डायचे वेले जर्मनी द्वारा अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार "द बॉब्स" से सम्मानित पत्रिका "दुधवा लाइव"

International Journal of Environment & Agriculture, Vol.7, no 05, May 2017, ISSN 2395-5791

"किसी राष्ट्र की महानता और नैतिक प्रगति को इस बात से मापा जाता है कि वह अपने यहां जानवरों से किस तरह का सलूक करता है"- मोहनदास करमचन्द गाँधी

May 10, 2013

जर्मनी में दुधवा लाइव ने जीता खिताब "द बॉब्स "




डायचे वेले जर्मनी द्वारा "द बॉब्स " पुरस्कारों की श्रंखला में हिन्दी में "अनुशरण करने लायक बेहतरीन व्यक्ति" की श्रेणी में दुधवा लाइव अव्वल:


दुनिया के बड़े मीडिया संस्थानों में एक डायचे वेले जर्मनी द्वारा विश्व भर की तमाम भाषाओं में उत्कृष्ट लेखन के लिए "द बॉब्स "पुरस्कारों की शुरूवात सन २००४ में की, इस सिलसिले में सन २०१३ में १४ भाषाओं को शामिल किया गया.  इन भाषाओं में विभिन्न जमीनी मसायल पर काम करने वाले लोगों के वेबसाईट/ब्लॉग्स/ अन्य सोशल मीडिया जो बेहतरीन सूचनाओं के प्रसार में अपने सहयोग दे रहे है, उनके नामांकन डायचे वेले द्वारा तय जूरी के माध्यम से हुआ. अंतिम चरण में जूरी व् वोटों के जरिये विजेताओं की घोषणा की गयी. इस बार "द बॉब्स" पुरस्कारों के लिए १४ भाषाओं में ४२०० वेबसाईट/ब्लॉग्स नामांकित हुए, जिनमें अंतिम चरण में ३६५ वेबसाईट/ब्लाग्स का नामांकन जूरी के जरिये किया गया. तमाम मुद्दों पर चलाये जा रहे दिलचस्प अभियानों वाली ४० वेबसाईट व् ब्लाग्स को जूरी व् वोटों के आधार पर विजेता बनाया गया. इन पुरस्कारों को ३५ श्रेणियों में विभाजित किया गया. सबसे खूबसूरत बात ये कि हिन्दी को द बॉब्स पुरस्कारों के लिए इस वर्ष २०१३ में पहली बार शामिल किया गया.


दुनिया की १४ भाषाओं के सभी विजेताओं की सूची देखने के लिए यहाँ क्लिक करे!


आखिरकार इंटरनेट मीडिया का आस्कर कहे जाने वाले डायचे वेले द्वारा आयोजित अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार "द बॉब्स" के जरिये जर्मनी में अपनी हिन्दी हुई सम्मानित.

दुधवा लाइव को मिले इस सम्मान के हक़दार वो सभी मित्र, लेखक व् पाठक है, जिन्होंने पर्यावरण सरंक्षण में चलाई गयी हमारी मुहिमों में हमारे साथ-साथ रहे. सभी को आभार!

शुक्रिया डायचे वेले, हमारी हिन्दी और हमारी आवाज को सम्मानित करने के लिए, वह आवाज जो प्रकृति के लिए है.

इसे भी देखे यहाँ क्लिक करे.


दुधवा लाइव डेस्क

2 comments:

आशीष सागर said...

Wish u Dudhwalive.com Team I hop your network continue fightback for save nature and earth...best wish

rupal ajabe said...

dudhwalive, usake lekhakon aur aapke saarthak prayaas ko anant shubhkaamnaaein!!!...iske maadhyam se prakriti aur maanavata ko bachaane ka shubh karya hamesha hota rahega yahi aasha aur apeksha hai!!!...Badhaai!!...

Post a Comment

आप के विचार!

विविधा

आओ प्यारे कम्प्युटर पर बाघ बचायें!
अरूणेश सी दवे, जहाँ तक रही बात प्रबुद्ध बाघ प्रेमियों की जो नचनियों की तरह सज-धज कर जंगल कम इन्टरनेट पर ज्यादा अवतरित होते हैं, तो उनके लिये मै इंटरनेट मे वर्चुअल अबुझमाड़ बनाने का प्रयास कर रहा हूं । ताकि वो अपनी कोरी कल्पनाओं और वर्चुअल प्रयासों को इस आभासी दुनिया में जाहिर कर अपनी ई-कीर्ति बढ़ा सकें।

सामुदायिक पक्षी सरंक्षण
पक्षियों के संरक्षण का जीवन्त उदाहरण: ग्राम सरेली कृष्ण कुमार मिश्र, लखीमपुर खीरी* उन्नीसवी सदी की शुरूवात में ब्रिटिश हुकूमत के एक अफ़सर को लहूलुहान कर देने से यह गाँव चर्चा में आया मसला था।
तो फ़िर उनसे सीखा हमने योग!
धीरज वशिष्ठ* 84 लाख प्रजातियां और 84 लाख योगासन: पक्षियों-जानवरों से सीखा हमने आसन: धार्मिक चैनलों और बाबा रामदेव के कार्यक्रमों ने आज योग को घर-घर तक पहुंचा दिया है।
नही रहा सुमित!
दुधवा लाइव डेस्क* हाँ हम बात कर रहे है उस हाथी कि जो दो मई २०१० को लखनऊ चिड़ियाघर से दुधवा नेशनल पार्क भेजा गया था! वजह साफ़ थी, कि अब वह बूढ़ा हो गया था

पर्यावरण

क्या वे राज धर्म से वाकिफ़ हैं!
कृष्ण कुमार मिश्र* भारत के कुछ पूर्व नेताओं ने मिसाले कायम की पर्यावरण व वन्य-जीव संरक्षण में

अबूझमाड़ के जंगल- जहाँ बाघ नही नक्सल राज करते हैं!
अरूणेश सी दवे* अबूझमाड़- एक प्राकृतिक स्वर्ग:

मुद्दा

क्या खत्म हो जायेगा भारतीय बाघ
कृष्ण कुमार मिश्र* धरती पर बाघों के उत्थान व पतन की करूण कथा:

दुधवा में गैडों का जीवन नहीं रहा सुरक्षित
देवेन्द्र प्रकाश मिश्र* पूर्वजों की धरती पर से एक सदी पूर्व विलुप्त हो चुके एक सींग वाले भारतीय गैंडा

हस्तियां

पदम भूषण बिली अर्जन सिंह
दुधवा लाइव डेस्क* नव-वर्ष के पहले दिन बाघ संरक्षण में अग्रणी भूमिका निभाने वाले महा-पुरूष पदमभूषण बिली अर्जन सिंह

एक ब्राजीलियन महिला की यादों में टाइगरमैन बिली अर्जन सिंह
टाइगरमैन पदमभूषण स्व० बिली अर्जन सिंह और मैरी मुलर की बातचीत पर आधारित इंटरव्यू:

Featured Post

क्षमा करो गौरैया...

Image Courtesy: Sue Van Coppenhagen  संस्मरण गौरैया और मैं -- (3) ....डा0 शशि प्रभा बाजपेयी बात उस समय की है जब घर के नाम पर ...

वन्य-जीव

भारत की वन-नीति में बदलाव आवश्यक
देवेन्द्र प्रकाश मिश्र* आजादी के बाद बनी भारतीय वन-नीति की समीक्षा वर्ष 1988 में की गई थी।

घायल तेन्दुए को जंगल में छोड़ा गया
दुधवा लाइव डेस्क* अधूरे इलाज के बाद जंगल में छोड़ा गया घायल तेन्दुआ!