वन्य जीवन एवं पर्यावरण

International Journal of Environment & Agriculture ISSN 2395 5791

Breaking

ये जंगल तो हमारे मायका हैं

बीती सदी में बापू ने कहा था

"किसी राष्ट्र की महानता और नैतिक प्रगति को इस बात से मापा जाता है कि वह अपने यहां जानवरों से किस तरह का सलूक करता है"- मोहनदास करमचन्द गाँधी

Jan 22, 2015

पन्ना टाइगर रिजर्व को फिर मिला एक्टिव मैनेजमेन्ट अवार्ड


देश के सर्वश्रेष्ठ बाघ अयारण्यों में शामिल होने से बढ़ा गौरव 
समान मिलने से पार्क के अधिकारी, कर्मचारी व पन्नावासी हुए प्रफुल्लित 
पन्ना, मध्य प्रदेश , म.प्र. के पन्ना टाइगर रिजर्व को एक बार फिर एक्टिव मैनेजमेन्ट अवार्ड हासिल हुआ है. केन्द्रीय वन एवं पर्यावरण मंत्री प्रकाश जावडेकर ने आज नई दिल्ली में आयोजित भव्य समारोह में यह अवार्ड पन्ना टाइगर रिजर्व के क्षेत्र संचालक आर.श्रीनिवास मूर्ति को प्रदान किया. उत्कृष्ट प्रबंधन का यह समान मिलने से पन्ना टाइगर रिजर्व के अधिकारी व कर्मचारी जहां प्रफुल्लित हैं, वहीं पन्ना जिले के लोग भी गौरव का अनुभव कर रहे हैं. 


उल्लेखनीय है कि उत्कृष्ट प्रबंधन, टीम वर्क और बाघ पुर्नस्थापना योजना को मिली शानदार सफलता से पन्ना टाइगर रिजर्व देश के सर्वश्रेष्ठ बाघ अयारण्यों में शामिल हो गया है. जिससे पन्ना ही नहीं अपितु समूचे प्रदेश का गौरव बढ़ा है. वर्ष 2009 में यहां पर बाघों का पूरी तरह से सफाया हो जाने के बाद बाघ पुर्नस्थापना योजना शुरू होने पर शासन द्वारा पन्ना टाइगर रिजर्व में आर.श्रीनिवास मूर्ति की पद स्थापना की गई थी. अपने कर्तव्य के प्रति हमेशा सजग रहने वाले ईमानदार और निष्ठावान भारतीय वन सेवा के अधिकारी श्रीमूर्ति ने पन्ना टाइगर रिजर्व को एक नई पहचान और उसका पुराना गौरव वापस दिलाने के लिए जुनून की हद तक कार्य किया. उनकी मेहनत, लगन व निष्ठा देख पार्क के अधिकारी व मैदानी कर्मचारी भी प्रेरित हुए और एक ऐसी टीम तैयार हुई जिसने रात - दिन मेहनत करके पन्ना टाइगर रिजर्व को उस मुकाम तक पहुंचा दिया कि आज देश व दुनिया में उसकी चर्चा हो रही है, कामयाबी की गाथा सुनाई जा रही है. 



बाघों का खात्मा होने के बाद पन्ना टाइगर रिजर्व को फिर से आबाद करने की बड़ी चुनौती फील्ड डायरेक्टर श्री मूर्ति के सामने थी. शासन ने उनकी योग्यता व क्षमताओं को देखकर ही यहां पदस्थ किया था और वे इस कठिन परीक्षा में श्रेष्ठ अंकों के साथ न सिर्फ उत्तीर्ण हुए बल्कि कामयाबी की ऐसी मिशाल कायम कर दी कि पूरी दुनिया के बाघ विशेषज्ञों व वन्य जीव प्रेमियों का यहां तांता लगने लगा. लोग यहां आकर अध्ययन करते हैं और प्रबंधन के गुर सीखते हैं. क्षेत्र संचालक आर.श्रीनिवास मूर्ति के कुशल नेतृत्व में बुन्देलखण्ड की धरती पन्ना टाइगर रिजर्व में मौजूदा समय 22 बाघ व बाघिन तथा शावक विचरण कर रहे हैं. यहां के जंगल में बाघों की दहाड़ व शावकों की किलकारी गूंजने लगी है, जिससे पन्ना का यह शानदार जंगल फिर से जीवंत हो उठा है. अब तो आलम यह है कि पन्ना टाइगर रिजर्व में जन्में शावकों की दहाड़ विन्ध्यांचल के 10 हजार वर्ग किमी. क्षेत्र में गूंज रही है. केन से सोन तक तथा केन से नर्वदा तक के विस्तृत कॉरीडोर में पन्ना के बाघों ने अपनी मौजूदगी दर्ज की है. 
पन्ना टाइगर रिजर्व के उप संचालक अनुपम सहाय ने जानकारी देते हुए बताया कि नेशनल टाइगर कन्जरवेशन अथार्टी के तत्वाधान में विभिन्न गतिविधियों के लिए अवार्ड दिए जाते हैं उनमें एक्टिव मैनेजमेन्ट अवार्ड भी है. हर चार साल में मूल्यांकन करने के बाद ही चयन किया जाता है. पन्ना टाइगर रिजर्व को लगातार दूसरी बार एक्टिव मैनेजमेन्ट अवार्ड मिला है जो अपने आप में उल्लेखनीय और बड़ी उपलब्धि है. पिछली बार वर्ष 2012 में यह अवार्ड पन्ना टाइगर रिजर्व को मिला था, जिसे क्षेत्र संचालक आर.श्रीनिवास मूर्ति ने ही प्राप्त किया था. श्री मूर्ति के नेतृत्व में उनकी टीम के उत्कृष्ट प्रबंधन को भारत शासन ने पूरे देश के बाघ अयारण्यों में सर्वश्रेष्ठ मानते हुए एक्टिव पार्क मैनेजमेन्ट अवार्ड दिया है. जिससे पन्ना टीम में उत्साह और ऊर्जा का संचार हुआ है. उमीद है कि यह टीम आने वाले समय में कामयाबी के नये सोपान तय करेगी और इसी तरह से पन्ना टाइगर रिजर्व व बुन्देलखण्ड की धरा का गौरव बढायेगी. 


अरुण सिंह 
पन्ना टाइगर रिजर्व 
मध्य प्रदेश भारत 
aruninfo.singh08@gmail.com

1 comment:

  1. जिस पन्ना टाइगर्स रिजर्ब को ' एक्टिव मैनेजमेंट अवार्ड मिला है .....देश की भाजपा सरकार उसको ही केन बेतवा नदी गठजोड़ से डुबोने की तैयारी कर चुकी है ...लानत है इस बहरूपिये काम पर , मनाओ जश्ने उजाड़नामा !

    ReplyDelete

आप के विचार!

जर्मनी द्वारा अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार "द बॉब्स" से सम्मानित पत्रिका "दुधवा लाइव"

मुद्दा

क्या खत्म हो जायेगा भारतीय बाघ
कृष्ण कुमार मिश्र* धरती पर बाघों के उत्थान व पतन की करूण कथा:

दुधवा में गैडों का जीवन नहीं रहा सुरक्षित
देवेन्द्र प्रकाश मिश्र* पूर्वजों की धरती पर से एक सदी पूर्व विलुप्त हो चुके एक सींग वाले भारतीय गैंडा

हस्तियां

पदम भूषण बिली अर्जन सिंह
दुधवा लाइव डेस्क* नव-वर्ष के पहले दिन बाघ संरक्षण में अग्रणी भूमिका निभाने वाले महा-पुरूष पदमभूषण बिली अर्जन सिंह

एक ब्राजीलियन महिला की यादों में टाइगरमैन बिली अर्जन सिंह
टाइगरमैन पदमभूषण स्व० बिली अर्जन सिंह और मैरी मुलर की बातचीत पर आधारित इंटरव्यू:

Post Top Ad

Your Ad Spot