वन्य जीवन एवं पर्यावरण

International Journal of Environment & Agriculture ISSN 2395 5791

Breaking

ये जंगल तो हमारे मायका हैं

बीती सदी में बापू ने कहा था

"किसी राष्ट्र की महानता और नैतिक प्रगति को इस बात से मापा जाता है कि वह अपने यहां जानवरों से किस तरह का सलूक करता है"- मोहनदास करमचन्द गाँधी

Aug 4, 2019

काश्मीर की धरती से विदा लेती एक प्रजाति हंगुल



Image of Cervus elaphus cashmeerianus (photo courtsey: Joseph Smit)
"इस खूबसूरत प्रजाति को बचा लें अपनी बेजा जरूरतों को लगाम देकर"- संपादक


         - डॉ दीपक कोहली 

 हंगुल हिरण लाल हिरणों की लुप्तप्राय प्रजातियों में से एक है, जो जम्मू-कश्मीर में सबसे प्रसिद्ध हिरणों में से एक है। कश्मीर की दाचीगाम सेंचुरी लुप्तप्राय हंगुल या कश्मीरी हिरण को आश्रय देती है। कश्मीरी हिरण के आलावा अन्य वन्यजीवों में तेंदुआ, कॉमन पाम सिवेट, जैकल, रेड फॉक्स, येलो-थ्रोटेड मार्टेन और हिमालयन वेसल शामिल हैं। हंगुल जम्मू कश्मीर का राजकीय पशु हैं। यूरोपियन लाल हिरण की तरह दिखने वाले हंगुल हिरण की दुम यूरोपियन हिरण से छोटी होती है, और इनका शरीर यूरोपियन हिरण का तरह लाल नहीं होता बल्कि गहरे भूरे रंग का होता है। हंगुल कश्मीरी शब्द हंगल से आता है, जिसका अर्थ है गहरे, भूरे रंग का। पहली बार हंगुल अल्फ्रेड वाग्नेर  द्वारा 1844  में पहचाना गया था।  ऐसा माना जाता हैं हंगुल बुखारा (उज़्बेकिस्तान ) मध्य एशिया के रस्ते होते हुए कश्मीर में आया था। यह भारत में लाल हिरण की एक ही प्रजाति मौजूद है।


साल 2017 हंगुल गणना के अनुसार दाचीगम राष्ट्रीय उद्यान में 182 हंगुल बचे थे। इंटरनेशनल यूनियन फॉर कन्ज़र्वेशन फॉर नेचर द्वारा हंगुल को "महत्वपूर्ण लुप्तप्राय प्रजाति" घोषित किया गया था। साल 1947  में हंगुल की कुल संख्या  2000  केआसपास थी लेकिन 1970 तक आते-आते हंगुल की सँख्या में भारी गिरावट आई, क्योंकि प्रदेश में शिकार परमिट का बड़ा दुरुपयोग हंगुल के अवैध  शिकार के लिए किया गया। 1980 में 340 हंगुल बचे। 1990 में बढ़ गए उग्रवाद की वजह से इससाल कोई गणना नहीं हो पायी, हालांकि 1990 के दशक में उग्रवादियों ने लोगों को शिकार करने के लिए जंगलों में जाने से रोक दिया, फिर भी दाचीगम के निचले हिस्से में हंगुल के शिकार का रुझान जारी रहा। गणना के मुताबिक हंगुल की संख्या 2007  में 197 , 2009 में 234 , 2011 में 218 , 2015 में 186  और 2017  में कुल 182 रह गई।


वर्ष 2008 में हंगुल की घटती संख्या को देखते हुए  नेशनल ज़ू अथॉरिटी ऑफ़ इंडिया की तरफ से दाचीगम नेशनल पार्क में एक ब्रीडिंग सेंटर बनाने की घोषणा हुई। उस समय हंगुल की संख्या197  थी, लेकिन परियोजना ने पांच साल तक उड़ान नहीं भरी क्योंकि विभाग यह हवाला देता रहा कि वो हंगुल को पकड़ नहीं पा रहा है। 2016 में राज्य सरकार ने दोबारा केंद्रीय पर्यावरण मंत्रालय से संपर्क किया और 25.72 करोड़ रुपये  की अतिरिक्त सहायता मांगी जिससे राज्य में हंगुल के लिए ब्रीडिंग सेंटर और वहाँ पर विशेषज्ञों को नियुक्त किया जा सके। लेकिन प्रस्ताव को मंत्रालय ने ख़ारिज कर दिया।


जम्मू-कश्मीर में हंगुल की संख्या कम होती जा रही हैं, इनकी संख्या में कमी आने के बहुत कारण हैं। हंगुल एक शर्मीले हिरण की प्रजाति है। उनको अपने आसपास घास खाते समय किसी भी प्रकार की बाधा नहीं पसंद। गर्मियों के समय में हंगुल दाचीगम के निचले जगह पर आ जाते हैं, जहां पर भेड़ और बकरियों के बड़े झुण्ड भी घास खाते रहते हैं, हंगुल को अपनी जगह पर किसी और प्राणी या इंसान का होना  या भोजन  को लेकर प्रतिस्पर्धा बिल्कुल नहीं पसंद। दाचीगम राष्ट्रीय उद्यान विशेषकर हंगुल के लिए निवास स्थान  के रूप में थालेकिन अब हंगुल को अपनी जगहों औऱ संसाधनों के लिए नये और पुराने बाशिंदों से प्रतिस्पर्धा कर रहे हैं। एक वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र  में फैले राज्य सरकार के पशुपालन विभाग के भेड़ फार्म हंगुल के आवाजाही में सबसे बड़ी परेशानी हैं।


भारत और पाकिस्तान के बीच बढ़ते तनाव औऱ सीमा संघर्ष भी हंगुल के जीवित रहने के लिए दुविधा बनता जा रहा है। भारतीय सेना के चलने वाले सर्च ऑपरेशन अक्सर गश्त दलों के साथ कुत्तों का होना औऱ कुत्तो के द्वारा हंगुल को उनके स्थानों से खदेड़कर उनको इंसानी बस्तियों की तरफ धकलेना भी एक कारण है। 2017 में सीआरपीएफ ने दाचीगम के निचले हिस्सों में अपनी उपस्थिति बढ़ा दी थी जिससे वो प्रदेश में कानून व्यवस्था औऱ अच्छी कर सके लेकिन पार्क के अंदर सेना की  चाक चौबंद का प्रभाव हंगुल के आवाजाही पर पड़ा।


हंगुल के प्रजनन के आकड़े भी चिंता भरे हैं। सरकरी रिकार्ड्स के मुताबिक मादा-नर  अनुपात अब प्रति 100 मादाओं  पर 15-17 नर  है, जो 2004 में 23 नर प्रति 100  से भी घट गयी है।कैप्चर मायोपथी, एक तरह का जटिल रोग है जो जानवर को पकड़ने औऱ इंसानो के संचालन से जुड़ा है। यह बीमारी हंगुल के बीच काफी पायी गयी हैं। लिंग अनुपात यह दिखता हैं कि हंगुल की संख्या भारी मुश्किल में है।


वाइल्डलाइफ  डिपार्टमेंट ऑफ़ कश्मीर ने हाल ही में सिंध फारेस्टरिज़र्व  कि तरफ हंगुल के नए  आवाजाही रूट पर कुछ चौकियाँ बनायी हैं जिससे  हंगुल गर्मियों में जब निचली जगह पर भोजन कि तलाश में आये तो  उनके  संचालन में किसी तरह कि बाधा न आये औऱ शोधकर्ता हंगुल का अध्ययन कर सकें। वाइल्डलाइफ डिपार्टमेंट ने यह भी प्रस्तावित किया हैं कि मोटर गाड़ियों कि आवाजाही भी उस समय स्थगित कर दी जाये जब हंगुल उस जगह से गुज़र रहे हों।


विभाग ने सरकार को लिखा हैं कि वो सुरक्षादलों , जिसमें भारतीय सेना और सीआरपीएफ भी शामिल है, खोजी कुत्तों काइस्तेमाल उन कॉरिडोर्स पर कम कर दे जिन कॉरिडोर्स को हंगुल द्वारा इस्तेमाल किया जाता हैं। यह बहुत ही गंभीर समस्या है क्योंकि खोजी कुत्ते हंगुल के लिए समस्या बनते जा रहे हैं। हंगुल 10  वर्षों तक जीवित रहता है औऱ फ़ूड चैन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। प्रमुख शाकाहारी जानवर होने के कारण यह घास के मैदान की चराई को सुनिश्चित करता है। एक हंगुल, तेंदुए की भूख को पांच से दस दिनों तक दूर कर सकता है, जिससे जानवरों औऱ इंसानों के बीच टकराव कम होगा। वन रक्षक बताते हैं कि कश्मीर में बढ़ रही हिंसा भी एक गहरा प्रभाव  हंगुल के व्यवहार औऱ आबादी  पर डाल रहा है।


हंगुल व्यवहार में बहुत शर्मीले होते हैं, जब मादा हंगुल, शिशु हंगुल को जन्म देती है तो बाकि मादा हंगुल माँ को घेर लेती  हैं जिससे कोई और शिकारी जानवर न देख ले औऱ कभी कभी हंगुल नई पीढ़ी के लिए भी अपना बलिदान कर देते हैं। हंगुल को आने - जाने के लिए और आज़ादी देनी होगी। इनके संरक्षित जगहों पर किसी प्रकार की इंसानी अतिक्रमण नहीं होना चाहिए। हंगुल को प्रकृति के ऊपर छोड़ देना चाहिए,  इनकी संख्या अपने आप बढ़ जाएगी। लुप्तप्राय हंगुल के संरक्षण के लिए सरकार तो प्रयास कर ही रही है । इसके साथ ही हमें भी इस अद्भुत वन्य जीव हंगुल के संरक्षण के लिए जन जागरूकता भी  फैलाना आवश्यक है कि इस दुर्लभ जीव के प्राकृतिक पर्यावरण को कोई नुकसान न पहुंचे। हम सभी के सार्थक प्रयास से ही लुप्त प्राय हंगुल को विलुप्त होने से बचाया जा सकता है।



प्रेषक  : डॉ दीपक कोहली, उप सचिव, उत्तर प्रदेश शासन, 5/104, विपुल खंड, गोमती नगर, लखनऊ  - 226010 ( मोबाइल-9454410037)
( ई मेल - deepakkohli64@yahoo.in )





No comments:

Post a Comment

आप के विचार!

जर्मनी द्वारा अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार "द बॉब्स" से सम्मानित पत्रिका "दुधवा लाइव"

मुद्दा

क्या खत्म हो जायेगा भारतीय बाघ
कृष्ण कुमार मिश्र* धरती पर बाघों के उत्थान व पतन की करूण कथा:

दुधवा में गैडों का जीवन नहीं रहा सुरक्षित
देवेन्द्र प्रकाश मिश्र* पूर्वजों की धरती पर से एक सदी पूर्व विलुप्त हो चुके एक सींग वाले भारतीय गैंडा

हस्तियां

पदम भूषण बिली अर्जन सिंह
दुधवा लाइव डेस्क* नव-वर्ष के पहले दिन बाघ संरक्षण में अग्रणी भूमिका निभाने वाले महा-पुरूष पदमभूषण बिली अर्जन सिंह

एक ब्राजीलियन महिला की यादों में टाइगरमैन बिली अर्जन सिंह
टाइगरमैन पदमभूषण स्व० बिली अर्जन सिंह और मैरी मुलर की बातचीत पर आधारित इंटरव्यू:

Post Top Ad

Your Ad Spot