International Journal of Environment & Agriculture
ISSN 2395 5791
"किसी राष्ट्र की महानता और नैतिक प्रगति को इस बात से मापा जाता है कि वह अपने यहां जानवरों से किस तरह का सलूक करता है"- मोहनदास करमचन्द गाँधी

जर्मनी द्वारा अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार "द बॉब्स" से सम्मानित पत्रिका "दुधवा लाइव"

Aug 15, 2010

दुधवा में मिला बाघ शावक का पंजा


दुधवा नेशनल पार्क में वन्यजीवों के शिकार की आंशका के बीच पार्क की टीम ने एक शिकारी को दबोचा है। उसके पास से एक शावक का पंजा बरामद हुआ। शिकारी इस पंजे को लेकर नेपाल जा रहा था तभी दुधवा पार्क की सीमा पर पकड़ लिया गया।
शनिवार को दुधवा नेशनल पार्क के उपनिदेशक संजय पाठक को मुखबिर से इस तस्करी की सूचना मिली। पार्क टीमों ने नकौआ पुल के पास शिकारी दिनेश कुमार निवासी लालपुर ढाका की घेराबन्दी की। दिनेश की तलाशी के दौरान बाघ के शावक का पंजा उसकी कमर से बरामद हुआ। पूछताछ में खुलासा हुआ कि २००८ में पलिया रेन्ज के परसपुर नाले से जिस बाघशावक का सड़ा गला शव बरामद हुआ था, यह उसी का है। दुधवा पार्क के उपनिदेशक के मुताबिक, बाघ शावक के शिकार के बाद उसके चारो पंजे काटे गये थे। बाकी पंजे दिनेश के अन्य साथियों के पास बताया जा रहा है। शिकार अभी इन पंजों को बेंच नही पाये हैं। पार्क की टीमों ने बाकी पंजों की बरामदगी के लिए प्रयास तेज कर दिए हैं।
रिमांड पर लेगा वन विभाग

दुधवा पार्क में जिस शिकारी के कब्जे से शाक का पंजा मिला है, उसे वन विभाग ने रिमांड पर लेगा। ई०एफ़०ओ० के०के० सिंह ने कहा कि घतनास्थल उत्तर खीरी में है। दिनेश को रिमांड पर लेकर उसके गिरोह और अन्य साथियों के बारे में पता लगाया जाएगा। शनिवार को डी०एफ़०ओ के के सिंह पूरे दिन पलिया में जमें रहे। इधर डीडी ने भी दिनेश को रिमांड पर लेने की बात कही।

(स्रोत: हिन्दुस्तान लखीमपुर-खीरी)


0 comments:

Post a Comment

आप के विचार!

विविधा

आओ प्यारे कम्प्युटर पर बाघ बचायें!
अरूणेश सी दवे, जहाँ तक रही बात प्रबुद्ध बाघ प्रेमियों की जो नचनियों की तरह सज-धज कर जंगल कम इन्टरनेट पर ज्यादा अवतरित होते हैं, तो उनके लिये मै इंटरनेट मे वर्चुअल अबुझमाड़ बनाने का प्रयास कर रहा हूं । ताकि वो अपनी कोरी कल्पनाओं और वर्चुअल प्रयासों को इस आभासी दुनिया में जाहिर कर अपनी ई-कीर्ति बढ़ा सकें।

सामुदायिक पक्षी सरंक्षण
पक्षियों के संरक्षण का जीवन्त उदाहरण: ग्राम सरेली कृष्ण कुमार मिश्र, लखीमपुर खीरी* उन्नीसवी सदी की शुरूवात में ब्रिटिश हुकूमत के एक अफ़सर को लहूलुहान कर देने से यह गाँव चर्चा में आया मसला था।
तो फ़िर उनसे सीखा हमने योग!
धीरज वशिष्ठ* 84 लाख प्रजातियां और 84 लाख योगासन: पक्षियों-जानवरों से सीखा हमने आसन: धार्मिक चैनलों और बाबा रामदेव के कार्यक्रमों ने आज योग को घर-घर तक पहुंचा दिया है।
नही रहा सुमित!
दुधवा लाइव डेस्क* हाँ हम बात कर रहे है उस हाथी कि जो दो मई २०१० को लखनऊ चिड़ियाघर से दुधवा नेशनल पार्क भेजा गया था! वजह साफ़ थी, कि अब वह बूढ़ा हो गया था