International Journal of Environment & Agriculture
ISSN 2395 5791
"किसी राष्ट्र की महानता और नैतिक प्रगति को इस बात से मापा जाता है कि वह अपने यहां जानवरों से किस तरह का सलूक करता है"- मोहनदास करमचन्द गाँधी

जर्मनी द्वारा अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार "द बॉब्स" से सम्मानित पत्रिका "दुधवा लाइव"

Jun 18, 2011

ब्रह्माण्ड में कुछ हुआ है?...

एक खगोलीय घटना-
कृष्ण कुमार मिश्र

१५-१६ जून सन २०११ ई० को एक बेहतरीन खगोलीय घटना का आप सब की तरह मैं भी गवाह बना..यह घटना जब अपने आप को दोहरायेगी तो हम इस स्वरूप? में नही होगें...क्योंकि वक्त वापस लौट कर आता है...इसी लिए इतिहास अपने को दोहराता है, परिस्थितियां और पात्र बदलते हैं!...हम भी शायद बदले हुए हो !  किन्तु इन तस्वीरों के जरिए लखीमपुर खीरी उत्तर प्रदेश से यह चन्द्र ग्रहण की घटना कही न कहीं संकलित रहेगी...इसी विश्वास के साथ यह चित्र-माला आप सब के लिए प्रस्तुत है !
अब ये खगोलीय घटना 131 वर्ष बाद अपने आप को दोहरायेगी....
सभी तस्वीरें लखीमपुर खीरी, उत्तर प्रदेश भारत से ली गयी हैं, इस स्थान की समुन्द्र तल से ऊंचाई 147 मीटर हैं 
  • Latitude : 27.6 to 28.6 (North)
  • Longitude : 80.34 to 81.30 (East)

All images on this web page Copyright © 2011, Krishna Kumar Mishra.  All Rights Reserved.  Contact and Image Use Information at krishna.manhan@gmail.com

5 comments:

  1. Very nicely captured

    ReplyDelete
  2. chand ka bahut intjar kiya aapne....uska fal bhi mila aapko...itni achichi photo mili...bhai wah maja aa gaya

    ReplyDelete
  3. भले ही हिग्स-बोसोन कण ब्रह्माण्ड की पहेली का अंतिम उत्तर न हो। परन्तु उसकी खोज ने परमाणु के मानक नमूने की पहेली को सुलझा दिया है।
    भौतिकी का नोबेल : ईश्वरीय कण के नाम
    http://www.basicuniverse.org/2013/12/Bhautiki-Nobel-2013.html

    ReplyDelete

आप के विचार!

विविधा

आओ प्यारे कम्प्युटर पर बाघ बचायें!
अरूणेश सी दवे, जहाँ तक रही बात प्रबुद्ध बाघ प्रेमियों की जो नचनियों की तरह सज-धज कर जंगल कम इन्टरनेट पर ज्यादा अवतरित होते हैं, तो उनके लिये मै इंटरनेट मे वर्चुअल अबुझमाड़ बनाने का प्रयास कर रहा हूं । ताकि वो अपनी कोरी कल्पनाओं और वर्चुअल प्रयासों को इस आभासी दुनिया में जाहिर कर अपनी ई-कीर्ति बढ़ा सकें।

सामुदायिक पक्षी सरंक्षण
पक्षियों के संरक्षण का जीवन्त उदाहरण: ग्राम सरेली कृष्ण कुमार मिश्र, लखीमपुर खीरी* उन्नीसवी सदी की शुरूवात में ब्रिटिश हुकूमत के एक अफ़सर को लहूलुहान कर देने से यह गाँव चर्चा में आया मसला था।
तो फ़िर उनसे सीखा हमने योग!
धीरज वशिष्ठ* 84 लाख प्रजातियां और 84 लाख योगासन: पक्षियों-जानवरों से सीखा हमने आसन: धार्मिक चैनलों और बाबा रामदेव के कार्यक्रमों ने आज योग को घर-घर तक पहुंचा दिया है।
नही रहा सुमित!
दुधवा लाइव डेस्क* हाँ हम बात कर रहे है उस हाथी कि जो दो मई २०१० को लखनऊ चिड़ियाघर से दुधवा नेशनल पार्क भेजा गया था! वजह साफ़ थी, कि अब वह बूढ़ा हो गया था