वन्य जीवन एवं पर्यावरण

International Journal of Environment & Agriculture ISSN 2395 5791

Breaking

ये जंगल तो हमारे मायका हैं

बीती सदी में बापू ने कहा था

"किसी राष्ट्र की महानता और नैतिक प्रगति को इस बात से मापा जाता है कि वह अपने यहां जानवरों से किस तरह का सलूक करता है"- मोहनदास करमचन्द गाँधी

पारंपरिक ज्ञान

Traditional Knowledge
Suzy Kassem
around us. They are constantly teaching us things about ourselves and the way of the universe, but most people are too blind to watch and listen.

मानव इतिहास का सच्चा आंकलन तभी सम्भव है जब हम जीव जंतुओं के व्यवहार और उनके अतीत का दस्तावेज़ीकरण कर उनका अध्ययन करें।
कृष्ण

“As much as possible, it is useful to think of all other beings as being just like me. Every living being strives for happiness. Every being wants to avoid all forms of suffering. They are not just objects or things to be used for our benefit. You know, Mahatma Gandhi once said: 'The greatness of a nation and its moral progress can be judged by the way its animals are treated.”
― David Michie, The Dalai Lama's Cat


DudhwaLive Desk

जर्मनी द्वारा अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार "द बॉब्स" से सम्मानित पत्रिका "दुधवा लाइव"

मुद्दा

क्या खत्म हो जायेगा भारतीय बाघ
कृष्ण कुमार मिश्र* धरती पर बाघों के उत्थान व पतन की करूण कथा:

दुधवा में गैडों का जीवन नहीं रहा सुरक्षित
देवेन्द्र प्रकाश मिश्र* पूर्वजों की धरती पर से एक सदी पूर्व विलुप्त हो चुके एक सींग वाले भारतीय गैंडा

हस्तियां

पदम भूषण बिली अर्जन सिंह
दुधवा लाइव डेस्क* नव-वर्ष के पहले दिन बाघ संरक्षण में अग्रणी भूमिका निभाने वाले महा-पुरूष पदमभूषण बिली अर्जन सिंह

एक ब्राजीलियन महिला की यादों में टाइगरमैन बिली अर्जन सिंह
टाइगरमैन पदमभूषण स्व० बिली अर्जन सिंह और मैरी मुलर की बातचीत पर आधारित इंटरव्यू:

Post Top Ad

Your Ad Spot