम भूषण बिली अर्जन सिंह
दुधवा लाइव डेस्क* नव-वर्ष के पहले दिन बाघ संरक्षण में अग्रणी भूमिका निभाने वाले महा-पुरूष पदमभूषण बिली अर्जन सिंह

एक ब्राजीलियन महिला की यादों में टाइगरमैन बिली अर्जन सिंह
टाइगरमैन पदमभूषण स्व० बिली अर्जन सिंह और मैरी मुलर की बातचीत पर आधारित इंटरव्यू:

Featured Post

क्षमा करो गौरैया...

Image Courtesy: Sue Van Coppenhagen  संस्मरण गौरैया और मैं -- (3) ....डा0 शशि प्रभा बाजपेयी बात उस समय की है जब घर के नाम पर ...

वन्य-जीव

भारत की वन-नीति में बदलाव आवश्यक
देवेन्द्र प्रकाश मिश्र* आजादी के बाद बनी भारतीय वन-नीति की समीक्षा वर्ष 1988 में की गई थी।

घायल तेन्दुए को जंगल में छोड़ा गया
दुधवा लाइव डेस्क* अधूरे इलाज के बाद जंगल में छोड़ा गया घायल तेन्दुआ!