International Journal of Environment & Agriculture
ISSN 2395 5791
"किसी राष्ट्र की महानता और नैतिक प्रगति को इस बात से मापा जाता है कि वह अपने यहां जानवरों से किस तरह का सलूक करता है"- मोहनदास करमचन्द गाँधी

जर्मनी द्वारा अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार "द बॉब्स" से सम्मानित पत्रिका "दुधवा लाइव"

Save Tiger

DON'T LET WILD TIGERS DISAPPEAR

Lady Rosetta

Potatoes with low sugar content and longer shelf life.

अबूझमाड़ के जंगल

जहां बाघ नही नक्सली राज करते हैं

खवासा का आदमखोर

जहां कांपती थी रूह उस नरभक्षी से

जानवर भी करते हैं योग

योगाचार्य धीरज वशिष्ठ का विशेष लेख

Aug 30, 2010

Ranthambhore Whistle Blower’s Tiger Tale


It seems as though “Shera” the commonwealth games mascot  is fighting for its survival in a system that is now rotten from top to bottom. It is not just that the rot is in the organization of the games it self but the very survival of Shera in the wilderness is now threatened due to the failure of the very system that is supposed to protect him.
 As a young idealist with a Ph D degree in  Life Sciences I landed up at the door step of Legendry Tiger Man Shri Fateh Singh Rathore seven years ago and started work as a wildlife researcher in and around Ranthambhore. In Fateh Singh ji I saw a mentor that taught me many things about conservation but more than anything else it was a kind of commitment that he had for Tigers that inspired me the most. Unfortunately that is no longer seen in most forest officials nowadays. In 1994 when the Supreme Court Empowered Committee was asked to fix responsibility for the missing Tigers in Ranthambhore the reply that the committee gave to the Apex Court was – “It would amount to searching for a scape goat and that this was a system failure.” 



Little did I know then that 16 years latter once again Ranthambhore would be a witness to a system failure that would gravely injure one of the finest Park Rangers in India and endanger the life of a Tiger. On 2oth August 10 I was informed by Goverdhan Meena from Rawal that there was a Tiger in the field in Bhuriphadi Village near the Park and that there were a lot of people near it including forest officials. I rushed to the spot to see what was happening and saw that there was a Tiger cornered in a dead end with people all around it. This Tiger looked very tired and aggressive as if it was fighting for its life. Two shots at tranquilization had been attempted by Mr Daulat Singh (Ranger) and he was resisting taking the 3rd shot as he was worried for the Tiger and the people. However he was ordered by the ACF Mr Sedu Ram to attempt a 3rd shot and it was in trying to do this that he got too close to the Tiger and was grievously injured.

What is shocking is the entire way in which the operation was conducted by the forest officials. There was no announcement system to let the people know what the forest department was trying to do. So the people thought this was some entertainment and gathered all around the Tiger. Even though there was a big police presence there was no one from the forest department directing them as to what they should do. In this scenario  they were trying to do what ever little they could to try and control the mob. However the Tiger was not in one place and would move around and the crowds would move around accordingly further panicking the Tiger.  With no information to the local people and no direction provided  to the police the matter continued to get more and more out of hand. The Park Ranger who was one of the best in India was left at the mercy of a completely inexperienced officer who in turn was taking directions on a wireless set from someone that was not even present on site. It was sheer violation of any standard protocol in such situation were wildlife and people conflict is compounded by large numbers of unmanageable crowds.
As a spectator to this I tried to take as many pictures of the situation as I could so that a record could be made of the situation for future reference. While there were a lot of people that had gathered around the Tiger I did not see anyone throwing stones. But I heard that in the beginning the Park authorities had thrown fire crackers near the Tiger to make him go away and that in this process even some village people had started shouting and throwing stones thinking that this was what the forest department wanted. I was witness to the situation just prior to Daulat Singh getting attacked. The Tiger was completely cornered and hidden in thick cover with nowhere to go. As Daulat Singh approached the Tiger in this situation totally unaware of how close he was to the Tiger he was suddenly attacked by the animal. Immediately after this incident he was left alone by his immediate superior who had ordered him to take the 3rd shot against Daulats recommendation. It was only the quick thinking and brave decision of some of this subordinate staff that saved Daulat from being killed. 

In the many years that I have worked in Ranthambhore my work has taken me from wildlife research to anti poaching activity. When I exposed the story that 18 Tigers were missing inside Ranthambhore in 2004 I got on to the wrong side of the Department as they were as always in total denial. However subsequently the government in its own inquiry found that 21 Tigers were indeed missing further alienating me from the Department. The research of Tiger Watch inside Ranthambhore was stopped without any reason, Shri Fateh Singh was removed from being Honorary Warden and suites were filled against him for recovery of dues inside the Park while he was Hon. Warden and I started receiving threats from them on a regular basis.
Since the 1st expose on the missing Tigers as part of the Tiger Watch anti-poaching cell I have worked tirelessly with the state police to nab over 49 poachers and started working with the Mogiya Tribes (they are the main poaching community living around Ranthambhore) helping educate their children, find alternate employment and provide health care. Today poaching incidents around Ranthambhore have dropped dramatically.


 Over the years the forest department has tried their best to implicate me in some kind of wildlife crime without much success. However I am deeply saddened and shocked to hear news that they are now trying to frame me by saying that I was getting local village people in Bhuriphadi to throw stones at the Tiger so that it could be killed. It is a disgrace that the department should function in this manner threatening the very people that are helping them from dire consequences just because they dare to tell the truth and expose the short fall in the Tiger Conservation effort.  This has happened in the past as well where whistle blowers and Tiger Activists have been targeted and maligned by the very Department that they are trying to help.



Dharmendra Khandal Ph.D.
Conservation Biologist
Tiger Watch
Ranthambhore Road
Sawai Madhopur
Rajasthan- India
email: dharmkhandal@gmail.com
www.tigerwatch.net
http://tigerwatch-ranthambhore.blogspot.com/

....क्या पता नीम को मिल जाए आजादी

-लखनियापुरवा के मौलाना अब्दुल कय्यूम के बेटे अब्दुल वहाब की पहल
-नीम के पेड़ की आजादी की शुरू कर दी है इस छह साल के बच्चे ने लड़ाई लखनियापुरवा। (खीरी) बुधई ने नीम का जो पौधा अपने घर के दरवाजे पर लगाया था और बड़ा होकर पेड़ हो गया था, उसे तो शायद टीवी देखने वाला कोई शख्स भूला नहीं होगा। लखनियापुरवा के मौलाना अब्दुल कय्यूम के बेटे अब्दुल वहाब ने भी नीम का एक पौधा अपने घर के दरवाजे के बाहर करीब दस दिन पहले ही रोपा है। भरी दोपहरी थी, धूप से जमीन तप रही थी। मौलाना के घर के बाहर खाली पड़ी जमीन पर छांव के लिए कोई विकल्प नहीं था। ऐसे में उनके तीन बेटों में दूसरे नंबर के अब्दुल वहाब को सूझा कि अगर यहां एक नीम का पौधा रोप दिया जाए तो कम से कम घर के बाहर छांव के लिए कुछ तो हो जाएगा।

अब्दुल वहाब की उम्र यही कोई छह साल की होगी। उसने नीम का पेड़ की कहानी या टीवी पर कभी आने वाले सीरियल को नहीं देखा...लेकिन बुधई की तरह वह सोचता जरूर है। इसीलिए तो उसने नीम का पौधा तो रोपा ही साथ ही उसकी सुरक्षा के लिए ईंट लगाकर ट्रीगार्ड भी तैयार किया। दोनों हाथों से ढाई किलो की ईंट उठा पाने में उसे मुश्किल हो रही थी...लेकिन वह लगा हुआ था एक पौधे को जवान बनाकर पेड़ बनाने की जुगत में।



ऐसा अक्सर होता होगा जब आप अपने गांव जाते होंगे। सुबह उठते ही न जाने कितने लोगों को टूथपेस्ट की जगह नीम की दतून से दांत साफ करते हुए देखते होंगे। आप भी एक छोटी सी दतून तोड़ते होंगे। होंगे इसलिए लिख रहा हूं कि...नीम का पेड़ भी अब गांवों में बड़े ही मुश्किल से दिखता है। इसलिए कि नीम के पेड़ पर लकड़कट्टों की बुरी नजर है। लखनियापुरवा धौरहरा इलाके में है। इस इलाके में हाल के सालों में भारी पेड़ कटान हुआ है। ऐसे में अगर अब्दुल वहाब जैसे बच्चे बुधई बन नीम का पेड़ लगाकर पर्यावरण की आजादी की लड़ाई शुरू कर रहे हैं, तो वाकई बड़ी बात है। आगे चल कर क्या पता....लकड़कटटों से नीम को और गरीबी से अब्दुल वहाब को आजादी मिल जाए।

विवेक सेंगर (लेखक हिन्दुस्तान अखबार में लखीमपुर खीरी के ब्यूरो चीफ़ है, तीक्ष्ण व भाव प्रधान लेखन , कई प्रतिष्ठित अखबारों में कार्य कर चुके है, इनसे viveksainger1@gmail.com पर संपर्क कर सकते हैं)

Aug 29, 2010

मैलानी जंगल में बाघ ने किया हमला!

बाघ के हमले में ग्रामीण जख्मी
-बोले अफसर, जंगल में मत जाना....खतरा ही खतरा
दुधवा लाइव डेस्क: मैलानी-खीरी। पीलीभीत उसके बाद शाहजहांपुर के जंगल से होता हुआ बाघ अब मैलानी के जंगल में शामिल हो चुका है। शनिवार की रात उसने मैलानी जंगल के कम्पार्टमेंट संख्या एक में गांव कोरियानी के रामभजन पर हमला कर दिया। वन विभाग और ग्रामीणों ने उसे गम्भीर हालत में मैलानी में भर्ती कराया है। इस घटना के बाद जंगल में ग्रामीणों के प्रवेश पर रोक लगा दी गई है।

गांव कोरियानी निवासी रामभजन रविवार की तड़के सुबह मैलानी जंगल के कम्पार्टमेंट संख्या एक में किसी काम से जा रहा था। तभी बाघ ने हमला कर दिया। रामभजन की चीख-पुकार सुनकर फारेस्ट की निगरानी टीमें मौके पर पहुंची और ग्रामीणों के सहयोग से उसे अस्पताल में भर्ती कराया। बाघ के बढ़ते खतरे को देखते हुए वन विभाग ने मैलानी जंगल में घुसने के लिए बनाए गए रास्तों पर पहरा लगा दिया है। किसी के जंगल में घुसने पर पाबंदी लगाई गई है। उत्तर प्रदेश बाघ संरक्षण समिति की ओर से रामभजन को पांच हजार रुपये की मदद दी गई है। उसका इलाज भी जंगल महकमा कराएगा। डीएफओ आरसी झा ने रेंजर मैलानी एके श्रीवास्तव को इस बाबत दिशा-निर्देश दिया है।

बजवा दी गई डुग्गी

रामभजन पर हमले के बाद वनाधिकारियों ने मैलानी कस्बे में डुग्गी पिटवाई और लोगों को खतरे से आगाह किया। मैलानी रेंजर एके श्रीवास्तव ने लोगों से अपील की है कि वे आवागमन में सतर्कता बरतें।

Aug 26, 2010

बाढ़ में इन्सान ही नही, साँप भी मुसीबत में हैं

मसला लखीमपुर खीरी का है, जहाँ जंगल आबाद हैं और नदियां उफ़नाती हैं, जाहिर हैं, जल में रहने वाले जीवों की भी भरमार होगी, और वो भी प्रभावित होते होंगे इस भीषण बाढ़ में! लेकिन उन्हे रेस्क्यू करने का न तो तो कोई सरकारी इन्तजाम है, और न ही कोई स्वंय सेवी संगठन इस बावत में कोई काम कर रहा हैं, सिवाय कागजी कामों और नोटों के सिवा! अगर हम त्रासदी की बात जाने दे, तो मछली का शिकार व्यापक तौर पर किया जाता है, वैध और अवैध दोनों तरह से, इसी शिकार में जो इन्तजाम किए जाते हैं, उनमें सापों के अतिरिक्त मगरमच्छ व घड़ियाल भी फ़सते हैं। गिरवा, शारदा व घाघरा नदियों में इनकी बहुतायात हैं। खासकर घड़ियाल व मगरमच्छ के बच्चे मछली पकड़ने वाले जाल में फ़ंस जाते हैं, और इनकी मौत हो जाती है। वन-विभाग व वन्य-जीव प्रेमियों को इस दिशा में सकारात्मक पहल करनी चाहिए!..माडरेटर


मछली की जगह फंसे सांप पकड़ लिए

निघासन। जरा इन साहब की हिम्मत तो देखिए ! बाढ़ के इस दौर में मछली पकड़ने के लिए जाल लगाया था। मछली तो एक भी नहीं फंसी। इसकी जगह फंस गए कुछ सांप। लेकिन जनाब का गुस्सा तो देखिए। उन्होंने सांपों को भी नहीं छोड़ा। पूंछ से पकड़कर उनको घसीटते हुए दूर ले जाकर फेंक आए।

इस समय इलाके में भीषण बाढ़ आई हुई है। ऐसे में तमाम मछुआरों ने जगह-जगह पानी भरा देखकर अपने जाल लगा दिए हैं। निघासन के अबरार हुसैन ने झण्डी रोड के किनारे चल रही पानी की धार में अपना जाल लगाया था। शाम को इस उम्मीद में कि जाल में काफी मछलियां फंस चुकी होंगी, वह इसे निकालने वहां पहुंचे। पानी में से जाल बाहर खींचा तो हैरत में पड़ गए। जाल में मछली तो एक भी नहीं थी। उनकी जगह पांच-छह सांप जाल में फंसे इधर-उधर घूम रहे थे। मछलियों की जगह सांपों को देखकर अबरार का पारा चढ़ गया। दिमाग में यह आया कि मछलियां तो फंसी होंगी लेकिन इन सांपों ने उनको चट कर डाला होगा।

बस फिर क्या था। उन्होंने हिम्मत करके एक-एक कर सारे सांपों को पूंछ से पकड़ा और रस्सी की तरह जमीन पर लटकाकर घसीटते हुए उनको वहां से लेकर दूर चल दिए। करीब एक फर्लांग आगे ले जाकर अबरार ने सारे सांपों को नचाकर दूर खेतों में भरे पानी में फेंक दिया। लेकिन सड़क पर फन रगड़ने से कई सांप पहले ही मर चुके थे। (रिपोर्ट: सुबोध पाण्डेय)

Aug 25, 2010

दरख्त की तबाही पर मायूस हैं खीरी के लोग!

सैकड़ों वर्ष पुराना पाकड़ (पकरिया: Ficus virens) का वृक्ष हुआ धराशाही:

पता नहीं चलता है कि हम लोग और हमारी भावनाएं कहां-कहां और किस-किस से जुडी होती हैं। मंगलवार की बात है, सुबह का यही कोई सात बजे का वक्त रहा होगा। लखीमपुर के इमली चौराहे से होकर मैं अपनी बाइक से रोडवेज की ओर जाने का था, जैसे ही इमली चौराहा पार किया तो सामने एक पेड पूरी सडक पर गिरा हुआ था। बिजली के तार नीचे झूल रहे थे। हम एकटक उस पेड को निहारते रहे। बाइक बंद हो गई थी, पता नहीं क्यों पेड का गिरना मेरे दिल को चुभो गया। इसके बाद हम चले गए। लौट कर घर गए तो अपने बडे भाई को इसलिए बताया कि वह दूसरे रस्ते से जाएं। जब उन्होंने यह जाना कि दुखः हरण नाथ मंदिर के पास वाला पाकड़ का पेड़ गिर गया तो उनके भाव गंभीर हो गए। पता नहीं क्या था उस में पेड में जिसके गिर जाने का सब अफसोस कर रहे थे। खैर, धीरे-धीरे इस पेड के गिर जाने की खबर आधे लखीमपुर को हो चुकी थी।

जानते हैं इस पेड से लोगों का जुडाव यूं नहीं था। हमें याद आता है कि गर्मी में जब हम इमली चौराहे से आर्यकन्या चौराहे की ओर जाते थे तो इस बात का अहसास रहता था कि अभी दुखः हरण नाथ मंदिर के पास पाकड के नीचे गुजरते वक्त ठंडक मिल जाएगी। अभी तक लगता था कि ऐसा हम ही सोचते थे, लेकिन हमारी तरह से और भी लोग थे। उनको भी इस पेड की ठंडक अच्छी लगती थी। धूप तो धूप यह पेड इतना घना था कि पानी बरसे तो छाते का काम करता था। न जाने कितने ही लोगों की रोजीरोटी इसी पेड के नीचे बैठकर चलती थी।
ब्रिटिश भारत में जमीं थी जड़ें:
धार्मिक कार्यों का गवाह था यह वृ्क्ष:
जानते हैं यह पेड आजादी से पहले का था। न जाने कितनी ही यादों को संजोए हुए था यह पेड। जब मेरा विवाह हुआ तो यही पेड था जो गवाह था कुंआ पूजे जाने का। इसी पेड के नीचे एक कुंआ है, जिसकी परिक्रमा की थी। मेरी मां इसी कुंए में पैर डाल कर बैठी थी। याद तो नहीं आता है, वह कौन सी बात होती है विवाह के दौरान जब मां बेटे से वचन लेती है। मैने भी वह वचन अपनी मां को दिया था, तब यही पेड था जो गवाह था उस वचन का।
राजनेताओं ने की पहल
जिलाधिकारी से की मुलाकात
इस पेड को लेकर जितना हम भावुक हैं, उतना ही मेरे लखीमपुर के और भी तमाम लोग हैं। इस बात का अंदाजा मुझे तब हुआ जब, शशांक जी ने हमारे साथी गंगेश को फोन किया और इस पेड को लेकर बात करने लगे। गंगेश ने हमें बताया। अच्छा इसलिए लगा कि कोई तो है जो राजनीति के पचडों में पडने के बाद भी उस पेड के बारे में सोच रहा था। शशांक यादव समाजवादी पार्टी के जिलाध्यक्ष हैं, वह चिंतक हैं, हम तो कहेंगे कि वह एक अच्छे इंसान हैं। सिटी मांटेसरी स्कूल के संचालक विशाल सेठ का फोन आया, बोले विवेक भाई जानते हैं आज दुखः हरण नाथ मंदिर वाला पाकड का पेड गिर गया। हमने उनकी पूरी बता सुनी। विशाल को मेरी तरह ही इस पेड से बेहद लगाव था, यह अलग बात है कि इस लगाव को कभी जाहिर नहीं किया गया। विशाल ने अपने स्कूल के बच्चों के साथ गर्मी की पूरे अवकाश में पर्यावरण संरक्षण को लेकर अभियान चलाया था। स्कूल के बच्चों ने घर-घर जाकर पौधे बांटे थे। एनएसयूआई के जिलाध्यक्ष रहे आशुतोष तो रास्ते में मिल गए, वही पाकड के पेड की बात करने लगे। आशुतोष तो पेड गिरने से इतना आहत थे कि वह जाकर जिलाधिकारी से मिल आए, उन्होंने तो पाकड के पेड गिरने की जांच कराने की मांग की।

कभी-कभी ऐसा होता है किसी का निधन हो जाता है, तब उसके महत्व के बारे में लोगों को अहसास होता है। वैसा ही इस पेड के साथ था। जब गिरा तो सबको अफसोस हुआ, ठीक वैसे ही जैसे घर के बुजुर्ग का निधन हो जाए तो घर का वजन कम सा लगने लगता है।


विवेक ( लेखक युवा पत्रकार है, कई प्रतिष्ठित मीडिया  संस्थानों में कार्य कर चुके है, लेखन में भाव प्रधानता, इनसे viveksainger1@gmail.com पर संपर्क कर सकते हैं)

Aug 23, 2010

खतरे में सुहेली (सरयू) नदी: जो जीवन रेखा है, दुधवा की वन्य संपदा की!


दुधवा की लाइफ़ लाइन ही खतरे में: 
पलियाकलां (खीरी)। दुधवा नेशनल पार्क के मध्य तथा किनारे प्रवाहित होने वाली सुहेली नदी कभी अपने समीपवर्ती वन्यजीवों को पानी देकर उनकी प्राणदायिनी होती थी। लेकिन सिलटिंग और प्राकृतिक परिवर्तन के चलते अब उनके विनाश का कारण बनती जा रही है। इसके अतिरिक्त नदी से सटा ग्रामीणांचल भी इसमें बार-बार आने वाली बाढ़ की त्रासदी झेलकर बर्बादी की कगार पर पहुंच गया है।

    

अरण्य के साथ साथ तबाह हो रही हैं सड़कें: 
उल्लेखनीय है कि नेपाल से निकली सुहेली नदी वर्षा में पानी के साथ मिट्टी- बालू साथ लाती है। इसका जमाव (सिलटिंग) होने के कारण नदी के गहराई कम हो गई, तथा आसपास के निचले भू-भागों में भी सिलटिंग होने से उनकी उंचाई भी बढ़ गई है। इसके कारण कभी समीपवर्ती नकउहा नाला का पानी सुहेली नदी में आता था किन्तु उपरोक्त परिवर्तन के साथ-साथ सड़क पुल के ही सामने बने रेलवे पुल में पानी निकास के अधिकांश द्वार सिलटिंग से बन्द हो गए हैं, इससे सुहेली नदी का पानी उसमें से निर्वाध रूप से नहीं निकल पा रहा है। परिणाम स्वरूप नदी ने नया चैनल पीपी नाला बना दिया है, साथ ही प्रेम पुलिया नाला से नकउहा नाला का जो पानी सुहेली नदी में जाता था उसकी भी अब वापसी होने लगी है। इस तरह नकउहा पुल से सुहेली पुल तक पीडब्लूडी रोड के दोनों तरफ से सुहेली नदी का पानी पीपी नाला से नकउहा नाला में तेज गति से आ रहा है। इसके कारण पीपी नाला द्वारा किए जाने वाले कटान की चपेट में जहां जंगल आ रहा है वहीं पीडब्लूडी की दुधवा रोड के दोनों किनारों का कटान भी हो रहा है। इससे कई स्थानों पर पीपी नाला के कटान का खतरा सड़क पर बढ़ता ही जा रहा है। लेकिन पीडब्लूडी द्वारा कटान की रोकथाम के प्रयास नहीं किए जा रहे हैं। कटान का दायरा बढ़ता गया तो निकट भविष्य में दुधवा रोड का नामोनिशान खत्म हो जाएगा तब नेपाल सहित आदिवासी जाति थारू क्षेत्र के 45 गांवों समेत दुधवा के अधिकांश जंगल का सम्पर्क कट सकता है।

   जंगल में बाढ़ कारण बनती हैं वन्य-जीवों के शिकार का!
और डूबती हैं थारू जनजाति की फ़सलें!
गौरतलब यह भी है कि सुहेली नदी में हुए इस प्राकृतिक परिवर्तन का दुष्प्रभाव समीपवर्ती ग्रामीणांचल पर भी पड़ने लगता है। थोड़ी वर्षा होते ही उफनाई सुहेली नदी का पानी आसपास के गांवों एवं खेतों में भर जाता है जिसमें सर्वाधिक नुकसान फसलों को को होता है। तथा ग्रामीण भी बार-बार आने वाली बाढ़ की त्रासदी झेलने को विवश हो जाते हैं। इसको अगर नजरअंदाज भी कर दिया जाए तो सुहेली नदी अब वन्यजीवों की दुश्मन बन गई है। इससे होने वाली सिलटिंग से सैकड़ों एकड़ हरा भरा जंगल सूख गया है तथा निचले भागों के चारागाह सिमट गए है। इसका सर्वाधिक दुष्प्रभाव बारहसिंघों के जीवन चक्र पर पड़ने लगा है। जबकि अन्य वन्यजीव उंचे स्थानों की तलाश में गांवों की ओर आते हैं जहां उनका अवैध शिकार करने से ग्रामीण परहेज नहीं करते है। इससे वन्यजीवों की संख्या में लगातार गिरावट आने लगी है। यद्यापि शासन प्रशासन द्वारा सुहेली नदी की सफाई खुदाई करोड़ों रूपया खर्च किया जा चुका है लेकिन नतीजा शून्य ही निकला है। परिणाम स्वरूप सुहेली नदी अब समीपवर्ती ग्रामीण क्षेत्र जंगल एवं वन्यजीवों के विनाश का कारण बनने लगी है।


(लेखक वाइल्ड लाइफर एवं पत्रकार है।, खीरी जनपद के पलिया में निवास। वन्य जीवन के सरंक्षण व संवर्धन में पिछले दो दशकों से प्रयासरत। इनसे dpmishra7@gmail.com पर संपर्क कर सकते हैं।)

Aug 22, 2010

दुधवा नेशनल पार्क में शिकारियों से मुठभेड़!

दुधवा लाइव डेस्क:  
शिकारियों से मुठभेड़ में फ़ारेस्टर को लगी गोली

लखीमपुर/पलिया। दुधवा नेशनल पार्क शिकारियों का गढ़ बनता जा रहा है। बीती रात गश्त पर निकली पार्क की टीम पर शिकारियों ने फ़ायरिंग शुरू कर दी। शिकारियों की गोली से एक फ़ारेस्टर बुरी तरह जख्मी हो गया। पार्क टीम की जवाबी फ़ायरिंग में एक शिकारी भी लहूलुहान हो गया। उसे जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है। पार्क कर्मियों ने मौके से दो बन्दूकें और एक झोले में रखा बारूद बरामद किया है।

रात करीब बारह बजे दुधवा रेंज के फ़ारेस्टर सत्यप्रकाश तिवारी, दो फ़ारेस्ट गार्ड और तीन वाचर चांदपारा इलाके में गश्त कर रहे थे। गश्त टीम जैसे ही सड़क पर पहुंची, पन्द्रह शिकारी उन्हें संदिग्ध अवस्था में घूमते दिखाई पड़े। फ़ारेस्टर ने शिकारियों को ललकारा तो उन्होंने गोली चला दी। पार्क कर्मियों ने भी जवाबी फ़ायरिंग की। सूत्र बताते हैं कि दोनों ओर से करीब एक घंटे तक तनातनी रही। इसी बीच गोलीबारी में फ़ारेस्टर सत्यप्रकाश को गोली लग गयी। पार्क कर्मियों की गोली से शिकारी रामसिंह निवासी गांव छेदिया पश्चिम भी बुरी तरह जख्मी हो गया। दोनों गम्भीर हालत में रात ढाई बजे पलिया स्थिति सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र लाया गया। इधर रात में मुठभेड़ की सूचना पर पहुंचे पार्क अधिकारियों ने मौके से एक देशी बन्दूक बरामद की और एक झोले में रखा बारूद मिला।
दुधवा में उड़ाई दावत:
मुठभेड़ स्थल से पार्क कर्मियों ने पानी की बोतलें और खाने पीने का सामान भी बरामद किया है। एक जींस की पैंट भी मिली है। एक अफ़सर की मानें तो मुठभेड़ से पहले शिकारियों ने दावत खाई है।

"पार्क प्रशासन ने पूरे दुधवा में अभियान चलाया है। वन्यजीवों को नुकसान पहुंचाने वाले पकड़े जा रहे हैं, दुधवा में यह अभियान अभी जारी रहेगा।- संजय पाठक, उपनिदेशक, दुधवा 


स्रोत: हिन्दुस्तान लखीमपुर खीरी

Aug 17, 2010

अबूझमाड़ जंगलों की माड़िया जनजाति


हिल मारिया युवती
माड़िया जनजाती - खूबसूरत अबूझमाड़ के खूबसूरत निवासी:

अबूझमाड़ के अनगढ़ जंगलॊं मे एक ऐसी जनजाति निवास करती है जिसने आजतक अपनी मूल परंपरा और संस्कृति को सहेज कर रखा हुआ है । माड़िया जनजाति को मुख्यतः दो उपजातियों में बांटा गया है, अबुझ माड़िया और बाईसन होर्न माड़िया ।

Aug 15, 2010

दुधवा में मिला बाघ शावक का पंजा


दुधवा नेशनल पार्क में वन्यजीवों के शिकार की आंशका के बीच पार्क की टीम ने एक शिकारी को दबोचा है। उसके पास से एक शावक का पंजा बरामद हुआ। शिकारी इस पंजे को लेकर नेपाल जा रहा था तभी दुधवा पार्क की सीमा पर पकड़ लिया गया।

जिसका खिलना अशुभ है!

Photo:1
जो जीवन में एक बार खिलता है!
 बाँस के 1500 उपयोग-

Aug 14, 2010

एक हत्यारा जिसे खोज लिया गया मौके वारदात पर!

World Distribution of the Chytrid fungus source: spatialepidemiology.net
दुधवा लाइव डेस्क* एक खतरनाक फ़ंगस !

Aug 3, 2010

दुधवा लाइव ने पार किया एक सौ का आंकड़ा!

दुधवा लाइव ई-पत्रिका में जुड़े 100 से अधिक लेख:
जनवरी 2010 को दुधवा लाइव की शुरूवात दुनिया की पहली हिन्दी ई-पत्रिका के तौर पर हुई जो वन्य जीवन

ऐसे तो दुधवा से विलुप्त हो जायेगा तेन्दुआ!

देवेन्द्र प्रकाश मिश्र*
दुधवा टाइगर रिजर्व क्षेत्र में शामिल किशनपुर वनरेंज जंगल के समीप शिकारियों के खुड़का में फंसे घायल तेंदुआ को आजाद कराने के बाद चंद घंटों में उपचार करके उसे उसी अवस्था में वनाधिकारियों ने रात के अंधेरे

Aug 2, 2010

क्या बीमार व बूढ़े जीवों को दया मृत्यु देना उचित होगा?

देवेन्द्र प्रकाश मिश्र* मानवीय संवेदनाओं के लोप ने ली एक हाथी की जान:

घायल तेन्दुए को जंगल में छोड़ा गया!

दुधवा लाइव डेस्क* इलाज के बाद जंगल में छोड़ा गया घायल तेन्दुआ!

Aug 1, 2010

दुधवा में शिकार बदस्तूर जारी है!

गंगेश उपाध्याय* दुधवा टाइगर रिजर्व बना शिकारियों का अड्डा:

विविधा

आओ प्यारे कम्प्युटर पर बाघ बचायें!
अरूणेश सी दवे, जहाँ तक रही बात प्रबुद्ध बाघ प्रेमियों की जो नचनियों की तरह सज-धज कर जंगल कम इन्टरनेट पर ज्यादा अवतरित होते हैं, तो उनके लिये मै इंटरनेट मे वर्चुअल अबुझमाड़ बनाने का प्रयास कर रहा हूं । ताकि वो अपनी कोरी कल्पनाओं और वर्चुअल प्रयासों को इस आभासी दुनिया में जाहिर कर अपनी ई-कीर्ति बढ़ा सकें।

सामुदायिक पक्षी सरंक्षण
पक्षियों के संरक्षण का जीवन्त उदाहरण: ग्राम सरेली कृष्ण कुमार मिश्र, लखीमपुर खीरी* उन्नीसवी सदी की शुरूवात में ब्रिटिश हुकूमत के एक अफ़सर को लहूलुहान कर देने से यह गाँव चर्चा में आया मसला था।
तो फ़िर उनसे सीखा हमने योग!
धीरज वशिष्ठ* 84 लाख प्रजातियां और 84 लाख योगासन: पक्षियों-जानवरों से सीखा हमने आसन: धार्मिक चैनलों और बाबा रामदेव के कार्यक्रमों ने आज योग को घर-घर तक पहुंचा दिया है।
नही रहा सुमित!
दुधवा लाइव डेस्क* हाँ हम बात कर रहे है उस हाथी कि जो दो मई २०१० को लखनऊ चिड़ियाघर से दुधवा नेशनल पार्क भेजा गया था! वजह साफ़ थी, कि अब वह बूढ़ा हो गया था