International Journal of Environment & Agriculture
ISSN 2395 5791
"किसी राष्ट्र की महानता और नैतिक प्रगति को इस बात से मापा जाता है कि वह अपने यहां जानवरों से किस तरह का सलूक करता है"- मोहनदास करमचन्द गाँधी

जर्मनी द्वारा अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार "द बॉब्स" से सम्मानित पत्रिका "दुधवा लाइव"

Nov 17, 2015

अमेरिका में खीरी जनपद का नाम रौशन किया सतपाल सिंह ने

"नेचर'स बेस्ट फोटोग्राफी एशिया अवार्ड्स 2015"

'लैंडस्केप’ श्रेणी में मिला प्रथम पुरस्कार व स्माल वर्ल्ड कैटेगरी में "हाइली आनर्ड विनर"

छह वर्ष के फोटोग्राफी करियर में पैंतीस राष्ट्रीय व अंतर्राष्ट्रीय स्तर के पुरस्कार जीत चुके हैं
देश के युवा वाइल्डलाइफ फोटोग्राफर सतपाल सिंह को अमेरिका सरकार के स्मिथसोनियन नेचुरल हिस्ट्री म्यूजियम ने नेचर फोटोग्राफी के लिए  प्रथम पुरस्कार देकर  सम्मानित किया। दुनिया के सबसे प्रतिष्ठित वाइल्डलाइफ फोटोग्राफी पुरस्कारों में से एक  "नेचर'स बेस्ट फोटोग्राफी एशिया अवार्ड्स 2015" में सतपाल के द्वारा खींची तस्वीर को लैंडस्केप डिवीज़न में "प्रथम पुरुस्कार" व स्माल वर्ल्ड कैटेगरी में एक तस्वीर  को "हाइली आनर्ड विनर" के लिए पुरस्कृत किया गया है। 


सतपाल उन पांच चयनित एशियाई विजेताओं में से एक थे जिन्हे यह सम्मान १२ नवम्बर की रात स्मिथसोनियन म्यूज़ियम, वाशिंगटन में जापान के सार्वजानिक मामलो के मंत्री व एम्बेसी प्रवक्ता श्री  मसातो ओटाका के हाथो दिया गया।  इस सम्मान  में सतपाल को पुरस्कार के साथ 1000 डॉलर (करीब पैंसठ हजार) की राशि देकर सम्मानित किया जायेगा।


ज्ञात हो कि इस प्रतियोगिता का आयोजन नेचर'स बेस्ट फोटोग्राफी पत्रिका,अमेरिका व  स्मिथसोनियन नेचुरल हिस्ट्री म्यूजियम, वाशिंगटन डी सी , अमेरिका द्वारा किया जाता है। 
स्मिथसोनियन  नेचुरल हिस्ट्री म्यूजियम दुनिया का सबसे अत्याधिक भ्रमड़ किये जाने वाला नेचुरल हिस्ट्री म्यूजियम है।  प्रत्येक वर्ष इस म्यूजियम को देखने पूरे विश्व से करीब सात मिलियन (70 लाख) लोग पहुँचते है।


इस वर्ष सभी एशियाई देशों से पाँच वर्गों में पांच "कैटेगरी विनर्स" (प्रथम पुरस्कार) व 25 "हाइली आनर्ड विनर्स" चुने गए। इस वर्ष प्रथम पुरस्कार के लिए सतपाल सिंह व दो अन्य भारतीय सुयश केशरी तथा प्रमोद सी एल व अन्य देशों से तेत्सुजी अकिमोतो- जापान तथा मिंघु युआन -चाइना से चुने गए। भारतीय विजेताओं में सतपाल का प्रदर्शन सर्वश्रेष्ठ रहा क्योंकि उन्हें एक प्रथम पुरस्कार के साथ ही "हाइली आनर्ड विनर" के लिए भी चुना गया।


सतपाल की तस्वीर समेत सभी पुरस्कृत तस्वीरों को करीब एक वर्ष के लिए स्मिथसोनियन म्यूजियम में लगाया जायेगा तथा योकोहामा, जापान में अगस्त 2016 में प्रदर्शित किया जायेगा तथा भारत समेत कुछ  अन्य एशियाई देशों में भी प्रदर्शनी लगाने पर विचार किया जा रहा है।

अब तक भारत समेत अमेरिका, इंग्लैंड, ऑस्ट्रेलिया, फ़्रांस, ग्रीस, सिंगापुर, रूस, मलेशिआ आदि देशों में करीब पैंतीस राष्ट्रीय व अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार जीत चुके सतपाल कई बार देश को गौरान्वित कर चुके हैं। कुछ माह पूर्व फ़्रांस में प्रतिष्ठित पर्यावरण फोटोग्राफी पुरस्कार "मेलवीटा नेचर इमेजेस अवार्ड्स 2014" में पूरे विश्व से 36 फोटोग्राफर्स चुने गए थे जिसमे एशिया से एक मात्र विजेता फोटोग्राफर सतपाल सिंह ही थे।
युवा फोटोग्राफर सतपाल सिंह उत्तर प्रदेश के लखीमपुर जिले के अलीनगर गांव के रहने वाले हैं। उनके पिता जसवंत सिंह  खेती करते हैं।

पच्चीस वर्षीय सतपाल कहते हैं यह सम्मान पाना मेरे लिए कई मायनो में खास है और मुझे यह कहते हुए बहुत ख़ुशी है की  इसे प्राप्त करके मुझे देश का गौरव बढ़ाने व नेतृत्व करने का मौका मिला। 

दुधवा लाइव डेस्क 

1 comment:

  1. A heartly Congrats to Mr Satpal for your hard work...

    Congrats again for making India glorious...

    ReplyDelete

आप के विचार!

विविधा

आओ प्यारे कम्प्युटर पर बाघ बचायें!
अरूणेश सी दवे, जहाँ तक रही बात प्रबुद्ध बाघ प्रेमियों की जो नचनियों की तरह सज-धज कर जंगल कम इन्टरनेट पर ज्यादा अवतरित होते हैं, तो उनके लिये मै इंटरनेट मे वर्चुअल अबुझमाड़ बनाने का प्रयास कर रहा हूं । ताकि वो अपनी कोरी कल्पनाओं और वर्चुअल प्रयासों को इस आभासी दुनिया में जाहिर कर अपनी ई-कीर्ति बढ़ा सकें।

सामुदायिक पक्षी सरंक्षण
पक्षियों के संरक्षण का जीवन्त उदाहरण: ग्राम सरेली कृष्ण कुमार मिश्र, लखीमपुर खीरी* उन्नीसवी सदी की शुरूवात में ब्रिटिश हुकूमत के एक अफ़सर को लहूलुहान कर देने से यह गाँव चर्चा में आया मसला था।
तो फ़िर उनसे सीखा हमने योग!
धीरज वशिष्ठ* 84 लाख प्रजातियां और 84 लाख योगासन: पक्षियों-जानवरों से सीखा हमने आसन: धार्मिक चैनलों और बाबा रामदेव के कार्यक्रमों ने आज योग को घर-घर तक पहुंचा दिया है।
नही रहा सुमित!
दुधवा लाइव डेस्क* हाँ हम बात कर रहे है उस हाथी कि जो दो मई २०१० को लखनऊ चिड़ियाघर से दुधवा नेशनल पार्क भेजा गया था! वजह साफ़ थी, कि अब वह बूढ़ा हो गया था