वन्य जीवन एवं पर्यावरण

International Journal of Environment & Agriculture ISSN 2395 5791

Breaking

ये जंगल तो हमारे मायका हैं

बीती सदी में बापू ने कहा था

"किसी राष्ट्र की महानता और नैतिक प्रगति को इस बात से मापा जाता है कि वह अपने यहां जानवरों से किस तरह का सलूक करता है"- मोहनदास करमचन्द गाँधी

Aug 3, 2019

बेअसर हो रही एंटीबायोटिक्स के लिए वैज्ञानिकों ने खोजा एक उपाय


एसिनेटोबैक्टर बाउमानी बैक्टीरिया की माइक्रोस्कोपिक इमेज
उमाशंकर मिश्र 
रोगजनक सूक्ष्मजीवों की दवाओं के प्रति बढ़ती प्रतिरोधक क्षमता के कारण अभी उपलब्ध एंटीबायोटिक बेअसर हो रहे हैं। भारतीय वैज्ञानिकों ने एक नए पेप्टाइड का पता लगाया है, जो दवा प्रतिरोधी एसिनेटोबैक्टर बाउमानी बैक्टीरिया से लड़ने में मददगार हो सकता है।
अमीनो एसिड की छोटी श्रृंखलाओं को पेप्टाइड कहा जाता है। कई पेप्टाइड मिलकर प्रोटीन का गठन करते हैं। पेप्टाइड के बारे में अब तक उपलब्ध जानकारी के उपयोग से बेंगलूरू स्थित भारतीय विज्ञान संस्थान के शोधकर्ताओं ने ओमेगा76 नामक इस नए पेप्टाइड को कंप्यूटर एल्गोरिथ्म की मदद से डिजाइन किया है। शोधकर्ताओं का कहना है कि यह सूक्ष्मजीवरोधी पेप्टाइड बैक्टीरिया की कोशिका झिल्ली को भेदकर उसे मार सकता है।
संक्रमित चूहों पर ओमेगा76 का परीक्षण करने पर पाया गया कि यह असरदार है और लंबी खुराक देने के बावजूद इसका कोई दुष्प्रभाव नहीं देखा गया है।

" एसिनेटोबैक्टर बाउमानी के संक्रमण को अब तक पूरी तरह समझा नही जा सका था। इस बैक्टीरिया को वातावरण में पाया जाने वाला एक सामान्य सूक्ष्मजीव माना जाता था। लेकिन, अब यह स्वास्थ्य के लिए एक प्रमुख खतरा बनकर उभरा है। "
एसिनेटोबैक्टर बाउमानी अस्पतालों में अधिकांश संक्रमणों के लिए जिम्मेदार छह प्रमुख सूक्ष्मजीव प्रजातियों में से एक है। इस अध्ययन से जुड़े शोधकर्ता प्रोफेसर नागासुमा चंद्रा ने बताया कि “बैक्टीरिया संक्रमण के मामले में आमतौर पर उपयोग होने वाली दवाएं सूक्ष्मजीव कोशिकाओं में किसी खास मार्ग अथवा प्रक्रिया को बाधित करती हैं। लेकिन, प्रतिरोधक क्षमता विकसित करने के लिए बैक्टीरिया रूपांतरित हो जाते हैं और दोबारा उभरने लगते हैं। जबकि, सूक्ष्मजीवरोधी पेप्टाइड बैक्टीरिया की कोशिका झिल्ली को भेदकर उसमें छेद कर देते हैं। ये पेप्टाइड बैक्टीरिया को कई तरीकों से अपना निशाना बनाकर उसे नष्ट कर देते हैं, जिससे दवाओं के खिलाफ प्रतिरोधक क्षमता विकसित होने की आशंका बेहद कम रहती है।”
भारतीय विज्ञान संस्थान से जुड़ी शोधकर्ता प्रोफेसर दीपशिखा चक्रवर्ती का कहना है कि “एसिनेटोबैक्टर बाउमानी के संक्रमण को अब तक पूरी तरह समझा नही जा सका था। इस बैक्टीरिया को वातावरण में पाया जाने वाला एक सामान्य सूक्ष्मजीव माना जाता था। लेकिन, अब यह स्वास्थ्य के लिए एक प्रमुख खतरा बनकर उभरा है। सघन चिकित्सा केंद्रों में भी इसका संक्रमण पाया जाना चिंताजनक है।”
शोधकर्ताओं की योजना पेप्टाइड के डिजाइन में सुधार करते रहने की है, ताकि इससे प्राप्त जानकारी का उपयोग मधुमेह रोगियों के घावों और सेप्सिस के उपचार में भी किया जा सके। यह अध्ययन शोध पत्रिका साइंस एडवांसेस में प्रकाशित किया गया है। शोधकर्ताओं में प्रोफेसर चंद्रा, प्रोफेसर चक्रवर्ती और दीपेश नागराजन के अलावा, नताशा रॉय, ओमकार कुलकर्णी, नेहा नानजकर, अक्षय दाते, सत्यभारती रविचंद्रन, चंद्रानी ठाकुर, संदीप टी. इंदुमति अपरामेया और सिद्धार्थ पी. शर्मा शामिल थे। 

इंडिया साइंस वायर

No comments:

Post a Comment

आप के विचार!

जर्मनी द्वारा अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार "द बॉब्स" से सम्मानित पत्रिका "दुधवा लाइव"

मुद्दा

क्या खत्म हो जायेगा भारतीय बाघ
कृष्ण कुमार मिश्र* धरती पर बाघों के उत्थान व पतन की करूण कथा:

दुधवा में गैडों का जीवन नहीं रहा सुरक्षित
देवेन्द्र प्रकाश मिश्र* पूर्वजों की धरती पर से एक सदी पूर्व विलुप्त हो चुके एक सींग वाले भारतीय गैंडा

हस्तियां

पदम भूषण बिली अर्जन सिंह
दुधवा लाइव डेस्क* नव-वर्ष के पहले दिन बाघ संरक्षण में अग्रणी भूमिका निभाने वाले महा-पुरूष पदमभूषण बिली अर्जन सिंह

एक ब्राजीलियन महिला की यादों में टाइगरमैन बिली अर्जन सिंह
टाइगरमैन पदमभूषण स्व० बिली अर्जन सिंह और मैरी मुलर की बातचीत पर आधारित इंटरव्यू:

Post Top Ad

Your Ad Spot